facebook-pixel
Synergy Need and Planning

लंबे और स्वस्थ जीवन के लिए विशेष तरीके

Synergy Need and Planning

लंबे और स्वस्थ जीवन के लिए विशेष तरीके

special-ways-to-live-a-long-and-healthy-life

Post Highlights

आधुनिक चिकित्सा तकनीक जितनी भी अच्छी हो, यह आपको अस्वस्थ जीवन शैली के कारण होने वाली समस्याओं से कभी नहीं बचा सकती है। हर समस्या के इलाज के लिए एक आधुनिक चिकित्सा प्राप्त करने के बजाय, ज़रूरी है के आप अपने स्वास्थ्य का खुद ध्यान रखें एक स्वस्थ ज़िन्दगी बहुत बेहतर है इलाज करवाने से इस लेख मे हम जानेंगे कुछ ऐसे तरीकों के बारे मे जो हमें स्वस्थ रखने मे काफी मदद करेंगे ओर आपको बीमार पड़ने से बचाएंगे।

आधुनिक चिकित्सा तकनीक Modern Medical Technology  जितनी भी अच्छी हो, यह आपको अस्वस्थ जीवन शैली के कारण होने वाली समस्याओं से कभी नहीं बचा सकती है। हर समस्या के इलाज के लिए एक आधुनिक चिकित्सा प्राप्त करने के बजाय, ज़रूरी है के आप अपने स्वास्थ्य का खुद ध्यान रखें एक स्वस्थ ज़िन्दगी बहुत बेहतर है इलाज करवाने से इस लेख मे हम जानेंगे कुछ ऐसे तरीकों के बारे मे जो हमे स्वस्थ रखने मे काफी मदद करेंगे ओर आपको बीमार पड़ने से बचाएंगे।

रोकथाम करना निश्चित रूप से बार-बार इलाज करवाने से बेहतर है। इस लेख में कुछ टिप्स दिए गए हैं जिससे आप एक लंबा और स्वस्थ जीवन पा सकेंगे और ऐसी जीवन शैली आपको स्वस्थ रहने मे मदद करेगी।

पर्याप्त व्यायाम (Enough Exercise) करें:-

जीवन मे कोई भी काम तभी अच्छा हो सकता है जब हमारा शरीर स्वस्थ (Healthy body) हो क्योंकि शरीर स्वस्थ होने से मन भी स्वस्थ रहता है व्यायाम करने से शरीर को पूरी मात्रा मे ऑक्सिजन मिलती है शरीर मे रक्त (blood in body) का बेहतर तरीके से संचालन होता है, जो हमारी स्वस्थ सेहत (Health) के लिए बहुत अच्छा है निश्चित रूप व्यायाम (Exercise) करने से किसी तरह की बीमारी का खतरा लगभग नहीं रहता और हमारी रोग प्रतिरोधक शक्ति Immunity बढ़ जाती है व्यायाम करने के लिए सुबह का वक़्त सबसे बेहतर माना जाता हैं इसे करने के लिए खुला और हवादार स्थान का चयन करना चाहिए व्यायाम करने से चेहरे मे निखार, शरीर मे स्फूर्ति, रक्त का साफ होना, स्टैमिना Refinement, Energization of the body, Purification of blood, Stamina आदि जैसे लाभ मिलते हैं व्यायाम कई प्रकार के होते है जैसे दण्ड बैठक करना, सुबह के वक़्त चलना या दौड़ना, रस्सी कूदना, योगासन करना yoga आदि शामिल है सुबह के वक़्त खुली हवा मे व्यायाम करना अधिक बेहतर माना जाता है।

नींद आने पर सो जाना :-

आमतौर पर ज्यादातर लोग देर रात तक जागते हैं, तब भी जब उनका शरीर उन्हें बता रहा है कि यह सोने का समय है योग और आयुर्वेदिक डॉक्टर ayurvedic doctor  भी कहते हैं कि रात में सोना और दिन में सक्रिय रहना बेहतर है। ऐसा देखा गया है कि ज्यादातर छात्र देर रात तक अध्ययन करने के लिए कॉफी और उत्तेजक पदार्थों coffee and stimulants का सेवन करते है जिसकी वजह से वह उनकी दिन मे सोने और रात को देर रात तक जागने की आदत विकसित हो जाती हैं जो उनकी सेहत के लिए बिल्कुल ठीक नहीं होता और स्वास्थ पर बुरा प्रभाव पड़ता हैं। वैकल्पिक स्वास्थ्य डॉक्टरों का कहना है कि इस तरह का अप्राकृतिक जीवन unnatural life कैंसर और अन्य बीमारियों के कारण होने वाले कारकों में से एक है।

