गणतंत्र दिवस:2024: जानिये वो मुख्य घटनाएँ जिन्होंने भारत को बदल दिया

Share Us

241
 गणतंत्र दिवस:2024: जानिये वो मुख्य घटनाएँ जिन्होंने भारत को बदल दिया
25 Jan 2024
7 min read

Blog Post

आज जब हम 75वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं, तिरंगा फहराते हुए, यह सिर्फ संविधान का प्रतीक नहीं, बल्कि 75 सालों के अनथक संघर्ष, अविश्वसनीय तरक्की और विविधताओं के रंगीन ताने-बाने की खुशनुमा सौगात है।

इस साल के विषय "विकसित भारत" और "भारत- लोकतंत्र की जननी" की भावना के साथ गूंजते हैं, जो एक संपन्न लोकतंत्र के रूप में भारत की मूलभूत विशेषताओं को रेखांकित करते हैं।

गणतंत्र दिवस समारोह में राष्ट्रपति द्वारा ध्वज फहराया जाता है, जिसके ऊपर पुष्पों की माला सजाई जाती है। यह प्रतीकात्मक कृत्य दर्शाता है कि भारत स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद न केवल अपनी मुश्किल से अर्जित स्वतंत्रता का, बल्कि अपने संविधान के निर्माण का भी जश्न मना रहा है।

यह विचारशील ब्लॉग पोस्ट एक टाइम मशीन की तरह काम करता है, जो पाठकों को महत्वपूर्ण घटनाओं की भूलभुलैया में ले जाता है, जिन्होंने आधुनिक, जीवंत भारत का कथा-नायक बुन दिया है।

स्वतंत्रता के बाद विभाजन के तूफानी दिनों से लेकर तकनीक में शानदार उपलब्धियों, सामाजिक-राजनीतिक सुधारों और वैश्विक सम्मानों तक, ये 75 साल राष्ट्र की अदम्य भावना को परिभाषित करने वाले क्षणों की एक जीवंत चित्रपट का संक्षिप्तीकरण करते हैं।

यह यात्रा कठिन पर विजयी पथ का एक अन्वेषण है, जो भारत ने विकास, एकता और विविधता के प्रति निरंतर प्रतिबद्धता का प्रदर्शन करता है।

आइए, हम इस उदासीन ओडिसी में शामिल हों, क्योंकि हम उन महत्वपूर्ण घटनाओं की समीक्षा करते हैं, जिन्होंने न केवल इतिहास के पाठ्यक्रम को आकार दिया है, बल्कि महान भारतीय राष्ट्र के समृद्ध चित्र-मोज़ेक में भी योगदान दिया है।

इन महत्वपूर्ण मील का पत्थर का जश्न मनाते हुए, हम महात्मा गांधी, डॉ. बी.आर. अंबेडकर और वीर स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा देखे गए आकांक्षाओं को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।

"देश भक्ति की पवित्र भावना और अटूट आशा के साथ, हम चाहते हैं कि भारत के विकास का सिलसिला निरंतर जारी रहे, और हमारा प्यारा तिरंगा हमेशा यूँ ही  गौरव से फहराता रहे।"

जय हिंद! जय भारत!

आज गणतंत्र दिवस! खुशियां चारों ओर, तिरंगा लहरा रहा है गर्व से, क्योंकि हमारा संविधान 75 साल का हो गया है. ओमिक्रॉन का साया भले पड़ा हो, लेकिन देश के लिए हमारा जुनून उसी तरह जलता है! आज का दिन है जब हम हर परेशानी को भूलकर सिर्फ राष्ट्रप्रेम जगाते हैं. लड्डूओं की खुशबू तो वातावरण को और खुशनुमा बना रही है! क्या खूबसूरत गाना बज रहा है! देशभक्ति के गीत हमें देशप्रेम और एकता की ऐसी आग लगा देते हैं!

75 साल का लंबा सफर, संघर्ष और शक्ति से लबालब! सन् 1950 में जब हमारा संविधान लागू हुआ, तब से हम वाकई बहुत दूर आ चुके हैं. हमारी मातृभूमि ने ना जाने कितना दर्द और तरक्की देखी है. विभाजन के दिल तोड़ देने वाले दिनों से लेकर मंगल ग्रह की धरती छूने तक, यह एक रोमांचक सफर रहा है!

