जानिए कौन हैं टॉप भारतीय स्टार्टअप यूनिकॉर्न कंपनियां 2024

Share Us

381
जानिए कौन हैं टॉप भारतीय स्टार्टअप यूनिकॉर्न कंपनियां 2024
11 Jun 2024
6 min read

Blog Post

स्टार्टअप की दुनिया नई चीजें ईजाद करने और पुरानी व्यवस्था को बदलने का केंद्र है। कुछ खास स्टार्टअप को ही "यूनिकॉर्न" का दर्जा मिल पाता है। ये असाधारण कंपनियां जिनकी कीमत 1 अरब डॉलर से ज़्यादा होती है, उद्यमशीलता की सफलता का सबसे ऊंचा मुकाम मानी जाती हैं।

भारत, जो देश युवाओं की ऊर्जा से भरपूर है और जहां स्टार्टअप का बाज़ार तेजी से बढ़ रहा है, वहां यूनिकॉर्न कंपनियों की संख्या लगातार बढ़ रही है। ये नई तकनीक वाली ताक़तवर कंपनियां ना सिर्फ भारत के अंदर उद्योगों और बाज़ारों का रूप बदल रही हैं, बल्कि दुनिया भर में अपनी पहचान बना रही हैं।

मई 2024 तक, भारत के पास दुनिया में तीसरे नंबर पर सबसे ज़्यादा यूनिकॉर्न कंपनियां हैं, जिनकी कुल कीमत 349.67 अरब डॉलर से भी ज़्यादा है। ये अरबों डॉलर वाली कंपनियां सिर्फ आर्थिक रूप से ताक़तवर नहीं हैं, बल्कि ये रोज़गार के नए अवसर पैदा कर रही हैं और भारतीय अर्थव्यवस्था को तेजी से आगे बढ़ा रही हैं।

यह लेख भारतीय यूनिकॉर्न कंपनियों की दिलचस्प दुनिया Interesting world of Indian unicorn companies में ले जाता है। हम इन कंपनियों के काम करने के अलग-अलग क्षेत्रों को देखेंगे, जिनमें फिनटेक और ई-कॉमर्स से लेकर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और पर्यावरण के अनुकूल समाधान शामिल हैं।

हम उन ज़बरदस्त समाधानों के बारे में जानेंगे जो ये कंपनियां पेश कर रही हैं, उन चुनौतियों के बारे में जिनका वे सामना कर रही हैं, और भारतीय समाज और अर्थव्यवस्था पर उनके गहरे प्रभाव के बारे में जानेंगे। भारत के भविष्य को आकार देने वाले इन इनोवेटिव लीडरों और नई पीढ़ी के उद्यमियों को प्रेरित करने वाले इन इनोवेटिव लीडरों से मिलने के लिए तैयार हो जाइए।

भारतीय स्टार्टअप्स की सफलता की कहानियाँ Success Stories of Indian Startups

स्टार्टअप यूनिकॉर्न कैसे बनती है? How does a startup become a unicorn?

यह सब उसकी कीमत पर निर्भर करता है। किसी स्टार्टअप की उम्र, उसका आकार या वह किस क्षेत्र में काम करती है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। सबसे ज़रूरी बात ये है कि शेयर बाजार में जाने से पहले उसकी कीमत 1 अरब डॉलर से ज्यादा हो जाए। यह कीमत आमतौर पर फंडिंग राउंड के दौरान तय होती है, जहां इन्वेस्टर कंपनी की क्षमता और उसके भविष्य के बारे में सोचकर पैसा लगाते हैं।

अरबों डॉलर वाली कंपनियों का उदय Rise of billion dollar companies

भले ही ये शब्द सबसे पहले अमेरिका में इस्तेमाल हुआ, लेकिन ये अरबों डॉलर वाली कंपनियां पूरी दुनिया में बन रही हैं। चीन, भारत और इजराइल जैसे देशों में भी ऐसी कंपनियों की संख्या बढ़ रही है। मई 2024 तक, भारत दुनिया में तीसरे नंबर पर है जहां सबसे ज्यादा यूनिकॉर्न कंपनियां हैं। यह भारत में उद्यमशीलता की बढ़ती भावना को दर्शाता है।

अरबों डॉलर वाली कंपनियां कैसे बनती हैं? How are billion dollar companies created? 

आखिर कौन सी चीज़ इन स्टार्टअप्स को खास बनाती है? आइए जानें इनकी कुछ खासियतों के बारे में:

इनोवेशन जो सब कुछ बदलकर रख दे: अक्सर यूनिकॉर्न कंपनियां पुरानी समस्याओं का हल नए तरीकों से निकालती हैं। वे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, ब्लॉकचेन या बिग डेटा जैसी नई टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर ऐसी चीज़ें बनाती हैं जो पूरे उद्योग को ही बदलकर रख देती हैं।

तेजी से बढ़ती हुई कंपनी: यूनिकॉर्न कंपनियां बहुत तेजी से तरक्की करती हैं। उनके यूजर्स, कमाई और बाजार में उनकी हिस्सेदारी बहुत कम समय में ही बहुत बढ़ जाती है। इतनी तेजी से बढ़ने से इन्वेस्टर्स का भरोसा मजबूत होता है और कंपनी यूनिकॉर्न बनने की तरफ बढ़ती है।

बाजार की ज़रूरतों को पूरा करना: ये कंपनियां बाजार की किसी बड़ी ज़रूरत को पूरा करती हैं। वे ऐसे प्रोडक्ट या सर्विस देती हैं जो उनके यूजर्स को बहुत पसंद आते हैं। बाजार की ज़रूरतों को पूरा करने से कंपनी का विकास लगातार होता रहता है और यूजर्स कंपनी के साथ जुड़े रहते हैं।

लाभिक नेतृत्व: हर सफल यूनिकॉर्न कंपनी के पीछे एक ऐसा दूरदर्शी लीडर होता है जो सबसे होनहार लोगों को अपनी कंपनी में ला सके और उन्हें बनाए रख सके। इन लीडर्स में रणनीति बनाने की सोच, काम को अच्छे से करने की जानकारी और अपनी टीम को प्रेरित करने की क्षमता होती है।

आकर्षक बिजनेस मॉडल: अक्सर यूनिकॉर्न कंपनियां इनोवेटिव बिजनेस मॉडल बनाती हैं जिनसे अच्छी कमाई होती है और कंपनी लंबे समय तक मुनाफा कमाती रहती है। ये मॉडल सब्सक्रिप्शन सेवाओं, फ्रीमियम मॉडल या कम दाम पर सर्विस देने की रणनीति पर आधारित हो सकते हैं।

सफल यूनिकॉर्न कंपनियों के कुछ उदाहरण Examples of successful unicorn companies

ये अरबों डॉलर वाली कंपनियां किसी एक क्षेत्र तक सीमित नहीं हैं। हम उन्हें हर तरह के उद्योगों में क्रांति लाते हुए देखते हैं, जिनमें शामिल हैं:

फिनटेक (Fintech): स्ट्राइप (वित्तीय सेवाओं का बुनियादी ढांचा) और रॉबिनहुड (बिना कमीशन के शेयरों का व्यापार) जैसी कंपनियों ने पारंपरिक वित्तीय क्षेत्र में बदलाव ला दिया है।