भूख लगने पर खाया जाना :-

यह भी एक सरल विचार है, लेकिन एक बार फिर हम अक्सर शरीर के संदेशों के खिलाफ जाते हैं। यदि आप आदत से बाहर या सामाजिक दबाव social pressure के कारण दिन के निश्चित समय पर खाते हैं, तब भी जब आपको वास्तविक भूख नहीं लगती है, तो आप अपना भोजन ठीक से नहीं पचा पाएंगे। एसिडिटी और अपच Acidity and Indigestion  जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है इससे अन्य जटिल बीमारियों के जड़ होने की संभावना बढ़ जाती है। भूख लगना वास्तव में अच्छे स्वास्थ्य की निशानी है, लेकिन अगर आपको भूख नहीं है तो आपको थोड़ा इंतजार करना चाहिए और फिर खाना चाहिए। यदि उचित समय का इंतजार करने के बाद भी आपको भूख नहीं लगती है, तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए क्योंकि भोजन का पूरी तरह से पाचन न होना बहुत सी बीमारियों का संकेत होता है।

 यदि आप किसी व्यक्ति को बिना किसी आराम के 365 दिन प्रति वर्ष काम करने के लिए कहेंगे, तो वे शिकायत करेंगे और कहेंगे कि उन्हें थोड़ा आराम करना चाहिए नहीं तो वे टूट जाएंगे। लेकिन हमने कभी भी अपने पाचन अंगों के बारे में पूछने या सोचने की जहमत नहीं उठाई, जिन्हें हम बिना आराम के दिन-ब-दिन काम करने के लिए मजबूर करते हैं। वे उस तरह से विरोध नहीं कर सकते जिस तरह से एक व्यक्ति अपने बॉस के प्रति करता है, लेकिन वे हमें संकेत देते हैं कि वे बिना रुके काम नहीं कर सकते । जब हम उन संकेतों को नजर अंदाज करते हैं तो वह अंग कमजोर हो जाते है और फिर भी उन्हें काम करने के लिए मजबूर करते हैं, इसलिए समय-समय पर उपवास करना जरूरी है। एक पूरा दिन खाने से परहेज करें। यह आपके पाचन अंगों को आराम देता है और आपके शरीर से अपशिष्ट को खत्म करने में भी मदद करता है। नियमित उपवास एक व्यक्ति को बौद्धिक या आध्यात्मिक गतिविधियों intellectual or spiritual activities के लिए अतिरिक्त समय प्राप्त करने की अनुमति देता है। उपवास एक गुफा में साधुओं के लिए नहीं है, बल्कि एक समझदार अभ्यास है जिसका अभ्यास कोई भी व्यक्ति कर सकता है। 

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, स्वास्थ्य के रख रखाव के लिए उचित नींद आवश्यक है। यदि आप सोने से पहले अपने हाथ, पैर और चेहरे को ठंडे पानी से धोते हैं, तो इससे आपको काफी आराम मिलता है और यह प्रक्रिया आपको गहरी नींद के लिए तैयार करेगा।

नियमित रूप से ध्यान करें:

आपका शरीर आपके दिमाग से जुड़ा हुआ है। इस युग के कई रोग मनोदैहिक हैं। तनाव और चिंता हमारे शारीरिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ते हैं। ध्यान एक मानसिक व्यायाम mental exercise है, जो अन्य बातों के अलावा, आपको जीवन की चिंताओं से खुद को अलग करने की अनुमति देता है। एक सरल तकनीक सीखें और इसे नियमित रूप से करें। 

