मैगी कैसे बना भारत का पसंदीदा स्नैक?

Share Us

5166
मैगी कैसे बना भारत का पसंदीदा स्नैक?
29 May 2023
4 min read

Blog Post

सालों से मैगी दुनिया भर के लोगों की पसंद रही है। यह भारतीय बाजारों में काफी सफल उत्पाद के रूप में सामने आई। असल में स्विट्जरलैंड के एक जूलियस मैगी नामक व्यवसायी ने मैगी की खोज की। यह एक इंस्टेंट फूड उत्पाद के रूप में बाजारों में लाई गई थी। नेस्ले के अधिग्रहण के बाद मैगी बाजारों में काफी सफल रही। अपने प्रभावी विज्ञापनों द्वारा नेस्ले ने मैगी को इतना लोकप्रिय बना दिया।

मैगी की सफलता ने भारत के साथ-साथ अन्य देशों में भी उसकी प्रतिष्ठा बढ़ाई है। विभिन्न विभाजनों में मैगी नूडल्स को एक लोकप्रिय और पसंदीदा नाम मिला है। उत्कृष्ट गुणवत्ता, असीमित विकल्प और उपयोग में आसानी ने मैगी को विश्वभर में एक अग्रणी ब्रांड बना दिया है।

नेस्ले द्वारा निर्मित मैगी की मार्केटिंग रणनीति भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है। विपणन और प्रचार के द्वारा, उन्होंने उत्पाद को विभिन्न उपयोगकर्ता समूहों तक पहुंचाया है। मैगी के विज्ञापन में बच्चों के साथ-साथ वयस्कों को भी ध्यान में रखा गया है।

इसके साथ ही, विभिन्न प्लेटफॉर्म्स पर डिजिटल मार्केटिंग योजनाएं भी चलाई जाती हैं जिनसे मैगी उत्पादों की उपलब्धता और उनकी खासियतों को जागृत किया जाता है।

इस लेख में हम मैगी के बारे में विस्तृत चर्चा करेंगे और जानेंगे कि मैगी कैसे भारत के सबसे पसंदीदा स्नैक बन गया है How did Maggi become India's favorite snack?। हम इस प्रस्तुति में मैगी के इतिहास, उत्पादन प्रक्रिया, प्रमुखता और आहारिक मूल्य के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करेंगे।

2 मिनट में तैयार हो जाने वाली मैगी Maggi प्रत्येक घर में एक घरेलू नाम बना गया है। आज हर कोई इस नाम से वाकिफ है। बच्चे हों या बुज़ुर्ग यह सभी को बेहद पसंद होती है। लेकिन क्या आपको पता है की मैगी सबसे पहले कहां बनाई गई थी और इसने इतनी लोकप्रियता कैसे हासिल की? असल में मैगी की कहानी कुछ इस तरह शूरु हुई। 

मैगी कैसे बना भारत का पसंदीदा स्नैक? How did Maggi become India's favorite snack?

कैसे हुआ मैगी का आविष्कार? How was Maggi invented?

स्विट्ज़रलैण्ड Switzerland के जूलियस मैगी Julius Maggi नामक एक व्यवसायी ने मैगी को ईजाद किया। यह बात है 1872 की जब स्विट्जरलैंड में औद्योगिक क्रांति Industrial revolution का दौर चल रहा था। उस समय ज्यादातर लोग कारखानों में घंटों काम किया करते थे जिसके कारण उन्हें घर जाकर खाना बनाने का समय नहीं मिलता था। उस समय जूलियस मैगी ने महसूस किया कि लोगों को एक ऐसे खाद्य उत्पाद की जरूरत है जो स्वादिष्ट, किफायती और जल्दी पकाया जा सके।

फिर जूलियस मैगी ने दो साल के अनुसंधान के बाद एक पाउडर सूप को इन्वेंट किया जिसे लोग सिर्फ पानी में उबाल कर कुछ ही मिनटों में तैयार कर सकते थे। यह उत्पाद जल्दी ही बाज़ारों में एक सफल उत्पाद के रूप में सामने आया। इसके बाद जूलियस मैगी ने मैगी ब्रांड के अंदर मीट meat सब्सीट्यूट substitute, लिक्विड सीसनिंग सॉस liquid seasoning sauce और मैगी नूडल्स noodles जैसे कई खाद्य उत्पाद बाजार में उतारे।