ई-कॉमर्स (E-commerce): अलीबाबा (ऑनलाइन मार्केटप्लेस) और जेडी.com (ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म) जैसी दिग्गज कंपनियों ने दुनिया भर में ऑनलाइन रिटेल को बदल दिया है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence): डीपमाइंड (आर्टिफिशियल जनरल इंटेलिजेंस पर ध्यान केंद्रित) और ओपनएआई (सुरक्षित आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के लिए प्रतिबद्ध) जैसी कंपनियां एआई शोध और विकास की सीमाओं को आगे बढ़ा रही हैं।

टिकाऊ समाधान (Sustainable Solutions): बियॉन्ड मीट (पौधों से बने मांस के विकल्प) और इम्पॉसिबल फूड्स (जानवरों के उत्पादों के लिए पौधों से बने विकल्प विकसित करना) जैसी उभरती हुई यूनिकॉर्न कंपनियां पर्यावरणीय चिंताओं को दूर कर रही हैं और खाद्य उद्योग में क्रांति ला रही हैं।

अरबों डॉलर वाली कंपनियों का प्रभाव Impact of billion dollar companies

अरबों डॉलर वाली कंपनियों का सिर्फ पैसा कमाने से ज्यादा असर होता है। ये कंपनियां कई क्षेत्रों में बदलाव लाती हैं:

इनोवेशन को बढ़ावा देना: ये कंपनियां नई खोज करने और नई टेक्नोलॉजी बनाने के लिए प्रेरित करती हैं। ये बिजनेस करने के पुराने तरीकों को भी बदल देती हैं।

रोजगार पैदा करना: ये कंपनियां बहुत तेजी से बढ़ती हैं और इनकी वजह से बहुत सारी नौकरियां पैदा होती हैं। इससे अर्थव्यवस्था मजबूत होती है और लोगों को रोजगार के ज्यादा अवसर मिलते हैं।

उद्यमशीलता को बढ़ावा देना: इन सफल कंपनियों की कहानियां युवाओं को अपना खुद का बिजनेस शुरू करने के लिए प्रेरित करती हैं।

पूरे उद्योग को बदलना: ये कंपनियां नई टेक्नोलॉजी और बिजनेस मॉडल लाकर पूरे उद्योगों को ही बदल सकती हैं।

टॉप भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स 2024 Top Indian Unicorn Startups 2024

1. इनमोबी InMobi: भारत का मोबाइल विज्ञापन दिग्गज 

इनमोबी के बारे में कुछ तथ्य Some facts about InMobi

इनमोबी की स्थापना Foundation of InMobi: 2007

स्थान: बेंगलुरु,

भारत क्षेत्र: एंटरप्राइज एप्लीकेशन, मोबाइल

इनमोबी के मुख्य निवेशक Major investors of InMobi: चिपइन, हरक्यूलिस कैपिटल

वार्षिक राजस्व (31 मार्च 2022 तक अनुमानित): $266 मिलियन मूल्यांकन (7 अगस्त 2014 तक): $1.5 बिलियन

InMobi मोबाइल विज्ञापन उद्योग में एक अग्रणी कंपनी है, जो विज्ञापनदाताओं और प्रकाशकों दोनों के लिए एक व्यापक प्लेटफॉर्म प्रदान करती है। 2007 में बेंगलुरु, भारत में स्थापित, InMobi ने इन-ऐप विज्ञापन और मोबाइल मुद्रीकरण के लिए अभिनव समाधान प्रदान करके अपने लिए एक खास जगह बनाई है।

मोबाइल विज्ञापन की ताकत को उजागर करना Unleashing the power of mobile advertising

InMobi का प्लेटफॉर्म विज्ञापनदाताओं को लक्षित और वैयक्तिकृत मोबाइल और वेबसाइट विज्ञापन अभियान शुरू करने का समर्थन करता है। वे जनसांख्यिकी, सामाजिक संबंधों, व्यवहार पैटर्न और रुचियों जैसे कारकों को ध्यान में रखते हुए "उपभोक्ता जीवन मानचित्र" बनाने के लिए परिष्कृत डेटा विश्लेषण का लाभ उठाते हैं। यह डेटा-संचालित दृष्टिकोण सुनिश्चित करता है कि विज्ञापन सबसे अधिक प्रासंगिक दर्शकों तक पहुँचें, जिससे अभियान की प्रभावशीलता अधिकतम हो।

हर जरूरत के लिए तैयार विज्ञापन समाधान Tailor-made advertising solutions for every need

InMobi विज्ञापनदाताओं को एक डिमांड-साइड प्लेटफॉर्म (DSP) की पेशकश करके उनकी विविध आवश्यकताओं को पूरा करता है। यह प्लेटफ़ॉर्म विज्ञापनदाताओं को अपने अभियानों को सटीकता के साथ तैयार करने की अनुमति देता है, ठीक उसी दर्शक वर्गों तक पहुँचने के लिए जो उनके विपणन लक्ष्यों के साथ सबसे अच्छा संरेखित हों। इसके अतिरिक्त, InMobi मूल और वीडियो विज्ञापन मुद्रीकरण रणनीतियों के माध्यम से प्रकाशकों को उनकी राजस्व धाराओं को अधिकतम करने में मदद करता है।

एक अग्रणी यूनिकॉर्न A pioneer unicorn

InMobi के अभिनव दृष्टिकोण और प्रभावशाली विकास प्रक्षेपवक्र को 2011 में मान्यता दी गई थी, जब यह प्रतिष्ठित "यूनिकॉर्न क्लब" में शामिल हुआ था। यह शब्द $1 बिलियन से अधिक मूल्यवान निजी तौर पर आयोजित स्टार्टअप को दर्शाता है, और InMobi की उपलब्धि ने भारतीय तकनीकी स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर चिह्नित किया।

InMobi की कहानी वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धा करने और कामयाब होने के लिए भारतीय स्टार्टअप की क्षमता का प्रमाण है। डेटा-संचालित विज्ञापन समाधानों पर ध्यान देने और नवाचार की प्रतिबद्धता के साथ, InMobi लगातार विकसित हो रहे मोबाइल विज्ञापन परिदृश्य में एक महत्वपूर्ण कंपनी बनी हुई है।

कृपया ध्यान दें: हालांकि वार्षिक राजस्व का आंकड़ा उपलब्ध आंकड़ों के आधार पर अनुमान है, InMobi ने अपनी नवीनतम वित्तीय जानकारी को सार्वजनिक रूप से प्रकट नहीं किया है।

2. फ्लिपकार्ट Flipkart: भारत में रिटेल बदलने वाला ई-कॉमर्स दिग्गज The e-commerce giant changing retail in India

फ्लिपकार्ट की सफलता पर प्रकाश डालने वाले मुख्य तथ्य Key facts highlighting the success of Flipkart:

स्थापना: 2007

स्थान: बेंगलुरु,

भारत क्षेत्र: उपभोक्ता, रिटेल

मुख्य निवेशक: गोल्डमैन सैक्स, कपलान ग्रुप इन्वेस्टमेंट्स

वार्षिक राजस्व (मार्च 31, 2023 तक): $6.98 बिलियन (अनुमानित)