निष्कर्ष :-सुबह जल्दी उठना बहुत जरूरी होता हैं पुरानी कहावत है, "जल्दी सोना, जल्दी उठना इंसान को स्वस्थ, अमीर और बुद्धिमान बनाता है।"  मुझे नहीं पता कि यह आपको धनवान बनाएगा या नहीं, लेकिन यह निश्चित रूप से आपको स्वस्थ बनाएगा।

इसी विषय से सम्बंधित एक अन्य लेख को पढ़ने के लिए कृपया नीचे  दिए लिंक पर क्लिक करे-

https://www.thinkwithniche.in/blogs/details/meditation-apps-can-reduce-stress-and-anxiety

आधुनिक चिकित्सा तकनीक Modern Medical Technology  जितनी भी अच्छी हो, यह आपको अस्वस्थ जीवन शैली के कारण होने वाली समस्याओं से कभी नहीं बचा सकती है। हर समस्या के इलाज के लिए एक आधुनिक चिकित्सा प्राप्त करने के बजाय, ज़रूरी है के आप अपने स्वास्थ्य का खुद ध्यान रखें एक स्वस्थ ज़िन्दगी बहुत बेहतर है इलाज करवाने से इस लेख मे हम जानेंगे कुछ ऐसे तरीकों के बारे मे जो हमे स्वस्थ रखने मे काफी मदद करेंगे ओर आपको बीमार पड़ने से बचाएंगे।

रोकथाम करना निश्चित रूप से बार-बार इलाज करवाने से बेहतर है। इस लेख में कुछ टिप्स दिए गए हैं जिससे आप एक लंबा और स्वस्थ जीवन पा सकेंगे और ऐसी जीवन शैली आपको स्वस्थ रहने मे मदद करेगी।

पर्याप्त व्यायाम (Enough Exercise) करें:-

जीवन मे कोई भी काम तभी अच्छा हो सकता है जब हमारा शरीर स्वस्थ (Healthy body) हो क्योंकि शरीर स्वस्थ होने से मन भी स्वस्थ रहता है व्यायाम करने से शरीर को पूरी मात्रा मे ऑक्सिजन मिलती है शरीर मे रक्त (blood in body) का बेहतर तरीके से संचालन होता है, जो हमारी स्वस्थ सेहत (Health) के लिए बहुत अच्छा है निश्चित रूप व्यायाम (Exercise) करने से किसी तरह की बीमारी का खतरा लगभग नहीं रहता और हमारी रोग प्रतिरोधक शक्ति Immunity बढ़ जाती है व्यायाम करने के लिए सुबह का वक़्त सबसे बेहतर माना जाता हैं इसे करने के लिए खुला और हवादार स्थान का चयन करना चाहिए व्यायाम करने से चेहरे मे निखार, शरीर मे स्फूर्ति, रक्त का साफ होना, स्टैमिना Refinement, Energization of the body, Purification of blood, Stamina आदि जैसे लाभ मिलते हैं व्यायाम कई प्रकार के होते है जैसे दण्ड बैठक करना, सुबह के वक़्त चलना या दौड़ना, रस्सी कूदना, योगासन करना yoga आदि शामिल है सुबह के वक़्त खुली हवा मे व्यायाम करना अधिक बेहतर माना जाता है।

नींद आने पर सो जाना :-

आमतौर पर ज्यादातर लोग देर रात तक जागते हैं, तब भी जब उनका शरीर उन्हें बता रहा है कि यह सोने का समय है योग और आयुर्वेदिक डॉक्टर ayurvedic doctor  भी कहते हैं कि रात में सोना और दिन में सक्रिय रहना बेहतर है। ऐसा देखा गया है कि ज्यादातर छात्र देर रात तक अध्ययन करने के लिए कॉफी और उत्तेजक पदार्थों coffee and stimulants का सेवन करते है जिसकी वजह से वह उनकी दिन मे सोने और रात को देर रात तक जागने की आदत विकसित हो जाती हैं जो उनकी सेहत के लिए बिल्कुल ठीक नहीं होता और स्वास्थ पर बुरा प्रभाव पड़ता हैं। वैकल्पिक स्वास्थ्य डॉक्टरों का कहना है कि इस तरह का अप्राकृतिक जीवन unnatural life कैंसर और अन्य बीमारियों के कारण होने वाले कारकों में से एक है।