इनके सारे ही खाद्य उत्पाद बहुत जल्दी ही बहुत ज्यादा सफल हो गए। लोग इसे काफी पसंद भी करने लगे। इसके बाद 1912 में जूलियस मैगी की मृत्यु हो गई। जूलियस मैगी की मृत्यु के बाद नेस्ले NESTLE ने मैगी ब्रांड को अपने अंतर्गत कर लिया और इसे और भी विकसित किया।

अनेक सफल मार्केटिंग के द्वारा नेसले ने इसे बहुत ही सफल बना दिया। मैगी आज भी उसी पीले और लाल ब्रांड ‌रंग और एक इंस्टेंट फूड instant food की‌ तरह जानी जाती है जैसा कि जूलियस मैगी ने इसे कई सालों पहले बनाया था। उस वक्त किसी ने ऐसी कल्पना भी नहीं की थी कि मैगी इस तरह लाखों-करोड़ों लोगों की पसंद बन जाएगी। 

मैगी की मार्केटिंग स्ट्रेटेजी क्या है ? What is Maggi's marketing strategy?

मैगी कंपनी द्वारा अपनी मार्केटिंग स्ट्रेटेजी में कई महत्वपूर्ण तत्व शामिल हैं। यहां कुछ मुख्य तत्वों को सम्मिलित किया गया है:

  1. उचित मूल्यनिर्धारण: मैगी कंपनी ने अपने उत्पादों के लिए उचित मूल्य निर्धारित किया है ताकि वे आम जनता के लिए पहुंचने योग्य और प्राथमिकता हों। यह राशि उपभोक्ताओं के साथी बनने के लिए मूल्यवान मानी जाती है।

  2. उत्पाद विस्तार: मैगी ने अपने उत्पाद पोर्टफोलियो को विस्तारित किया है और विभिन्न प्रकार के आहारिक आदान-प्रदान को पेश किया है। वे विभिन्न स्वादों, पैकेट साइज़ के साथ आते हैं जो विभिन्न उपभोक्ताओं की आवश्यकताओं को पूरा करते हैं।

  3. ब्रांड वापसी: 2015 में मैगी भारतीय बाजार से वापसी करनी पड़ी थी जब उत्पाद में एक विवाद उठा। हालांकि, कंपनी ने अपनी मार्केटिंग संचालनाएं सुधारी और ब्रांड के पुनर्निर्माण के लिए कड़ी मेहनत की।

ब्रांड वापसी के दौरान, मैगी कंपनी ने निम्नलिखित मार्केटिंग संचालनाएं अपनाई:

  1. संचार संवाद: मैगी ने सकारात्मक संचार के माध्यम से अपने उपभोक्ताओं तक पहुंचा। वे उत्पाद की गुणवत्ता, सुरक्षा, और पोषण के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए मीडिया और आपत्तिजनक स्थितियों में भी सक्रिय रहे।

  2. समर्थक अभियान: मैगी ने एक समर्थक अभियान चलाया, जिसमें वे ग्राहकों को उत्पाद की सुरक्षा और मान्यता के बारे में जागरूक करते थे। इसके लिए वे मीडिया, ग्राहक संवाद और सामाजिक मीडिया का उपयोग करते थे।

  3. सामुदायिक संपर्क: मैगी ने स्थानीय सामुदायिक संपर्क को मजबूत किया और स्थानीय प्रतिष्ठानों, सरकारी निकायों और स्वयंसेवी संगठनों के साथ सहयोग किया। इससे वे अपने उपभोक्ताओं के बीच विश्वास और उत्पाद को लेकर सामरिकता बनाए रख सके।

