आपका व्यक्तित्व एक शिक्षक के रूप में कैसा हो?

Share Us

30636
आपका व्यक्तित्व एक शिक्षक के रूप में कैसा हो?
12 Jan 2023
6 min read

Blog Post

एक शिक्षक को कई पैमानों पर खरा उतरना होता है जिसके चलते उसे कई चीजों का ध्यान रखना पड़ता है जैसे की  Way of Living and Wearing रहने और पहनने का तरीका, एक शिक्षक को हमेशा ज्ञानी होने के साथ-साथ अच्छी तरह तैयार होकर अनुशासन Discipline में विद्यार्थियों के सामने आना चाहिए इसका असर विद्यार्थियों पर काफी अच्छा होता है। 

शिक्षक को स्वास्थ्य Health के प्रति भी काफी उचित व्यवहार रखना चाहिए। अगर एक शिक्षक अपने स्वास्थ्य पर ध्यान नहीं देगा तो वह विद्यार्थियों Students को कैसे सिखा पाएगा कि स्वास्थ्य कितना जरूरी है अगर स्वास्थ्य नहीं तो जिंदगी में आप आगे बढ़ नहीं पाएंगे इसीलिए एक शिक्षक को स्वास्थ्य के प्रति काफी ज्यादा जागरूक होना चाहिए और विद्यार्थियों को भी करना चाहिए। 

एक शिक्षक की पढ़ाई गई हर चीज उनके विद्यार्थियों पर गहरा असर डालती है। जिसका असर समाज पर भी होता है। आज हम उन विशेषताओं की बात करने वाले हैं जिसमें हम आपको बताएंगे कि एक शिक्षक के रूप में अच्छा व्यक्तित्व कैसा हो सकता है। How is your personality as a teacher?

जब हम शिक्षक Teacher के रूप में एक अच्छे व्यक्तित्व Personality की बात करते हैं तो हमारे दिमाग में हमारे जीवन काल के सबसे बढ़िया शिक्षक की तस्वीर सामने आती है। यह तस्वीर इसलिए सामने आती है क्योंकि हमने उस शिक्षक में वह सब देखा है और सीखा है जिससे हम जीवन में कई गुना आगे बढ़ते चले गए।

वैसे तो हर शिक्षक की एक अलग पहचान होती है एक अलग विशेषता होती है लेकिन अगर हम पूर्ण रूप से बात करें तो एक शिक्षक का व्यक्तित्व Personality of Teacher कई तरह से परिपूर्ण होना चाहिए। जिसमें कई विशेषताएं शामिल हैं।

शिक्षा ग्रहण करना शिक्षक के बिना मुमकिन नहीं है। एक शिक्षक की पढ़ाई गई हर चीज उनके विद्यार्थियों पर गहरा असर डालती है। जिसका असर समाज पर भी होता है। आज हम उन विशेषताओं की बात करने वाले हैं जिसमें हम आपको बताएंगे कि एक शिक्षक के रूप में अच्छा व्यक्तित्व कैसा हो सकता है। 

आपका व्यक्तित्व एक शिक्षक के रूप में कैसा हो? How is your personality as a teacher?

शिक्षक का योग्य होना है बहुत जरूरी  It is very important to be qualified as a teacher

एक अच्छे शिक्षक का योग्य Well Educated होना बेहद जरूरी है क्योंकि शिक्षा देना ज्ञान का विषय है और अगर किसी शिक्षक के पास ज्ञान ही अधूरा है तो अधूरा ज्ञान बहुत बुरा होता है, जो विद्यार्थियों की जिंदगी भी बर्बाद कर सकता है, इसीलिए शिक्षक को योग्य होना काफी जरूरी है। एक शिक्षक की न्यूनतम योग्यता Minimum Qualification बहुत जरूरी है। योग्यता के साथ-साथ एक शिक्षक को प्रशिक्षित Trained भी होना चाहिए।

यह योग्यता विद्यालय School से लेकर महाविद्यालय College तक भिन्न-भिन हो सकती है, लेकिन जितनी शिक्षा जहां जरूरी है उतनी शिक्षा एक शिक्षक में होना बेहद आवश्यक है क्योंकि अगर आप शिक्षक को ज्ञान के भंडार के रूप में देखते हैं तो वही हैं जो उनके विद्यार्थियों को परिपूर्ण शिक्षा दे सकता हैं।