तो इस गणतंत्र दिवस, आइए ज़रा पीछे चलें और उन घटनाओं को याद करें, जिन्होंने नए भारत को आकार दिया है –

गणतंत्र दिवस:2024: वो मुख्य घटनाएँ जिन्होंने भारत को बदल दिया Republic Day:2024: Major events that changed India

भारत के 75वें गणतंत्र दिवस पर यह सिर्फ संवैधानिक जीत का जश्न नहीं है, बल्कि उन 73 घटनाओं पर विचार करना है, जिन्होंने हमारे देश की नियति को गढ़ा है. 1947 में आजादी की गूंज से लेकर आधुनिक युग की जटिलताओं को पार करते हुए, हर मील का पत्थर भारत की प्रगति, लचीलेपन और एकता की ओर बढ़ने की कहानी कहता है.

जब हम इन महत्वपूर्ण क्षणों को याद करते हैं, तो उनके स्थायी प्रभाव और समकालीन भारत के जीवंत चित्र में उनकी प्रासंगिकता को पहचानना आवश्यक है.

  1. भारत-पाकिस्तान विभाजन (1947): भयानक परिणामों के बावजूद, इस विभाजन ने स्वतंत्र भारत और पाकिस्तान का जन्म चिह्नित किया, भू-राजनीतिक परिदृश्य को बदल दिया.

  2. कश्मीर विवाद (1947-1948): कश्मीर पर क्षेत्रीय विवाद भारत के विदेशी संबंधों और सुरक्षा नीतियों को आकार देने वाली एक लंबी चुनौती बन गया.

  3. मतदान का अधिकार (1947): स्वतंत्रता के तुरंत बाद, भारत ने मतदान का अधिकार दिया, जो लोकतांत्रिक सिद्धांतों की नींव रखी.

  4. रेलवे नेटवर्क का राष्ट्रीयकरण (1951): 1951 में रेलवे नेटवर्क के राष्ट्रीयकरण ने संपर्क बढ़ाया और आर्थिक विकास को सुगम बनाया.

  5. पहले आम चुनाव (1951): 1951 में आयोजित इन चुनावों ने भारत की लोकतंत्र और राजनीतिक समावेशिता के प्रति प्रतिबद्धता का प्रदर्शन किया.

  6. पहले एशियाई खेल (1951): नई दिल्ली में पहले एशियाई खेलों की मेजबानी ने अंतरराष्ट्रीय खेल आयोजनों के आयोजन में भारत की क्षमता का प्रदर्शन किया.

  7. एप्सरा- एशिया का पहला परमाणु रिएक्टर (1956): अप्सरा रिएक्टर के साथ परमाणु प्रौद्योगिकी में भारत का प्रवेश वैज्ञानिक प्रगति में एक मील का पत्थर था.

  8. मदर इंडिया का ऑस्कर नामांकन (1958): "मदर इंडिया" के लिए ऑस्कर में मान्यता ने भारतीय सिनेमा के वैश्विक प्रभाव को दिखाया.

  9. हरित क्रांति (1960): 1960 के दशक में हरित क्रांति की बदौलत भारत में अनाज का उत्पादन बहुत बढ़ गया, जिससे खाने की कमी की बड़ी समस्या का समाधान हुआ।

  10. भारत-चीन युद्ध (1962): 1962 में चीन के साथ हुए युद्ध ने भारत की रक्षा रणनीतियों और अंतरराष्ट्रीय संबंधों को काफी प्रभावित किया।

  11. बैंकों का राष्ट्रीयकरण (1969): 1969 में भारत सरकार ने 14 बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया, जिसका लक्ष्य ज्यादा लोगों को बैंकिंग सेवाएं पहुंचाना और देश का आर्थिक विकास समान रूप से करना था।

  12. श्वेत क्रांति (1970): 1970 के दशक में श्वेत क्रांति के ज़रिए दूध उत्पादन पर ज़ोर दिया गया, जिससे भारत दूध उत्पादन में दुनिया में सबसे आगे आ गया।

  13. बांग्लादेश का निर्माण (1971): पूर्वी पाकिस्तान को आजाद कराने में भारत की भूमिका और बांग्लादेश के बनने से क्षेत्र में भारत की कूटनीति की मज़बूती दिखाई पड़ी।