  1. नये उत्पादों का प्रदर्शन: मैगी ने नए उत्पादों को अभियांत्रिकी दिखाकर विशेष मार्केटिंग योजनाएं आयोजित कीं। वे नए और स्वादिष्ट वैरायटीज को शोकेस के माध्यम से प्रमुखता देते थे। यह मार्केटिंग योजना लोगों को नए और रुचिकर विकल्प पेश करके मैगी उत्पादों के प्रति आकर्षित करने में मदद करती थी। इसके साथ ही, वे नए उत्पादों को खाद्य मेलों, सामुदायिक कार्यक्रमों, और खाद्य संबंधित इवेंट्स में प्रदर्शित करते थे।

विपणन योजनाएं और संचालन के माध्यम से, मैगी कंपनी ने अपने उत्पाद को बाजार में विशेषता दी और ब्रांड को मजबूती से स्थापित किया। वे ग्राहकों को स्वाद, आसानी, और भोजन का समय और स्नैकिंग का एक आनंद प्रदान करने की प्रतिबद्धता के साथ मैगी को एक पसंदीदा बनाने में सफल रहे हैं। उनकी मार्केटिंग स्ट्रेटेजी ने मैगी को भारतीय खाद्य संस्कृति में एक महत्वपूर्ण स्नैक उत्पाद के रूप में स्थान दिया है ।

नेस्ले ने अनेक विज्ञापनों के द्वारा मैगी का खूब प्रचार किया। इसके बाद नेस्ले ने मैगी ब्रांड के तहत कई अन्य उत्पाद भी बाजारों में लॉन्च किए जिनमें सूप, भुना मसाला, नूडल्स आदि शामिल थे। लेकिन फिर 1997 में ‌ नेस्ले ने मेगी के फार्मूले को बदलने की कोशिश की लेकिन वह असफल रही। इस असफलता को देखते हुए 1999 में नेस्ले ने फिर से पुराने फार्मूले और "फास्ट टू कुक, गुड टू ईट fast to cook, good to eat" पंचलाइन के साथ मैगी को पेश किया।

2 मिनट में पका कर खाए जाने वाले विचार का लोगो पर गहरा प्रभाव पड़ा और यही कारण था कि मैगी इतनी तेजी से लोगों की पसंद बनती चली गई। टेलीविजन पर "2 मिनट का नूडल्स Two minute noodles" विज्ञापन अभियान महिलाओं के आकर्षण का विषय बन गई। विज्ञापन में "मैगी मॉम Maggi Mom" छवि उन माताओं पर केंद्रीय था जो तेजी से कार्यबल में शामिल हो रही है और जिन्हें खाना पकाने के लिए समय नहीं मिल पाता।

इस विज्ञापन के द्वारा "मम्मी भूख लगी- बस 2 मिनट" टैगलाइन का जन्म हुआ जो काफी लोकप्रिय रही। हर कोई खुद को इससे जोड़ सकता था। हालांकि ‌साल‌ 2015, लेड घोटाले lead scandal के कारण मैगी‌ के लिए काफी चुनौतीपूर्ण रहा‌ लेकिन इसके वफादार प्रशंसकों के कारण मैगी दुबारा से बाज़ारों में आई और फिर से सफल रही।

भारत में मैगी के लॉन्च की कहानी Maggi launch story in India

मैगी के लॉन्च की कहानी भारत में दिलचस्प है। मैगी कंपनी, नेस्टले इंडिया लिमिटेड के एक उपक्रम के रूप में, 1983 में भारत में पहली बार मैगी को लॉन्च किया। पहली बार मैगी के आदान-प्रदान के दौरान, यह विदेशी नूडल्स ब्रांड भारतीय बाजार में नई और आकर्षक वस्तु के रूप में प्रस्तुत की गई।

मैगी की उपयोगिता, आसानी से बनाने की क्षमता और तेजगति ने उसे बच्चों के बीच तत्पस्थ बनाया। इसलिए, शुरुआत में मैगी को बच्चों के खाद्य स्वाद के लिए उपयोग किया जाने लगा। इसके साथ ही, उसके पैकेट में आत्म-पकाव करने की विशेषता के कारण, यह यात्रा, कैम्पिंग और घरेलू उपयोग के लिए भी लोकप्रिय हो गया।

