facebook-pixel

भारत की 10 सर्वश्रेष्ठ FMCG कंपनियां

Share Us

5770
भारत की 10 सर्वश्रेष्ठ FMCG कंपनियां
12 Dec 2022
7 min read
TWN Special

Post Highlight

फास्ट-मूविंग कंज्यूमर गुड्स (एफएमसीजी) ऐसे उत्पाद हैं जो जल्दी और अपेक्षाकृत कम कीमत पर बेचे जाते हैं। हमारा सारा जीवन FMCG (फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स) उत्पादों पर निर्भर रहता है और ये उत्पाद हमारी बुनियादी जरूरतों को पूरा करते हैं। इस आर्टिकल में आप भारत की टॉप 10 FMCG कंपनियों के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं। इसमें कंपनी और उनके प्रोडक्ट्स के बारे में विस्तार में बताया गया है। 

Podcast

Continue Reading..

FMCG क्या है? What Is FMCG?

FMCG उत्पाद वे होते हैं जो कम लागत के साथ उच्च मात्रा में उत्पादित होते हैं और तेजी से खपत के लिए बनाए जाते हैं। इस उद्योग में घरेलू सामान, भोजन, ओवर-द-काउंटर दवाएं, व्यक्तिगत देखभाल की वस्तुएं, स्टेशनरी और उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स आदि शामिल हैं। Fmcg का Full Form Fast-Moving Consumer Goods (एफएमसीजी) क्षेत्र भारत का चौथा सबसे बड़ा क्षेत्र है और इसने 30 लाख से अधिक लोगो के लिए रोजगार का निर्माण किया है। क्षेत्र में तीन मूलभूत भाग हैं - परिवार और व्यक्तिगत विचार जो आधे का प्रतिनिधित्व करते हैं, स्वास्थ्य देखभाल जो 31% का प्रतिनिधित्व करते हैं और भोजन और पेय पदार्थ जो 19% क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। यह क्षेत्र ऐसा है जो पूरी दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाला क्षेत्र है और यह कंपनियां ऐसी है जिनके उत्पादों का हर घर में इस्तेमाल होता है। ये कंपनियां उद्योग भारत में सबसे तेजी से बढ़ते उद्योगों में से एक है। एफएमसीजी कंपनियों को कंज्यूमर पैकेज्ड गुड्स Consumer Packaged Goods (CPG) भी कहा जाता है। इनमें दुग्ध, फल, सब्जी, दवाई, पेय पदार्थ Milk, fruit, vegetable, medicine, beverage जैसी चीजें आती हैं। इन कंपनियों में यदि निवेश किया जाए तो इसमें एक अच्छा रिटर्न मिलता है। इसका कारण यह है कि इन कंपनियों का व्यापार हमारे जीवन के साथ जुड़ा हुआ है और हमें इसकी जरूरत हर वक्त पड़ती है तो चलिए आज, हम भारत की शीर्ष FMCG कंपनियों (FMCG Companies) पर एक नज़र डालते हैं। 

एफएमसीजी प्रोडक्ट्स के प्रकार Types of FMCG Products

FMCG (Fast Moving Consumer Goods) एफएमसीजी सेक्टर को ज्यादातर उत्पाद के प्रकार के आधार पर बांटा जाता है।

एफएमसीजी प्रोडक्ट्स के कुछ प्रकार निम्न हैं -

1- प्रॉसेस्ड खाद्य पदार्थ (Processed Foods)

2- पेय पदार्थ ( Beverages)

3- सूखे खाद्य (Dry Foods)

4- ताजा भोजन (Fresh Foods)

5- बेक फूड्स (Fresh Foods)

6- प्रसाधन सामग्री (Cosmetics and Toiletries)

7- प्रिपेयर्ड फ़ूड (Ready-to-Eat)

8- जमे हुए खाद्य पदार्थ (Frozen Foods) फ्रेश, फ्रोज़ेन और शुष्क पदार्थ

9- उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स (Consumer Electronics)

10- स्वास्थ्य और स्वच्छता उत्पाद (Health and Hygiene Products)

11- कार्यालय की आपूर्ति और स्टेशनरी (Office Supplies and Stationery)

