facebook-pixel
Business Stock Exchange

LIC IPO : जानिए भारत के सबसे बड़े आईपीओ के बारे में

Business Stock Exchange

LIC IPO : जानिए भारत के सबसे बड़े आईपीओ के बारे में

lic-ipo-know-the-biggest-ipo-of-india

Post Highlights

भारतीय जीवन बीमा निगम (Life insurance corporation of India) का पब्लिक इश्यू ऑफर (IPO) 4 मई को प्राइमरी मार्केट में उतरने जा रहा है। LIC IPO 4 मई 2022 को पब्लिक के लिए खुलेगा और यह 9 मई 2022 तक बोली के लिए खुला रहेगा। देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) ने अपने आईपीओ का प्राइस बैंड तय कर दिया है। LIC IPO का प्राइस बैंड ₹902 से 949 रुपए प्रति शेयर तय किया है। इस आईपीओ (LIC IPO) के जरिए सरकार अपनी 3.5 फीसदी हिस्सेदारी बेचने वाली है और 21 हजार करोड़ रुपये जुटाने वाली है और इस तरह यह भारत के इतिहास का सबसे बड़ा आईपीओ (Biggest IPO of India) होने वाला है।

आजकल हर कोई अक्सर स्टॉक मार्केट में इनवेस्ट करने के बारे में जरूर सोचता है। इनवेस्टिंग INVESTING का ही एक तरीका है (IPO) आईपीओ। वैसे भी आईपीओ (IPO) Initial Public Offering इनीशियल पब्लिक ऑफरिंग आजकल चर्चा का विषय बना हुआ है। आपने भी IPO और Stock के बारे में काफी सुना होगा। आजकल कई कंपनियां अपना विस्तार करने के लिए और फंडिंग इकट्ठा करने के लिए आईपीओ जारी करती हैं। भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) की बीमा कंपनी का इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) 4 मई 2022 को लॉन्च हो रहा है। चलिए जानते हैं देश के सबसे बड़े आईपीओ के बारे में। 

देश का सबसे बड़ा आईपीओ

देश के सबसे बड़े आईपीओ का इंतजार खत्म होने वाला है। भारतीय जीवन बीमा निगम (Life Insurance Corporation of India (LIC) की बीमा कंपनी का इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) 4 मई 2022 को लॉन्च हो रहा है। ये भारत का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ है। भारत सरकार (जीओआई) ने एलआईसी आईपीओ के लिए प्राइस बैंड ₹902 से ₹949 प्रति इक्विटी शेयर तय किया है। पब्लिक इश्यू 9 मई 2022 तक बोली के लिए खुला रहेगा। इसमें पॉलिसीधारकों policyholders को ₹60 की छूट और एलआईसी कर्मचारियों को ₹45 की छूट है। 

एलआईसी आईपीओ के जरिये सरकार सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी में अपनी 3.5 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचेगी। यह भारत का पहला आईपीओ होगा जो सेबी SEBI-Securities and Exchange Board of India द्वारा निर्धारित 5 फीसदी शेयरों की बजाय केवल 3.5 फीसदी शेयर ही बाजार में जारी करेगा। इससे सरकार को 21,000 करोड़ रुपये मिलेंगे। सरकार ने फरवरी में एलआईसी में पांच प्रतिशत हिस्सेदारी या 31.6 करोड़ शेयर बेचने की योजना बनाई थी। इस बारे में भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (SEBI) के पास दस्तावेज जमा कराए गए थे। सरकार के मुताबिक, यह आईपीओ अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ होगा और इससे लंबी अवधि में निवेशकों को फायदा होगा।

कंपनी के बारे में

एलआईसी भारत की सबसे बड़ी बीमा प्रदाता कंपनी India's largest insurance company है और बाजार में इसकी 61 फीसदी हिस्सेदारी है। कुल संपत्ति की बात की जाये तो यह दुनिया की 10वीं सबसे बड़ी बीमा कंपनी है। एलआईसी 40 लाख करोड़ के एसेट को मैनेज करती है और इसके पास लगभग 13.5 लाख एजेंट हैं। पूरे भारत में इसकी मजबूत उपस्थिति है और यह एक भरोसमंद ब्रैंड trusted brand है। वित्त वर्ष 21 के अंत में एलआईसी के पास 37,46,404 करोड़ का एयूएम (एसेट अंडर मैनेजमेंट) था जो कि इससे पिछले वित्त वर्ष से 10 फीसदी अधिक था। इस दौरान कंपनी का मुनाफा 2710 करोड़ रुपये से बढ़कर 2974 करोड़ रुपये हो गया। दिसंबर 2021 तक एलआईसी के पास 40.90 लाख करोड़ रुपये का एयूएम था। 

