facebook-pixel
Coursera Image_2

नॉन-बायोडीग्रेडेबल वेस्ट क्या होता है?

Share Us

806
नॉन-बायोडीग्रेडेबल वेस्ट क्या होता है?
15 Mar 2022
5 min read
TWN Opinion

Post Highlight

नॉन-बायोडिग्रेडेबलवेस्ट वह कचरा होता है, जो बहुत अधिक समय तक पृथ्वी पर रहता है, आसानी से प्रकृति में नहीं मिलता है और प्रकृति को नुकसान पहुंचाता है। चाहे हम कैसे भी नॉन-बायोडिग्रेडेबल वेस्ट का डिस्पोजल करें, इसकी वजह से पर्यावरण पर बुरा असर पड़ता ही है।

Podcast

Continue Reading..

वेस्ट waste उस चीज़ को कहते हैं जिसका हम और उपयोग नहीं कर सकते हैं और जो हमारे काम का ना रह गया हो। मनुष्य आज जितने भी काम कर रहा है उन सभी कामों से वेस्ट का उत्पादन भी होता है। यूनिसेफ के अनुसार, सॉलिड वेस्ट solid waste 2 तरह के होते हैं-

  • नॉन- बायोडिग्रेडेबल वेस्ट Non-biodegradable waste 
  • बायोडिग्रेडेबल वेस्ट Biodegradable waste

जो वेस्ट पर्यावरण को बिलकुल भी नुकसान नहीं पहुंचाता है और बहुत आसानी से प्रकृति में मिलकर नष्ट हो जाता है, उसे बायोडिग्रेडेबल वेस्ट कहते हैं। जैसे- सब्जियों और फलों के छिलके, पेपर वेस्ट paper waste, जंतुओं के अपशिष्ट Animal waste, कृषि वेस्ट agricultural waste आदि। वहीं दूसरी ओर नॉन-बायोडिग्रेडेबल वेस्ट, बायोडिग्रेडेबल वेस्ट से अलग होता है। आप कह सकते हैं कि यह खतरनाक कचरा है, जिससे पृथ्वी को खतरा है। जैसे- प्लास्टिक plastic, मेटल metal, बैटरीज batteries, कार्बन पेपर carbon paper, मेडिकल वेस्ट medical waste, थर्मोकोल, टेट्रा पैक्स, ग्लास, आदि।

नॉन-बायोडिग्रेडेबल वेस्ट वह कचरा होता है, जो बहुत अधिक समय तक पृथ्वी पर रहता है, आसानी से प्रकृति में नहीं मिलता है और प्रकृति को नुकसान पहुंचाता है। दरअसल, प्रकृति में जितने भी सूक्ष्मजीव microorganisms हैं, वे इन कचरों को छोटे पदार्थों में तोड़ नहीं पाते हैं इसीलिए ये लंबे समय तक ज्यों के त्यों बने रहते हैं। उसके बाद यही वेस्ट हवा, मिट्टी और पानी में मिलकर जीव-जंतुओं को नुकसान पहुंचाते हैं। 

नॉन-बायोडिग्रेडेबल वेस्ट को भी 2 भागों में बांटा गया है। 

  • रीसाइक्लेबल वेस्ट Recyclable waste : ऐसे वेस्ट जिन्हें रीसायकल कर सकते हैं।
  • नॉन- रीसाइक्लेबल वेस्ट Non- recyclable waste : ऐसे नॉन-बायोडिग्रेडेबल वेस्ट जिन्हें रीसायकल नहीं कर सकते हैं।