12- सौंदर्य प्रसाधन 

13- साफ़ सफाई के आइटम - दरवाज़े, खिड़की, फर्श आदि साफ़ करने वाले उत्पाद

FMCG मार्केटिंग रणनीतियाँ FMCG Marketing Strategies

कंपनियों को चुनौतियों का सामना करने के लिए निम्न रणनीतियों को अपनाना चाहिए-

  • ब्रांड जागरूकता निर्माण- कंपनियों को अपने प्रोडक्ट का अधिक से अधिक प्रचार करना चाहिए। क्योंकि उपभोक्ता तेजी से आगे बढ़ने वाली वस्तुओं को उन फर्मों से खरीदने के ज्यादा इच्छुक होते हैं जिनके बारे में वे जानते हैं।

  • आत्मविश्वास का निर्माण- कंपनियों को उपभोक्ता विश्वास बनाने का प्रयास करना चाहिए। इसके लिए क्वालिटी का ध्यान रखना सबसे आवश्यक है। उपभोक्ता उन कंपनियों से आइटम खरीदते हैं जिन पर वे निर्भर हो सकें और वे अपनी मनचाही चीजों की पेशकश कर सकें। 

  • प्रोत्साहन राशि- उपभोक्ता एक व्यापारी से प्रोत्साहन खरीदने के लिए अधिक इच्छुक हैं, उदाहरण के लिए, एक निश्चित राशि खर्च करने के बाद एक विशेष राशि के लिए उपहार कार्ड, प्रोत्साहन राशि आदि दें। व्यापारियों को आकर्षित करने और ग्राहकों को खरीदने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए प्रोत्साहन एक बहुत ही उत्कृष्ट तरीका है।

  • उत्पाद की उपलब्धता सुनिश्चित करें- कंपनियों को यह गारंटी देनी चाहिए कि जब उपभोक्ताओं को उनकी आवश्यकता हो, तो वस्तुएं उपलब्ध हों। 

  • बिक्री मूल्य निर्धारण- तेजी से बढ़ते उपभोक्ता उत्पादों के लिए मूल्य निर्धारण एक काफी जटिल प्रक्रिया है। कंपनियों को इस बात की गारंटी देनी चाहिए कि कीमतें इस तरह निर्धारित की जाती हैं कि उपभोक्ता उन्हें वहन कर सकें।

  • समवर्ती मूल्य निर्धारण- कंपनियों को यह गारंटी देनी चाहिए कि उनके उत्पाद अन्य व्यापारियों के साथ प्रतिस्पर्धा करने वाली कीमतों पर बेचे जाते हैं।

एफएमसीजी और ई-कॉमर्स FMCG And E-Commerce

आज ऑनलाइन का दौर चल रहा है। ऑनलाइन शॉपिंग हम सबके लिए काफी फायदेमंद साबित हुई है। आज दुनियाभर के ग्राहक ऑनलाइन स्टोर्स में दिलचस्पी ले रहे हैं। इसमें दिलचस्पी लेने के कई कारण हैं जैसे घर पर डिलीवरी, समय की बचत, ज़्यादा विकल्प, कम दाम जैसी सुविधाएं जो ऑफलाइन दुकानें नहीं दे पा रही हैं। ई-कॉमर्स बिज़नेस आज काफी पॉपुलर हो रहा है। जिसमें (नॉन कंज़्यूमेबल ड्यूरेबल) वस्तुएं मुख्य हैं। धीरे धीरे कंपनियां अपनी डिलीवरी सिस्टम में सुधार कर रही हैं और पहले से बेहतर बना रही हैं। वहीं किराना और अन्य उपभोज्य (कंज़्यूमेबल) प्रोडक्ट्स का ऑनलाइन मार्केट भी अब धीरे-धीरे बढ़ रहा है। इसके साथ ही लोग एफएमसीजी खरीदने के लिए भी अब ई-कॉमर्स चैनल का इस्तेमाल करने लगे हैं जो कि सबके लिए अच्छी बात है।