  14. शिमला समझौता (1972): इस समझौते ने भारत और पाकिस्तान के रिश्तों को सुधारने का रास्ता खोला और शांति कायम करने की कोशिश की।

  15. चिपको आंदोलन (1973): पर्यावरण बचाने के लिए 1973 में शुरू हुआ ये आंदोलन बहुत मशहूर हुआ और दुनिया भर में इसी तरह के आंदोलनों को जन्म दिया।

  16. पोखरण परीक्षण (1974): 1974 में राजस्थान के पोखरण में भारत ने पहला परमाणु परीक्षण किया, जिससे दुनिया को उसकी ताकत का पता चला।

  17. जेपी आंदोलन (1974): जयप्रकाश नारायण के नेतृत्व में बिहार में शुरू हुआ ये छात्र आंदोलन भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई का प्रतीक बना।

  18. आर्यभट्ट उपग्रह (1975): 1975 में देश का पहला उपग्रह आर्यभट्ट अंतरिक्ष में भेजा गया, जिससे अंतरिक्ष विज्ञान में भारत का सफर शुरू हुआ।

  19. आपातकाल (1975-1977): इंदिरा गांधी ने 1975 में देश में आपातकाल लगाया, जिसका देश की स्वतंत्रता और राजनीतिक बातचीत पर गहरा असर पड़ा।

  20. मोरारजी देसाई (1977): 1977 में पहली बार कांग्रेस के अलावा किसी पार्टी (जनता पार्टी) से मोरारजी देसाई देश के प्रधानमंत्री बने, जो भारतीय राजनीति में बड़ा बदलाव था।

  21. मंडल आयोग (1979): कमजोर वर्गों की पहचान और उनकी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए 1979 में मंडल आयोग बनाया गया।

  22. 1983 क्रिकेट विश्व कप: कपिल देव की कप्तानी में 1983 में भारत ने पहली बार विश्व कप जीता, जो भारतीय खेल इतिहास में एक मील का पत्थर साबित हुआ।

  23. राकेश शर्मा (1984): 1984 में राकेश शर्मा अंतरिक्ष में गए, जो भारत की अंतरिक्ष यात्रा में एक बड़ा कदम था।

  24. ऑपरेशन ब्लू स्टार (1984): अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में आतंकवादियों को हटाने के लिए 1984 में चलाए गए इस सैन्य अभियान का देश पर गहरा असर पड़ा।

  25. सिख विरोधी दंगे (1984): 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुए सांप्रदायिक दंगे सामाजिक सद्भावना की ज़रूरत को दिखाते हैं।

  26. भोपाल गैस कांड (1984): 1984 में भोपाल में हुई गैस त्रासदी ने कारखानों में सुरक्षा उपायों की सख्त ज़रूरत को उजागर किया।

  27. बोफोर्स घोटाला (1989): 1989 में हथियारों की खरीद में हुए इस घोटाले का राजीव गांधी सरकार पर बुरा असर पड़ा।

  28. 1987 क्रिकेट विश्व कप: 1987 में भारत ने पहली बार क्रिकेट विश्व कप की मेजबानी की, जो देश के बढ़ते अंतरराष्ट्रीय महत्व को दर्शाता है।

  29. भागलपुर दंगे (1989): 1989 में भागलपुर में हुए सांप्रदायिक दंगों ने देश में सामाजिक सद्भाव की ज़रूरत को उजागर किया।

  30. मंडल आंदोलन (1990): 1990 में मंडल आयोग की सिफारिशों के लागू होने के खिलाफ हुए इस आंदोलन ने सामाजिक न्याय और आरक्षण जैसे मुद्दों को उठाया।

  31. कुवैत से भारतीयों का हवाई मार्ग से निकालना (1991): 1991 में खाड़ी युद्ध के दौरान कुवैत में फंसे भारतीयों को हवाई जहाजों से वापस लाने का अभियान भारत की अपने नागरिकों के प्रति प्रतिबद्धता को दिखाता है।

  32. अर्थव्यवस्था का वैश्वीकरण (1991): 1991 में भारत के आर्थिक सुधारों की शुरुआत हुई, जिससे देश वैश्विक अर्थव्यवस्था का हिस्सा बना।

  33. राजीव गांधी की हत्या (1991): 1991 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या से देश की राजनीति में बड़ा बदलाव आया।