मैगी कंपनी ने खुद को भारतीय बाजार में स्थापित करने के लिए कठिनाइयों का सामना किया। उस समय, भारतीय भोजन की परंपरा में ऐसी तत्परता थी जिसमें आपूर्ति चक्र का अनुसरण करने की प्रथा शामिल थी। मैगी को यातायात, दुकानों की उपलब्धता और विश्वसनीयता की चुनौतियों का सामना करना पड़ा।

प्राथमिकताएं परिवर्तित करने के लिए, मैगी ने उत्पादन और वितरण नेटवर्क को विस्तारित किया। यह अपनी उत्पादन योजनाओं को देश भर में स्थापित करने के लिए नई संरचना विकसित की और अपनी वितरण नेटवर्क को बढ़ावा दिया। इससे मैगी को गांवों और शहरों तक पहुंचाने में सफलता मिली और यह एक आम व्यंजन के रूप में उभरने लगा।

दूसरी चुनौती उत्पाद के मान्यता प्राप्त करने में थी। भारत में मैगी को एक खाद्य सामग्री के रूप में स्वीकार्यता दिलाने के लिए, मैगी कंपनी ने विभिन्न उद्योग और सरकारी निकायों के साथ सहयोग किया। वे अपने उत्पाद के गुणवत्ता और सुरक्षा पर बड़ी चिंता रखते थे और भारतीय मानकों के अनुरूप उत्पादन प्रक्रिया का पालन करते थे।

मैगी कंपनी ने खुद को विश्वसनीयता के मामले में स्थापित करने के लिए उपयुक्त प्रयास किए। वे उत्पाद के लिए स्थानीय उपभोक्ता परामर्श समितियों और आर्थिक मंचों के साथ मिलकर काम किये और अपनी संवेदनशीलता और जवाबदेही को प्रदर्शित किया। इस तरीके से, मैगी ने अपने उपभोक्ताओं में विश्वास को बढ़ावा दिया और भारतीय बाजार में अपनी पहचान बनाई।

इस प्रकार, मैगी कंपनी ने कठिनाइयों का सामना करके भारत में अपनी प्रस्तुति और लोकप्रियता बनाई। आज, मैगी भारत में एक प्रमुख ब्रांड बन गया है ।

Also Read: Starbucks फ्रैंचाइज़ी कैसे शुरू करे?

मैगी की उत्पादन प्रक्रिया Production Process of Maggi:

  • मैगी की उत्पादन प्रक्रिया में आपूर्ति श्रृंखला और विभिन्न पदार्थों का उपयोग होता है।

  • इसके लिए पहले गेहूं के आटे को धूप में सुखाया जाता है ताकि यह दिन के दौरान भी संरक्षित रह सके।

  • इसके बाद गेहूं का आटा और अन्य सामग्री एक साथ मिलाकर दालचीनी, नमक, मसाले और मसाला पाउडर के साथ मिश्रित किया जाता है।

  • इस मिश्रण को पानी के साथ मिलाकर घोल बनाया जाता है और इसे उबाला जाता है ताकि नूडल्स पक जाएं।

  • बाद में इसमें मेगा मसाला और तेल मिलाया जाता है जो इसे स्वादिष्ट और गाढ़ा बनाता है।

  • इसके बाद नूडल्स को सुखाने के लिए धूप में सुखाया जाता है और उन्हें पैक करने के लिए तैयार किया जाता है।

मैगी का आहारिक मूल्य Nutritional Value of Maggi:

मैगी में पोषक तत्वों की मात्रा मानव शरीर के लिए महत्वपूर्ण है। इसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, विटामिन्स, मिनरल्स और फाइबर होते हैं।

  • प्रोटीन: मैगी में मूंगफली, दालचीनी और अन्य मसालों में प्रोटीन की अच्छी मात्रा होती है। प्रोटीन शरीर के ऊर्जा स्तर को बढ़ाने, ऊर्जा को बाँधने और उच्च गुणवत्ता वाले ऊर्जा स्तर के लिए आवश्यक है।