एफएमसीजी इंडस्ट्री से उम्मीदें Expectations From FMCG Industry

देखा जाये तो दुनिया भर के एफएमसीजी बाज़ारों की अपेक्षा भारतीय एफएमसीजी सेक्टर अभी भी काफी परम्परागत है और अब धीरे-धीरे बढ़ने की कोशिश कर रहा है। यही वजह है कि अब बढ़ते शहरीकरण और साथ ही ग्राहकों की बढ़ती इनकम के साथ इस सेक्टर में अब बढ़त के काफी स्कोप हैं। माना जा है कि साल 2030 तक भारतीय ग्राहकों में सामान खरीदने को लेकर प्राथमिकताएं काफी बदल जाएंगी। क्योंकि ग्राहक अब अधिक जागरूक हो गए हैं। ज्यादातर लोग अपने स्वास्थ्य और पोषण को लेकर बहुत ही सतर्क हो गए हैं। यही वजह है कि अब एफएमसीजी सेक्टर के अंतर्गत एक नया सेक्टर उभरा है और इस इंडस्ट्री का फ्यूचर काफी ब्राइट नजर आ रहा है जो लोगों के स्वास्थ्य को लेकर सतर्क है और केमिकल और प्रदूषण रहित जीवन देने की कोशिश में है। इसमें इस तरह की चीज़ें हैं जो आपके शरीर को नुकसान नहीं पहुँचाती है। जैसे एयर और वाटर प्यूरीफायर, आर्गेनिक फ़ूड आदि कई प्रोडक्ट कंपनियां बना रही हैं। ये नए ट्रेंड एफएमसीजी सेक्टर को और अधिक विस्तार देंगे और निवेशकों के लिए एएफएमसीजी इंडस्ट्री एक उम्मीद के साथ अच्छा विकल्प साबित हो सकती है।

कंपनियों ने बनाई अब ये नयी रणनीति

हम सब जानते हैं कि महंगाई पहले से काफी बढ़ गयी है। आम आदमी इस महंगाई से काफी परेशान है। महंगाई से आम आदमी के साथ ही एफएमसीजी (FMCG) कंपनियां भी परेशान हैं। कंपनियों के सामान की बिक्री महंगाई की वजह से गिर रही है। कंपनियां अपनी तरफ से बिक्री बढ़ाने के लिए अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रही है और कई नए उपाए अपना रही हैं। बड़ी-बड़ी कंपनियां अपने सामानों की बिक्री बढ़ाने के लिए पैकेक्ड फूडस (Packaged Foods), पर्सनल केयर (Personal Care) और घरेलू उत्पादों आदि श्रेणियों में नए नए प्रोडक्ट लाॅन्च कर कर रही हैं। इसके अलावा कंपनियां (FMCG Companies) अपने प्रोडक्ट की बिक्री बढ़ाने के लिए नयी रणनीति अपना रही हैं जिससे इस महंगाई में प्रोडक्ट के दाम न बढ़ाने पड़ें और बिक्री पर भी असर न हो। इस रणनीति में महंगाई से लड़ने के लिए कंपनियों ने सामान का वजन कम करना शुरू कर दिया है। इससे प्रोडक्ट के दाम वही रहते हैं बस प्रोडक्ट का वजन कम हो जाता है। इसका ये फायदा होता है कि लोगों को इसका पता भी नहीं चल पाता है और कंपनियों का मुनाफा बढ़ जाता है। 

भारत में एफएमसीजी कंपनियां (FMCG Companies In India)

हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड Hindustan Unilever Limited

हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड भारत की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी (फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स) एफएमसीजी FMCG कंपनी है और इसके डव, वैसलीन, ब्रू कॉफी, लक्स और हमाम साबुन से लेकर प्योरइट तक  को  किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है, ये सभी इस कंपनी के लेबल के अंतर्गत आते हैं। फैब्रिक वॉश, घरेलू देखभाल, प्यूरीफायर, पर्सनल वॉश, हेयर केयर, स्किन केयर, कलर कॉस्मेटिक्स, ओरल केयर, डिओडोरेंट्स, बेवरेजेज, आइसक्रीम और फ्रोजन डेसर्ट और फूड्स जैसी इन 20 विभिन्न श्रेणियों में, एचयूएल HUL के कई ब्रांड हैं।

दस में से नौ भारतीय परिवार एक या अधिक एचयूएल ब्रांड HUL Brand का उपयोग करते हैं। डिवीजनों में - होम केयर, ब्यूटी एंड पर्सनल केयर एंड फूड्स एंड रिफ्रेशमेंट Home Care, Beauty & Personal Care & Foods & Refreshment- में ब्रांडों का एक पोर्टफोलियो शामिल है जो पूरे भारत में उपभोक्ताओं की सेवा करता है।