सरकार ने घटाया IPO का साइज, 21000 करोड़ रुपये जुटाने की योजना

आईपीओ लॉन्च करने की तारीख और इसके प्राइस बैंक का आधिकारिक एलान करते हुए निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग Department of Investment and Public Asset Management (दीपम) के सचिव तुहिन कांता पांडे ने बीते दिनों बताया था कि भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) में सरकार की 100 फीसदी हिस्सेदारी और इस आईपीओ के जरिए 3.5 फीसदी हिस्सेदारी बेचने जा रही है। इससे पहले पांच फीसदी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी थी। 

नए प्रस्ताव के मुताबिक केंद्र सरकार LIC में अब 3.5 फीसदी हिस्सेदारी 21000 करोड़ रुपये में बेचेगी। वहीं इसमें कहा गया था कि इश्यू के समय एंकर निवेशकों से पर्याप्त डिमांड मिलती है तो ओवर सब्सक्रिप्शन की हालत में इसे बढ़ाकर 5 फीसदी तक किया जा सकता है। पहले सरकार द्वारा 5 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का प्लान था लेकिन रूस और यूक्रेन जंग के चलते बाजार में आई अस्थिरता के कारण इसमें कटौती की। LIC के 3.5 फीसदी शेयर 21 हजार करोड़ रुपये में बेचे जाने का मतलब यह होगा कि 100 फीसदी सरकारी स्वामित्व वाली इस कंपनी का वैल्युएशन 6 लाख करोड़ रुपये आंका जा रहा है। इस आईपीओ के जरिए सरकार की योजना 21 हजार रुपये जुटाने की है। यानि यह देश के इतिहास का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ होगा। 

एंकर निवेशकों से फायदा

एंकर निवेशक anchor investors यानी किसी भी आईपीओ के सबसे शुरुआती निवेशक होते हैं। दरअसल आम लोगों के लिए आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPO) खुलने से पहले एंकर निवेशक इसमें निवेश करते हैं। इन्हें संस्थागत निवेशक भी कहा जाता है और इनमें म्यूचुअल फंड, पेंशन और इंश्योरेंस कंपनियां शामिल होती हैं। बड़े एंकर निवेशक कंपनी के आईपीओ में जब निवेश करते हैं तो आम जनता पर या आम लोगों पर इसका असर होता है और इसके साथ ही इसकी मांग में इजाफा होता है। इसका फायदा यह होता है कि इससे आईपीओ के सफल होने की संभावना और भी बढ़ जाती है। रिपोर्ट के मुताबिक बड़े-बड़े एंकर निवेशक देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी एलआईसी के आईपीओ में पैसा लगाने के इच्छुक हैं और इसका बड़ा फायदा मिल रहा है।

सबसे बड़े आईपीओ को एंकर निवेशकों से मिल रहा जबरदस्त रिस्पॉन्स

LIC सबसे बड़े आईपीओ को एंकर निवेशकों से जबरदस्त रिस्पॉन्स मिल रहा है। दरअसल भारत India की सबसे बड़ी जीनव बीमा Life Insurance कंपनी एलआईसी LIC का आईपीओ IPO 2 मई को एंकर निवेशकों Anchor Investors के लिए खुल गया है। निवेशकों के लिए एलआईसी का आईपीओ 4 मई को खुल जाएगा। बिक्री के लिए पेश किए जा रहे 22.13 करोड़ शेयरों में से लगभग 5.93 करोड़ शेयर एंकर निवेशकों के लिए आरक्षित रखे गए हैं। रिपोर्ट की माने तो इसमें 50 फीसदी शेयर पात्र संस्थागत आवंटन The Shares Eligible Institutional Allotment (क्यूआईपी) के लिए रखे गए हैं, जिनमें एंकर निवेशक भी शामिल हैं। एलआईसी के आईपीओ को एंकर निवेशकों से सोमवार को तगड़ी प्रतिक्रिया मिली। एंकर निवेशकों से 5,620 करोड़ रुपये का पूर्ण अभिदान मिला। 

