क्या है इमोशनल मार्केटिंग?

Share Us

4083
क्या है इमोशनल मार्केटिंग?
12 Sep 2023
5 min read

Blog Post

किसी व्यवसाय में अपने उत्पादों और सेवाओं की जागरूकता को बढ़ाने के लिए भावनाओं का बहुत महत्वपूर्ण स्थान है। यह दुकानदार को ग्राहकों से भावनात्मक रूप से जोड़ने में मदद करता है।

व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए उचित भावनात्मक विपणन रणनीतियों का होना अति आवश्यक है। मार्केटिंग का क्षेत्र निरंतर बदल रहा है और इमोशनल मार्केटिंग इसमें एक महत्वपूर्ण रोल निभा रहा है।

व्यापार के क्षेत्र में इमोशनल मार्केटिंग एक ऐसी रणनीति है Emotional marketing strategy जिसमें व्यापारी अपने उपभोक्ताओं के साथ संबंध बनाने के लिए उनकी भावनाओं, आकर्षणों, और उत्सुकता को समझते हैं और उन भावनाओं का उपयोग करके उन्हें अपने ब्रांड, उत्पाद, या सेवाओं के प्रति आकर्षित करने का प्रयास करते हैं।

इसका मुख्य उद्देश्य व्यापारी के साथीत्व बनाना होता है ताकि वे विश्वस्त रूप से ब्रांड का समर्थन करें और उनके साथ संबंध बनाकर विशेषता और भावनात्मक संबंध बनाए रखें।

यह ऐसी रणनीति है जो ग्राहकों के भावनाओं, आकर्षण और उत्साह को संदर्भित करने का प्रयास करती है। इसलिए, यहां हम इमोशनल मार्केटिंग के महत्व, उदाहरण और रणनीति के बारे में चर्चा करेंगे।

हम मनुष्य अपनी भावनाओं के गुलाम हैं। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि मनुष्य अपने दिमाग से ज्यादा दिल से फैसले लेता है, फिर चाहे वह किसी भी संदर्भ में हो। एक व्यक्ति उसी से आकर्षित होता है जिससे वह भावनात्मक रूप से जुड़ाव महसूस करता है। मनोवैज्ञानिकों के अनुसार मनुष्य सोचता बाद में हैं, पहले महसूस करते हैं।

इसलिए भावनाएं सभी के जीवन में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। लेकिन क्या आपको पता है भावनाओं की व्यवसाय में भी बहुत ज़रूरत होती है। व्यवसाय की दुनिया में इसे इमोशनल मार्केटिंग emotional marketing कहते हैं। आइए इसके बारे में संक्षेप में जानते हैं।

क्या है इमोशनल मार्केटिंग? What Is Emotional Marketing 

असल में इमोशनल मार्केटिंग एक ऐसा तरीका है जो ग्राहकों को व्यक्तिगत और मानवीय तरीके से एक ब्रांड से जोड़ती है। इमोशनल मार्केटिंग का मुख्य उद्देश्य ग्राहकों से सकारात्मक प्रतिक्रिया positive feedback लेना होता है। इस तरह की मार्केटिंग प्रतिक्रिया काफी प्रभावी होती है क्योंकी यह दर्शकों को व्यक्तिगत रुप से प्रेरित करती है और ब्रांड जागरूकता पैदा करती है।

यह आपको ग्राहकों की भावनाओं और जरूरतों को जानकर उनसे एक मजबूत संबंध बनाने की अनुमति देता है। एक व्यवसाय में भावनाएं जो महत्तवपूर्ण भूमिका निभाती हैं उसे कोई भी व्यवसायी नज़रअंदाज नहीं कर सकता।

इमोशनल मार्केटिंग की परिभाषा Definition of Emotional Marketing

इमोशनल मार्केटिंग को व्यापार में एक रणनीति के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिसमें व्यापारी उपभोक्ताओं के मनोभाव, भावनाएं, और आकर्षण को समझते हैं और उन भावनाओं का उपयोग करके उन्हें अपने उत्पाद, ब्रांड, या सेवाओं के प्रति आकर्षित करने का प्रयास करते हैं।