मूल्यांकन (मार्च 17, 2024 तक): $35 बिलियन

कर्मचारी संख्या (29 फरवरी, 2024 तक): 6,910 (अनुमानित)

Flipkart भारत में एक जाना पहचाना नाम है, जो ऑनलाइन शॉपिंग का पर्याय बन गया है और खुदरा बाजार में क्रांति ला रहा है। सचिन बंसल और बिन्नी बंसल द्वारा 2007 में बैंगलोर, भारत में स्थापित, Flipkart एक साधारण ऑनलाइन किताबों की दुकान से एक बहु-श्रेणी वाली ई-कॉमर्स दिग्गज बन गई है।

ग्राहकों के लिए वन-स्टॉप शॉप One-stop shop for customers

Flipkart उपभोक्ताओं की विभिन्न आवश्यकताओं को पूरा करते हुए एक विशाल और विविध उत्पाद कैटलॉग प्रदान करता है। फैशन और इलेक्ट्रॉनिक्स से लेकर किराना सामान और घरेलू सामानों तक, Flipkart उपयोगकर्ताओं को उनके घरों के आराम से उत्पाद ब्राउज़ करने, तुलना करने और खरीदने के लिए एक सुविधाजनक मंच प्रदान करता है।

सुगम खरीदारी के लिए मोबाइल-फर्स्ट अप्रोच Mobile-first approach for easy shopping

भारत में मोबाइल की बढ़ती पैठ के महत्व को पहचानते हुए, Flipkart मोबाइल-पहले पहुंच को प्राथमिकता देता है। उनका उपयोगकर्ता-अनुकूल मोबाइल एप्लिकेशन, जो एंड्रॉइड और आईओएस उपकरणों के लिए उपलब्ध है, उपयोगकर्ताओं को चलते-फिरते खरीदारी करने की अनुमति देता है, जो ऑनलाइन खरीदारी के अनुभव को और सुव्यवस्थित करता है।

एक अग्रणी यूनिकॉर्न और उद्योग में अग्रणी A leading unicorn and pioneer in the industry

अगस्त 2012 में फ्लिपकार्ट की उल्लेखनीय विकास गति को स्वीकार किया गया था, जब यह प्रतिष्ठित "यूनिकॉर्न क्लब" में शामिल हुआ था, जो इसके $1 बिलियन से अधिक के मूल्यांकन का प्रतीक है। इस उपलब्धि ने फ्लिपकार्ट की भारतीय ई-कॉमर्स में अग्रणी शक्ति के रूप में स्थिति को मजबूत किया और क्षेत्र में अनगिनत अन्य स्टार्टअप्स को प्रेरित किया।

फ्लिपकार्ट की कहानी सिर्फ आंकड़ों से आगे निकल जाती है। कंपनी ने भारतीय उपभोक्ताओं, खासकर दूरदराज के इलाकों में रहने वालों के लिए उत्पादों की विशाल श्रृंखला तक पहुंच को लोकतांत्रिक बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसके अतिरिक्त, फ्लिपकार्ट ने अपने उत्पादों को प्रदर्शित करने और बेचने के लिए राष्ट्रीय मंच प्रदान करके अनगिनत छोटे और मध्यम व्यवसायों को सशक्त बनाया है। आगे देखते हुए, फ्लिपकार्ट अपने लगातार बढ़ते ग्राहक आधार के लिए और भी अधिक सुविधाजनक और व्यक्तिगत खरीदारी अनुभव प्रदान करने के लिए नवाचार और तकनीक का लाभ उठाते हुए, भारत में ई-कॉमर्स के भविष्य को आकार देने के लिए तैयार है।

Also Read: स्टार्टअप्स के लिए फंडिंग के 14 आसान तरीके

3. म्यू सिग्मा Mu Sigma: विजुअल डेटा एनालिटिक्स सर्विसेज Visual Data Analytics Platform

Mu Sigma के बारे में मुख्य तथ्य Key facts about Mu Sigma:

स्थापना: 2004 (नॉर्थब्रुक, संयुक्त राज्य अमेरिका;

भारत में महत्वपूर्ण कार्यों के साथ) क्षेत्र: एंटरप्राइज एप्लीकेशन

मुख्य निवेशक: आरसीएम टेक्नोलॉजीज, ब्राइटन पार्क

कैपिटल मूल्यांकन (28 फरवरी, 2013 तक): $1 बिलियन

कर्मचारियों की संख्या (31 दिसंबर, 2022 तक अनुमानित): 2,466

आज की डेटा-चालित दुनिया में, कंपनियां जानकारी के भंडार में डूबी हुई हैं। Mu Sigma एक सहारा के रूप में उभर कर सामने आती है, जो एक शक्तिशाली विज़ुअल डेटा एनालिटिक्स प्लेटफ़ॉर्म प्रदान करती है जो कंपनियों को उनके डेटा की वास्तविक क्षमता का उपयोग करने के लिए सशक्त बनाती है। 2004 में स्थापित, Mu Sigma ने खुद को एंटरप्राइज एनालिटिक्स क्षेत्र में एक अग्रणी के रूप में स्थापित किया है, जो विभिन्न उद्योगों के व्यवसायों को कार्रवाई योग्य अंतर्दृष्टि के आधार पर सूचित निर्णय लेने में मदद करता है।

डेटा को समझना: गड़बड़ी से स्पष्टता तक Understanding Data: From Confusion to Clarity

Mu Sigma का प्लेटफॉर्म केवल डेटा को इकट्ठा करने और संग्रहीत करने से आगे जाता है। यह डेटा इंजीनियरिंग, डेटा साइंस और निर्णय विज्ञान के लिए टूल्स का एक व्यापक सूट प्रदान करता है। यह उपयोगकर्ताओं को बड़ी मात्रा में डेटा का विश्लेषण करने, पैटर्न और रुझानों की पहचान करने और रणनीतिक निर्णय लेने को सूचित करने वाली अंतर्दृष्टि उत्पन्न करने की अनुमति देता है।

समझने के लिए एक दृश्य दृष्टिकोण

Mu Sigma की ताकत इसके उपयोगकर्ता के अनुकूल इंटरफेस में है जो जटिल डेटा को स्पष्ट और दृश्य रूप में प्रस्तुत करता है। यह गैर-तकनीकी उपयोगकर्ताओं को भी डेटा रुझानों को समझने और निर्णय लेने की प्रक्रिया में भाग लेने की अनुमति देता है।

डेटा-संचालित निर्णयों का समर्थन करने वाली यूनिकॉर्न कंपनी Unicorn company supporting data-driven decisions

डेटा-संचालित समाधानों के लिए Mu Sigma के समर्पण को फरवरी 2013 में मान्यता मिली थी, जब उसने यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल किया, जो $1 बिलियन से अधिक मूल्यवान स्टार्टअप के रैंक में शामिल हो गई। इस उपलब्धि ने एंटरप्राइज एनालिटिक्स के क्षेत्र में अग्रणी और डेटा-केंद्रित अन्य कंपनियों के लिए प्रेरणा के रूप में Mu Sigma की स्थिति को मजबूत किया।