बोलने और समझाने की आकर्षक कला  Persuasion

एक शिक्षक का बेहतरीन व्यक्तित्व उसके बोलने के तरीके Way of Talking पर काफी निर्भर करता है कि वह किस तरह अपने विद्यार्थियों से पेश आता है अगर एक शिक्षक एक बेहतरीन वक्ता Speaker है तो उसे कोई भी विद्यार्थी आसानी से पसंद कर सकता है। 

कब कहां और कितना बोलना है अगर यह इंसान को अच्छे से आता हो और एक शिक्षक को आता हो तो इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता, एक विद्यार्थी हमेशा यह चाहता है कि उसका शिक्षक उससे बिना सर-पैर की बात न करें, केवल मुद्दे की बात कर समझाएं । 

अगर एक शिक्षक अच्छा वक्ता होगा तो वह इस बात को भलीभांति जनता होगा की किस तरह विद्यार्थियों के सामने अपनी बात को रखना है। एक अच्छे शिक्षक में अच्छा वक्ता होना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि इससे विद्यार्थी उसे बेहतर समझ पाएंगे और ध्यान दें पाएंगे।

शिक्षक का पेशेवर होना जरूरी Teacher must be professional

एक शिक्षक का हमेशा पेशेवर रहना काफी प्रभाव डालता है क्योंकि विद्यार्थी जो होते हैं वह भी आजकल यह जरूर समझते हैं कि उनके शिक्षक किस तरह उनके साथ पेश आ रहे हैं अगर उनका व्यवहार पेशेवर Professional ना हो तो कहीं ना कहीं विद्यार्थियों पर भी इसका असर पड़ता है शिक्षक का व्यवसाय के प्रति रुचि रखना और इसे अच्छी तरह निभाना काफी जरूरी है। इसके साथ ही एक शिक्षक जो भी विषय पढ़ा रहा है उसका ज्ञान होना बेहद जरूरी है, अगर वह अपने विषय पर पकड़ नहीं बना पाया तो विद्यार्थी का ध्यान भटकना निश्चित है।

शिक्षा देने का अंदाज हो निराला Unique way of teaching

शिक्षक को अपने पढ़ाने के तरीके पर भी पूरी तरह आत्मविश्वास Confidence होना बेहद आवश्यक है जिससे विद्यार्थी का ध्यान ना भटके अगर उदाहरण के रूप में देखा जाए तो उम्र के हिसाब से अपनी शिक्षण देने की प्रक्रिया को बदलना एक शिक्षक का बहुत अच्छा व्यवहार माना जायेगा।

अगर शिक्षक बच्चों को पढ़ा रहे हैं तो वह खेल-खेल में उन्हें सिखाए तो वह बेहतर होगा।  इसके साथ ही अगर वह उच्च शिक्षा में कार्यरत हैं तो उन्हें कुछ प्रायोगिक उपाय करके समझाना उचित साबित होगा। यहां यह कहना उचित होगा कि शिक्षक बच्चों को पढ़ाने का वह तरीका ढूंढे जिससे बच्चों का ध्यान लगा रहे।

इसके अलावा अगर शिक्षक नई तकनीक New Technology  के साथ कुछ वस्तुओं या कुछ मॉडल बनाकर बच्चों को पढ़ाई करवाएं तो वह भी एक बेहतर और रचनात्मक Creative तरीका होगा।

विद्यार्थी की मनःस्थिति को भाप लेने का कौशल

विद्यार्थी जीवन में हम देखते हैं कि कई तरह के बच्चे सामने आते हैं जो शरारती भी होते हैं और शांतिप्रिय भी होते हैं, इस अवस्था में शिक्षक को उनकी मनीःस्थिति State of Mind समझकर उन्हें सूझबूझ से पढ़ाना भी एक कला है और इस कला को समझने वाला ही एक अच्छा शिक्षक हो सकता है।

बच्चों के मनोविज्ञान Psychology को समझकर शिक्षक उनकी समस्याओं का समाधान आसानी और रचनात्मकता का प्रयोग करके भी दे सकता है। इसके साथ ही शिक्षक को छात्रों के साथ अच्छे संबंध बनाना भी काफी जरूरी है एक अच्छे शिक्षक वही है जो अपने विद्यार्थियों के साथ बढ़िया व्यवहार करता है और उन्हें समझता हो। अच्छे व्यवहार के चलते ही एक शिक्षक अपने विद्यार्थियों के मन पर छाप छोड़ सकता है।