इसका मुख्य लक्ष्य भावनात्मक बंधन बनाना होता है जो उपभोक्ताओं को एक विशेषता और संबंध का अनुभव कराता है ताकि वे विश्वस्त रूप से व्यापार का समर्थन करें और उच्च स्तर पर संतुष्ट रहें।

व्यापार में भावनाओं का महत्व importance of emotions in business

व्यापार के माध्यम से उत्पादों और सेवाओं को बेचने के लिए भावनाओं का एक महत्वपूर्ण योगदान होता है। ग्राहक आपके ब्रांड और उत्पाद के प्रति कैसा महसूस करता है इसका व्यापार को निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

भावनात्मक मार्केटिंग के माध्यम से व्यापारी उपभोक्ताओं की भावनाओं को प्रभावित करके उन्हें अपने ब्रांड के प्रति आकर्षित करते हैं, जिससे वे लंबे समय तक उनके साथ संबंध बनाए रखते हैं।

सभी कंपनियां चाहती हैं कि उनके ग्राहक उनके उत्पादों से संतुष्ट हों। सकारात्मक भावनाएं ब्रांड की पहुंच और ब्रांड सुधार में मदद करते हैं। ग्राहकों की ब्रांड के प्रति भावनाएं यह सुनिश्चित करने में मदद करती हैं कि आप के उत्पाद से ग्राहक कितने खुश हैं। ब्रांड या उत्पाद की समीक्षा product review उन उत्पाद अथवा सेवाओं में  सुधार करने के लिए आवश्यक हैं।

आज सभी ग्राहक ऐसे संकेतों की तलाश में रहते हैं जो उन्हें भरोसा दिला सके कि आप के उत्पाद एवं सेवाएं वाकई में बेहतर हैं। अगर आप वास्तव में दर्शकों का ध्यान अपने उत्पादों की तरफ आकर्षित करना चाहते हैं तो आपको उनसे प्रभावी तरीके से जुड़ना होगा।

भावनात्मक विपणन रणनीतियां emotional marketing strategies दर्शकों के साथ संबंध तो बनाती ही हैं लेकिन इसके साथ-साथ यह आपको काम करने के लिए और प्रेरित भी करती हैं। जब आपको यह पता होता है कि आपके लक्षित दर्शक किन चीजों को पसंद करते हैं तो यह आपके उत्पादों के प्रति ग्राहकों की‌ वफादारी को बढ़ाते हैं।

हम यह कह सकते हैं कि अगर आज भावनात्मक आकर्षण नहीं होता तो हम किसी भी चीज की खरीदारी सहजता से नहीं कर सकते। इस विषय को हम एक उदाहरण से भी समझ सकते हैं-

जब हम किसी दुकान में खरीदारी करने जाते हैं तो हम मुख्य रूप से इस बात पर गौर करते हैं कि वह दुकानदार उत्पादों को किस तरह पेश करता है और किस तरह से हमारे साथ जुड़ता है। वास्तव में किसी ब्रांड या उत्पाद के मूल्यांकन में उत्पाद की जानकारी से ज्यादा भावनाओं का महत्व होता है।

जैसा कि ग्राहक खरीदारी निर्णयों में रिश्तों के महत्व पर अधिक ध्यान केंद्रित करते हैं और वही उन्हें उस उत्पाद या ब्रांड के प्रति आकर्षित करता है। अगर आपके व्यवसाय की भावनात्मक विपणन रणनीतियां मजबूत हैं तो आप बड़े मुनाफे, मजबूत राजस्व और लंबे समय तक खुश रहने वाले ग्राहकों से लाभ उठा सकते हैं।

Also Read: एक उद्यमी को डिजिटल मार्केटिंग के बारे में क्या - क्या पता होना चाहिए?