Mu Sigma की कहानी अपनी प्रभावशाली तकनीक से आगे निकल जाती है। कंपनी ने व्यवसायों के भीतर डेटा-संचालित संस्कृति को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कंपनियों को डेटा की शक्ति का लाभ उठाने के लिए सशक्त बनाने के द्वारा, Mu Sigma ऐसे भविष्य को आकार देने में मदद कर रही है जहां निर्णय अंतर्ज्ञान से नहीं बल्कि जानकारी द्वारा निर्देशित होते हैं।

4. स्नैपडील Snapdeal: भारत में किफायती ई-कॉमर्स को नया रूप देना Reshaping affordable e-commerce in India

Snapdeal के  बारे में मुख्य तथ्य Key facts about Snapdeal::

स्थापना: 2010 (दिल्ली, भारत) क्षेत्र: उपभोक्ता, रिटेल मुख्य निवेशक: एक्विला कैपिटल, कोलमैन एंड कंपनी (पहले के निवेशकों में सॉफ्टबैंक शामिल है) वार्षिक राजस्व (31 मार्च, 2023 तक अनुमानित): $48.4 मिलियन मूल्यांकन (19 अगस्त, 2015 तक): $4.8 बिलियन कर्मचारियों की संख्या (31 अक्टूबर, 2023 तक अनुमानित): 371

स्नैपडील, जो कभी भारतीय ई-कॉमर्स बाजार में दबदबा बनाने वाली एक प्रमुख कंपनी थी, ने अपने लिए एक अलग पहचान बना ली है। 2010 में दिल्ली, भारत में स्थापित, Snapdeal एक बहु-श्रेणी ऑनलाइन मार्केटप्लेस के रूप में शुरू हुआ, जो फैशन परिधान और इलेक्ट्रॉनिक्स से लेकर घरेलू सामान और पालतू जानवरों की आपूर्ति तक विस्तृत उत्पाद कैटलॉग प्रदान करता है। हालांकि कंपनी का शुरुआती फोकस फ्लिपकार्ट जैसी दिग्गज कंपनियों जैसा ही था, स्नैपडील ने रणनीतिक रूप से अपना दृष्टिकोण बदलकर एक विशिष्ट बाजार खंड को पूरा करने पर ध्यान केंद्रित किया है: किफायती दामों में खरीदारी करने वाले ग्राहक।

बजट-पसंद करने वाले खरीदारों के लिए मूल्य प्रस्ताव Value proposition for budget-minded buyers

स्नैपडील ने भारतीय ई-कॉमर्स बाजार में एक अंतराल को पहचाना - किफायती दामों में गुणवत्तापूर्ण उत्पादों की तलाश करने वाले बजट-सचेत खरीदारों के लिए एक मंच की आवश्यकता। मूल्य पर यह फोकस भारतीय आबादी के एक महत्वपूर्ण हिस्से के साथ प्रतिध्वनित होता है, खासकर टियर 2 और टियर 3 शहरों में रहने वाले लोगों के लिए। Snapdeal छोटे विक्रेताओं और थोक विक्रेताओं के साथ रणनीतिक साझेदारी के माध्यम से इस मूल्य प्रस्ताव को प्राप्त करता है, जो विभिन्न प्रकार के उत्पादों पर प्रतिस्पर्धी मूल्य निर्धारण प्रदान करता है।

मोबाइल एक्सेसिबिलिटी: चलते-फिरते खरीदारी करें Mobile Accessibility: Shop on the go

अन्य प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनियों के समान, Snapdeal मोबाइल एक्सेसिबिलिटी को प्राथमिकता देता है। उनका उपयोगकर्ता के अनुकूल ऐप, जो एंड्रॉइड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है, उपयोगकर्ताओं को अपने स्मार्टफ़ोन से आसानी से उत्पाद ब्राउज़ करने, कीमतों की तुलना करने और सुरक्षित खरीदारी करने की अनुमति देता है। मोबाइल शॉपिंग पर यह फोकस भारत में चलते-फिरते ऑनलाइन शॉपिंग के बढ़ते चलन को पूरा करता है।

एक बदला हुआ यूनिकॉर्न: विकास से रणनीतिक विकास तक A changed unicorn: from growth to strategic development

Snapdeal भारतीय ई-कॉमर्स क्षेत्र में शुरुआती प्रवेशकों में से एक था, मई 2014 में यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल करने के बाद, $1 बिलियन से अधिक के मूल्यांकन का संकेत दिया। हालांकि, कंपनी को फ्लिपकार्ट और अमेज़न जैसे प्रतिद्वंद्वियों से कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ा। इससे Snapdeal को अपने दृष्टिकोण का रणनीतिक रूप से पुनर्मूल्यांकन करने के लिए प्रेरित किया, जो बाजार हिस्सेदारी के लिए आमने-सामने की लड़ाई से दूर होकर मूल्य खंड पर ध्यान केंद्रित करता है।

Snapdeal की कहानी भारत में ई-कॉमर्स परिदृश्य की गतिशील प्रकृति को उजागर करती है। एक विशिष्ट बाजार की जरूरत की पहचान करके और अपनी रणनीति को अपनाकर, Snapdeal ने प्रतिस्पर्धी ऑनलाइन रिटेल स्पेस में एक स्थायी स्थान बना लिया है। कंपनी मूल्य-सचेत

5. क्विकर Quikr: भारत में पहले से इस्तेमाल किए गए सामानों को नया जीवन देना Giving new life to pre-owned items in India

Quikr के बारे में मुख्य तथ्य Key facts about Quikr:

  • स्थापना: 2008 (बेंगलुरु, भारत)

  • क्षेत्र: उपभोक्ता, रिटेल

  • मुख्य निवेशक: वारबर्ग पिनकस, एनजीपी कैपिटल (पहले के निवेशकों में टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट शामिल)

  • वार्षिक राजस्व (31 मार्च, 2023 तक अनुमानित): $6.65 मिलियन

  • मूल्यांकन (19 फरवरी, 2020 तक): $566 मिलियन

  • कर्मचारियों की संख्या (31 अक्टूबर, 2023 तक अनुमानित): 396 (अनुमानित)

एक ऐसी दुनिया में जो तेजी से स्थिरता और mindful खपत पर केंद्रित है, Quikr भारत में पहले से इस्तेमाल किए गए सामानों को खरीदने और बेचने के लिए एक प्रमुख मंच के रूप में उभरा है। 2008 में बेंगलुरु में स्थापित, Quikr ने भारतीयों के सेकेंड हैंड उत्पादों को देखने के तरीके को बदल दिया है, जो विंटेज फर्नीचर और रेट्रो गेम्स से लेकर पहले से इस्तेमाल की गई कारों और इलेक्ट्रॉनिक्स तक हर चीज के लिए एक जीवंत ऑनलाइन मार्केटप्लेस बनाता है।

पहले से इस्तेमाल किए गए सामानों को दूसरा मौका देना Giving used items a second chance