एचयूएल एक एंग्लो-डच कंपनी यूनिलीवर की सहायक कंपनी है जो खाद्य पदार्थों, पेय पदार्थों, सफाई एजेंटों, व्यक्तिगत देखभाल उत्पादों, वाटर प्यूरीफायर और अन्य तेजी से चलने वाले उपभोक्ता सामानों का कारोबार करती थी। इसकी भारत में 80 से अधिक वर्षों से ऐतिहासिक उपस्थिति है। यह भारत में शीर्ष FMCG कंपनियों की सूची में शामिल है।

आईटीसी लिमिटेड ITC LTD

1910 में इंपीरियल टोबैको कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड के रूप में स्थापित, 1970 में कंपनी का नाम बदलकर इंडिया टोबैको कंपनी लिमिटेड India Tobacco Company Limited और अब, कंपनी को आईटीसी लिमिटेड के रूप में जाना जाता है। 2010 में, ITC ने इस व्यवसाय और प्रतिष्ठान में अपना शतक पूरा किया। यह भारतीय बाजारों में 110 वर्षों से अधिक समय से है, जिससे उन्हें भारतीय उपभोक्ता की गहरी समझ है। एफएमसीजी के अलावा, कंपनी सक्रिय रूप से आतिथ्य, कागज, पैकेजिंग, कृषि-व्यवसाय और आईटी क्षेत्रों के कारोबार में लगी हुई है। आईटीसी को उत्पादन और पैकेजिंग में एक निश्चित मानक की गारंटी के लिए जाना जाता है। इसके उत्पाद दुनिया भर में 6 मिलियन रिटेल आउटलेट्स में उपलब्ध हैं। उनके पास भारत में व्यापक वितरण चैनल हैं। इसने उन्हें कई खुदरा दुकानों के माध्यम से सबसे अधिक ग्रामीण क्षेत्रों में भी प्रवेश करने की अनुमति दी है। 

ITC Limited कोलकाता, पश्चिम बंगाल में स्थित एक भारतीय कंपनी है। कंपनी फूड्स, पर्सनल केयर, सिगरेट और सिगार, ब्रांडेड अपैरल, एजुकेशन एंड स्टेशनरी प्रोडक्ट्स, सेफ्टी माचिस जैसे उत्पादों के कारोबार में काम करती है।

उनके उत्पादों में बिंगो, सनफीस्ट, आशीर्वाद, फियामा डि विल्स, विवेल, सेवलॉन साबुन और हैंडवाश, पेपरक्राफ्ट और क्लासमेट शामिल हैं। भारतीय सिगरेट बाजार में ITC का 77% एकाधिकार है और यह विल्स नेवी कट, गोल्ड फ्लेक किंग्स, सिल्क कट, इंडिया किंग्स, ब्रिस्टल, गोल्ड फ्लेक सुपर स्टार, गोल्ड फ्लेक प्रीमियम लाइट्स, क्लासिक मेन्थॉल, आदि जैसे ब्रांड प्रदान करता है। 

नेस्ले इंडिया NESTLE INDIA

नेस्ले एक अंतरराष्ट्रीय खाद्य और पेय कंपनी international food and beverage company है और इसका मुख्यालय स्विट्जरलैंड Switzerland में है। वैश्विक स्तर पर कंपनी को लगभग 150 से अधिक वर्षों से अधिक समय हो गया है। भारत में, नेस्ले की शुरुआत 1912 से हुई, जब कंपनी ने नेस्ले एंग्लो-स्विस कंडेंस्ड मिल्क कंपनी Nestle Anglo-Swiss Condensed Milk Company के रूप में काम करना शुरू किया। नेस्ले पेय पदार्थ, बोतलबंद पानी, मिल्कशेक, नाश्ता अनाज, तत्काल खाद्य पदार्थ, प्रदर्शन, और स्वास्थ्य देखभाल पोषण आदि सहित उत्पादों की अधिकता बेचता है। वे भारतीय उपभोक्ताओं की पोषण और स्वास्थ्य संबंधी आवश्यकताओं nutritional and health needs को पूरा करते हैं। वर्तमान में उनके पास 2000 ब्रांडों में से कुछ नेस्कैफे, मैगी, मिल्की बार, किट कैट, Nescafe, Maggi, Milky Bar, Kit Kat,