मिंट में प्रकाशित के एक रिपोर्ट के अनुसार, अधिकारियों ने बताया है कि नॉर्वे के वेल्थ फंड नोर्गेस बैंक इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट और सिंगापुर सॉवरेन वेल्थ फंड जीआईसी सहित अन्य एंकर निवेशकों को 4 मई को आईपीओ खुलने से पहले शेयर आवंटित किए गए हैं। अधिकारियों ने बताया कि कुल 5,620 करोड़ रुपये के शेयर एंकर निवेशकों को आवंटित होने थे और यह पूरी तरह से हो चुके हैं। 

जानकारी के मुताबिक विदेशी फंड्स के अलावा एचडीएफसी एसेट मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड, एसबीआई फंड्स मैनेजमेंट लिमिटेड, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एसेट मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड और कोटक एसेट मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड HDFC Asset Management Company Limited, SBI Funds Management Limited, ICICI Prudential Asset Management Company Limited and Kotak Asset Management Company Limited भी एंकर निवेशक के रूप में सामने आये हैं। 

कर्मचारियों और पॉलिसीधारकों को मिलेगा डिस्काउंट Discount for LIC policyholders

भारत सरकार ने LIC पॉलिसी रखने वाले निवेशकों के लिए 60 रुपए प्रति इक्विटी शेयर छूट का ऐलान किया है। हालांकि, केवल वही एलआईसी पॉलिसीधारक इस छूट के लिए पात्र होंगे, जिन्होंने 13 अप्रैल 2022 को या उससे पहले अपनी पॉलिसी खरीदी थी, जिस दिन LIC ने Securities and Exchange Board of India SEBI में अपना DRHP दाखिल किया था। यानि एलआईसी अपने पॉलिसीधारकों को 60 रुपये और रिटेल इन्वेस्टर्स व कर्मचारियों को 45 रुपये का डिस्काउंट देगी। LIC ने अपने कर्मचारियों और पॉलिसीधारकों के लिए 5 फीसदी और 10 फीसदी इश्यू रिजर्व किया है। इन दो श्रेणियों के साथ रिटेल निवेशकों के लिए 35 फीसदी हिस्सा रिजर्व रखा गया है। साथ ही 50 फीसदी हिस्सा क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर्स के लिए और 15 फीसदी नॉन-इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर्स के लिए रिजर्व है। 

एलआईसी आईपीओ के बारे में जरूरी बातें एक नजर में 

  • आईपीओ की तारीख LIC IPO date for subscription:- देश का सबसे बड़ा IPO 4 मई 2022 को खुलेगा और यह 9 मई 2022 तक बोली लगाने के लिए खुला रहेगा। शेयर 17 मई को बाजार में सूचीबद्ध होंगे।
  • प्राइस बैंड LIC IPO Price Band:- भारत सरकार ने एलआईसी आईपीओ का प्राइस बैंड ₹902-949 प्रति इक्विटी शेयर तय किया है। इसके शेयरों की फेस वैल्यू 10 रुपये है। 
  • Discount for LIC employees:- भारत सरकार ने IPO में आवेदन करने वाले LIC कर्मचारियों को 45 रुपए प्रति इक्विटी शेयर छूट का ऐलान किया है। 
  • LIC IPO application limit:- निवेशक एलआईसी आईपीओ में न्यूनतम एक लॉट साइज के लिए आवेदन कर सकते हैं। अधिकतम 14 लॉट के लिए आवेदन करने की अनुमति है। 
  • कम-से-कम 15 शेयरों के लिए बोली LIC IPO Lot Size:- निवेशक आईपीओ के लिए लॉट में आवेदन कर सकता है। IPO के एक लॉट में 15 LIC Shares शामिल हैं। बोलीदाता को कम-से-कम 1 लॉट यानी 15 शेयरों के लिए बोली लगानी होगी। इस तरह से एक निवेशक 14 लॉट के लिए बोली लगाकर कुल 2 लाख रुपये निवेश कर सकता है। 
  • LIC IPO GMP:- बाजार जानकारों के अनुसार, एलआईसी आईपीओ ग्रे मार्केट प्रीमियम gray market premium
  • (जीएमपी) आज 3 को 85 रुपये है, जो कल के ग्रे मार्केट प्रीमियम 69 रुपये से 16 रुपये अधिक है। 

