facebook-pixel

कंटेन्ट राइटिंग क्या है? Tips For Beginners

Share Us

483
कंटेन्ट राइटिंग क्या है? Tips For Beginners
30 Jul 2022
7 min read
TWN Special

Post Highlight

क्या आप लेखन Writing की शुरुआत कर रहें हैं? तो आपके लिए यह टिप्स आगे काम आएगी आर्टिकल लिखने में। क्या आप इस बात से परेशान हैं कि कैसे आप अपने लेखन को बेहतर बनाएं, आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स Tips देने वाले है जिससे आप एक बेहतर लेखक Good Writer बन पाएंगे। लिखना आसान है या मुश्किल इसके लिए बात सिर्फ इतनी है की यह आसान तब लगेगा अगर आप अपने विषय के बारे में जानकारी रखते हों और व्याकरण Grammer, Sentence making वाक्य बनाने, Vocabulary शब्दावली और Writing Skills लेखन शैली के बारे में सही तरह से समझते हों। अगर आपको इसके बारे में जानकारी नहीं है तो आपको हमेशा लेखन बुरा और मुश्किल नजर आएगा।

Podcast

Continue Reading..

पढ़ने में लेख बहुत ही आसान लगता है, लेकिन जब हम उसे लिखने बैठते हैं तो हमें समझ नहीं आता कि कहां से शुरू करें, क्या लिखें और क्या न लिखे। जब हम बात करते हैं, तो शब्‍द अपने आप आते जाते हैं, हमें लगता है कि लिखना भी इसी तरह आसन होग, लेकिन लिखते समय हमें शब्‍द नहीं मिलते, क्‍योंकि लिखा सिर्फ वही जाता है, जो जरूरी होता है। तो चलिए जानते हैं कंटेंट राइटिंग स्किल्स (Content writing tips for beginners) के लिए कौन-सी टिप्स हैं जरूरी?

ऑटिकल कैसे लिखा जाता है (Article writing Tips for Beginners)

जब भी आप किसी भी टॉपिक पर आर्टिकल लिखते हैं तो आपको बहुत सारी बातों को ध्यान रखना पड़ता है जो आपके लिखने की क्षमता को कई गुना ज्यादा निखरता हैं, इसलिए ऑटिकल लिखने के लिए नीचे दिए गए जानकारी को ध्यान से पढ़े जो आपको ऑटिकल लिखने में कई ज्यादा मदद करेंगा।

सोचकर लिखना सीखें 

किसी भी लेख को लिखने से पहले यह सबसे महत्वपूर्ण अंग और सबसे पहला भाग होता है कि आप किसी भी टॉपिक में कोई भी ऑटिकल लिखते है तो सिर्फ एक विचार को ध्यान में रखकर ना लिखे बल्कि उस पूरे समाज और सभी लोगों के लिए लिखें जिससे आपके इस ऑटिकल से फायदा मिल सकें। और इमेजिनेशन ही एक ऐसी चीज है जिसे आप हर तरह का सीन क्रिएट कर सकते हैं इमेजिनेशन के जरिये ही आप अपने अंदर ही अंदर आर्टिकल का एक बेतरीन स्ट्रक्चर तैयार कर सकते है जो आपके रीडर्स को आपका पूरा आर्टिकल पढ़ने के लिए उत्साहित करता है।

अधूरी जानकारी न दें (Do Not Give Incomplete Information)

लेख लिखते समय आपको यह नहीं पता होता कि आपके लेख को कौन और कितना पढ़ा लिखा व्‍यक्ति पढ़ रहा है। इसलिए आपने ऑटिकल में जब भी आप किसी भी टॉपिक के बारे में बताएं तो इस बात को ध्यान में रखकर लिखें जिसको पढ़कर उस टॉपिक के बारे में किसी भी रीडर में मन में अधूरी जानकारी ना रहें। इसलिए आपको अपने आर्टिकल को बिल्कुल ज़ीरो से लिखना चाहिए ताकि हर वर्ग का व्यक्ति बहुत आसनी से समझ सकें क्योंकि जब आपके लिखे गए तथ्य लोगों के समझ नही आते तो वह आपके आर्टिकल को छोड़कर चले जाते है।

क्रिएटिव राइटिंग टिप्स (Creative Writing Tips for Beginners)

