भारत में amazon के warehouses

Share Us

6425
भारत में amazon के warehouses
30 Mar 2022
8 min read

Blog Post

वैसे तो आज की डेट में इसके बहुत सारे Warehouse हैं क्योंकि जिस तरह से कंपनी अपने बिज़नेस को एक्सपेंड करती जा रही है उसको और भंडार की आवश्यकता पड़ रही है, आज भारत में जगह-जगह अमेज़न के गोदाम हैं, वेयरहॉउसेस हैं। आइये जानते हैं ये क्या हैं और किस तरह इनमें कार्य होता है

प्रिय मित्रों आज पूरे विश्व में व्यवसाय उस स्तर पर पहुंच गया है जहाँ सब कुछ ओपन मार्किट के रूप में चल रहा है। कहने का मतलब है कि आज आप कहीं से भी कोई भी वस्तु क्रय और विक्रय कर सकते हैं फिर चाहे वह दुनिया के किसी भी कोने में बनी हो। आज आप बैठे-बैठे एक आर्डर पर उस खरीदी गयी वस्तु को घर पर ही पा सकते हैं। ऑनलाइन बाजार ने लोगों की समस्या को बहुत हद तक कम कर दिया है, जहाँ पहले छोटी-छोटी चीजों के लिए दौड़ना पड़ता था, वहीँ आज एक क्लिक पर सब कुछ आपके घर पहुंच जाता है जो भी आप आर्डर करना चाहें। वैसे तो कई ऑनलाइन मार्केटिंग के प्लेटफार्म online marketing platforms हैं पर इन नामों में जिस तरह से amazon को तरक्की मिली है इतनी किसी को नहीं। कौन जानता था कि एक रोज़ गोबर के बने उपले भी ऑनलाइन मार्किट का हिस्सा बन जायेंगे। बदलते भारत में जिस तरह से मुक्त बाजार का चलन हुआ है उसको देखते हुए amazon ने अपने सबसे अधिक पैर पसारे हैं। आज भारत में जगह-जगह अमेज़न के गोदाम हैं, वेयरहॉउसेस हैं। आइये जानते हैं ये क्या हैं और किस तरह इनमें कार्य होता है।

Warehouses क्या होते हैं?

किसी भी तरह के व्यापारिक भवन को मालगोदाम या भंडारण ग्रह (warehouse/वेयरहाउस) कहते हैं, जिसमें उचित सामान का भण्डारण किया जाता है। आमतौर पर मालगोदाम का उपयोग निर्माता, आयातक, निर्यातक, होलसेलर, यातायात व्यवसायी आदि करते हैं। मालगोदाम प्रायः नगरों के औद्योगिक क्षेत्रों में, कस्बों में और गाँवों में स्थित सादे भवन होते हैं।

Amazon Warehouses क्या है?

Warehouse होने से किसी भी ऑनलाइन कंपनी का विक्रय का काम काफी तेजी से होता है। एक दिन में एक हजार से भी ज्यादा प्रोडक्ट को मैनेज किया जा सकता है। वेयरहाउस में प्रोडक्ट की पैकिंग Product packing के बाद अमेजन, शिपिंग के माध्यम से अपने स्थानीय नेटवर्क सेंटर्स पर उसे पहुंचाता है। फिर इन सेंटर्स से कस्टमर्स तक प्रोडक्ट विशेष को पहुंचा दिया जाता है।

भारत में amazon के कितने वेयरहॉउसेस हैं (Amazon Warehouses In India)

वैसे तो आज की डेट में इसके बहुत सारे वेयरहॉउस हैं क्योंकि जिस तरह से कंपनी अपने बिज़नेस को एक्सपेंड करती जा रही है उसको और भंडार की आवश्यकता पड़ रही है, जिसके चलते उसने जुलाई 2021 में अपने फुलफिलमेंट नेटवर्क का विस्तार करने की अपनी योजना बनाई, जिसमें पिछले वर्ष की तुलना में इसकी स्टोरेज क्षमता में लगभग 40 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इस विस्तार के साथ, Amazon.in के पास 15 राज्यों में 43 मिलियन क्यूबिक फीट से अधिक भंडारण क्षमता हो जाएगी, जो पूरे भारत में लगभग 850,000 विक्रेताओं का समर्थन करेगी।