1. उदाहरणों के साथ इमोशनल मार्केटिंग Emotional marketing with examples

इमोशनल मार्केटिंग को समझने के लिए यहां कुछ उदाहरण हैं जो ब्रांड द्वारा उपयोगी हैं:

  1. कोका-कोला Coca-Cola: कोका-कोला की मार्केटिंग रणनीति में खुशहाली, मजेदार और मनोरंजक दृश्यों का उपयोग किया जाता है। इसके जरिए, वे उपभोक्ताओं को खुशी, उत्साह, और मौज में ले जाने का प्रयास करते हैं।

  2. एप्पल Apple: एप्पल के मार्केटिंग अभियानों में एक विशेष ध्यान दिया जाता है जो उपभोक्ताओं के भावनात्मक जवाब को प्रेरित करने के लिए उत्कृष्टता और विश्वसनीयता का प्रदर्शन करता है।

  3. वोल्वो Volvo: वोल्वो ने अपनी मार्केटिंग में सुरक्षा और परिवार के महत्व को उभारने के लिए भावनात्मक तत्वों का उपयोग किया है। वे उपभोक्ताओं को विश्वस्तता और सुरक्षा का एक महत्वपूर्ण अनुभव प्रदान करने की कोशिश करते हैं।

  4. फेयर एंड लवली Fair and lovely : फेयर एंड लवली के मार्केटिंग अभियान में खुशियों के पलों को दर्शाने का प्रयास किया जाता है। उनके विज्ञापनों में परिवार, मित्रता, और समृद्धि को प्रमुखता दी जाती है जो उपभोक्ताओं को उनके साथीत्व का अनुभव कराता है।

इमोशनल मार्केटिंग व्यापारी को उपभोक्ताओं के मन को समझने और उनसे संबंध बनाने का एक महत्वपूर्ण तरीका है। इसका उद्देश्य व्यापारी को उपभोक्ताओं के विश्वास और समर्थन को प्राप्त करने में मदद करना है जिससे व्यापार को सफलता प्राप्त हो सके।

2. इमोशनल मार्केटिंग के लाभ Benefits of Emotional Marketing

व्यापार में इमोशनल मार्केटिंग एक महत्वपूर्ण रणनीति है जो उपभोक्ताओं के साथ मजबूत संबंध बनाने और व्यवसाय को सफलता की ओर ले जाने में मदद करती है। यह व्यापारों को उपभोक्ताओं के मन को समझने, उनकी भावनाओं को छूने और उन्हें प्रभावित करने का एक प्रभावी तरीका है। इससे व्यापारी उपभोक्ताओं के विश्वास, ब्रांड लोयल्टी, और विपणन क्षमता में सुधार कर सकते हैं।

  • ग्राहक संबंधों को मजबूत बनाना: Strengthening Customer Relationships:

इमोशनल मार्केटिंग व्यापारी को ग्राहकों के साथ एक मजबूत संबंध बनाने में मदद करता है। जब व्यापारी ग्राहकों की भावनाओं को समझते हैं और उन्हें संवेदनशीलता और समर्थन प्रदान करते हैं, तो ग्राहक उन्हें विश्वास करने लगते हैं और उनके साथ संबंध को मजबूत करते हैं। यह लंबे समय तक वफादारी और ग्राहक संतुष्टि का आधार बना सकता है।

  • ब्रांड लोयल्टी का निर्माण करना:build brand loyalty

इमोशनल मार्केटिंग व्यापारी को ब्रांड लोयल्टी का निर्माण करने में मदद करता है। जब ग्राहकों को व्यापार की भावनाओं से जोड़ा जाता है और उन्हें उत्पादों और सेवाओं के साथ एक संबंध महसूस होता है, तो वे ब्रांड के प्रति वफादार होते हैं। इमोशनल मार्केटिंग ब्रांड को ग्राहकों के लिए विशेष और यादगार बना सकता है, जिससे उनकी प्राथमिकता और विश्वास को बढ़ाया जा सकता है।

  • विपणन क्षमता में सुधार करना: Improving Marketing Efficiency:

इमोशनल मार्केटिंग व्यापारी की विपणन क्षमता में सुधार करने में मदद कर सकता है। जब व्यापारी ग्राहकों की भावनाओं, इच्छाओं, और आकर्षण को समझते हैं, तो वे अपने उत्पादों और सेवाओं को तथाकथित मूल्य के साथ प्रदर्शित कर सकते हैं।

इमोशनल मार्केटिंग विपणन संदेशों को आकर्षक, यादगार और संवेदनशील बना सकता है, जो ग्राहकों को प्रभावित करने में मदद करता है।