समय की कीमत खुद भी समझे और विद्यार्थियों को भी समझाएं

एक अच्छे शिक्षक में समय की कीमत Value of Time को समझना बेहद जरूरी है क्योंकि यह समय बड़ा बलवान है यह शिक्षक और विद्यार्थी दोनों के लिए ही बहुत कीमती है अगर एक शिक्षक समय का पाबंद नहीं हुआ तो इससे शिक्षा और विद्यार्थी दोनों पर पड़ा प्रभाव पड़ता है। किसी भी काम को समय से न करना बड़ा बुरा साबित होता है और इसी तरह अगर एक शिक्षक समय की कीमत समझेगा तो इससे उसके विद्यार्थियों पर भी बेहतर असर पड़ेगा और वह भी समय की कीमत को समझेंगे तो इसलिए शिक्षक को समय का पाबंद होना बेहद आवश्यक है।

इन विशेषताओं का होना भी बहुत जरूरी

 एक शिक्षक को कई पैमानों पर खरा उतरना होता है जिसके चलते उसे कई चीजों का ध्यान रखना पड़ता है जैसे की  Way of Living and Wearing रहने और पहनने का तरीका, एक शिक्षक को हमेशा ज्ञानी होने के साथ-साथ अच्छी तरह तैयार होकर अनुशासन Discipline में विद्यार्थियों के सामने आना चाहिए इसका असर विद्यार्थियों पर काफी अच्छा होता है। 

शिक्षक को स्वास्थ्य Health के प्रति भी काफी उचित व्यवहार रखना चाहिए। अगर एक शिक्षक अपने स्वास्थ्य पर ध्यान नहीं देगा तो वह विद्यार्थियों Students को कैसे सिखा पाएगा कि स्वास्थ्य कितना जरूरी है अगर स्वास्थ्य नहीं तो जिंदगी में आप आगे बढ़ नहीं पाएंगे इसीलिए एक शिक्षक को स्वास्थ्य के प्रति काफी ज्यादा जागरूक होना चाहिए और विद्यार्थियों को भी करना चाहिए। 

शिक्षक का चरित्र होना चाहिए साफ

एक शिक्षक को हमेशा अपना चरित्र साफ Good Character रखना चाहिए क्योंकि अगर उनका चरित्र ही खराब हुआ तो इसका विद्यार्थी पर बहुत बुरा असर पड़ता है। शिक्षक का एक गलत व्यवहार विद्यार्थी तथा समाज पर भी बुरा असर डाल सकता है इसलिए यह एक बड़ा गुण है जो निरीक्षक के पास होना ही चाहिए। 

इसके साथ ही अगर एक शिक्षक नेतृत्व की क्षमता का धनी हो तो विद्यार्थियों के लिए बेहतर साबित होता है। अपनी नेतृत्व क्षमता Leadership Quality के बल पर वह विद्यार्थियों को सब कुछ अच्छी तरह सिखा सकता है। जिस तरह खेल में कप्तान अपनी टीम को संभालता है उसी तरह शिक्षक को भी विद्यार्थियों को संभालना होता है इसलिए नेतृत्व क्षमता होना आवश्यक है।

इसके साथ-साथ एक शिक्षक को हमेशा उत्साह और आत्मसम्मान के साथ काम करना चाहिए साथ में अगर वह मजाकिया अंदाज में भी अपने विद्यार्थियों को पढ़ाए तो वह भी एक बेहतर व्यवहार हो सकता है लेकिन मजाक भी कब और कितना करना है इसकी भी एक अच्छे शिक्षक समझ होना जरूरी है।

ये भी पढ़े: बढ़ते इंजीनियरिंग कॉलेज घटती इंजीनियरिंग

सभी से अच्छे रिश्ते बनाने का व्यवहार

एक अच्छे शिक्षक को हमेशा अच्छे रिश्ते बनाने के लिए जाना जाता है। विद्यालय हो या विद्यालय के बाहर शिक्षक को हमेशा अच्छे रिश्ते Good Relation बनाने चाहिए चाहे वह विद्यार्थियों के साथ हो या फिर साथ में काम कर रहे अपने साथी शिक्षकों के साथ हो या फिर अपने से बड़े विद्यालय के प्रिंसिपल हो या वाइस प्रिंसिपल हो उन सभी के साथ अच्छे संबंध बनाना एक शिक्षक का बेहतरीन औजार है।