यदि आप कोई कंटेंट पीस लिख रहे हैं, जो पहले से ही इंटरनेट (Internet) पर है इसके लिए आपको थोड़ा अलग और रचनात्मक तरिके (Creative ways) से लिखना होगा। प्रत्येक कंटेंट में तीन प्रमुख content रणनीतियाँ शामिल  (Involved Strategies) होती हैं: विषय, विचार और नजरिया। जबकि विषय और विचार पहले से ही तय होते हैं क्योंकि Content शुरू करने से पहले, आप जानते हैं कि आप किस पर लिखने जा रहे हैं। अपने कंटेंट में एक नया बदलाव देना ही आपके लेख या ब्लॉग को दूसरों से अलग बनाता है। real users को लाने के लिए वह (unique content) के लिए (creative writing) आवश्यक है।

लेखन के बारे में सीखना कभी बंद न करें

जो ज्ञान अपके पास नहीं है उसे आप कभी साझा नहीं कर सकते। आप लोगों को वह नहीं सिखा सकते जो आप नहीं जानते औ आप इससे खुद को और लोगों को भ्रमित ही करेंगे। आप अपने पाठकों के साथ बहुमूल्य जानकारी साझा करने के लिए पढ़ने और सीखने की नियमित आदतें बनाएं। आप व्यावहारिक रूप से कुछ भी सीख सकते हैं। कभी-कभी आप अपने आप को सीमित कर लेते हैं और अपने मानसिक विकास को रोक देते हैं। अच्छे विषयों के बारे में सीखने से खुद को कभी ना रोकें। कठिन चीजों को पढ़ने और समझने के लिए अपने दिमाग को तैयार करें। नई चीजों को आजमाने के लिए आत्मविश्वास पैदा (Build confidence)  करें। आप इसके लिए कला, चिकित्सा, उपचार जैसे विषयों में रुचि ले सकते हैं। सभी विषयों के बारे में अधिक जानने से डरें नहीं, ताकि आप उनके बारे में विश्वसनीय रूप से लिख सकें।

Also Read : Blogging Vs Vlogging - ब्लॉग और व्लॉग में अंतर

अच्छी किताबें पढ़कर अपनी शब्दावली को बढ़ाएं 

आपको नए शब्दों को जानने के लिए किताबों की ताकत को कम नहीं आंकना चाहिए। अच्छी किताबें चुनें और अपनी शब्दावली बढ़ाएं। हर उस शब्द को देखें जिसे आप समझ नहीं पाते, उसके अर्थ को समझें और उसका सही तरीके से कैसे उपयोग करें इस बात पर ध्यान दें। स्मार्टफोन (Smart Phone) और अन्य उपकरणों के साथ शब्दों को खोजना अब आसान बनाता जा रहा है। नए शब्द सीखने के अलावा पढ़ना आपकी लेखन शैली (Writing style) को बढ़ाने का बेहतरीन तरीका है। इस बात पर ध्यान दें कि लेखक अपने विचारों को कैसे प्रकट करते हैं, और उनके उदाहरणों से सीखते रहें।

बार-बार ना करें किसी शब्‍द का इस्‍तेमाल

लेखन कार्य करते समय इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि कोई शब्‍द बार-बार रिपीट न करें, अगर आप अपने लेख में ऐसा करेंगे तो पाठक आपका लेख पढ़ते पढ़ते बोर हो जाएंगे, उन्‍हें आपके लेख में नयापन नहीं मिलेगा। इसलिए एक जैसे शब्दों का प्रयोग न करके उसके जैसे समान अर्थ वाले शब्दों का प्रयोग करें जिसे रीडर्स को यह न लगे कि वह बार-बार की की लाइन पढ़ रहा है।

अपने अनुभव के साथ लिखें

अगर आप किसी एक ऐसे विषय पर लिख रहे हैं जिसमें आपका अपना कोई पर्सनल अनुभव (Personal Experience) हैं तो आपको उसी आधार पर अपने लेख को लिखना चाहिए। क्योंकि हम सब की एक जैसी समस्याएं होती हैं और रीडर्स उस समय सबसे ज्यादा लेख को पढ़ने के लिए उत्साहित होता है जब उसे लगता है कि उसकी समस्या भी बिल्कुल ऐसी है और फिर वह उनका हल जाने के लिए अंत तक आर्टिकल पढ़ता है।

