भारतीय सरकार की प्रमुख पहलें: स्वतंत्रता दिवस 2023 में देखें भविष्य के भारत की सफलता का पथ

Share Us

1760
भारतीय सरकार की प्रमुख पहलें: स्वतंत्रता दिवस 2023 में देखें भविष्य के भारत की सफलता का पथ
14 Aug 2023
6 min read

Blog Post

चूँकि भारत अपने 77वें स्वतंत्रता दिवस 77th Independence Day पर गर्व और गर्व के साथ खड़ा है, यह उसके सभी नागरिकों के लिए चिंतन और उत्सव का क्षण है। एक अवसर जब हम अपनी यात्रा और एक राष्ट्र के रूप में हमने जो अपार प्रगति की है, उस पर नज़र डालते हैं।

लेकिन साथ ही, यह समय आगे बढ़ने, सपने देखने, योजना बनाने और भविष्य के लिए दिशा तय करने का भी है। और इस संदर्भ में, इस भविष्य को आकार देने में हमारी सरकार की भूमिका को कम करके नहीं आंका जा सकता।

पिछले कुछ वर्षों में, सरकार ने कई पहलें की हैं, जो भारत के लिए और भी उज्जवल भविष्य का मार्ग प्रशस्त करती हैं।

इस लेख में, हम कुछ शीर्ष सरकारी पहलों top government initiatives पर प्रकाश डालते हैं जो भारत के प्रक्षेप पथ को आकार देने में सहायक रही हैं।

शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, बुनियादी ढांचे और प्रौद्योगिकी जैसे विभिन्न क्षेत्रों से निपटने वाली इन पहलों ने न केवल लाखों भारतीयों के जीवन में सुधार किया है, बल्कि एक और अधिक समृद्ध भारत की नींव भी रखी है।

आइए इस पर करीब से नज़र डालें कि ये पहलें भारत के उज्जवल भविष्य की दिशा कैसे तय कर रही हैं।

चाहे आप छात्र हों, पेशेवर हों, या बस एक जिज्ञासु पाठक हों, यह आपके लिए उन दूरदर्शी पहलों के बारे में जानने का अवसर है जो भारत के भविष्य के लिए मंच तैयार कर रहे हैं।

भारत 15 अगस्त, 2023 को अपना 77वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। यह पिछले 77 वर्षों में देश की प्रगति पर विचार करने और भविष्य की ओर देखने का समय है।

भारत सरकार ने भारतीयों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए हाल के वर्षों में कई पहल शुरू की हैं। इन पहलों का उद्देश्य बेहतर शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, नौकरियां और आर्थिक विकास प्रदान करना है।

सरकार की पहल लाखों भारतीयों के जीवन में बदलाव ला रही है। वे शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और जीवन स्तर को बेहतर बनाने में मदद कर रहे हैं। वे नौकरियाँ पैदा करने और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने में भी मदद कर रहे हैं।

सरकार की पहल भारत के उज्जवल भविष्य की नींव रख रही है। वे भारत को अधिक समृद्ध, न्यायसंगत और न्यायपूर्ण समाज बनाने में मदद कर रहे हैं।

यहां शीर्ष सरकारी पहल हैं जो भारत में बदलाव ला रही हैं:

भारत के भविष्य का मार्ग प्रशस्त करने वाली शीर्ष सरकारी पहल Top government initiatives paving the way for India's future

1. आयुष्मान भारत योजना: Ayushman Bharat Scheme:

आयुष्मान भारत योजना (एबी-पीएमजेएवाई) योजना Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana (AB-PMJAY) scheme 23 सितंबर 2018 को भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना National Health Insurance Scheme है। इस योजना का लक्ष्य प्रति वर्ष प्रति परिवार ₹5 लाख तक का स्वास्थ्य बीमा कवरेज प्रदान करना है। भारत में 100 मिलियन से अधिक गरीब और कमजोर परिवारों (लगभग 500 मिलियन व्यक्तियों) को माध्यमिक और तृतीयक देखभाल अस्पताल में भर्ती।