  34. बाबरी मस्जिद विध्वंस (1992): 1992 में अयोध्या में बाबरी मस्जिद के विध्वंस का देश के सामाजिक ताने-बाने पर गहरा असर पड़ा।

  35. हर्षद मेहता सिक्योरिटीज घोटाला (1992): 1992 में हर्षद मेहता द्वारा किए गए शेयर बाजार घोटाले ने वित्तीय क्षेत्र में गड़बड़ियों को उजागर किया।

  36. 1993 मुंबई बम विस्फोट: 1993 में दाऊद इब्राहिम के गुर्गों द्वारा मुंबई में किए गए बम विस्फोटों ने देश की सुरक्षा चुनौतियों को सामने लाया।

  37. पहली बीजेपी सरकार (1998): 1998 में पहली बार भाजपा के नेतृत्व में सरकार बनना भारतीय राजनीति में बड़ा बदलाव था।

  38. पोखरण-II परमाणु परीक्षण (1998): 1998 में भारत ने दूसरी बार परमाणु परीक्षण किए, जिससे उसकी परमाणु क्षमता मजबूत हुई।

  39. दिल्ली-लाहौर बस सेवा (1999): 1999 में दिल्ली और लाहौर के बीच बस सेवा शुरू करना भारत-पाकिस्तान के बीच कूटनीतिक संबंधों को सुधारने की कोशिश थी।

  40. कारगिल युद्ध (1999): 1999 में कारगिल में पाकिस्तान के साथ हुआ युद्ध भारत की सैन्य तैयारियों और अंतरराष्ट्रीय रिश्तों की परीक्षा थी।

  41. मैच फिक्सिंग कांड (2000): 2000 में सामने आए मैच फिक्सिंग कांड ने भारतीय क्रिकेट जगत को हिला कर रख दिया।

  42. नए राज्य बने (2000): छत्तीसगढ़, झारखंड और उत्तराखंड जैसे नए राज्यों का बनना 2000 में क्षेत्रीय आकांक्षाओं को पूरा करने का बड़ा कदम था।

  43. स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना (2001): 2001 में स्वर्णिम चतुर्भुज सड़कों के निर्माण से देश के बुनियादी ढांचे को मजबूती मिली।

  44. गुजरात दंगे (2002): गोधरा कांड और उसके बाद हुए गुजरात दंगों ने सांप्रदायिक तनावों को उजागर किया।

  45. सूचना का अधिकार अधिनियम (2005): 2005 में लागू हुए इस कानून से लोगों को अधिक सूचना पाने का अधिकार मिला।

  46. मनरेगा (2005): महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम 2005 गरीबी दूर करने और गांवों के विकास के लिए बनाया गया।

  47. नाथू ला दर्रा खुलना (2006): 2006 में नाथू ला दर्रा फिर से खोलने से तिब्बत के साथ भारत के रिश्ते बेहतर हुए।

  48. सुनामी (2004): 2004 में आई सुनामी ने प्राकृतिक आपदाओं के सामने भारत के मजबूती का नमूना दिखाया।

  49. चंद्रयान-1 (2008): 2008 में चंद्रयान-1 को भेजकर भारत ने चंद्रमा की खोज शुरू की।

  50. अभिनव बिंद्रा का गोल्ड (2008): 2008 ओलंपिक में अभिनव बिंद्रा के गोल्ड मेडल से अंतरराष्ट्रीय खेलों में भारत की ताकत दिखी।

  51. मुंबई हमले (2008): 2008 में मुंबई में हुए आतंकवादी हमलों ने देश की सुरक्षा से जुड़ी चुनौतियों को उजागर किया।

  52. शिक्षा का अधिकार अधिनियम (2009): 2009 में इस कानून के लागू होने से सबको मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार मिला।

  53. भारतीय परमाणु पनडुब्बी (2009): 2009 में पहली भारतीय परमाणु पनडुब्बी बनने से रक्षा क्षमता मजबूत हुई।

  54. कॉमनवेल्थ गेम्स (2010): 2010 में कॉमनवेल्थ गेम्स की मेजबानी कर भारत ने आयोजन क्षमता दिखाई।

  55. क्रिकेट विश्व कप 2011: 2011 में भारत का एमएस धोनी की कप्तानी में विश्व कप जीतना गर्व का विषय था।

  56. लोकपाल आंदोलन (2011): भ्रष्टाचार के खिलाफ 2011 में हुए लोकपाल आंदोलन ने जनता की मांगों को उजागर किया।