LIC IPO Size:-

भारत सरकार अपने IPO ऑफर से ₹ ​​21,008 करोड़ जुटाना चाहती है जो पूरी तरह से 100 फीसदी OFS (ऑफर फॉर सेल) है। 

LIC IPO listing:-

एलआईसी के शेयर बीएसई और एनएसई पर सूचीबद्ध होंगे और शेयर लिस्टिंग की संभावित तिथि 17 मई 2022 है।

LIC IPO registrar:-

केफिन टेक्नोलॉजीज लिमिटेड KFin Technologies Limited एलआईसी आईपीओ का आधिकारिक रजिस्ट्रार है।

ऑफर संबंधी डिटेल:- सरकार की इसके जरिए 21,000 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है। आईपीओ के कुल साइज का 50 फीसदी हिस्सा संस्थागत निवेशकों के लिए, 15 फीसदी गैर-संस्थागत निवेशकों के लिए और बाकी 35 फीसदी खुदरा निवेशकों के लिए आरक्षित है। यह पूरा आईपीओ ऑफर-फोर-सेल है। 

LIC IPO में निवेश के तरीके Ways to Invest in LIC IPO

यदि आप IPO में अप्लाई करने वाले हैं तो LIC आईपीओ में निवेश करने के ये आसान तरीके हैं इसमें से आप सही कैटेगरी का चयन कर IPO में अप्लाई कर सकते हैं। किसी भी आईपीओ में अप्लाई के लिए आपके पास डिमैट अकाउंट (Demat Account) होना जरूरी है। इस IPO में अप्लाई के दौरान (Investor Type) आपको Investor कैटेगरी चुनने के तीन विकल्प मिलेंगे जो निम्न हैं। 

1. New 

2. Policyholder

3. Employee

पहला विकल्प

यदि आप LIC पॉलिसी धारक हैं, तो आपको Policyholder कैटेगरी पर क्लिक करना होगा। इसमें आपको LIC IPO में 10 फीसदी का आरक्षण मिलेगा। साथ ही पॉलिसी धारकों के लिए IPO में प्रति शेयर 60 रुपये की छूट है। इसमें आपको अपर प्राइस बैंड के हिसाब से (949-60=889×15= 13,335 रुपये) मतलब कुल 13,335 लगाने होंगे। 

दूसरा विकल्प

यदि आप LIC के कर्मचारी हैं तो आपको Employee कैटेगरी को चुनना होगा। LIC कर्मचारियों को इस IPO में अप्लाई करने पर 45 रुपये का डिस्काउंट मिलेगा। अपर प्राइस बैंड के हिसाब से उन्हें एक लॉट के अप्लीकेशन पर 13,560 रुपये देने होंगे। 

तीसरा विकल्प

यदि आप एलआईसी पॉलिसी धारक नहीं हैं और न LIC के कर्मचारी हैं तो आपको सामान्य कैटेगरी यानी New का चुनाव करना होगा। इसमें अप्लाई करने पर आपको अपर प्राइस बैंड के हिसाब से 14,235 रुपये देने होंगे। 

एलआईसी आईपीओ में ऑनलाइन निवेश के लिए ऐप्स 

इसी कड़ी में हम अपने पाठकों को इस से जुडी एक ऐसी जानकारी बताने जा रहे हैं, जिससे वो घर बैठे ही ऑनलाइन बोली online bidding लगा कर शेयर खरीद सकते हैं। इसमें बीमाधारकों को 60 फीसदी छूट मिलेगी जबकि खुदरा निवेशकों 45 फीसदी की छूट दी जाएगी।

आप भी इन एप की मदद से अपनी हिस्सेदारी खरीद सकते हैं। तो सबसे पहले हम बात करते हैं पेटीएम मनी Paytm Money की। इसके होम स्क्रीन पर आईपीओ सेक्शन में जाकर आप बोली लगा सकते हैं। इसी कड़ी में ऑनलाइन ब्रोकरेज फर्म जेरोधा Zerodha भी एलआईसी आईपीओ में ऑनलाइन निवेश करने की सुविधा प्रदान कर रही है, लेकिन इस‍के लिए आपके पास डीमैट अकाउंट होना चाहिए। इन दोनों के अलावा भारतीय स्टेट बैंक के ऐप एसबीआई योनो SBI YONO के जरिए भी ऑनलाइन आईपीओ में बोली लगा हिस्सेदारी खरीदी जा सकती है।