बार हैं। साथ ही नेस्ले सेरेलैक की 6 महीने और उससे अधिक उम्र के शिशुओं के लिए दूध के पूरक के रूप में 96.5% की निर्विवाद बाजार हिस्सेदारी है।

ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज BRITANNIA INDUSTRIES

ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज लिमिटेड, Britannia Industries Limited कोलकाता, भारत में स्थित एक भारतीय बहुराष्ट्रीय खाद्य और पेय कंपनी है। इसकी स्थापना 1892 में हुई थी जो इसे भारत की सबसे पुरानी मौजूदा कंपनी बनाती है और यह कोलकाता में मात्र रु 295 में शुरू हुई थी । उनके उत्पाद 5 मिलियन से अधिक दुकानों में उपलब्ध हैं। कंपनी अपने बिस्किट उत्पादों के लिए प्रसिद्ध है। कंपनी ब्रिटानिया और टाइगर ब्रांड के बिस्कुट, रस्क, गुड डे, बॉर्बन, मैरी गोल्ड, केक, ब्रेड और डेयरी उत्पाद Britannia and Tiger brands of biscuits, rusks, Good Day, bourbon, Mary Gold, cakes, breads and dairy products पूरे भारत में और दुनिया भर के 60 से अधिक देशों में बेचती है। कंपनी संगठित ब्रेड बाजार में सबसे बड़ा ब्रांड biggest brand in bread market है। उनकी उत्पाद श्रृंखला का 50% से अधिक कई पोषक तत्वों के साथ विटामिनयुक्त है।

Related: खरीदारी पर छूट देने के लाभ

50% से अधिक भारतीय परिवार इसके खाद्य पदार्थों की श्रेणी के उपयोगकर्ता हैं। एफएमसीजी को देश में पहले जीरो ट्रांस फैट बिजनेस के रूप में जाना जाता है। उनका भारत और 60 अन्य देशों में व्यापक वितरण नेटवर्क है। उनकी टैग लाइन "स्वस्थ खाओ, बेहतर सोचो" या "स्वस्थ खाओ, तनमन जगाओ Eat Healthy, Think Better" or "Eat Healthy, Wake Up Your Mind" है। यह एक ऐसी कंपनी है जो स्वास्थ्य के साथ पोषण को बढ़ावा देती है,

मैरिको MARICO LTD

मैरिको की स्थापना1990 में मुंबई में हुई थी। यह नारियल और परिष्कृत खाद्य तेल Coconut and Refined Edible Oils के लिए एक ब्रांड के रूप में शुरू हुआ और बाद में विभिन्न प्रकार के उपभोक्ता वस्तुओं में विस्तारित हुआ। इसकी अधिकांश सफलता इसके दो ब्रांडों ‘सफोला’ और ‘पैराशूट’ Two brands 'Saffola' and 'Parachute' में निहित है। केवल 3 दशकों के आसपास होने के बावजूद कंपनी ने इस सेगमेंट में एक लंबा सफर तय किया है। सफोला, जो प्रीमियम रिफाइंड खाद्य तेल खंड में प्रतिस्पर्धा करता है, इस प्रोडक्ट ने 73 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ अपने बाजार नेतृत्व को बनाए रखा है। दूसरी ओर ‘पैराशूट’ की बाजार हिस्सेदारी 59 फीसदी है। इसके  ब्रांड हर परिवार में इस्तेमाल किये जाते  है। जिसके कारण कंपनी का हर साल प्रॉफिट बढ़ता रहता है। 