Quikr उन उपभोक्ताओं के बढ़ते वर्ग को पूरा करता है जो पर्यावरण के प्रति जागरूक हैं और पहले से इस्तेमाल किए गए बाजार द्वारा दी जाने वाली affordability और अनोखी चीजों को महत्व देते हैं। उनका प्लेटफॉर्म उपयोगकर्ताओं को न सिर्फ खरीदने, बल्कि विभिन्न प्रकार के सेकेंड हैंड सामान बेचने, एक परिपत्र अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने और कचरे को कम करने में सक्षम बनाता है।

खरीदारों और विक्रेताओं के लिए एक सुविधाजनक मंच A convenient platform for buyers and sellers

Quikr सिर्फ खरीदारों और विक्रेताओं को जोड़ता नहीं है; यह एक सहज और सुविधाजनक लेनदेन प्रक्रिया को सुगम बनाता है। उपयोगकर्ता लिस्टिंग ब्राउज़ कर सकते हैं, सीधे विक्रेताओं के साथ चैट करके कीमतों पर बातचीत कर सकते हैं, अपने विज्ञापनों को प्रबंधित और संपादित कर सकते हैं, और अपने हितों के आधार पर व्यक्तिगत अलर्ट और सुझाव प्राप्त कर सकते हैं।

मोबाइल एक्सेसिबिलिटी: चलते-फिरते खरीदारी (या बिक्री) Mobile Accessibility: Buying (or selling) on the go

मोबाइल तकनीक के बढ़ते महत्व को पहचानते हुए, Quikr एंड्रॉइड और iOS दोनों प्लेटफॉर्म के लिए उपयोगकर्ता के अनुकूल एप्लिकेशन प्रदान करता है। यह उपयोगकर्ताओं को कभी भी, कहीं भी प्लेटफॉर्म तक पहुंचने, लिस्टिंग ब्राउज़ करने और खरीदारों या विक्रेताओं से जुड़ने की अनुमति देता है।

स्थिरता का समर्थन करने वाला यूनिकॉर्न Sustainability unicorn

अप्रैल 2015 में जब Quikr ने यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल किया, तो $1 बिलियन से अधिक मूल्यवान स्टार्टअप की श्रेणी में शामिल होकर, उपभोक्ता मॉडल को अधिक टिकाऊ बनाने के लिए अपने अभिनव दृष्टिकोण और प्रतिबद्धता को मान्यता दी गई। हालांकि बाद में Quikr के मूल्यांकन में समायोजन हुआ है, लेकिन भारतीय पहले से इस्तेमाल किए गए सामानों के बाजार पर इसका प्रभाव महत्वपूर्ण बना हुआ है।

Quikr की कहानी खपत के लिए अधिक टिकाऊ और संसाधन-जागरूक दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म की क्षमता को प्रदर्शित करती है। पहले से इस्तेमाल किए गए सामानों के लिए एक जीवंत बाजार की सुविधा देकर, Quikr न केवल व्यक्तियों को पैसे बचाने और अनूठी चीजें खोजने में मदद कर रहा है, बल्कि भारत में एक अधिक परिपत्र अर्थव्यवस्था में भी योगदान दे रहा है।

6. Paytm: भारत में भुगतान और वित्तीय सेवाओं में क्रांति लाना Paytm: Revolutionizing payments and financial services in India

Paytm के बारे में मुख्य तथ्य Key facts about Paytm:

  • स्थापना: 2010 (नोएडा, भारत)

  • क्षेत्र: उपभोक्ता, फिनटेक

  • मुख्य निवेशक: बर्कशायर हैथवे, टी. रोवे प्राइस (पहले के निवेशकों में अलीबाबा ग्रुप और सॉफ्टबैंक शामिल)

  • वार्षिक राजस्व (31 मार्च, 2023 तक अनुमानित): $1.05 बिलियन

  • मूल्यांकन (20 नवंबर, 2020 तक): $15.6 बिलियन

  • कर्मचारियों की संख्या (30 अप्रैल, 2024 तक अनुमानित): 53,644

Paytm सिर्फ एक डिजिटल वॉलेट से कहीं ज्यादा है; यह भारत में आपकी सभी वित्तीय जरूरतों के लिए एक-स्टॉप प्लेटफॉर्म है। 2010 में (2000 नहीं) नोएडा, भारत में स्थापित, Paytm सुविधाजनक और सुरक्षित डिजिटल भुगतान का पर्याय बन गया है। इसने मौलिक रूप से भारतीयों के अपने धन के प्रबंधन के तरीके को बदल दिया है, जो व्यक्तियों और व्यवसायों दोनों के लिए सेवाओं का एक व्यापक सूट प्रदान करता है।

मोबाइल रिचार्ज से आगे: एक वित्तीय पारिस्थितिकी तंत्र Beyond mobile recharge: a financial ecosystem

Paytm ने मोबाइल रिचार्ज को सरल बनाने से शुरुआत की थी, लेकिन इसका विजन इससे कहीं आगे बढ़ा। आज, प्लेटफॉर्म कई तरह की सेवाएं प्रदान करता है, जिनमें शामिल हैं:

  • धन हस्तांतरण और बिल भुगतान: Paytm उपयोगकर्ताओं को निर्बाध रूप से धन भेजने और प्राप्त करने का साथ ही साथ उपयोगिताओं, मोबाइल सदस्यता आदि के लिए परेशानी मुक्त बिल भुगतान की सुविधा देता है।

  • यात्रा और मनोरंजन बुकिंग: Paytm के उपयोगकर्ता के अनुकूल इंटरफेस के साथ फ्लाइट, होटल, मूवी टिकट और इवेंट टिकट बुक करना बहुत आसान है।

  • वित्तीय सेवाएं: Paytm एक पूर्ण वित्तीय सेवा प्रदाता के रूप में विस्तारित हो चुका है, जो बैंकिंग सेवाएं, क्रेडिट कार्ड, लोन और बीमा और म्यूचुअल फंड के लिए निवेश प्लेटफॉर्म प्रदान करता है।

  • ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म: Paytm Mall उपयोगकर्ताओं को इलेक्ट्रॉनिक्स और कपड़ों से लेकर किराना सामान और खिलौनों तक विस्तृत प्रोडक्ट रेंज के लिए खरीदारी करने की अनुमति देता है।

  • व्यावसायिक समाधान: Paytm बिलिंग सॉफ्टवेयर, पॉइंट-ऑफ-सेल (पीओएस) समाधान और वित्तीय प्रबंधन उपकरण प्रदान करके व्यवसायों को भी पूरा करता है।

मोबाइल को प्राथमिकता: सुविधा आपकी उंगलियों पर Mobile preferred: Convenience at your fingertips

Paytm मोबाइल एक्सेसिबिलिटी को प्राथमिकता देता है, जिसमें उपयोगकर्ता के अनुकूल एप्लिकेशन एंड्रॉइड और iOS दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध हैं। यह सुनिश्चित करता है कि उपयोगकर्ता अपने वित्त का उपयोग कर सकें, भुगतान कर सकें और अपने वित्तीय जीवन को सुविधाजनक रूप से, कभी भी और कहीं भी प्रबंधित कर सकें।