Think with Niche पर आपके लिए और रोचक विषयों पर लेख उपलब्ध हैं एक अन्य लेख को पढ़ने के लिए कृपया नीचे  दिए लिंक पर क्लिक करे-

निवेश करने के लिये सर्वोत्तम Mutual Funds 

आजकल हर कोई अक्सर स्टॉक मार्केट में इनवेस्ट करने के बारे में जरूर सोचता है। इनवेस्टिंग INVESTING का ही एक तरीका है (IPO) आईपीओ। वैसे भी आईपीओ (IPO) Initial Public Offering इनीशियल पब्लिक ऑफरिंग आजकल चर्चा का विषय बना हुआ है। आपने भी IPO और Stock के बारे में काफी सुना होगा। आजकल कई कंपनियां अपना विस्तार करने के लिए और फंडिंग इकट्ठा करने के लिए आईपीओ जारी करती हैं। भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) की बीमा कंपनी का इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) 4 मई 2022 को लॉन्च हो रहा है। चलिए जानते हैं देश के सबसे बड़े आईपीओ के बारे में। 

देश का सबसे बड़ा आईपीओ

देश के सबसे बड़े आईपीओ का इंतजार खत्म होने वाला है। भारतीय जीवन बीमा निगम (Life Insurance Corporation of India (LIC) की बीमा कंपनी का इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) 4 मई 2022 को लॉन्च हो रहा है। ये भारत का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ है। भारत सरकार (जीओआई) ने एलआईसी आईपीओ के लिए प्राइस बैंड ₹902 से ₹949 प्रति इक्विटी शेयर तय किया है। पब्लिक इश्यू 9 मई 2022 तक बोली के लिए खुला रहेगा। इसमें पॉलिसीधारकों policyholders को ₹60 की छूट और एलआईसी कर्मचारियों को ₹45 की छूट है। 

एलआईसी आईपीओ के जरिये सरकार सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी में अपनी 3.5 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचेगी। यह भारत का पहला आईपीओ होगा जो सेबी SEBI-Securities and Exchange Board of India द्वारा निर्धारित 5 फीसदी शेयरों की बजाय केवल 3.5 फीसदी शेयर ही बाजार में जारी करेगा। इससे सरकार को 21,000 करोड़ रुपये मिलेंगे। सरकार ने फरवरी में एलआईसी में पांच प्रतिशत हिस्सेदारी या 31.6 करोड़ शेयर बेचने की योजना बनाई थी। इस बारे में भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (SEBI) के पास दस्तावेज जमा कराए गए थे। सरकार के मुताबिक, यह आईपीओ अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ होगा और इससे लंबी अवधि में निवेशकों को फायदा होगा।

कंपनी के बारे में

एलआईसी भारत की सबसे बड़ी बीमा प्रदाता कंपनी India's largest insurance company है और बाजार में इसकी 61 फीसदी हिस्सेदारी है। कुल संपत्ति की बात की जाये तो यह दुनिया की 10वीं सबसे बड़ी बीमा कंपनी है। एलआईसी 40 लाख करोड़ के एसेट को मैनेज करती है और इसके पास लगभग 13.5 लाख एजेंट हैं। पूरे भारत में इसकी मजबूत उपस्थिति है और यह एक भरोसमंद ब्रैंड trusted brand है। वित्त वर्ष 21 के अंत में एलआईसी के पास 37,46,404 करोड़ का एयूएम (एसेट अंडर मैनेजमेंट) था जो कि इससे पिछले वित्त वर्ष से 10 फीसदी अधिक था। इस दौरान कंपनी का मुनाफा 2710 करोड़ रुपये से बढ़कर 2974 करोड़ रुपये हो गया। दिसंबर 2021 तक एलआईसी के पास 40.90 लाख करोड़ रुपये का एयूएम था। 