  57. राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (2013): 2013 में आए इस कानून का लक्ष्य सभी तक खाना पहुंचाना था।

  58. मंगलयान (2013): 2013 में मंगलयान भेजकर भारत ने अंतरिक्ष अनुसंधान में बड़ा कदम उठाया।

  59. पोलियो मुक्त भारत (2014): 2014 में भारत का पोलियो मुक्त घोषित होना स्वास्थ्य क्षेत्र में बड़ी उपलब्धि थी।

  60. तेलंगाना राज्य (2014): 2014 में तेलंगाना को अलग राज्य बनाने से क्षेत्रीय आकांक्षाओं को पूरा किया गया।

  61. नाविक (2016): 2016 में नाविक प्रणाली शुरू होने से भारत की सैटेलाइट नेविगेशन क्षमता बढ़ी।

Also Read: आइये अतुल्य भारत के सांस्कृतिक वैभव को जानें

भारत में हालिया महत्वपूर्ण घटनाक्रम Recent important developments in India:

2016:

  • नोटबंदी: कालेधन को रोकने और डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए बड़े नोट बंद किए गए।

2017:

  • जीएसटी लागू: वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू होने से अप्रत्यक्ष कर प्रणाली सरल हुई।

  • तीन तलाक कानून: सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को असंवैधानिक घोषित किया, जो महिलाओं के अधिकारों के लिए बड़ा कदम था।

2018:

  • एलजीबीटीक्यू+ अधिकार: सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिक संबंधों को अपराधमुक्त घोषित किया, जो एलजीबीटीक्यू+ समुदाय के लिए महत्वपूर्ण फैसला था।

2019:

  • देशी लड़ाकू विमान: भारतीय वायुसेना में स्वदेशी लड़ाकू विमान शामिल किया गया, जो तकनीकी प्रगति का उदाहरण था।

  • अनुच्छेद 370 हटाया गया: जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने वाला यह फैसला 2019 में लिया गया।

2020:

  • कोविड-19 महामारी: विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोविड-19 को वैश्विक महामारी घोषित किया, जिससे स्वास्थ्य प्राथमिकताएं बदल गईं।

  • कोविड-19 रोकथाम: मास्क पहनना और सामाजिक दूरी बनाए रखना जैसे उपाय 2020 में महत्वपूर्ण हो गए।

2020-2021:

  • कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन: इस आंदोलन ने कृषि क्षेत्र की चिंताओं को उजागर किया और कानूनों में बदलाव किए जाने की मांग की।

2021:

  • कोविड-19 वैक्सीन मंजूरी: कोविशील्ड और कोवैक्सीन के टीकों को मंजूरी देना महामारी के खिलाफ लड़ाई में महत्वपूर्ण कदम था।

2022:

  • अमर जवान ज्योति विलय: अमर जवान ज्योति को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक ज्योति के साथ विलय कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई।

Also Read: डॉ भीमराव अंबेडकर - युवाओं की प्रेरणा

हाल की अन्य महत्वपूर्ण घटनाएं:

  • डिजिटल रुपया लॉन्च: भारतीय रिजर्व बैंक ने दिसंबर 2022 में अपने डिजिटल रुपये के पायलट चरण को लॉन्च किया। इससे भारत की वित्तीय प्रणाली को डिजिटलाइज़ करने में मदद मिलेगी।

  • ऑपरेशन अग्निपथ: सरकार ने जून 2023 में सशस्त्र बलों के लिए एक नई भर्ती योजना अग्निपथ शुरू की। हालांकि, नौकरी की सुरक्षा और कम सेवा अवधि को लेकर इस योजना का विरोध हुआ।

  • एयर इंडिया का निजीकरण: दशकों के सरकारी नियंत्रण के बाद, एयर इंडिया को जनवरी 2022 में टाटा समूह को बेच दिया गया। यह भारत के निजीकरण प्रयासों में महत्वपूर्ण कदम था।

  • एलआईसी आईपीओ: भारत के सबसे बड़े आईपीओ में लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (एलआईसी) ने मई 2022 में 5 बिलियन डॉलर से अधिक जुटाए। यह सरकार की बड़ी जीत थी और भारतीय बीमा बाजार में निवेशकों के विश्वास को प्रदर्शित करता है।