मैरिको MARICO भारत की अग्रणी एफएमसीजी कंपनियों में से एक है जो स्किनकेयर उत्पादों, खाद्य तेल, बालों की देखभाल, कपड़े की देखभाल, पुरुषों के सौंदर्य और स्वास्थ्य खाद्य पदार्थों Skincare products, Edible oil, Hair care, Clothing care, Men's beauty & health foods जैसे दैनिक उत्पादों का निर्माण करती है। मैरिको का एशिया और अफ्रीका के 25 से अधिक देशों में कारोबार है। हर तीन में से कम से कम एक भारतीय पैराशूट, सफोला, हेयर एंड केयर, निहार, लिवोन, सेट वेट, पैराशूट एडवांस्ड, निहार नेचुरल्स, मेडिकर और कई अन्य ब्रांडों के अपने पोर्टफोलियो के माध्यम से अपने उत्पाद का उपभोग करता है। मैरिको के घरेलू ब्रांड में पैराशूट, सफोला, मेडिकर शामिल हैं। इसके वैश्विक उत्पादों में पैराशूट, हेयरकोड, कैविल, ब्लैक चिक, आइसोप्लस, कोड १० और एक्स-मेन शामिल हैं।

यह वर्तमान में एशिया और अफ्रीका के उभरते बाजारों में 25 देशों में काम कर रहा है। मैरिको लिमिटेड नवीन तकनीक का उपयोग करके अच्छी गुणवत्ता वाले उत्पादों का निर्माण करके अपनी टैगलाइन "मेक अ डिफरेंस" Make a Difference" की बात करता है और टैगलाइन को संरक्षित करने के लिए विनिर्माण और पैकेजिंग में अपने नवाचार को बनाए रखते हैं। 

गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड Godrej Consumer Products Ltd

गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट्स एक प्रमुख रूप से उभरती बाजार कंपनी है और यह एक निर्माण कंपनी है और इसका मुख्यालय मुंबई, महाराष्ट्र Mumbai, Maharashtra में है। गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड Godrej Consumer Products Ltd को विभिन्न व्यवसायों में वैश्विक स्तर पर 1.15 बिलियन उपभोक्ताओं का संरक्षण प्राप्त है। यह भारत की शीर्ष FMCG कंपनियों की सूची में आती है। गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड 

में लगभग 3396 कर्मचारी हैं और इसकी स्थापना 2001 में हुई थी। यह बालों के रंग, घरेलू कीटनाशकों, व्यक्तिगत धोने, साबुन, बालों की देखभाल, कपड़े की देखभाल, गृह देखभाल, व्यक्तिगत देखभाल, उपभोक्ता उत्पाद, उभरते बाजार और एफएमसीजी में माहिर हैं। गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड एक सार्वजनिक कंपनी है।

गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट्स में अंतरराष्ट्रीय विस्तार के लिए 3 by 3 approach के अनुरूप, तीन श्रेणियों (होम केयर, पर्सनल केयर और बालों की देखभाल) में तीन उभरते बाजारों (एशिया, अफ्रीका और लैटिन अमेरिका) में उपस्थिति का निर्माण। 

राजस्व: 10,156 करोड़, मार्केट कैप: 75,089 करोड़, आरओई: 31.55%, बिक्री वृद्धि (3 वर्ष): 6.98%, प्रमोटर होल्डिंग: 63.24%, इक्विटी के लिए ऋण: 0.34, प्राइस टू बुक वैल्यू Price to book value: 9.90 है।

पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड Patanjali Ayurved Limited

पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड की स्थापना 2006 में ग्रामीण और शहरी विकास के विचार के साथ की गई थी। दरअसल कंपनी केवल एक संगठन नहीं है बल्कि योग और आयुर्वेद के माध्यम से एक स्वस्थ समाज बनाने की सोच है।

कंपनी का राजस्व: 9,022 करोड़ है। किसानों को कुशल खेती के बारे में सभी प्रकार की तकनीकी सहायता और आवश्यक जानकारी प्रदान की जाती है। कंपनी निर्माण इकाइयाँ खाद्य पदार्थों, दवाओं आदि जैसे उपभोग्य सामग्रियों को संसाधित करती हैं। इन्हें अधिकृत पतंजलि स्टोर और खुदरा दुकानों के व्यापक नेटवर्क के माध्यम से उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराया जाता है। वे अनुबंध खेती पर हर्बल और जैविक उत्पाद प्रदान करते हैं। 

डाबर इंडिया लिमिटेड Dabur India Ltd 

डाबर इंडिया लिमिटेड 135 वर्षों की समृद्ध विरासत और अनुभव के साथ दुनिया की सबसे बड़ी और अग्रणी आयुर्वेदिक और प्राकृतिक स्वास्थ्य देखभाल कंपनी Ayurvedic & Natural Health Care Company है। यह भारत में शीर्ष एफएमसीजी कंपनियों की सूची में शामिल है।