  • कार्बोहाइड्रेट्स: मैगी में मूंगफली, ब्रेडक्रम्ब, आटा, और अन्य सामग्री में कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा होती है। कार्बोहाइड्रेट्स शरीर को ऊर्जा प्रदान करने, मस्तिष्क को शक्ति देने और स्थायी ऊर्जा स्तर को बनाए रखने में मदद करते हैं।

  • विटामिन्स: मैगी में विटामिन सी, विटामिन ए और विटामिन ड की मात्रा पाई जाती है। ये विटामिन्स शरीर के लिए महत्वपूर्ण होते हैं और संक्रमण से लड़ने, हड्डियों को मजबूत बनाने, और स्वस्थ त्वचा को बनाए रखने में मदद

करते हैं। विटामिन सी शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है और संक्रमण से लड़ने में सहायक होता है। विटामिन ए त्वचा के स्वास्थ्य को बनाए रखने और उसकी ग्लो और ताजगी को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विटामिन ड हड्डियों के स्वास्थ्य और विकास में मदद करता है और कैल्शियम और फॉस्फेट की संघटना को बढ़ाता है।

मैगी को एक प्राथमिक भोजन के रूप में भी चुना जा सकता है जो यात्रा, कैम्पिंग और छोटे समय की आवश्यकताओं को पूरा करता है। इसकी तत्परता, स्वादिष्टता और आसानी से बनाने की क्षमता ने इसे भारतीय रसोईघरों में एक प्रमुख स्नैक के रूप में स्थापित किया है।

मैगी के आदान-प्रदान की प्रवृत्ति भारतीय खाद्य संस्कृति के साथ संबंधित है, जहां आजकल की जीवनशैली में लोगों को स्वादिष्ट, तत्परता और आसानी से बनने वाले व्यंजनों की आवश्यकता होती है। इसके साथ ही, 

मैगी कंपनी ने भारतीय बाजार में अपने उत्पादों की प्रवेश करके इसे भारतीय खाद्य संस्कृति में एक महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त किया है। उनकी प्रयासों से मैगी नूडल्स भारत में एक पसंदीदा स्नैक और आहारिक विकल्प बन गए हैं। इसकी आसानी से बनाने और खाने की सुविधा ने इसे बच्चों, युवा और वयस्क लोगों के बीच लोकप्रिय बना दिया है।

इसके साथ ही, मैगी ने नए और विभिन्न स्वाद के संस्करणों को भी अपनी उपलब्धियों में जोड़ा है। विभिन्न मसालों, सब्जियों और फ्लेवर्स के साथ मैगी आप्शन्स उपलब्ध हैं, जो उपभोक्ताओं को अपने पसंद के अनुसार विकल्प प्रदान करते हैं। इसके पास अब भूकंपी दूध का आदान-प्रदान भी होता है जो उपभोक्ताओं को और अधिक विकल्प देता है।

मैगी को बच्चों के बीच एक पसंदीदा बनाने के लिए, कंपनी ने अपनी विपणन रणनीतियों में अद्यतन किया है। उन्होंने खुद को "मैगी मास्टरचेफ" के रूप मैगी को बच्चों के बीच एक पसंदीदा बनाने के लिए, कंपनी ने अपनी विपणन रणनीतियों में अद्यतन किया है।

उन्होंने खुद को "मैगी मास्टरचेफ" के रूप में पेश किया है, जिससे बच्चों को खाना बनाने में खुदरा महसूस होता है। इस रूप में, मैगी ने एक अद्वितीय विपणन कार्यक्रम शुरू किया है जहां वे बच्चों के साथ विभिन्न खेल और शौक में भाग लेते हैं और उन्हें खाना बनाने के बारे में सिखाते हैं।

मैगी मास्टरचेफ Maggi Masterchef के माध्यम से, बच्चों को खाना बनाने की कला सिखाई जाती है और उन्हें स्वस्थ और संतुलित भोजन के महत्व को समझाया जाता है। इसके साथ ही, मैगी ने बच्चों के लिए स्वास्थ्यपूर्ण व्यंजनों की सूची भी प्रदान की है, जो प्रोटीन, फाइबर, और अन्य पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। यह उन्हें एक स्वास्थ्यपूर्ण और स्वादिष्ट खाने का विकल्प प्रदान करता है।