  • 5जी रोलआउट: भारत ने अक्टूबर 2023 में अपने 5जी नेटवर्क का रोलआउट शुरू किया, जो तेज इंटरनेट गति और बेहतर

भारत की जी20 अध्यक्षता India's G20 presidency

भारत ने 1 दिसंबर, 2022 से 30 नवंबर, 2023 तक जी20 की अध्यक्षता की। यह भारत के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर था, क्योंकि यह पहली बार था जब किसी विकासशील देश ने जी20 की अध्यक्षता की थी।

भारत की जी20 अध्यक्षता की थीम थी "वसुधैव कुटुम्बकम" या "एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य"। इस थीम के तहत, भारत ने वैश्विक आर्थिक विकास, जलवायु परिवर्तन, स्वास्थ्य, और अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर सहयोग को बढ़ावा देने पर ध्यान केंद्रित किया।

भारत की जी20 अध्यक्षता के दौरान कई महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल की गईं। इनमें से कुछ प्रमुख उपलब्धियां निम्नलिखित हैं:

  • वैश्विक आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए, भारत ने "जी20 ग्रोथ स्ट्रैटेजी" का प्रस्ताव रखा। इस रणनीति का उद्देश्य वैश्विक आर्थिक विकास को मजबूत करना और सभी देशों के लिए समावेशी विकास सुनिश्चित करना है।

  • जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए, भारत ने "जी20 जलवायु एक्शन प्लान" का प्रस्ताव रखा। इस योजना का उद्देश्य जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम करने और वैश्विक तापमान वृद्धि को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने के लिए कार्रवाई करना है।

  • स्वास्थ्य के क्षेत्र में, भारत ने "जी20 हेल्थ एजेंडा" का प्रस्ताव रखा। इस एजेंडे का उद्देश्य सभी देशों के लिए स्वास्थ्य सेवा तक पहुंच और गुणवत्ता में सुधार करना है।

भारत की जी20 अध्यक्षता ने भारत को वैश्विक मंच पर एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में स्थापित करने में मदद की। भारत ने जी20 के सदस्य देशों के साथ सहयोग को बढ़ावा दिया और वैश्विक मुद्दों पर समाधान खोजने के लिए काम किया।

भारत की जी20 अध्यक्षता के कुछ महत्वपूर्ण परिणाम:

  • भारत की जी20 अध्यक्षता ने वैश्विक अर्थव्यवस्था को मजबूत करने और जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए एक मजबूत मंच प्रदान किया।

  • भारत की जी20 अध्यक्षता ने भारत को वैश्विक मंच पर एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में स्थापित करने में मदद की।

  • भारत की जी20 अध्यक्षता ने भारत की वैश्विक नेतृत्व क्षमता और जिम्मेदारी को प्रदर्शित किया।

निष्कर्ष 

आज हम अपने 75वें गणतंत्र दिवस पर  ऐसी घटनाओं को याद करते हैं, जो सिर्फ इतिहास के पन्ने नहीं, बल्कि भारत की अनोखी कहानी के धागे हैं। इन मुकामों पर हम उन चुनौतियों को भी स्वीकार करते हैं, जो हमने पार की हैं, जो तरक्की हमने की है और उज्ज्वल भविष्य की ओर चलते रहने का जज्बा।

हम अपने धर्मों और अलग-अलग विश्वासों का सम्मान करते हैं। लेकिन जब बात राष्ट्र की आती है, तो हमारा सिर्फ एक ही धर्म होता है - भारतीय। हम ऐसे ही हैं, हम - भारत के लोग! और मेरी यही इच्छा है कि हम ऐसे ही बने रहें! हम महात्मा गांधी और डॉ. बी.आर. अंबेडकर के सपने हैं, हमारे मजबूत संविधान की जड़ें हैं! हमारा देश विकास के रास्ते पर सब मिलकर आगे बढ़ता रहे! तिरंगे को सलाम!

इन महत्वपूर्ण घटनाओं से भारत का विकास, एकता में विविधता से मिले बल का सबूत है। जैसा कि हम वर्तमान का जश्न मनाते हैं और भविष्य की कल्पना करते हैं, ये मील के पत्थर हमें भारत के विकास और समृद्धि की निरंतर गाथा में अपना योगदान देने के लिए प्रेरित करते हैं। जय हिंद!