FinTech के क्षेत्र में अग्रणी यूनिकॉर्न Leading Unicorn in FinTech

वित्तीय समावेशन और नवाचार के लिए Paytm के समर्पण को सितंबर 2015 में मान्यता मिली थी, जब उसने यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल किया, भारत के फलते फिनटेक क्षेत्र में एक अग्रणी के रूप में अपनी स्थिति को मजबूत किया। हालांकि नवंबर 2020 के बाद से इसके मूल्यांकन में समायोजन हुआ है, भारतीय वित्तीय परिदृश्य पर Paytm का प्रभाव निर्विवाद है।

 7. ओला Ola: Revolutionizing urban transportation in India

ओला के बारे में मुख्य तथ्य Key facts about Ola:

  • स्थापना: 2010 (बेंगलुरु, भारत)

  • क्षेत्र: गिग इकॉनमी, उपभोक्ता

  • मुख्य निवेशक: सीआईएम फाइनेंस, अजारा एडवाइजर्स (पहले के निवेशकों में सॉफ्टबैंक विजन फंड और टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट शामिल)

  • वार्षिक राजस्व (31 मार्च, 2023 तक अनुमानित): $309 मिलियन

  • मूल्यांकन (06 फरवरी, 2024 तक): $1.9 बिलियन

  • कर्मचारियों की संख्या (31 जनवरी, 2024 तक अनुमानित): 916 (अनुमानित)

ओला सिर्फ एक राइड-हailing ऐप से कहीं ज्यादा है; यह सुविधा का एक सर्वव्यापी प्रतीक है और इसने भारत में शहरी परिवहन को बदल दिया है। 2010 में बेंगलुरु में स्थापित, ओला लाखों भारतीयों के लिए किफायती और सुविधाजनक परिवहन का जरिया बन गया है।

टैक्सियों से आगे: एक बहु-आयामी परिवहन नेटवर्क Beyond taxis: a multi-dimensional transportation network

टैक्सी बुकिंग पर ओला का शुरुआती फोकस जल्द ही विविध जरूरतों को पूरा करने के लिए विस्तारित हो गया। आज, प्लेटफॉर्म कई तरह के राइड विकल्प प्रदान करता है, जिनमें शामिल हैं:

  • कारें: उपयोगकर्ता बजट और यात्री आवश्यकताओं के आधार पर विभिन्न कार श्रेणियों में से चुन सकते हैं।

  • ऑटो-रिक्शा: कम दूरी के लिए सुविधाजनक और किफायती विकल्प, खासकर टियर 2 और टियर 3 शहरों में लोकप्रिय।

  • दोपहिया वाहन: ट्रैफिक वाले शहरी क्षेत्रों में घूमने के लिए आदर्श, खासकर एकल सवारियों के लिए।

सीधी बुकिंग के लिए उपयोगकर्ता के अनुकूल मोबाइल ऐप User friendly mobile app for direct booking

ओला अपने उपयोगकर्ता के अनुकूल मोबाइल एप्लिकेशन के साथ उपयोगकर्ता सुविधा को प्राथमिकता देता है, जो एंड्रॉइड और iOS दोनों डिवाइस पर उपलब्ध है। ऐप उपयोगकर्ताओं को आसानी से राइड बुक करने, वास्तविक समय में अपने ड्राइवर के स्थान को ट्रैक करने और विभिन्न भुगतान विकल्पों में से चुनने की अनुमति देता है।

परिवहन क्षेत्र में नवाचार और बदलाव के लिए ओला की प्रतिबद्धता को नवंबर 2015 में मान्यता मिली, जब यह प्रतिष्ठित "यूनिकॉर्न क्लब" में शामिल हो गया, जो $1 बिलियन से अधिक के मूल्यांकन का प्रतीक है। इस उपलब्धि ने भारत के राइड-हailing क्षेत्र में अग्रणी के रूप में और गतिशीलता पर केंद्रित अन्य स्टार्टअप के लिए प्रेरणा के रूप में ओला की स्थिति को मजबूत किया।

ओला की कहानी इसके तकनीकी नवाचार से आगे निकलती है। कंपनी ने अनगिनत व्यक्तियों को राइड-hailing पार्टनर के रूप में माइक्रो-एंटरप्रेन्योर्स बनने का समर्थन किया है, जो एक लचीला आय स्रोत प्रदान करता है और भारत में गिग इकॉनमी के विकास में योगदान देता है। आगे देखते हुए, ओला इलेक्ट्रिक वाहनों और स्वायत्त ड्राइविंग समाधान जैसी नई तकनीकों की खोज करके शहरी गतिशीलता के भविष्य को आकार देना जारी रखने के लिए तैयार है।

 8. शॉपक्लूज़ ShopClues: भारतीय ई-कॉमर्स बाजार का एक चमकता हुआ सितारा A shining star of the Indian e-commerce market

ShopClues के बारे में मुख्य तथ्य Key facts about ShopClues:

  • स्थापना: 2011 (गुरुग्राम, भारत)

  • क्षेत्र: उपभोक्ता, रिटेल

  • मुख्य निवेशक: जीआईसी, हीलियन वेंचर पार्टनर्स (पहले के निवेशकों में नेक्सस वेंचर पार्टनर्स शामिल)

  • वार्षिक राजस्व (31 मार्च, 2023 तक अनुमानित): $3.44 मिलियन

  • मूल्यांकन (02 नवंबर, 2019 तक): $1 बिलियन

  • कर्मचारियों की संख्या (31 अक्टूबर, 2023 तक अनुमानित): 185 (अनुमानित)

ShopClues, कभी भारतीय ई-कॉमर्स दिग्गजों के समूह में एक चमकता हुआ सितारा था। इसने प्रतिस्पर्धी कीमतों पर विशाल उत्पाद कैटलॉग प्रदान करके अपनी एक अलग पहचान बनाई। 2011 में गुरुग्राम (पूर्व में गुड़गांव) में स्थापित, ShopClues उस समय बाजार में आया जब भारत में ऑनलाइन रिटेल तेजी से बढ़ रहा था। इसने फैशन परिधान और इलेक्ट्रॉनिक्स से लेकर घरेलू सामान और खेल के सामानों तक कई तरह के उत्पादों की पेशकश की, जो व्यापक ग्राहक आधार को पूरा करते थे।

आसान खरीदारी के लिए मोबाइल पहले रणनीति Mobile first strategy for easy shopping

भारत में मोबाइल की बढ़ती पैठ को देखते हुए, ShopClues ने मोबाइल-फर्स्ट रणनीति को प्राथमिकता दी। उनके उपयोगकर्ता के अनुकूल ऐप, जो एंड्रॉइड और iOS दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध थे, उपयोगकर्ताओं को अपने स्मार्टफ़ोन से आसानी से उत्पाद ब्राउज़ करने, कीमतों की तुलना करने और खरीदारी करने की अनुमति देते थे। मोबाइल एक्सेसिबिलिटी पर यह फोकस भारत में अन्य प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनियों के दृष्टिकोण को दर्शाता है।