रिर्सच Research करें और श्रेय Credit देना ना भूले 

एक विश्वसनीय, भरोसेमंद लेखक बनने के लिए आपको लेखन के नियमों का पालन करना चाहिए। कभी भी किसी के लेखन की चोरी की नहीं करना चाहिए और उन विचारों के लिए श्रेय देना चाहिए जो आपने किसी के द्वारा लिए हैं। कॉपीराइट उल्लंघन Copyright से बचना चाहिए। आप दूसरों के अध्ययन और शोध का उल्लेख कर सकते हैं, लेकिन लेखकों को अपने संदर्भों की सूची में जोड़कर उन्हें श्रेय दें। आप इसके लिए लिंक भी प्रदान कर सकते हैं।

शांत वातावरण

अक्सर आपने फिल्मों में देखा और पढ़ा होगा कि अगर कोई लिखता है तो वह एक ऐसा वातावरण देखते है जहाँ शाति हो और वहाँ वे अपनी लिखने की कौशल को एक बेहतर लेखन शैली पर लेकर जा सकें। ऐसा इसलिए ताकि वह किसी भी तरीके से डिस्टर्ब न हो ताकि वह अपनी इमेजिनेशन पर पूरी तरह से केंद्रित रह सकें क्योंकि हमारा मन बहुत चंचल हैं और अगर कोई हमें डिस्टर्ब कर देता है तो हम उस इमेजिनेशन (Imagination) से एक दम बहार आ जाते है औऱ फिर से उसपर केंद्रित होने में काफ़ी समय लग सकता है इसलिए हमेशा एक अच्छा और बेहतरीन ऑटिकल लिखने के पहले शांत वातावरण की जरूरत होती है।

अपने व्याकरण और सत्यता की जांच के लिए ऑनलाइन टूल का उपयोग करें

ग्रामरली (Grammarly) और कॉपीस्केप (Copyscape) जैसे ऑनलाइन टूल (Online Tools) के साथ अपने लेखन को बेहतर बनाना आसान हो गया है। आप इसका उपयोग कर सकते हैं।  आप अपने व्याकरण की जांच (Grammar check) कर सकते हैं और सीख भी सकते हैं कि ऑनलाइन टूल के माध्यम से अपने लेख को कैसे बेहतर बना सकते हैं। इसके अलावा ऑनलाइन माध्यम पर कई ऐसे टूल मौजूद है जिससे अब पता लगा सकते हैं कि लेख में कोई प्लेगेरिज्म (Plagiarism) तो नहीं है। आप इन सभी चीजों का इस्तेमाल करके एक बेहतर लेखक बन सकते हैं।

एक अच्छा लेख लिखने के लिए टिप्स

कुछ ही समय में एक उत्कृष्ट लेख लिखने में आपकी मदद करने के लिए बहुत सारे उपयोगी संकेतों के साथ चरण-दर-चरण मार्गदर्शिका यहां दी गई है:

  1. सभी विचारों की सूची बनाना और उन्हें संभाल कर रखना 

  2. सभी प्रकार के विकर्षणों को दूर करना 

  3. विषय पर कुशलता से शोध करना 

  4. इसे सरल और कम जटिल रखना 

  5. अपने विचारों को बुलेट पॉइंट्स में लिखने का प्रयास करें 

  6. एक टाइमर सेट करें 

लेख लेखन में सामान्य गलतियों से बचना चाहिए

त्रुटियों की संभावना अब बढ़ जाती है जब आप लेख लेखन के चरणों और लेख लेखन प्रारूप को समझते हैं। 

  • तथ्यों या उद्धरणों या इसी तरह के मामलों का उपयोग नहीं करना

  • ऐसे स्वर का उपयोग करना जो बहुत औपचारिक हो

  • अर्थ जाने बिना कठिन शब्दावली का प्रयोग न करना 

  • अपने लेख के लिए आकर्षक शीर्षक का उपयोग नहीं करना 

  • जानकारी को विभाजित करने के लिए अनुच्छेदों का उपयोग नहीं करना

  • व्यक्तिगत विचार या राय व्यक्त नहीं करना