आयुष्मान भारत योजना, जिसे प्रधान मंत्री जन आरोग्य योजना (पीएमजेएवाई) के रूप में भी जाना जाता है, भारत में स्वास्थ्य सेवा में सुधार के लिए सरकार की प्रतिबद्धता का एक प्रमाण है। यह पहल, जिसे अक्सर दुनिया के सबसे बड़े सरकारी वित्त पोषित स्वास्थ्य सेवा कार्यक्रम के रूप में जाना जाता है, 50 करोड़ से अधिक व्यक्तियों को मुफ्त स्वास्थ्य देखभाल कवरेज प्रदान करने में सहायक रही है, जो भारत की आबादी का लगभग 40% है।

लेकिन, यह विशाल पहल वास्तव में कैसे काम करती है? और यह कैसे स्वस्थ भारत का मार्ग प्रशस्त कर रहा है? ।

आयुष्मान भारत योजना कैसे काम करती है ? How the Ayushman Bharat Scheme Works? 

आयुष्मान भारत योजना के तहत, प्रत्येक पात्र परिवार को रुपये का स्वास्थ्य कवर प्रदान किया जाता है। माध्यमिक और तृतीयक देखभाल अस्पताल में भर्ती के लिए प्रति वर्ष 5 लाख। यह केवल कागजों पर एक संख्या नहीं है - इस पहल ने गरीब और कमजोर परिवारों पर वित्तीय बोझ को कम कर दिया है, जिससे उन्हें कर्ज में डूबने के डर के बिना आवश्यक चिकित्सा प्रक्रियाओं तक पहुंचने की अनुमति मिल गई है।

यह योजना पूरे भारत में सार्वजनिक और सूचीबद्ध निजी अस्पतालों में कैशलेस और पेपरलेस लेनदेन की सुविधा भी प्रदान करती है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा विशिष्ट भौगोलिक क्षेत्रों या आय वर्ग तक ही सीमित नहीं है।

आयुष्मान भारत योजना के उद्देश्य How the Ayushman Bharat Scheme Works 

AB-PMJAY योजना के तीन मुख्य उद्देश्य हैं:
  • भारत में 500 मिलियन से अधिक गरीब और कमजोर परिवारों को स्वास्थ्य बीमा कवरेज प्रदान करना।
  • इन परिवारों के लिए स्वास्थ्य देखभाल पर अपनी जेब से होने वाले खर्च को कम करना।
  • इन परिवारों के लिए गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल तक पहुंच में सुधार करना।

आयुष्मान भारत योजना के लक्ष्य

  • अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, AB-PMJAY योजना ने निम्नलिखित लक्ष्य निर्धारित किए हैं:
  • माध्यमिक और तृतीयक देखभाल अस्पताल में भर्ती के लिए प्रति वर्ष प्रति परिवार ₹5 लाख तक का स्वास्थ्य बीमा कवरेज प्रदान करना।
  • इन परिवारों के लिए स्वास्थ्य देखभाल पर अपनी जेब से होने वाले खर्च को कम से कम 50% कम करना।
  • देश भर में निजी और सार्वजनिक अस्पतालों को सूचीबद्ध करके इन परिवारों के लिए गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल तक पहुंच में सुधार करना।

आयुष्मान भारत योजना का प्रभाव Impact of the Ayushman Bharat Scheme 

अपनी स्थापना के बाद से, आयुष्मान भारत योजना ने भारत में स्वास्थ्य देखभाल की स्थिति में सुधार लाने में महत्वपूर्ण प्रगति की है। इसके प्रभाव के पैमाने को समझने के लिए यहां कुछ प्रमुख आंकड़े दिए गए हैं:

इस योजना के तहत 1.3 करोड़ से अधिक अस्पताल में प्रवेश की सुविधा प्रदान की गई है।

देश भर में 24,653 से अधिक सार्वजनिक और निजी अस्पतालों को सूचीबद्ध किया गया है।

लगभग 53% लाभार्थी महिलाएं हैं, जो स्वास्थ्य देखभाल पहुंच में लैंगिक असमानता पर सकारात्मक प्रभाव पर जोर देती हैं।

हालाँकि ये संख्याएँ प्रभावशाली हैं, लेकिन योजना की सफलता का असली पैमाना बचाई गई जिंदगियों और सुरक्षित परिवारों की अनगिनत कहानियों में निहित है। इन व्यक्तिगत आख्यानों में हम ऐसी पहल की वास्तविक शक्ति देखते हैं।

एबी-पीएमजेएवाई योजना बेहद सफल रही है। मार्च 2023 तक, 100 मिलियन से अधिक लोगों ने इस योजना में नामांकन किया है, और इससे आने वाले वर्षों में लाखों भारतीयों को लाभ हुआ है।