सरकार ने घटाया IPO का साइज, 21000 करोड़ रुपये जुटाने की योजना

आईपीओ लॉन्च करने की तारीख और इसके प्राइस बैंक का आधिकारिक एलान करते हुए निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग Department of Investment and Public Asset Management (दीपम) के सचिव तुहिन कांता पांडे ने बीते दिनों बताया था कि भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) में सरकार की 100 फीसदी हिस्सेदारी और इस आईपीओ के जरिए 3.5 फीसदी हिस्सेदारी बेचने जा रही है। इससे पहले पांच फीसदी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी थी। 

नए प्रस्ताव के मुताबिक केंद्र सरकार LIC में अब 3.5 फीसदी हिस्सेदारी 21000 करोड़ रुपये में बेचेगी। वहीं इसमें कहा गया था कि इश्यू के समय एंकर निवेशकों से पर्याप्त डिमांड मिलती है तो ओवर सब्सक्रिप्शन की हालत में इसे बढ़ाकर 5 फीसदी तक किया जा सकता है। पहले सरकार द्वारा 5 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का प्लान था लेकिन रूस और यूक्रेन जंग के चलते बाजार में आई अस्थिरता के कारण इसमें कटौती की। LIC के 3.5 फीसदी शेयर 21 हजार करोड़ रुपये में बेचे जाने का मतलब यह होगा कि 100 फीसदी सरकारी स्वामित्व वाली इस कंपनी का वैल्युएशन 6 लाख करोड़ रुपये आंका जा रहा है। इस आईपीओ के जरिए सरकार की योजना 21 हजार रुपये जुटाने की है। यानि यह देश के इतिहास का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ होगा। 

एंकर निवेशकों से फायदा

एंकर निवेशक anchor investors यानी किसी भी आईपीओ के सबसे शुरुआती निवेशक होते हैं। दरअसल आम लोगों के लिए आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPO) खुलने से पहले एंकर निवेशक इसमें निवेश करते हैं। इन्हें संस्थागत निवेशक भी कहा जाता है और इनमें म्यूचुअल फंड, पेंशन और इंश्योरेंस कंपनियां शामिल होती हैं। बड़े एंकर निवेशक कंपनी के आईपीओ में जब निवेश करते हैं तो आम जनता पर या आम लोगों पर इसका असर होता है और इसके साथ ही इसकी मांग में इजाफा होता है। इसका फायदा यह होता है कि इससे आईपीओ के सफल होने की संभावना और भी बढ़ जाती है। रिपोर्ट के मुताबिक बड़े-बड़े एंकर निवेशक देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी एलआईसी के आईपीओ में पैसा लगाने के इच्छुक हैं और इसका बड़ा फायदा मिल रहा है।

सबसे बड़े आईपीओ को एंकर निवेशकों से मिल रहा जबरदस्त रिस्पॉन्स

LIC सबसे बड़े आईपीओ को एंकर निवेशकों से जबरदस्त रिस्पॉन्स मिल रहा है। दरअसल भारत India की सबसे बड़ी जीनव बीमा Life Insurance कंपनी एलआईसी LIC का आईपीओ IPO 2 मई को एंकर निवेशकों Anchor Investors के लिए खुल गया है। निवेशकों के लिए एलआईसी का आईपीओ 4 मई को खुल जाएगा। बिक्री के लिए पेश किए जा रहे 22.13 करोड़ शेयरों में से लगभग 5.93 करोड़ शेयर एंकर निवेशकों के लिए आरक्षित रखे गए हैं। रिपोर्ट की माने तो इसमें 50 फीसदी शेयर पात्र संस्थागत आवंटन The Shares Eligible Institutional Allotment (क्यूआईपी) के लिए रखे गए हैं, जिनमें एंकर निवेशक भी शामिल हैं। एलआईसी के आईपीओ को एंकर निवेशकों से सोमवार को तगड़ी प्रतिक्रिया मिली। एंकर निवेशकों से 5,620 करोड़ रुपये का पूर्ण अभिदान मिला। 

मिंट में प्रकाशित के एक रिपोर्ट के अनुसार, अधिकारियों ने बताया है कि नॉर्वे के वेल्थ फंड नोर्गेस बैंक इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट और सिंगापुर सॉवरेन वेल्थ फंड जीआईसी सहित अन्य एंकर निवेशकों को 4 मई को आईपीओ खुलने से पहले शेयर आवंटित किए गए हैं। अधिकारियों ने बताया कि कुल 5,620 करोड़ रुपये के शेयर एंकर निवेशकों को आवंटित होने थे और यह पूरी तरह से हो चुके हैं। 