इसके साथ ही समाज में शिक्षक अपनी छाप छोड़ते हैं तो उन्हें समाज के साथ भी एक गहरा रिश्ता बनाना चाहिए। अच्छे संबंधों के चलते ही लोग किसी को जिंदगी भर याद रखते हैं इसी तरह अगर शिक्षक भी अच्छे संबंध बनाएगा तो वह जिंदगी भर काम आएंगे और लोग शिक्षक को अच्छे व्यक्तित्व के धनी के रूप में याद भी करेंगे।

एक शिक्षक अपने कार्य की शुरुआत से ही इतना अच्छा नहीं होता लेकिन इन सब विशेषताओं के चलते ही उसका व्यक्तित्व शानदार बनता है और वह अपने कार्यकाल में धीरे-धीरे सब कुछ सीखता है लेकिन वह अभ्यास करें और धीरे-धीरे इन सब चीजों को अपनी जिंदगी में ढाले तो वह एक बेहतरीन शिक्षक बन सकता है।

अध्यापक की कुशलता का एक छात्र के प्रदर्शन पर कितना प्रभाव पड़ता है?

आज बच्चों के जीवन जीने के तरीकों में पहले से काफी बदलाव आ गया है। आज हर कोई अपना जीवन अपने अंदाज़ में व्यतीत करना चाहता है और खासकर आज की युवा पीढ़ी। उन्हें किसी भी काम में हस्थ्छेप नहीं पसंद है। इस तरह का जीवन जीने के चक्कर में आज के युवा अपनी जिम्मेदारियों से पीछे हट रहे हैं और इसका समाज और उनके परिवार पर बुरा असर पड़ रहा है।

किसी भी छात्र की जीवन जीने की शैली पर विशेषकर उसके अभिभावक और उसके शिक्षक का काफी प्रभाव पड़ता है। यही कारण है कि ये एक अभिवावक और शिक्षक का फ़र्ज़ है कि वे बिना अपने बच्चे और अपने छात्र की भावनाओं को ठेस पहुंचाते हुए उसे परिवार, राष्ट्र और समाज के प्रति उसके दायित्व  से उसे जागरूक करवाएं। युवा पीढ़ी को अगर इस बारे में सिखाया जाए तो वे अपनी जिम्मेदारियों को और अच्छे से जान पाएंगे। 

एक अध्यापक  शिक्षण प्रक्रिया का सबसे महत्वपूर्ण अंग होता है। एक अध्यापक के बिना आप शिक्षा की प्रक्रिया को सफल रूप से पूरा नहीं कर सकते हैं। एक शिक्षक का काम ना केवल छात्रों को शिक्षा प्रदान करना है बल्कि अपने छात्रों को उनके आने वाले कल के लिए तैयार करना है। अगर आपके छात्र के मन में कोई भी सवाल है तो उसे हल करें। 

एक शिक्षक को बस अपने ही विषय का नहीं बल्कि स्कूल में पढ़ाने वाले हर विषय का ज्ञान होना चाहिए। एक शिक्षक को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अब गूगल का ज़माना है और हर छात्र गूगल और किताबों की मदद से अपने ज्ञान को अपडेट करता है इसीलिए एक शिक्षक को भी इस बात का ध्यान रखना चाहिए और ज्ञान के मामले में हमेशा अपडेट रहना चाहिए। 

इसके साथ-साथ एक अच्छे शिक्षक में छात्र को आदेश देने के नहीं बल्कि निर्देश देने के गुण होने चाहिए। हां जरूरत पड़ने पर आप बच्चों को डांट सकते हैं लेकिन जब आप अपने छात्र के साथ एक मित्र की तरह पेश आते हैं तो आपका छात्र भी बेझिझक होकर अपनी सारी समस्याएं आपको बता पाता है। आपको छात्र के मन से डर दूर करना चाहिए और यह विनम्रता से ही संभव है। 

क्यों विद्यार्थी अध्यापक नहीं बनना चाहते हैं?

आज कल अगर किसी बच्चे से ये सवाल किया जाए कि तुम्हें बड़े होकर क्या बनना है तो शायद 10 में से 1 या 2 लोग ऐसे होंगे जो कहेंगे कि मुझे एक अध्यापक बनना है। ऐसा क्यों है इसके बारे में एक शिक्षक को पता लगाना चाहिए। दरअसल, ऐसा इसीलिए है क्योंकि अच्छे, सच्चे और गुणी शिक्षकों का मिलना अब बेहद मुश्किल हो गया है। शिक्षा एक ऐसा क्षेत्र हैं जहां गुणी और प्रतिबद्ध शिक्षकों की जरूरत हैं क्योंकि इस पेशे पर कई और अन्य पेशे भी निर्भर करते हैं।