सत्य नडेला से सीखें जीवन का सबक

Share Us

1887
सत्य नडेला से सीखें जीवन का सबक
09 Feb 2023
8 min read

Blog Post

शायद ही आज कोई ऐसा होगा जो माइक्रोसॉफ्ट कंपनी को ऊंचाइयों पर ले जाने वाले सत्य नडेला Satya Nadella को नहीं जानता होगा। सत्य नारायण नडेला माइक्रोसॉफ्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) CEO हैं, जो पर्सनल कंप्यूटर सॉफ्टवेयर सिस्टम personal computer software system और एप्लिकेशन के अग्रणी डेवलपर हैं। आज टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री में सबसे जानी पहचानी हस्ती में से एक हैं सत्य नडेला। माइक्रोसॉफ्ट Microsoft की पावर और बागडोर इनके हाथ में है और माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का आज जो नाम है वो सत्य नडेला की वजह से ही है। सत्य नडेला का नाम उन महान व्यक्तित्वों में से गिना जाता है जो आज कई युवाओं के लिए एक जीवित प्रेरणा है। सत्य नडेला को माइक्रोसॉफ्ट कंपनी को आगे बढ़ाने का पूरा श्रेय जाता है। ये तो हम सब जानते हैं कि जीवन में सफलता इतनी आसानी से नहीं मिलती है इसके लिए आपको निरंतर मेहनत करनी पड़ती है। ऐसे ही सत्य नडेला भी हैं जिन्होंने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी में एंट्री-लेवल इंजीनियरिंग की नौकरी की और फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। अपने परिश्रम के बल पर ही उन्होंने एक इंजीनियर से माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ बनने तक का सफर तय किया है। इनकी गिनती दुनिया के शीर्ष सीईओ में की जाती है और हम सबको इन पर गर्व है। सत्य नडेला के प्रेरणादायी जीवन से हम बहुत कुछ सीख सकते हैं। उनके करियर और उनके जीवन में कई ऐसी चीजें हैं जिन्हें हम अपने जीवन में एक सबक के रूप में ले सकते हैं। 

हर व्यक्ति अपनी जिंदगी में सफलता के ऊंचे पायदान पर पहुँचने का सपना जरूर देखता है लेकिन इनमे से कुछ लोग ही भाग्यशाली होते हैं जो वास्तव में असल जिंदगी मे अपनी मंजिल तक पहुँच पाते हैं। क्योंकि उनके अंदर जुनून passion और दृढ़ता perseverance की कोई कमी नहीं होती है। उनका संपूर्ण जीवन लोगों के लिए एक प्रेरणा की तरह होता है और हम और आप उनके जीवन से बहुत कुछ सीखते हैं। इसी तरह सत्य नडेला Satya Nadella से हम जीवन का सबक सीख सकते हैं। क्योंकि सत्य नडेला हमारे लिए और पूरी दुनिया के लिए एक मिसाल बन गए हैं। उनका परचम आज पूरे विश्व में लहरा रहा है। सत्य नडेला ने भारत का नाम रोशन करने के साथ-साथ पूरे विश्व में आज एक अलग मुक़ाम हासिल किया है। तो चलिए आज सत्य नडेला से और उनके जीवन से कुछ सबक सीखते हैं। ये कुछ ऐसे सबक हैं यदि हम इन्हें अपने जीवन में शामिल करें तो हम और आप भी सफलता की उन ऊँचाइयों को छू सकते हैं जहाँ पहुँचने की हर किसी की ख्वाहिश होती है। सबसे पहले जानते हैं सत्य नडेला के बारे में और फिर उनके जीवन से जुड़ी चीज़ों से कुछ सबक लेंगे और कुछ बेहतरीन सीखने की कोशिश करेंगे। 