इमोशनल मार्केटिंग एक व्यापारी के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे ग्राहक संबंधों को मजबूत बनाया, ब्रांड लोयल्टी का निर्माण किया और विपणन क्षमता में सुधार किया जा सकता है। व्यापारों को इमोशनल मार्केटिंग के माध्यम से ग्राहकों के मन को पढ़ने, उनकी भावनाओं को समझने और उन्हें प्रभावित करने का एक प्रभावी तरीका मिलता है।

इससे व्यापारी ग्राहक संबंधों को सुधार सकते हैं, ब्रांड लोयल्टी को बढ़ा सकते हैं और विपणन क्षमता को मजबूत कर सकते हैं।

3. इमोशनल मार्केटिंग की रणनीति Emotional marketing strategy

इमोशनल मार्केटिंग की रणनीति उनके भावनाओं और ज़रूरतों को समझने पर आधारित होती है जिन्हें व्यापारी उनके लाभ के लिए उपयोग कर सकते हैं। यह रणनीति ग्राहकों की मनःस्थिति, आवश्यकताएं, और इच्छाएं समझने और उन्हें उनके आपकी वस्तु या सेवा के प्रति काबिलियत और आकर्षकता को समझने पर केंद्रित है। इस रणनीति का उद्देश्य ग्राहकों को संबंध बनाने, उन्हें प्रभावित करने और उनकी संगति को बढ़ाने का है।

  • ग्राहकों के भावनाओं को समझना: इमोशनल मार्केटिंग की एक मुख्य रणनीति है ग्राहकों की भावनाओं को समझना। व्यापारी को गहरी तारीफ, प्रतिपादन और इंटरेक्शन के माध्यम से ग्राहकों की भावनाओं को समझना चाहिए। यह उन्हें उनके ग्राहकों के साथ संबंध बनाने और उनकी जरूरतों को पूरा करने में मदद करेगा।

  • संदेश में भावनात्मक तत्वों का उपयोग करना: इमोशनल मार्केटिंग की रणनीति में संदेश में भावनात्मक तत्वों का उपयोग किया जाता है। व्यापारी को अपने संदेशों, विज्ञापनों और कम्युनिकेशन में ग्राहकों को संप्रेषित करने के लिए भावनात्मक तत्वों का सही चुनाव करना चाहिए। इससे ग्राहकों के साथ संबंध बनाने और उन्हें प्रभावित करने का एक मजबूत माध्यम मिलेगा।

  • यात्रा को साझा करना: इमोशनल मार्केटिंग की एक अहम रणनीति है यात्रा को साझा करना। व्यापारी को अपने ग्राहकों के साथ एक साझा यात्रा बनाने की कोशिश करनी चाहिए। इसके माध्यम से, व्यापारी ग्राहकों को उनकी जरूरतों के आधार पर वस्तु या सेवा को पेश करने में मदद करेगा। यह ग्राहक संतुष्टि और ब्रांड लोयल्टी को बढ़ाने में सहायता करेगा।

एक भावनात्मक संदेश रणनीति बेचने के लिए भावनाओं का उपयोग करती है। इस रणनीति का उपयोग करने वाले एक विज्ञापन को अपने लक्षित दर्शकों को उत्पाद या ब्रांड के साथ भावनात्मक संबंध महसूस कराना चाहिए। भावनात्मक विज्ञापन के एक शक्तिशाली उदाहरण के लिए, प्राथमिक चिकित्सा के महत्व के बारे में यह विज्ञापन देखें।

Also Read: सफल और सुखी जीवन के लिए सकारात्मक सोच का महत्व

निष्कर्ष 

इमोशनल मार्केटिंग एक व्यापार की उच्चतम स्तर पर साथीत्व बनाने और उपभोक्ताओं के मन में स्थायी प्रभाव बनाने का एक शक्तिशाली तरीका है। इसे समझने और सफलतापूर्वक उपयोग करने के लिए, व्यापारों को ग्राहकों की भावनाओं को समझने, भावनात्मक संदेश प्रस्तुत करने, और ग्राहकों के साथ गहरा संबंध बनाने की आवश्यकता होती है। इमोशनल मार्केटिंग की यह योजना और रणनीति व्यापारों को अधिक प्रभावी बनाकर उन्नति और सफलता की ओर आगे बढ़ा सकती है।