यूनिकॉर्न क्लब में अल्पकालिक यात्रा 

ShopClues ने जनवरी 2016 में यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल किया, जो इसकी प्रभावशाली विकास प्रक्षेपवक्र और $1 बिलियन से अधिक के मूल्यांकन का प्रमाण है। इस मील के पत्थर ने कंपनी की भारतीय ई-कॉमर्स में एक प्रमुख शक्ति बनने की क्षमता को दर्शाया। हालांकि, ShopClues को Flipkart और Amazon जैसे स्थापित खिलाड़ियों के साथ-साथ लॉजिस्टिक्स और ग्राहक सेवा में चुनौतियों का सामना करना पड़ा।

रणनीति में बदलाव और अधिग्रहण

ShopClues अपनी शुरुआती विकास गति को बनाए रखने में असमर्थ रहा और उसने अपनी रणनीति का पुनर्मूल्यांकन किया। कंपनी ने छोटे विक्रेताओं को आकर्षित करने और टियर 2 और टियर 3 शहरों को लक्षित करने पर ध्यान केंद्रित किया। इन प्रयासों के बावजूद, ShopClues को टिकाऊ बाजार हिस्सेदारी हासिल करने के लिए संघर्ष करना पड़ा। 2019 में, ShopClues को सिंगापुर स्थित ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म Qoo10 द्वारा एक शेयर डील में अधिग्रहित कर लिया गया, जिसने इसकी स्वतंत्र यात्रा को समाप्त कर दिया।

ShopClues की कहानी ई-कॉमर्स परिदृश्य की अत्यधिक प्रतिस्पर्धी प्रकृति की याद दिलाती है। हालांकि इसने शुरुआती सफलता और यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल किया, लेकिन कंपनी तीव्र प्रतिस्पर्धा और बदलते बाजार गतिशीलता के सामने अपनी गति बनाए रखने में असफल रही। हालांकि, टियर 2 और टियर 3 शहरों पर ध्यान देने के साथ, भारत में ई-कॉमर्स के विकास में ShopClues के योगदान को नहीं भुलाया जाना चाहिए।

9. हाइक Hike: मोबाइल गेमिंग में क्रांति ला रहा है भारत का यह ऐप 

Hike के बारे में मुख्य तथ्य:

  • स्थापना: 2012 (नई दिल्ली, भारत)

  • क्षेत्र: टेक्नोलॉजी, मोबाइल

  • प्रमुख निवेशक: सॉफ्टबैंक कैपिटल, फॉक्सकॉन इलेक्ट्रॉनिक्स

  • वार्षिक राजस्व (31 मार्च, 2023 तक अनुमानित): $18.8 मिलियन

  • मूल्यांकन (17 अगस्त, 2016 तक): $1.4 बिलियन

Hike सिर्फ एक और मैसेजिंग एप नहीं है बल्कि यह एक क्रांतिकारी प्लेटफॉर्म है जो भारत में मोबाइल गेमिंग की दुनिया को बदलने के लिए तैयार है। 2012 में नई दिल्ली में स्थापित, Hike ने सामाजिक संपर्क और मनोरंजन के लिए वन-स्टॉप शॉप बनने का लक्ष्य रखा है।

आइए देखें कि Hike को क्या खास बनाता है:

  • ब्लॉकचेन आधारित गेमिंग जगत: Hike का नजरिया सिर्फ मैसेजिंग से आगे का है। कंपनी "रश" नाम से एक मोबाइल-ओनली ब्लॉकचेन गेमिंग जगत बना रही है। यहां खिलाड़ी अपने कौशल का उपयोग कर सकते हैं, दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं और संभावित रूप से मूल्यवान पुरस्कार जीत सकते हैं। मोबाइल गेमिंग के इस इनोवेटिव तरीके में ब्लॉकचेन तकनीक का इस्तेमाल किया गया है, जो सुरक्षित और पारदर्शी लेनदेन के लिए जानी जाती है। इससे इन-गेम संपत्ति सत्यापित और संभावित रूप से खरीदी जा सकती है।

  • मैसेजिंग से परे एक सामाजिक केंद्र: दोस्तों और परिवार के साथ चैटिंग के लिए एक सुविधाजनक प्लेटफॉर्म प्रदान करने के साथ-साथ, Hike सिर्फ एक मैसेजिंग ऐप से कहीं ज्यादा बनने की ख्वाहिश रखता है। इसका लक्ष्य एक जीवंत सामाजिक केंद्र बनाना है जहां यूजर्स न केवल जुड़ सकें बल्कि कंटेंट शेयर कर सकें, गेमिंग जैसे इंटरैक्टिव अनुभवों में शामिल हो सकें और संभावित रूप से क्रिप्टोकरेंसी की दुनिया को भी explore कर सकें।

अगस्त 2016 में हाइक की क्षमता को तब पहचाना गया जब इसने यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल कर लिया, जो 1 बिलियन डॉलर से अधिक मूल्य वाले स्टार्टअप्स के विशिष्ट क्लब में शामिल हो गया। यह उपलब्धि इस बात का प्रतीक है कि Hike भारतीय मोबाइल टेक्नोलॉजी क्षेत्र में क्या प्रभाव डाल रहा है और गेमिंग और सामाजिक संपर्क के लिए इसके इनोवेटिव तरीके के बारे में उत्साह है।

10. ज़ोमैटो Zomato

Zomato के बारे में मुख्य बातें:

  • स्थापना: 2008 (गुरुग्राम, भारत)

  • क्षेत्र: टेक्नोलॉजी, फूड डिलीवरी

  • प्रमुख निवेशक: फिडेलिटी इन्वेस्टमेंट्स, टेमासेक

  • वार्षिक राजस्व (31 मार्च, 2023 तक अनुमानित): $967 मिलियन

  • कर्मचारियों की संख्या (31 मार्च, 2024 तक अनुमानित): 4,267

अब खाना ढूंढना और मंगवाना हुआ आसान! Zomato आपके आस-पास के रेस्टोरेंट खोजने और उनसे खाना मंगवाने का सबसे आसान तरीका है।

Zomato क्यों पसंद करते हैं भारतीय खाने के शौकीन:

  • अपने इलाके के रेस्टोरेंट खोजें: पॉपुलर रेस्टोरेंट चेन से लेकर अनोखे ढाबों तक, Zomato पर आपको हर तरह के रेस्टोरेंट की जानकारी मिलती है।

  • स्वादिष्ट खाना ऑनलाइन ऑर्डर करें: घर पर खाना बनाने का मन नहीं है? कोई बात नहीं! Zomato पर आप मेन्यू देख सकते हैं, सीधे ऐप से ऑर्डर दे सकते हैं और गरमागरम खाना सीधे अपने घर पर मंगवा सकते हैं।

  • सिर्फ ऑर्डर ही नहीं, और भी बहुत कुछ: Zomato सिर्फ खाना ऑर्डर करने का ही नहीं बल्कि रेस्टोरेंट के रिव्यूज़, रेटिंग्स और फोटोज़ देखने का भी विकल्प देता है ताकि आप सही फैसला ले सकें। साथ ही, टेबल रिजर्वेशन और रियल-टाइम ऑर्डर ट्रैकिंग जैसी सुविधाएं भी देता है।