जानकारी के मुताबिक विदेशी फंड्स के अलावा एचडीएफसी एसेट मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड, एसबीआई फंड्स मैनेजमेंट लिमिटेड, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एसेट मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड और कोटक एसेट मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड HDFC Asset Management Company Limited, SBI Funds Management Limited, ICICI Prudential Asset Management Company Limited and Kotak Asset Management Company Limited भी एंकर निवेशक के रूप में सामने आये हैं। 

कर्मचारियों और पॉलिसीधारकों को मिलेगा डिस्काउंट Discount for LIC policyholders

भारत सरकार ने LIC पॉलिसी रखने वाले निवेशकों के लिए 60 रुपए प्रति इक्विटी शेयर छूट का ऐलान किया है। हालांकि, केवल वही एलआईसी पॉलिसीधारक इस छूट के लिए पात्र होंगे, जिन्होंने 13 अप्रैल 2022 को या उससे पहले अपनी पॉलिसी खरीदी थी, जिस दिन LIC ने Securities and Exchange Board of India SEBI में अपना DRHP दाखिल किया था। यानि एलआईसी अपने पॉलिसीधारकों को 60 रुपये और रिटेल इन्वेस्टर्स व कर्मचारियों को 45 रुपये का डिस्काउंट देगी। LIC ने अपने कर्मचारियों और पॉलिसीधारकों के लिए 5 फीसदी और 10 फीसदी इश्यू रिजर्व किया है। इन दो श्रेणियों के साथ रिटेल निवेशकों के लिए 35 फीसदी हिस्सा रिजर्व रखा गया है। साथ ही 50 फीसदी हिस्सा क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर्स के लिए और 15 फीसदी नॉन-इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर्स के लिए रिजर्व है। 

एलआईसी आईपीओ के बारे में जरूरी बातें एक नजर में 

  • आईपीओ की तारीख LIC IPO date for subscription:- देश का सबसे बड़ा IPO 4 मई 2022 को खुलेगा और यह 9 मई 2022 तक बोली लगाने के लिए खुला रहेगा। शेयर 17 मई को बाजार में सूचीबद्ध होंगे।
  • प्राइस बैंड LIC IPO Price Band:- भारत सरकार ने एलआईसी आईपीओ का प्राइस बैंड ₹902-949 प्रति इक्विटी शेयर तय किया है। इसके शेयरों की फेस वैल्यू 10 रुपये है। 
  • Discount for LIC employees:- भारत सरकार ने IPO में आवेदन करने वाले LIC कर्मचारियों को 45 रुपए प्रति इक्विटी शेयर छूट का ऐलान किया है। 
  • LIC IPO application limit:- निवेशक एलआईसी आईपीओ में न्यूनतम एक लॉट साइज के लिए आवेदन कर सकते हैं। अधिकतम 14 लॉट के लिए आवेदन करने की अनुमति है। 
  • कम-से-कम 15 शेयरों के लिए बोली LIC IPO Lot Size:- निवेशक आईपीओ के लिए लॉट में आवेदन कर सकता है। IPO के एक लॉट में 15 LIC Shares शामिल हैं। बोलीदाता को कम-से-कम 1 लॉट यानी 15 शेयरों के लिए बोली लगानी होगी। इस तरह से एक निवेशक 14 लॉट के लिए बोली लगाकर कुल 2 लाख रुपये निवेश कर सकता है। 
  • LIC IPO GMP:- बाजार जानकारों के अनुसार, एलआईसी आईपीओ ग्रे मार्केट प्रीमियम gray market premium
  • (जीएमपी) आज 3 को 85 रुपये है, जो कल के ग्रे मार्केट प्रीमियम 69 रुपये से 16 रुपये अधिक है। 

LIC IPO Size:-

भारत सरकार अपने IPO ऑफर से ₹ ​​21,008 करोड़ जुटाना चाहती है जो पूरी तरह से 100 फीसदी OFS (ऑफर फॉर सेल) है। 

LIC IPO listing:-

एलआईसी के शेयर बीएसई और एनएसई पर सूचीबद्ध होंगे और शेयर लिस्टिंग की संभावित तिथि 17 मई 2022 है।