व्यवसाय को तीन रणनीतिक व्यावसायिक इकाइयों में विभाजित किया गया है, उपभोक्ता देखभाल व्यवसाय, खाद्य व्यवसाय और अंतर्राष्ट्रीय व्यवसाय। कंज्यूमर केयर बिजनेस में हेल्थ केयर और होम एंड पर्सनल केयर में रुचियां शामिल हैं। डाबर भारत में शीर्ष एफएमसीजी ब्रांडों की सूची में सातवें स्थान पर है।

राजस्व: 8,813 करोड़

मार्केट कैप: 83,697 करोड़

कर्मचारी: 7500

आरओई: 26.41%

बिक्री वृद्धि (3 वर्ष): 2.67%

प्रमोटर होल्डिंग: 67.88%

इक्विटी के लिए ऋण: 0.11

प्राइस टू बुक वैल्यू: 13.61

डाबर की दुनिया भर में मजबूत उपस्थिति है और इसके उत्पादों ने उपभोक्ताओं तक पहुंचने के लिए प्राकृतिक अवयवों के आधार पर एक अद्वितीय उत्पाद पोर्टफोलियो बनाया है। उत्पादों को हेयर ऑयल, हेयर क्रीम, हेयर जैल, शैंपू, डेंटल केयर और स्किन केयर जैसी श्रेणियों में अच्छी बाजार हिस्सेदारी प्राप्त है। डाबर दुनिया में सबसे भरोसेमंद और प्रसिद्ध आयुर्वेदिक ब्रांडों में से एक। 

अमूल Amul

अमूल एक भारतीय डेयरी सहकारी समिति Dairy Cooperative Society of India है और यह गुजरात के आणंद जिले में स्थित एक सहकारी डेयरी है। 1946 में स्थापित, अमूल का प्रबंधन एक सहकारी निकाय, गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड (GCMMF) द्वारा किया जाता है, जो वर्तमान में गुजरात में 36 लाख (3.6 मिलियन) दूध उत्पादकों और 13 जिलों के शीर्ष निकाय के स्वामित्व में है। कैरा डिस्ट्रिक्ट मिल्क यूनियन लिमिटेड जिसे बाद में अमूल-आनंद मिल्क यूनियन लिमिटेड नाम दिया गया था, की स्थापना त्रिभुवनदास पटेल ने की थी। अमूल इसका शॉर्ट नेम है इस का फुल फॉर्म है Anand milk union limited आनंद मिल्क यूनियन लिमिटेड है। दुग्ध संघ, जो गुजरात के 13,000 गांवों में काम करता है। अमूल ने भारत की श्वेत क्रांति को प्रेरित किया, जिसके कारण देश दूध और दूध उत्पादों का दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक बन गया। भारत में श्वेत क्रांति में अमूल की नींव की अहम भूमिका थी। अगर श्वेत क्रांति लाने का श्रेय किसी को देना है तो वह अमूल ही है। 

अमूल दूध, मक्खन, ब्रेड स्पेड, पनीर, दही, चीज सोस, पेय रेज, आइसक्रीम, दूध पाउडर, घी, चॉकलेट, मलाई, मिठाई, हैपी ट्रीट, अमूल प्रो, बेकरी उत्पादक, रोटी सोफनर, पंचामृत, अमूल खट्टा क्रीम, अमूल रेसिपी, अमूल मूंगफली स्पेड जैसी कई ब्रांड है जिसका उत्पाद करती है यह भारत की टॉप एफएमसीजी कंपनी में प्रमुख स्थान रखती है इसका कारोबार पूरी दुनिया में चलता है। 

Revenue :- 38600 crore

Employees:- 1000 (marketing arm) 3.6 million (milk-producing members)

कंपनी का व्यापक वितरण नेटवर्क 50 बिक्री कार्यालयों, 5,000 थोक डीलरों और 700,000 से अधिक खुदरा विक्रेताओं में फैला हुआ है। जब डेयरी उत्पादों की बात आती है तो अमूल का नाम सबसे पहले आता है। यह भारत की प्रमुख फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स कंपनी है। ' द टेस्ट ऑफ इंडिया ' अमूल का ब्रांड स्लोगन सब जानते है। 