भूख लगने पर खाया जाना :-

यह भी एक सरल विचार है, लेकिन एक बार फिर हम अक्सर शरीर के संदेशों के खिलाफ जाते हैं। यदि आप आदत से बाहर या सामाजिक दबाव social pressure के कारण दिन के निश्चित समय पर खाते हैं, तब भी जब आपको वास्तविक भूख नहीं लगती है, तो आप अपना भोजन ठीक से नहीं पचा पाएंगे। एसिडिटी और अपच Acidity and Indigestion  जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है इससे अन्य जटिल बीमारियों के जड़ होने की संभावना बढ़ जाती है। भूख लगना वास्तव में अच्छे स्वास्थ्य की निशानी है, लेकिन अगर आपको भूख नहीं है तो आपको थोड़ा इंतजार करना चाहिए और फिर खाना चाहिए। यदि उचित समय का इंतजार करने के बाद भी आपको भूख नहीं लगती है, तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए क्योंकि भोजन का पूरी तरह से पाचन न होना बहुत सी बीमारियों का संकेत होता है।

 यदि आप किसी व्यक्ति को बिना किसी आराम के 365 दिन प्रति वर्ष काम करने के लिए कहेंगे, तो वे शिकायत करेंगे और कहेंगे कि उन्हें थोड़ा आराम करना चाहिए नहीं तो वे टूट जाएंगे। लेकिन हमने कभी भी अपने पाचन अंगों के बारे में पूछने या सोचने की जहमत नहीं उठाई, जिन्हें हम बिना आराम के दिन-ब-दिन काम करने के लिए मजबूर करते हैं। वे उस तरह से विरोध नहीं कर सकते जिस तरह से एक व्यक्ति अपने बॉस के प्रति करता है, लेकिन वे हमें संकेत देते हैं कि वे बिना रुके काम नहीं कर सकते । जब हम उन संकेतों को नजर अंदाज करते हैं तो वह अंग कमजोर हो जाते है और फिर भी उन्हें काम करने के लिए मजबूर करते हैं, इसलिए समय-समय पर उपवास करना जरूरी है। एक पूरा दिन खाने से परहेज करें। यह आपके पाचन अंगों को आराम देता है और आपके शरीर से अपशिष्ट को खत्म करने में भी मदद करता है। नियमित उपवास एक व्यक्ति को बौद्धिक या आध्यात्मिक गतिविधियों intellectual or spiritual activities के लिए अतिरिक्त समय प्राप्त करने की अनुमति देता है। उपवास एक गुफा में साधुओं के लिए नहीं है, बल्कि एक समझदार अभ्यास है जिसका अभ्यास कोई भी व्यक्ति कर सकता है। 

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, स्वास्थ्य के रख रखाव के लिए उचित नींद आवश्यक है। यदि आप सोने से पहले अपने हाथ, पैर और चेहरे को ठंडे पानी से धोते हैं, तो इससे आपको काफी आराम मिलता है और यह प्रक्रिया आपको गहरी नींद के लिए तैयार करेगा।

नियमित रूप से ध्यान करें:

आपका शरीर आपके दिमाग से जुड़ा हुआ है। इस युग के कई रोग मनोदैहिक हैं। तनाव और चिंता हमारे शारीरिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ते हैं। ध्यान एक मानसिक व्यायाम mental exercise है, जो अन्य बातों के अलावा, आपको जीवन की चिंताओं से खुद को अलग करने की अनुमति देता है। एक सरल तकनीक सीखें और इसे नियमित रूप से करें। 

निष्कर्ष :-सुबह जल्दी उठना बहुत जरूरी होता हैं पुरानी कहावत है, "जल्दी सोना, जल्दी उठना इंसान को स्वस्थ, अमीर और बुद्धिमान बनाता है।"  मुझे नहीं पता कि यह आपको धनवान बनाएगा या नहीं, लेकिन यह निश्चित रूप से आपको स्वस्थ बनाएगा।

इसी विषय से सम्बंधित एक अन्य लेख को पढ़ने के लिए कृपया नीचे  दिए लिंक पर क्लिक करे-

https://www.thinkwithniche.in/blogs/details/meditation-apps-can-reduce-stress-and-anxiety




Newsletter

Read and Subscribe