LIC IPO registrar:-

केफिन टेक्नोलॉजीज लिमिटेड KFin Technologies Limited एलआईसी आईपीओ का आधिकारिक रजिस्ट्रार है।

ऑफर संबंधी डिटेल:- सरकार की इसके जरिए 21,000 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है। आईपीओ के कुल साइज का 50 फीसदी हिस्सा संस्थागत निवेशकों के लिए, 15 फीसदी गैर-संस्थागत निवेशकों के लिए और बाकी 35 फीसदी खुदरा निवेशकों के लिए आरक्षित है। यह पूरा आईपीओ ऑफर-फोर-सेल है। 

LIC IPO में निवेश के तरीके Ways to Invest in LIC IPO

यदि आप IPO में अप्लाई करने वाले हैं तो LIC आईपीओ में निवेश करने के ये आसान तरीके हैं इसमें से आप सही कैटेगरी का चयन कर IPO में अप्लाई कर सकते हैं। किसी भी आईपीओ में अप्लाई के लिए आपके पास डिमैट अकाउंट (Demat Account) होना जरूरी है। इस IPO में अप्लाई के दौरान (Investor Type) आपको Investor कैटेगरी चुनने के तीन विकल्प मिलेंगे जो निम्न हैं। 

1. New 

2. Policyholder

3. Employee

पहला विकल्प

यदि आप LIC पॉलिसी धारक हैं, तो आपको Policyholder कैटेगरी पर क्लिक करना होगा। इसमें आपको LIC IPO में 10 फीसदी का आरक्षण मिलेगा। साथ ही पॉलिसी धारकों के लिए IPO में प्रति शेयर 60 रुपये की छूट है। इसमें आपको अपर प्राइस बैंड के हिसाब से (949-60=889×15= 13,335 रुपये) मतलब कुल 13,335 लगाने होंगे। 

दूसरा विकल्प

यदि आप LIC के कर्मचारी हैं तो आपको Employee कैटेगरी को चुनना होगा। LIC कर्मचारियों को इस IPO में अप्लाई करने पर 45 रुपये का डिस्काउंट मिलेगा। अपर प्राइस बैंड के हिसाब से उन्हें एक लॉट के अप्लीकेशन पर 13,560 रुपये देने होंगे। 

तीसरा विकल्प

यदि आप एलआईसी पॉलिसी धारक नहीं हैं और न LIC के कर्मचारी हैं तो आपको सामान्य कैटेगरी यानी New का चुनाव करना होगा। इसमें अप्लाई करने पर आपको अपर प्राइस बैंड के हिसाब से 14,235 रुपये देने होंगे। 

एलआईसी आईपीओ में ऑनलाइन निवेश के लिए ऐप्स 

इसी कड़ी में हम अपने पाठकों को इस से जुडी एक ऐसी जानकारी बताने जा रहे हैं, जिससे वो घर बैठे ही ऑनलाइन बोली online bidding लगा कर शेयर खरीद सकते हैं। इसमें बीमाधारकों को 60 फीसदी छूट मिलेगी जबकि खुदरा निवेशकों 45 फीसदी की छूट दी जाएगी।

आप भी इन एप की मदद से अपनी हिस्सेदारी खरीद सकते हैं। तो सबसे पहले हम बात करते हैं पेटीएम मनी Paytm Money की। इसके होम स्क्रीन पर आईपीओ सेक्शन में जाकर आप बोली लगा सकते हैं। इसी कड़ी में ऑनलाइन ब्रोकरेज फर्म जेरोधा Zerodha भी एलआईसी आईपीओ में ऑनलाइन निवेश करने की सुविधा प्रदान कर रही है, लेकिन इस‍के लिए आपके पास डीमैट अकाउंट होना चाहिए। इन दोनों के अलावा भारतीय स्टेट बैंक के ऐप एसबीआई योनो SBI YONO के जरिए भी ऑनलाइन आईपीओ में बोली लगा हिस्सेदारी खरीदी जा सकती है।

Think with Niche पर आपके लिए और रोचक विषयों पर लेख उपलब्ध हैं एक अन्य लेख को पढ़ने के लिए कृपया नीचे  दिए लिंक पर क्लिक करे-

निवेश करने के लिये सर्वोत्तम Mutual Funds 







Newsletter

Read and Subscribe