टाटा कंज्यूमर Tata consumer

टाटा समूह की सहायक कंपनी टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट एक तेजी से आगे बढ़ने वाली उपभोक्ता वस्तु कंपनी है। इस कंपनी की शुरुआत 1981 के दशक में हुई, जिसका मुख्यालय मुंबई में है। कंपनी को दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी चाय का निर्माता, वितरक और एक प्रमुख कॉफी उत्पादक Tea manufacturer, distributor and a leading coffee producer माना जाता है। इस कंपनी का कारोबार बहुराष्ट्रीय है जिसके कारण यह भारत की टॉप एफएमसीजी कंपनी में आती है।

पहले इसे टाटा ग्लोबल बेवरेजेज लिमिटेड Tata Global Beverages Ltd (टीजीबीएल) के नाम से जाना जाता था। फरवरी 2020 में, टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स तब अस्तित्व में आया जब टाटा केमिकल्स लिमिटेड के उपभोक्ता उत्पादों के कारोबार का टाटा ग्लोबल बेवरेजेज लिमिटेड में विलय हो गया। कंपनी खाद्य और पेय उद्योग में काम करती है, जिसका 56% राजस्व भारत से आता है। विलय से कंपनी को टाटा साल्ट, टाटा टी, टेटली, एइट ओ क्लॉक जैसे उत्पादों और टाटा संपन्न और टाटा स्टारबक्स जैसे कुछ उच्च विकास संभावित ब्रांडों के साथ कई और विविध पोर्टफोलियो में प्रवेश करने में मदद मिली है।

Related: LIC IPO : जानिए भारत के सबसे बड़े आईपीओ के बारे में

कंपनी का मुख्य उत्पादक स्रोत टाटा टी टेटली और गुड अर्थ टी के तहत चाय का विपणन करती है। टाटा टी भारत में सबसे ज्यादा बिकता है। जबकि टेटली कनाडा में और उनके संयुक्त राज्य अमीरात में ज्यादा बिकता है। इसके अलावा दूसरे देशों में भी इसकी ब्रांड की मांग रहती है। 2012 में, टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड भारत में स्टारबक्स कॉफी कंपनी के साथ 50:50 संयुक्त उद्यम के साथ आया था। कॉफी की दुकानों को "स्टारबक्स कॉफी-ए टाटा एलायंस" के रूप में ब्रांडेड किया गया था। स्रोत कॉफी बीन्स टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड की सहायक कंपनी टाटा कॉफी से हैं। 2020 तक, कंपनी का राजस्व ₹5807.99 करोड़ (US$810 मिलियन) था, जबकि इसका शुद्ध आय प्रवाह ₹575.35 करोड़ (US$81 मिलियन) था।

टाटा कंज्यूमर के उत्पादों की बात करें तो चाय, कॉफी, पानी, नमक, मसूर की दाल, मसाले, खाने के लिए तैयार स्वीटनर जैसे प्रोडक्ट बनाती है। इसमें तकरीबन 60000 कर्मचारी काम करते हैं। इस कंपनी हर साल लगभग 7 करोड किलोग्राम से ज्यादा चाय बनाती है। 

मार्केट कैप Market cap:-75452.05

Revenue :-11,807.71 crore (FY 2021)

ऊपर दिए गए 10 सर्वश्रेष्ठ FMCG कंपनियों के अलावा भारत में अन्य शीर्ष FMCG कंपनियां भी हैं। भारत मे रोजमर्रा के उपयोग के उपभोक्ता सामान बनाने वाली कुछ और प्रमुख घरेलू कंपनियों के नाम इस प्रकार हैं- निरमा, ईमामी, अमूल, बजाज, विप्रो, पारले, कोलगेट-पामोलिव, जॉनसन एंड जॉनसन,विप्रो कंज्यूमर केयर जैसे अपने स्वयं के ब्रांडों के साथ भारत में एफएमसीजी क्षेत्र में आने वाले अधिक बड़े खिलाड़ी हैं। हमारे देश में इन घरेलू उत्पाद बनाने वाली कंपनियों के बिना काम नहीं चल सकता। ये ऐसी कंपनियां है जो हमारे जीवन में घर बना चुकी हैं।