एबी-पीएमजेएवाई योजना कई मायनों में सफल रही है, लेकिन इसमें अभी भी कुछ चुनौतियां हैं। इन चुनौतियों में यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता शामिल है कि योजना दीर्घकालिक रूप से टिकाऊ है, योजना में धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार के मुद्दे को संबोधित करने की आवश्यकता है, और योजना के तहत प्रदान की जाने वाली स्वास्थ्य देखभाल की गुणवत्ता में सुधार की आवश्यकता है।

कुल मिलाकर, आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (एबी-पीएमजेएवाई) एक प्रमुख पहल है जो लाखों भारतीयों के जीवन में वास्तविक बदलाव ला रही है। इस पहल में भारत को एक स्वस्थ राष्ट्र में बदलने की क्षमता है।

2. स्वच्छ भारत अभियान: Swachh Bharat Abhiyan:

स्वच्छ भारत अभियान (एसबीए) 2 अक्टूबर 2014 को भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया एक राष्ट्रीय स्वच्छता अभियान है। मिशन का लक्ष्य खुले में शौच (ओडी) को खत्म करना और देश में 100% स्वच्छता कवरेज प्राप्त करना है।

स्वच्छ भारत अभियान के उद्देश्य Objectives of Swachh Bharat Abhiyan

एसबीए के तीन मुख्य उद्देश्य हैं:

  • 2019 तक भारत को खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) बनाना।
  • शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में अपशिष्ट प्रबंधन में सुधार करना।
  • स्वच्छता एवं साफ-सफाई के प्रति जागरूकता पैदा करना।

स्वच्छ भारत अभियान के परिणाम Outcomes of Swachh Bharat Abhiyan

एसबीए ने अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण प्रगति की है। 2023 तक, पूरे भारत में 100 मिलियन से अधिक शौचालय बनाए गए हैं, खुले में शौच में 70% से अधिक की कमी आई है, और स्वच्छता के बारे में जागरूकता बढ़ी है।

एसबीए ने लाखों भारतीयों के जीवन को बेहतर बनाने में भी मदद की है। शौचालय उपलब्ध कराकर, एसबीए ने दस्त और पेचिश जैसी बीमारियों की घटनाओं को कम करने में मदद की है। इससे महिलाओं और लड़कियों की गरिमा में सुधार करने में भी मदद मिली है, जिन्हें अब खुले में शौच नहीं करना पड़ता है।

3. अतुल्य भारत अभियान: पर्यटन को बढ़ावा: Incredible India Campaign:  Boosting Tourism:

जैसा कि भारत अपनी आजादी के 77वें वर्ष का जश्न मना रहा है, ऐसे में उन पहलों पर नजर डालना उचित लगता है जिन्होंने देश की प्रगति में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। इनमें से सबसे प्रभावशाली अभियान 'अतुल्य भारत अभियान' है, जो भारत सरकार द्वारा देश के पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के इरादे से शुरू किया गया है। यह पहल न केवल भारत को वैश्विक मानचित्र पर एक प्रमुख पर्यटन स्थल के रूप में स्थापित करने में सफल रही है, बल्कि इसने देश की आर्थिक उन्नति में भी केंद्रीय भूमिका निभाई है।

'अतुल्य भारत' अभियान, पर्यटन मंत्रालय के दिमाग की उपज, भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत, विविध परंपराओं और प्राकृतिक सुंदरता को बढ़ावा देने के इरादे से शुरू किया गया था। इसका उद्देश्य विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करना था, जिससे विदेशी मुद्रा आय बढ़े और लाखों लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा हों।

'अतुल्य भारत' अभियान की प्रमुख उपलब्धियाँ: Key achievements of the 'Incredible India' campaign : 

विदेशी पर्यटकों के आगमन में उल्लेखनीय वृद्धि: आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, 2002 में अभियान की शुरुआत के बाद से भारत आने वाले विदेशी पर्यटकों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है।

विदेशी मुद्रा आय में वृद्धि: अभियान ने पर्यटन के माध्यम से विदेशी मुद्रा आय में तेजी से वृद्धि की है, जिससे देश की आर्थिक वृद्धि में योगदान मिला है।