Zomato ने भारत में खाने के तरीके को पूरी तरह बदल दिया है। अब आप घर बैठे ही अपने मनपसंद रेस्टोरेंट से स्वादिष्ट खाना मंगवा सकते हैं। फरवरी 2018 में Zomato यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हुआ, जिसने भारतीय टेक्नोलॉजी और फूड इंडस्ट्री में इसकी अग्रणी स्थिति को और मजबूत किया।

Zomato लगातार नई सुविधाएं लाकर और यूजर्स की जरूरतों को पूरा करके भोजन खोजने और मंगवाने के तरीके में बदलाव ला रहा है।

11. पेटीएम मॉल:Paytm Malll

Paytm Mall के बारे में मुख्य बातें:

  • स्थापना: 2017 (बेंगलुरु, भारत)

  • क्षेत्र: उपभोक्ता रिटेल

  • प्रमुख निवेशक: सफीर वेंचर्स, एसवीबी

  • वार्षिक राजस्व (31 मार्च, 2023 तक अनुमानित): $19.5 मिलियन

  • कर्मचारियों की संख्या (31 मार्च, 2024 तक अनुमानित): 137 (अनुमानित)

2017 में बेंगलुरु से शुरू हुआ Paytm Mall सिर्फ Paytm की सफलता को आगे बढ़ाने का जरिया नहीं था, बल्कि यह भारतीयों के ख़रीदारी करने के तरीके को बदलने की एक रणनीतिक पहल थी।

Paytm Mall ने ऑनलाइन शॉपिंग की दुनिया में कैसे अपनी जगह बनाई:

  • Paytm की ब्रांड पहचान का फायदा: Paytm Mall ने अपनी मूल कंपनी Paytm के बड़े यूजर बेस का फायदा उठाया। जानी-मानी ब्रांड होने की वजह से लोगों को Paytm Mall पर ऑनलाइन शॉपिंग करने में सहजता महसूस हुई और वे आसानी से अपने पहले से जुड़े पेमेंट तरीकों का इस्तेमाल कर सके।

  • एक क्लिक में शॉपिंग मॉल: Paytm Mall ने रोज़मर्रा की ज़रूरतों का सामान जैसे इलेक्ट्रॉनिक्स, कॉस्मेटिक्स, कपड़े, घर का सामान और यहां तक कि दोपहिया वाहन जैसी चीज़ों का व्यापक संग्रह पेश किया। इस तरह से एक ही जगह पर ढेर सारी चीज़ें मिलने से लोगों को अलग-अलग ऑनलाइन स्टोर्स पर जाने की ज़रूरत खत्म हो गई।

  • सुविधा और सुरक्षा: Paytm ऐप की तरह ही Paytm Mall ने भी यूजर-फ्रेंडली मोबाइल शॉपिंग अनुभव को प्राथमिकता दी। यह ऐप एंड्रॉयड और iOS दोनों डिवाइस पर उपलब्ध है। सुरक्षित पेमेंट गेटवे और तेज़ डिलीवरी सिस्टम ने भरोसेमंद और परेशानी मुक्त शॉपिंग का अनुभव सुनिश्चित किया।

हालांकि Paytm Mall को शुरुआत में अच्छी सफलता मिली, लेकिन भारत में ई-कॉमर्स का बाज़ार काफ़ी प्रतिस्पर्धात्मक है। मार्च 2018 में यूनिकॉर्न बनने के बावजूद कंपनी को पहले से स्थापित बड़े ऑनलाइन स्टोर्स और बदलती ग्राहक मांगों के हिसाब से खुद को ढालने में चुनौतियों का सामना करना पड़ा।

Paytm Mall की कहानी भारतीय ई-कॉमर्स उद्योग की गतिशील प्रकृति का उदाहरण है। हालिया बदलावों के बावजूद भारतीय उपभोक्ताओं के लिए ऑनलाइन शॉपिंग को सुविधाजनक और भरोसेमंद बनाने में इसका योगदान महत्वपूर्ण है।

12. स्विगी Swiggy

Swiggy के बारे में मुख्य बातें:

  • स्थापना: 2014 (बेंगलुरु, भारत)

  • क्षेत्र: टेक्नोलॉजी, फूड डिलीवरी

  • प्रमुख निवेशक: वेलिंगटन मैनेजमेंट ग्रुप, गोल्डमैन सैक्स

  • वार्षिक राजस्व (31 मार्च, 2023 तक अनुमानित): $1.09 बिलियन

  • कर्मचारियों की संख्या (31 मार्च, 2024 तक अनुमानित): 4,654 (अनुमानित)

Swiggy आज भारतीय खाने और किराने का सामान का पर्याय बन चुका है। 2014 में बेंगलुरु से शुरू हुए Swiggy ने लोगों के खाने का ऑर्डर करने और दैनिक ज़रूरतों को पूरा करने के तरीके में क्रांति ला दी है।

क्यों पसंद करते हैं भारतीय Swiggy को?

  • स्वादिष्ट खाने के ढेरों विकल्प: Swiggy लोकप्रिय रेस्टोरेंट चेन से लेकर आपके पसंदीदा स्थानीय रेस्टोरेंट तक, कई तरह के रेस्टोरेंट से खाना ऑर्डर करने की सुविधा देता है। आप कुछ ही क्लिक में नये व्यंजन खोज सकते हैं या अपने पसंदीदा खाने का ऑर्डर दे सकते हैं।

  • सिर्फ खाना ही नहीं, और भी बहुत कुछ: Swiggy सिर्फ खाना ही नहीं बल्कि किराने का सामान भी पहुंचाता है। Swiggy Instamart सर्विस के ज़रिए आप मिनटों में अपने दैनिक ज़रूरत का सामान घर बैठे मंगा सकते हैं। इससे आपका काफी समय बचता है।

  • खास तोहफे: Swiggy सिर्फ व्यक्तिगत तौर पर ही नहीं बल्कि कंपनियों को भी तोहफे भेजने में मदद करता है। कंपनियां अपने कर्मचारियों या ग्राहकों को Swiggy के ज़रिए खाने या अन्य चीज़ों के खास तोहफे भेज सकती हैं।

Swiggy सिर्फ सुविधा ही नहीं देता बल्कि रोज़गार भी देता है। Swiggy कई डिलीवरी पार्टनर्स के साथ काम करता है और उन्हें रोज़गार के अवसर प्रदान करता है। साथ ही, Swiggy रेस्टोरेंट के साथ साझेदारी करके उन्हें ज़्यादा ग्राहक और तरक्की के मौके देता है।

निरंतर नई चीज़ें लाने और बेहतर सर्विस देने की वजह से Swiggy को जून 2018 में यूनिकॉर्न का दर्जा मिला। तब से Swiggy लगातार तरक्की कर रहा है और भारत में फूड और किराना डिलीवरी का अग्रणी बन चुका है।

Swiggy की कहानी टेक्नोलॉजी की ताकत का उदाहरण है, जिसने हमारी रोज़मर्रा की ज़िंदगी को आसान बना दिया है। Swiggy यूजर-फ्रेंडली ऐप, कई तरह के विकल्प और सुविधा पर ध्यान देकर भारत में फूड और किराना डिलीवरी के भविष्य को बदल रहा है।