दरअसल, जिन नॉन-बायोडिग्रेडेबल वेस्ट को रीसाइल कर सकते हैं, उनका एक आर्थिक मूल्य होता है लेकिन फिर भी लोग इस्तेमाल हो जाने पर उसे फेंक देते हैं। इन वेस्ट को रीसायकल recycle करके इनका पुनः उपयोग किया जा सकता है। जैसे- प्लास्टिक, पेपर आदि। वहीं दूसरी ओर जिन कचरों का कोई उपयोगिता मूल्य नहीं होता है, उन्हें रीसायकल नहीं किया जाता है। जैसे- थर्मोकोल, टेट्रा पैक्स, मेडिकल वेस्ट, और कार्बन पेपर आदि। यही वेस्ट पृथ्वी पर इक्कठा होते रहता है और वायुं, जल और मृदा प्रदूषण soil pollution का कारण बनता है। इतना ही नहीं, कई नॉन-बायोडिग्रेडेबल वेस्ट तो माइक्रोप्लास्टिक microplastics और गैस के रूप में हवा, पानी और ज़मीन में मिल जाते हैं और जीव-जंतुओं के शरीर में प्रवेश करके उन्हें हानि पहुंचाते हैं। यही कारण है कि आज कम उम्र में ही लोगों को गंभीर बीमारियां हो जाती हैं। 

अगर इन प्रोडक्ट्स का आप समझदारी से डिस्पोजल करते हैं तो इस समस्या को कम किया जाता सकता है। समझदारी तो इसी में है कि इन्हें कम से कम इस्तेमाल किया जाए ताकि नॉन-बायोडिग्रेडेबल वेस्ट कम से कम प्रॉड्यूस हो। नॉन बायोडिग्रेडेबल वेस्ट बिलकुल भी इको-फ्रेंडली Eco-friendly नहीं होते हैं इसीलिए ऐसे प्रोडक्ट का इस्तेमाल करें, जो पर्यावरण के अनुकूल हो और जिसे रीसायकल किया जा सके। दुनिया भर में कई अरब टन वेस्ट प्रोड्यूस होता है। घर, इंडस्ट्रीज, एग्रीकल्चर, आदि चीज़ों से वेस्ट प्रोड्यूस होता है इसीलिए ये सिर्फ गवर्नमेंट की ही नहीं बल्कि हम सबकी जिम्मेदारी है कि ऐसी चीज़ों का इस्तेमाल कम करें जिससे पर्यावरण को किसी भी तरह का खतरा हो। 

नॉन- बायोडिग्रेडेबल वेस्ट का डिस्पोजल कैसे होता है?

1. रीसायकल करना

जो नॉन-बायोडिग्रेडेबल वेस्ट रीसायकल करने योग्य होता है, उसे रीसायकल करने के लिए भेज दिया जाता है। रीसायकल होने के बाद वही वेस्ट एक उपयोगी मैटेरियल में बदल दिया जाता है, जिसका हम फिर से इस्तेमाल करते हैं। दरअसल, पॉलीमर्स को और बेहतरीन बनाने के लिए उसमें कई पदार्थ मिलाए जाते हैं इसीलिए अब रीसायकल करने का प्रोसेस भी पहले से कठिन हो गया है।

2. कचरे को जलाना

जो नॉन-बायोडिग्रेडेबल वेस्ट रीसायकल करने योग्य नहीं होता है उसे जला दिया जाता है। इन कचरों को जलाने की वजह से कई खतरनाक गैसें हवा में मिलती हैं और उसे दूषित करती हैं। 

चाहे हम कैसे भी नॉन-बायोडीग्रेडेबल वेस्ट का डिस्पोजल करें, इसकी वजह से पर्यावरण पर बुरा असर पड़ता ही है इसलिए एक ज़िम्मेदार व्यक्ति होने के नाते हम सभी का यह कर्तव्य बनता है कि हम कम से कम नॉन-बायोडीग्रेडेबल वस्तुओं का उपयोग करें।

नॉन बायोडिग्रेडेबल वेस्ट को कम करने के 3 तरीके हैं-

  • रिड्यूस Reduce
  • रियूज Reuse
  • रीसायकल Recycle

#NonBiodegradableWaste #BiodegradableWaste #SolidWaste #WasteManagementSystem

Think with Niche पर आपके लिए और रोचक विषयों पर लेख उपलब्ध हैं एक अन्य लेख को पढ़ने के लिए कृपया नीचे  दिए लिंक पर क्लिक करे-

जैव विविधता BIODIVERSITY क्या है ?

https://www.author.thinkwithniche.com/allimages/project/thumb_da07cwhat-is-biodiversity.jpg