रोजगार सृजन: अभियान ने अप्रत्यक्ष रूप से आतिथ्य, यात्रा और हस्तशिल्प जैसे संबंधित उद्योगों में रोजगार सृजन में योगदान दिया है।

ऐसे समय में जब दुनिया भर के देश समझदार पर्यटकों का ध्यान खींचने की होड़ में हैं, 'अतुल्य भारत' अभियान भारत के लिए एक अलग पहचान बनाने में कामयाब रहा है।

इसमें देश की विशाल भौगोलिक विविधता को प्रदर्शित किया गया है, जिसमें हिमालय की बर्फ से ढकी चोटियों से लेकर केरल के बैकवाटर तक, राजस्थान के रेगिस्तान से लेकर उत्तर-पूर्व की हरी-भरी हरियाली तक शामिल है। भारत के ऐतिहासिक स्मारकों, सांस्कृतिक त्योहारों और पाक व्यंजनों को उजागर करने में कोई कसर नहीं छोड़ी गई है।

4. प्रधानमंत्री जनधन योजना Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana

प्रधान मंत्री जन धन योजना (पीएमजेडीवाई) 28 अगस्त 2014 को भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक सरकार समर्थित वित्तीय समावेशन पहल है। इस योजना का उद्देश्य भारत में गरीब, बैंक रहित और कम बैंकिंग सुविधाओं वाले परिवारों को वित्तीय सेवाएं प्रदान करना है।

प्रधानमंत्री जनधन योजना के उद्देश्य Objectives of Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana 

पीएमजेडीवाई के तीन मुख्य उद्देश्य हैं:

  • भारत में प्रत्येक परिवार को शून्य शेष राशि वाला एक बुनियादी बचत बैंक खाता प्रदान करना।
  • प्रत्येक खाताधारक को ₹30,000 का दुर्घटना बीमा कवर प्रदान करना।
  • पात्र खाताधारकों को ₹5,000 की ओवरड्राफ्ट सुविधा प्रदान करना।

लक्ष्य

अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, पीएमजेडीवाई ने निम्नलिखित लक्ष्य निर्धारित किए हैं:

  • योजना के पहले वर्ष में 75 मिलियन बैंक खाते खोलना।
  • योजना के पहले वर्ष में 50 मिलियन खाताधारकों को दुर्घटना बीमा कवर प्रदान करना।
  • योजना के पहले वर्ष में 15 मिलियन खाताधारकों को ओवरड्राफ्ट सुविधा प्रदान करना।

प्रधानमंत्री जन धन योजना के परिणाम Outcomes of Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana 

पीएमजेडीवाई को बड़ी सफलता मिली है। 31 मार्च 2023 तक, योजना के तहत 400 मिलियन से अधिक बैंक खाते खोले जा चुके हैं। 300 मिलियन से अधिक खाताधारकों को दुर्घटना बीमा कवर प्रदान किया गया है, और 100 मिलियन से अधिक खाताधारकों को ओवरड्राफ्ट सुविधा प्रदान की गई है।

पीएमजेडीवाई ने लाखों भारतीयों को औपचारिक वित्तीय प्रणाली में लाने में मदद की है। इससे गरीबों और कमजोर लोगों की वित्तीय सुरक्षा में सुधार करने में भी मदद मिली है।

Also Read: आजादी की लड़ाई में महात्मा गांधी का विशिष्ट योगदान

5. प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना: Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana:

प्रधान मंत्री कौशल विकास योजना (पीएमकेवीवाई) 15 जुलाई 2015 को भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक सरकार समर्थित कौशल विकास पहल है। इस योजना का लक्ष्य 2022 तक 400 मिलियन भारतीयों को विभिन्न कौशल में प्रशिक्षित करना है।

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के उद्देश्य Objectives of Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana

PMKVY के चार मुख्य उद्देश्य हैं:

  • अधिक कुशल कार्यबल तैयार करना और बढ़ती अर्थव्यवस्था की मांगों को पूरा करना।
  • विनिर्माण, आईटी और सेवाओं जैसे उच्च मांग वाले क्षेत्रों में प्रशिक्षण प्रदान करना।
  • उद्यमिता एवं स्वरोजगार को बढ़ावा देना।
  • महिलाओं एवं युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान करना।

लक्ष्य

अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, पीएमकेवीवाई ने निम्नलिखित लक्ष्य निर्धारित किए हैं:

  • 2022 तक 400 मिलियन भारतीयों को विभिन्न कौशल में प्रशिक्षित करना।
  • विनिर्माण, आईटी और सेवाओं जैसे उच्च मांग वाले क्षेत्रों में प्रशिक्षण प्रदान करना।
  • उद्यमिता एवं स्वरोजगार को बढ़ावा देना।
  • महिलाओं एवं युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान करना।

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के परिणाम Outcomes of Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana

पीएमकेवीवाई बहुत सफल रही है। 31 मार्च 2023 तक, इस योजना के तहत 100 मिलियन से अधिक लोगों को प्रशिक्षित किया गया है। इस योजना ने लोगों को वेल्डिंग, बढ़ईगीरी, प्लंबिंग, सिलाई और आईटी सहित विभिन्न कौशल में प्रशिक्षित किया है। इस योजना से उद्यमिता और स्वरोजगार को बढ़ावा देने में भी मदद मिली है।

पीएमकेवीवाई ने लाखों नौकरियां पैदा करने में मदद की है। इस योजना ने लाखों भारतीयों की रोजगार क्षमता में सुधार करने में भी मदद की है।

6. मेक इन इंडिया: Make in India:

मेक इन इंडिया 25 सितंबर 2014 को भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक राष्ट्रीय विनिर्माण पहल है। इस पहल का उद्देश्य विदेशी कंपनियों से अरबों डॉलर का निवेश आकर्षित करके और लाखों नौकरियां पैदा करके भारत को वैश्विक विनिर्माण केंद्र बनाना है।

मेक इन इंडिया के उद्देश्य Objectives of Make in India

मेक इन इंडिया पहल के चार मुख्य उद्देश्य हैं:

  • विदेशी कंपनियों से अरबों डॉलर का निवेश आकर्षित करना।
  • भारत में लाखों नौकरियाँ पैदा करना।
  • भारत को विनिर्माण क्षेत्र में वैश्विक नेता बनाना।
  • भारत में नवाचार और उद्यमिता को बढ़ावा देना।

लक्ष्य

अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, मेक इन इंडिया पहल ने निम्नलिखित लक्ष्य निर्धारित किए हैं:

  • 2025 तक 1 ट्रिलियन डॉलर का विदेशी निवेश आकर्षित करना।
  • 2022 तक 100 मिलियन नौकरियाँ पैदा करना।
  • 2025 तक भारत को दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी विनिर्माण अर्थव्यवस्था बनाना।
  • भारत में नवाचार और उद्यमिता को बढ़ावा देना।

मेक इन इंडिया के परिणाम Outcomes of  Make in India

मेक इन इंडिया पहल बहुत सफल रही है। मार्च 2023 तक, पहल की शुरुआत के बाद से भारत ने 250 बिलियन डॉलर से अधिक का विदेशी निवेश आकर्षित किया है। लाखों नौकरियाँ पैदा हुई हैं, और भारत अब विनिर्माण उत्पादन के मामले में दुनिया में 5वें स्थान पर है।

मेक इन इंडिया पहल ने भारत में नवाचार और उद्यमिता को बढ़ावा देने में भी मदद की है। इस पहल ने व्यवसायों के संचालन के लिए अधिक अनुकूल वातावरण तैयार किया है और इससे विदेशी प्रतिभाओं को भारत में आकर्षित करने में मदद मिली है।

7. डिजिटल इंडिया:  Digital India:

डिजिटल इंडिया 1 जुलाई 2014 को भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक राष्ट्रीय पहल है। इस पहल का उद्देश्य भारतीयों को इंटरनेट से जोड़कर, डिजिटल साक्षरता प्रशिक्षण प्रदान करके और ई-गवर्नेंस प्लेटफॉर्म विकसित करके भारत को डिजिटल रूप से सशक्त समाज और ज्ञान अर्थव्यवस्था में बदलना है।

डिजिटल इंडिया के उद्देश्य Objectives of Digital India

डिजिटल इंडिया पहल के छह मुख्य उद्देश्य हैं:

  • भारत के हर गांव को ब्रॉडबैंड इंटरनेट से जोड़ना।
  • 600 मिलियन भारतीयों को डिजिटल साक्षरता प्रशिक्षण प्रदान करना।
  • विभिन्न क्षेत्रों में ई-गवर्नेंस प्लेटफॉर्म विकसित करना।
  • शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और कृषि में आईटी के उपयोग को बढ़ावा देना।
  • एक सुरक्षित और विश्वसनीय साइबर स्पेस बनाना।
  • भारत को डिजिटल अर्थव्यवस्था में वैश्विक नेता बनाना।

डिजिटल इंडिया के परिणाम Outcomes of Digital India

डिजिटल इंडिया पहल एक बड़ी सफलता रही है। मार्च 2023 तक, 700 मिलियन से अधिक भारतीयों की इंटरनेट तक पहुंच है, 500 मिलियन से अधिक लोगों ने डिजिटल साक्षरता प्रशिक्षण प्राप्त किया है, और विभिन्न क्षेत्रों में ई-गवर्नेंस प्लेटफॉर्म विकसित किए गए हैं।

डिजिटल इंडिया पहल ने शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और कृषि में आईटी के उपयोग को बढ़ावा देने में भी मदद की है। इस पहल ने एक अधिक कुशल और पारदर्शी सरकार बनाई है, और इसने भारत को वैश्विक अर्थव्यवस्था में अधिक प्रतिस्पर्धी खिलाड़ी बनाने में मदद की है।

8. राष्ट्रीय हाइड्रोजन मिशन: National Hydrogen Mission:

राष्ट्रीय हाइड्रोजन मिशन (एनएचएम) 1 फरवरी 2021 को भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक राष्ट्रीय पहल है। मिशन का लक्ष्य भारत को हाइड्रोजन ऊर्जा के उत्पादन और उपयोग में वैश्विक नेता बनाना है।

राष्ट्रीय हाइड्रोजन मिशन के उद्देश्य Objectives of National Hydrogen Mission

एनएचएम के चार मुख्य उद्देश्य हैं:

  • भारत में हाइड्रोजन ऊर्जा के उत्पादन और उपयोग के लिए एक रोडमैप बनाना।
  • हाइड्रोजन ऊर्जा प्रौद्योगिकियों में अनुसंधान और विकास को बढ़ावा देना।
  • हाइड्रोजन ऊर्जा के उत्पादन और वितरण के लिए बुनियादी ढांचे का विकास करना।
  • भारत में हाइड्रोजन ऊर्जा के लिए एक बाजार तैयार करना।

लक्ष्य

  • अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, एनएचएम ने निम्नलिखित लक्ष्य निर्धारित किए हैं:
  • 2030 तक 5 मिलियन टन हरित हाइड्रोजन का उत्पादन करना।
  • 2030 तक 150 बिलियन डॉलर की हाइड्रोजन अर्थव्यवस्था बनाना।
  • भारत को हाइड्रोजन ऊर्जा अनुसंधान और विकास के लिए एक वैश्विक केंद्र बनाना।

राष्ट्रीय हाइड्रोजन मिशन के परिणाम Outcomes of National Hydrogen Mission 

एनएचएम अभी भी शुरुआती चरण में है, लेकिन इसमें भारत को वैश्विक हाइड्रोजन अर्थव्यवस्था में एक प्रमुख खिलाड़ी बनाने की क्षमता है। मिशन ने अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने की दिशा में पहले ही कुछ कदम उठाए हैं, जैसे:

  • मिशन के कार्यान्वयन की निगरानी के लिए एक राष्ट्रीय हाइड्रोजन ऊर्जा विकास बोर्ड (एनएचईडीबी) की स्थापना करना।
  • हाइड्रोजन ऊर्जा प्रौद्योगिकियों पर एक अनुसंधान और विकास कार्यक्रम शुरू करना।
  • हाइड्रोजन ऊर्जा परियोजनाओं में निवेश करने वाली कंपनियों को वित्तीय प्रोत्साहन प्रदान करना।

9. गति शक्ति:  Gati Shakti:

गति शक्ति मास्टर प्लान (जीएमपी) 14 जून 2022 को भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक राष्ट्रीय बुनियादी ढांचा योजना है। इस योजना का लक्ष्य भारत में एक निर्बाध मल्टीमॉडल परिवहन नेटवर्क बनाना है।

गति शक्ति मास्टर प्लान के उद्देश्य Objectives of Gati Shakti Master Plan 

जीएमपी के छह मुख्य उद्देश्य हैं:

  • एक राष्ट्रीय बुनियादी ढांचा ग्रिड बनाना जो देश के सभी हिस्सों को जोड़े।
  • परिवहन क्षेत्र की दक्षता में सुधार करना।
  • रसद लागत को कम करने के लिए.
  • आर्थिक वृद्धि और विकास को बढ़ावा देना।
  • भारतीयों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करना।
  • बुनियादी ढांचे के विकास में भारत को वैश्विक नेता बनाना।

लक्ष्य

अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, जीएमपी ने निम्नलिखित लक्ष्य निर्धारित किए हैं:

  • एक राष्ट्रीय बुनियादी ढांचा ग्रिड बनाना जो 2030 तक देश के सभी हिस्सों को जोड़े।
  • 2030 तक परिवहन क्षेत्र की दक्षता में 30% सुधार करना।
  • 2030 तक लॉजिस्टिक लागत को 20% तक कम करना।
  • 2030 तक आर्थिक वृद्धि और विकास को 8% तक बढ़ावा देना।
  • 2030 तक भारतीयों के जीवन की गुणवत्ता में 20% सुधार करना।
  • 2030 तक बुनियादी ढांचे के विकास में भारत को वैश्विक नेता बनाना।

गति शक्ति मास्टर प्लान के परिणाम Outcomes of Gati Shakti Master Plan 

जीएमपी अभी शुरुआती चरण में है, लेकिन इसमें भारत में परिवहन क्षेत्र में क्रांति लाने की क्षमता है। योजना ने अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने की दिशा में पहले ही कुछ कदम उठाए हैं, जैसे:

  • बुनियादी ढांचा परियोजनाओं की पहचान करने और प्राथमिकता देने के लिए एक राष्ट्रीय बुनियादी ढांचा पाइपलाइन (एनआईपी) की स्थापना करना।
  • विभिन्न सरकारी एजेंसियों के बीच समन्वय को बेहतर बनाने के लिए एक डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म लॉन्च करना।
  • बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में निवेश करने वाली कंपनियों को वित्तीय प्रोत्साहन प्रदान करना।

10 . 'वोकल फॉर लोकल':  ‘vocal for local’:

वोकल फॉर लोकल पहल 25 सितंबर 2020 को भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया एक राष्ट्रीय अभियान है। इस अभियान का उद्देश्य घरेलू विनिर्माण और खपत को बढ़ावा देना है।

वोकल फॉर लोकल पहल के उद्देश्य Objectives of Vocal for Local initiative

वोकल फॉर लोकल पहल के तीन मुख्य उद्देश्य हैं:

  • भारतीयों को भारत में उत्पादित वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने के लिए प्रोत्साहित करना।
  • स्थानीय व्यवसायों का समर्थन करना।
  • नौकरियाँ पैदा करना और अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देना।

लक्ष्य

अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, वोकल फॉर लोकल पहल ने निम्नलिखित लक्ष्य निर्धारित किए हैं:

  • 2025 तक भारतीय अर्थव्यवस्था में घरेलू विनिर्माण की हिस्सेदारी को 25% तक बढ़ाना।
  • 2025 तक विनिर्माण क्षेत्र में 100 मिलियन नौकरियां पैदा करना।
  • 2025 तक भारतीय अर्थव्यवस्था को 1 ट्रिलियन डॉलर तक बढ़ावा देना।

वोकल फॉर लोकल पहल के परिणाम Outcomes of Vocal for Local initiative

वोकल फॉर लोकल पहल का घरेलू विनिर्माण और उपभोग पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। इस अभियान ने भारत में निर्मित वस्तुओं और सेवाओं की मांग बढ़ाने में मदद की है और स्थानीय व्यवसायों को समर्थन देने में भी मदद की है।

इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री की एक रिपोर्ट के अनुसार, वोकल फॉर लोकल पहल के परिणामस्वरूप भारत में निर्मित वस्तुओं और सेवाओं की मांग में 10% की वृद्धि हुई है। रिपोर्ट में यह भी पाया गया कि इस पहल से विनिर्माण क्षेत्र में 1 मिलियन से अधिक नौकरियां पैदा करने में मदद मिली है।

उम्मीद है कि आने वाले वर्षों में वोकल फॉर लोकल पहल बढ़ती रहेगी। इस अभियान में भारतीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने और लाखों नौकरियां पैदा करने की क्षमता है।