सत्य नडेला के जीवन से जुड़ी कुछ बातें 

सत्य नारायण नडेला Satya Narayan Nadella का जन्म 19 अगस्त 1967 को हुआ है। सत्य का जन्म अनंतपुर जिले के एक तेलगु परिवार में हुआ था, जो हैदराबाद, आंध्र प्रदेश, Hyderabad, Andhra Pradesh भारत में है। सत्य के परिवार का बैकग्राउंड (Background ) काफी शिक्षित था। सत्य नडेला के पिता भारतीय प्रशासनिक सेवा में एक सिविल सेवक के रूप में कार्य करते थे। सत्य ने स्कूली शिक्षा बेगमपेट के हैदराबाद पब्लिक स्कूल से पूरी की है। उन्होंने वर्ष 1988 में कर्नाटक के मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी Manipal Institute of Technology, Karnataka से इलेक्ट्रिकल इंजिनियरिंग में बीटेक किया है। फिर विस्कॉन्सिन-मिल्वौकी विश्वविद्यालय से M.S डिग्री लेने के लिए नडेला U.S आये और कंप्यूटर विज्ञान computer science में 1990 में अपनी डिग्री प्राप्त की। कंप्यूटर साइंस में मास्टर्स पूरा करने के कुछ समय बाद उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट में अपना बड़ा ब्रेक पाने से पहले सन माइक्रोसिस्टम्स में टेक टीम के सदस्य के रूप में काम किया। 

4 फरवरी 2014 को, नडेला को माइक्रोसॉफ्ट के नए सीईओ Microsoft CEO के रूप में घोषित किया गया था, जो बिल गेट्स और स्टीव बाल्मर Steve Ballmer के बाद कंपनी के इतिहास में तीसरे सीईओ थे। अपनी मेहनत के दम पर ही उन्होंने एक इंजीनियर से माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ बनने तक का सफर तय किया है। सत्य नारायण नडेला पर्सनल कंप्यूटर सॉफ्टवेयर सिस्टम personal computer software system और एप्लिकेशन के अग्रणी डेवलपर हैं। 2014 में, माइक्रोसॉफ्ट के साथ नडेला का पहला अधिग्रहण Mojang का था, जो एक स्वीडिश गेम कंपनी थी, जिसे कंप्यूटर गेम Minecraft के लिए $2.5 बिलियन में जाना जाता था। उसके बाद उन्होंने एक अज्ञात राशि में ज़ामरीन को खरीदा। उन्होंने 2016 में 26.2 बिलियन डॉलर (26.20 अरब INR) में पेशेवर नेटवर्क लिंक्डइन की खरीद का निरीक्षण किया। 26 अक्टूबर 2018 को, माइक्रोसॉफ्ट ने 7.5 बिलियन अमेरिकी डॉलर (750 करोड़) में गिटहब GitHub का अधिग्रहण किया। 

माइक्रोसॉफ्ट में, नडेला ने प्रमुख परियोजनाओं का नेतृत्व किया है जिसमें क्लाउड कंप्यूटिंग Cloud Computing के लिए कंपनी का कदम और दुनिया के सबसे बड़े क्लाउड इन्फ्रास्ट्रक्चर में से एक का विकास शामिल है। सत्य नडेला अपने हुनर और टैलेंट के दम पर दुनिया में अपना सिक्का अच्छी तरह जगह जमा चुके हैं। सत्य नडेला Satya Nadella आज टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री technology industry में सबसे महान व्यक्तित्वों में से एक और कई युवाओं के लिए एक मोटिवेशन motivation हैं। आज का युवा सत्य नडेला के करियर और उनके महान जीवन से बहुत अच्छी सीख ले सकता है। तो चलिए सत्य नडेला के असाधारण जीवन से कुछ बातों को सीखकर अपने जीवन में अपनाने की कोशिश करते हैं। 

सत्य नडेला से सीखें जीवन का सबक Learn life lessons from Satya Nadella

हमेशा दिमाग में एक विजन रखना और जोखिम उठाना Having a vision in mind and taking risks

परेशानियां हर किसी के जीवन में आती हैं लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि आप दुबारा से कोशिश ही न करो। परेशानी के समय भी सत्य नडेला ने साहसिक निर्णय लिए। सत्य नडेला की तरह अपना लक्ष्य बना लो और उस पर अडिग रहो। हमेशा दिमाग में एक विजन रखें। सत्य नाडेला के जो भी निर्णय होते हैं वे सभी एक संगठनात्मक उद्देश्य की स्पष्ट समझ पर आधारित होते हैं। सत्य ने नए डोमेन में संसाधनों का निवेश करके बाजार में जोखिम उठाया, जो कि पहले माइक्रोसॉफ्ट से अछूते थे जैसे-लैपटॉप और माइक्रोसॉफ्ट आउटलुक जैसे मोबाइल एप्लिकेशन का उत्पादन करना आदि। इस तरह से Microsoft जहाँ मार्केट में अपनी पकड़ खो रहा था ऐसा करने पर उसे मार्केट में अपनी जगह बनाने में कामयाबी मिली। 