यह विस्तार देश में भारी निवेश करने और हजारों प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष काम के अवसर पैदा करने के लिए अमेज़न इंडिया के निरंतर प्रयासों के अनुरूप है। अमेज़ॅन इंडिया का समग्र पूर्ति नेटवर्क 10 मिलियन वर्ग फुट से अधिक के फर्श क्षेत्र में फैला होगा। यह 125 फुटबॉल मैदानों के आकार से अधिक है, जिसमें नोटबुक से लेकर डिशवॉशर तक लाखों उत्पाद हैं। इस विस्तार के साथ, अमेज़न इंडिया के पास पूरे भारत में 60 से अधिक पूर्ति केंद्र और 25 से अधिक विशिष्ट साइटें हैं, जो दैनिक आवश्यक और किराने के लिए अमेज़ॅन फ्रेश Amazon Fresh चयन के लिए कार्यरत व समर्पित हैं। महाराष्ट्र, बिहार, गुजरात, असम, राजस्थान, पंजाब, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु और कर्नाटक जैसे राज्यों में 11 नए पूर्ति केंद्रों का शुभारंभ और 9 मौजूदा केंद्रों का विस्तार, वस्तुओं का वितरण करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। देश भर में अपने ग्राहकों और विक्रेताओं के लिए स्मार्ट, तेज और अधिक सुसंगत अनुभव कराने की कोशिश में ये निरंतर प्रयासरत है। इनमें से कुछ नए फुलफिलमेंट सेंटर प्राइम डे 2021 से पहले चालू हो चुके हैं।

Amazon Warehouse से कितने भारतीयों को मिली जॉब

यदि पिछले वर्ष के आकड़ों की बात करें तो अमेज़ॉन पिछले साल देश के 35 शहरों में कॉर्पोरेट, प्रौद्योगिकी, ग्राहक सेवा और परिचालन भूमिकाओं में 8,000 से अधिक प्रत्यक्ष कर्मचारियों को नियुक्त करने की योजना बना रही थी। ऐमजॉन के अनुमान के अनुसार उनके पास देश के 35 शहरों में 8,000 से अधिक प्रत्यक्ष रोजगार के अवसर हैं। इन शहरों में बेंगलुरु, हैदराबाद, चेन्नई, गुड़गांव, मुंबई, कोलकाता, नोएडा, अमृतसर, अहमदाबाद, भोपाल, कोयंबटूर, जयपुर, कानपुर, लुधियाना, पुणे, सूरत जैसे शहर शामिल थे। ये नौकरियां कॉर्पोरेट, प्रौद्योगिकी, ग्राहक सेवा और संचालन भूमिकाओं से जुड़ी हैं। कंपनी का लक्ष्य 2025 तक प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष दोनों तरह की 20 लाख नौकरियों का सृजन करना है, और वह पहले ही भारत में 10 लाख प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष नौकरियों का सृजन कर चुकी है।

Also Read: Ola Cab के साथ बिज़नेस कैसे शुरू करें?

कितनी सैलरी देती है अमेज़ॉन कंपनी

वैसे तो सैलरी का मापदंड अलग-अलग पोस्ट के हिसाब से अलग-अलग होता है फिर जानते हैं कि न्यूनतम कितना वेतन देती है अमेज़ॉन। देखा जाए तो अमेज़न न्यूनतम वेतन उतना भी अधिक नहीं देती, 1 साल से कम और 4 साल के अनुभव वाले कर्मचारियों के लिए भारत में औसत अमेज़ॅन वेयरहाउस एसोसिएट वेतन 1.7 लाख प्रति वर्ष है। अमेज़ॅन में वेयरहाउस एसोसिएट वेतन 0.2 लाख से 2.7 लाख प्रति वर्ष के बीच है।

कैसे खोले अमेज़न का वेयरहाउस

Amazon FBA वेयरहाउस में इन्वेंट्री भेजना एक आसान प्रक्रिया है। आपको बस अपने सेलर सेंट्रल अकाउंट पेज पर जाना है और अपनी लिस्टिंग तैयार करनी है। एक बार जब आप लिस्टिंग तैयार कर लेते हैं, तो आपको उन लिस्टिंग का चयन करना होगा जिन्हें आप अपनी ओर से अमेज़ॅन को पूरा करना चाहते हैं। FBA पूर्ति शुल्क एक प्रति-यूनिट शुल्क है जो ग्राहकों से Amazon स्टोर में खरीदारी के लिए आइटम पूरा करने के लिए लिया जाता है। शुल्क किसी वस्तु की श्रेणी, आकार और वजन के आधार पर भिन्न होता है। इसे कभी-कभी "पिक एंड पैक" शुल्क के रूप में जाना जाता है।

इस प्रकार आप समझ सकते हैं कि किस तरह से अमेज़न काम करता है और किस तरह से आपके घर तक आपके प्रोडक्ट को पहुँचता है। आज जिस तरह से पूरे देश में ऑनलाइन बिज़नेस को बढ़ावा मिला है ठीक उसी तरह लोगों को इसमें रोजगार भी मिला है। इस बिज़नेस के इतने अधिक बढ़ने का रीज़न यही है कि आजकल लोग मैनुअली के बजाय ऑनलाइन खरीदारी करना ज्यादा पसंद करते हैं ।