मेहनत करते रहना और नयी चीज़ें सीखना Keep working hard and learn new things

सत्य नडेला ने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी microsoft company में एंट्री-लेवल इंजीनियरिंग की नौकरी की और फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। अपने परिश्रम और बुद्धि के बल पर ही उन्होंने एक इंजीनियर से माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ बनने तक का सफर तय किया है। सीईओ की पोजीशन तक पहुँचने के लिए न जाने कितनी परेशानियां उनकी राह में आयी होंगी लेकिन उनका मकसद सिर्फ और सिर्फ सफलता के ऊँचे पायदान पर खड़ा होना था। सत्य नडेला हमेशा नयी-नयी चीज़ें सीखते हैं और उनकी ये चाह कभी खत्म नहीं होती है। उनकी इसी चाहत ने माइक्रोसॉफ्ट को इस शिखर तक पहुंचाया है। सत्य नडेला का कहना है कि मैं नयी-नयी चीज़ें सीखने का भूखा हूं। मैं चाहता हूँ कि मैं अधिक से अधिक सीखूं और फिर दुनिया को कुछ नया दूँ। 

अच्छी टीम को सर्वोपरि मानते हैं Good team is paramount

सत्य नडेला का मानना है कि यदि आपके पास अच्छी टीम है तो आप एक अच्छा मुक़ाम हासिल कर सकते हैं। एक प्रभावी संगठन के लिए अच्छी टीम बेहद का होना बेहद जरुरी है। क्योंकि यदि आपके पास अच्छी टीम नहीं है तो वो टीम आपके संगठन या कंपनी के प्रदर्शन में बाधा डाल सकती है। इसलिए कार्यों को प्रभावी तरीके से करने के लिए अच्छी टीम का चयन करना आवश्यक है अन्यथा वह आपके कार्यों को अच्छे से आगे बढ़ने में रुकावट पैदा कर सकती है। 

किताबों से है प्रेम Love of books

सत्य नडेला जिससे सबसे अधिक प्यार करते हैं वो हैं किताबें इसलिए आप भी यदि सत्य नडेला की तरह बनना चाहते हैं तो किताबों से प्रेम करना सीखें। किताबें आपको जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती हैं। ये आपके लिए मोटिवेशन का काम करती हैं। सत्य नडेला कहते हैं कि “मैं जितनी किताब पढ़ पाता हूं, उससे अधिक ख़रीदता हूं। इसके अलावा जितने ऑनलाइन कोर्स कर पाता हूं, उससे कही अधिक के लिए बुकिंग कर लेता हूं। वो कहते हैं मेरा विश्वास है कि अगर हम नई चीज़े नहीं सीखेंगे तो हम नया काम भी नहीं कर पाएंगे इसलिए आपके अंदर हमेशा कुछ नया करने का जज्बा होना चाहिए। 

Also Read: अपनी कंपनी में Apply करें रतन टाटा के 5 व्यावसायिक सबक

जीवन में सहानुभूति रखें Be empathetic in life

हमारे पास भले ही कितनी अपार संपत्ति क्यो न हो जब तक हमारे मन में किसी के प्रति प्रेम की भावना नहीं है तो सब व्यर्थ है। जब कोई दुखी हो तो उसे सांत्वना दे, उसके प्रति सहानुभूति रखें। यदि हम ऐसा करते हैं तो तब हमारे प्रति लोगों का सम्मान बढ़ जाता है। सहानुभूति का अर्थ है दूसरों के अनुभवों की अनुभूति करना। किसी को प्रसन्न देखकर स्वयं प्रसन्न होना सहानुभूति का एक रूप है। जब हम दूसरे के दुख से स्वयं दुखी होकर उसके प्रति दया का भाव अभिव्यक्त करते हैं तो यही सहानुभूति है। सत्य नडेला कहते हैं कि अपने जीवन में बाद में और उन्हें अधिक व्यक्तिगत स्तर पर सहानुभूति सीखने को मिली। तब वो समझ पाये कि सहानुभूति कितनी जरुरी है जब उन्होंने अपने खुद अपने बच्चे जैन को विकलांगों सा पीड़ित देखा और आज जैन अपनी बीमारी के साथ इस दुनिया से अलविदा ले चुके हैं।