facebook-pixel

जानिए क्या है भारत का इतिहास

Share Us

216
जानिए क्या है भारत का इतिहास
15 Jul 2022
7 min read
TWN In-Focus

Post Highlight

भारत का इतिहास (Indian History) भारत के संस्कृति के तरह ही समृद्ध है एक ओर जहाँ भारत का इतिहास शूरवीरो और देशभक्तो (Knights And Patriots) से भरा हुआ है, वही दूसरी ओर यह चालाकी, कूटनीति, युद्ध (Cunning, Diplomacy, War), और दर्द की गवाही देता है भारत में कई ऐसी ऐतिहासिक घटनाएं घटित हुई हैं, और सिंधु और हिन्दू इन दोनों के संयोजन से आज हम भारत को हिंदुस्तान के नाम से भी जानते हैं।भारत देश शांतिप्रिय देश है, यहाँ प्रेम की नदियां बहती हैं। जिनके बारे में आप शायद नहीं जानते होंगे, जिसके बारे में जानकर आप भी हैरान हो जाएंगे उन्हीं ऐतिहासिक तथ्यों के बारे में हम आज आपको इस ब्लॉग में बताएंगे।

Podcast

Continue Reading..

भारत देश का इतिहास( History Of India)  बहुत ही रोमांचक है। इस देश की विविधता में एकता का जीता-जागता उदाहरण हैं। भारतीय इतिहास की शुरुआत उसके नाम से होती है, अंग्रेजी में भारत को इंडिया (India) के नाम से जाना जाता है, जो इंडस नदी (Indus River) से बना है। जिसके आस-पास की घाटी में आरंभिक सभ्यताएं निवास करती थीं। आर्य समाज (Arya Samaj) नें इंडस नदी को सिंधु कहा, वहीं ईरान से आए आक्रमणकारियों ने सिंधु नदी को हिन्दू नदी कहा। मानव के उदय से लेकर दसवीं सदी तक के भारत का इतिहास को प्राचीन भारत (In Ancient India) कहा जाता है। 

भारत का इतिहास और संस्कृति मानव सभ्यता (Culture Human Civilization) के शुरुआती काल तक जाता हुआ, गतिशील रहा है यह सिंधु नदी (Indus River) के किनारे और भारत की दक्षिणी भूमि में कृषक समुदायों (Farming Communities) के साथ एक रहस्यमय संस्कृति (Mystical Culture) से प्रारंभ होता है प्राचीन समय में, दुनिया भर के लोग भारत आने के इच्छुक थे ईरानियों और पारसियों के बाद फारसी भारत में आ गए फिर मुगल आए और वे भी भारत में स्थायी रूप से बस गए मंगोलियाई चंगेज़ खान (Mongolian Genghis Khan) ने भारत पर अनेक बार आक्रमण किया और लूटपाट की महान सिकंदर भी, भारत को जीतने के लिए आये थे लेकिन भारत तक आकर वापस लौट गया, यद्यपि लोग इसके पीछे अलग - अलग कारण बताते है शुरूआती दौर में भारत में कुशल राजा राज्य करते थे मध्यकालीन भारतीय इतिहास (Medieval Indian History) उन तथाकथित स्वदेशी शासकों के अधीन लगभग तीन संपूर्ण सदियों तक चला, जिसमें चालुक्य, पल्लव, पांड्य, राष्ट्रकूट, मुस्लिम शासक (Chalukyas, Pallavas, Pandyas, Rashtrakutas, Muslim rulers) और आखिर में मुगल साम्रज्य (Mughal Empire) रहा। 

भारत के ऐतिहासिक तथ्य Historical Facts of India

भारत में सभ्यता तथा विकास का दौर 8 हजार वर्ष पहले ही  शुरू हो गया था जब कई संस्कृतियों में 5000 साल पहले लोग घुमंतू वनवासी थे, तब भारत में सिंधु घाटी (Indus Valley Civilization) में हड़प्पा संस्कृति (Harappan Culture)  की शुरुआत हो गया था

  • भारत का अंग्रेजी में नाम ‘इंडिया’ इं‍डस नदी से उत्पन्न हुआ है, जिसके आसपास की घाटी में आरंभिक सभ्‍यताएं निवास करती थीं आर्य पूजकों (Aryan worshipers) में इस इंडस नदी को सिंधु नाम दिया गया था। 

  • ईरान से आए आक्रमणकारियों (invaders) ने सिंधु को हिन्दू की तरह प्रयोग किया ‘हिंदुस्तान’ नाम सिंधु और हिंदु का संयोजन है, जो कि हिंदुओं की भूमि के संदर्भ में प्रयुक्त होता है। 

  • दुनिया का पहला विश्वविद्यालय भारत में शुरू हुआ था, जिसे तक्षशिला विश्वविद्यालय के नाम से जाना जाता था इसे लगभग 700 ईसा पूर्व स्थापित किया गया था। 

  • भारत की ओर से चांद पर कदम रखने वाले पहले भारतीय राकेश शर्मा थे वह 3 अप्रैल 1984 को चांद पर पहुंचे थे। 

  • भारत का पहला राकेट साइकिल (India's First Rocket Cycle) पे ले जाया गया था, और आज भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो (Indian Space Agency ISRO) दुनिया के जाने माने अंतरिक्ष एजेंसियो में से एक है। 

  • शतरंज की खोज भारत में की गई थी। 

  • भारत की सबसे पुरानी और सबसे समृद्ध भाषा संस्कृत दुनिया की सभी भाषाओं की जननी है। 

  • ऋग्वेद, यजुर्वेद, अथर्ववेद और सामवेद विश्व (Rigveda, Yajurveda, Atharvaveda and Samaveda) के सबसे प्राचीन धार्मिक ग्रंथों (Ancient Religious Texts) में से एक हैं। 

  • विश्‍व का प्रथम ग्रेनाइट मंदिर तमिलनाडु (Granite Temple Tamil Nadu) के तंजौर में बृहदेश्‍वर मंदिर है इस मंदिर के शिखर ग्रेनाइट के 80 टन के टुकड़ों से बने हैं यह भव्‍य मंदिर राजाराज चोल (Rajaraja Chola) के राज्‍य के दौरान केवल 5 वर्ष की अवधि में (1004 एडी और 1009 एडी के दौरान) निर्मित किया गया था। 

  • हमारे देश के महान विद्वान व गणितज्ञ बौधायन ने सबसे पहले पाई के मूल्य की गणना की थी। 

  • निश्‍चेतक का  उपयोग भारतीय प्राचीन चिकित्‍सा विज्ञान में भली भांति ज्ञात था। शारीरिकी, भ्रूण विज्ञान, पाचन, चयापचय, शरीर क्रिया विज्ञान, इटियोलॉजी, आनुवांशिकी और प्रतिरक्षा विज्ञान (Physiology, Embryology, Digestion, Metabolism, Physiology, Etiology, Genetics and Immunology) आदि विषय भी प्राचीन भारतीय ग्रंथों में पाए जाते हैं। 

  •  .आयुर्वेद विश्व की सबसे पुरानी चिकित्सा पद्धति (Old Medical Practice) है, जिसकी शुरुआत भारत में हुई थी। ऐसा माना जाता है कि महर्षि चरक ने 2500 वर्ष पहले आयुर्वेद की रचना की थी

  • भारत में पहले बार आजादी का बिगुल सन 1857 को बजा था मंगल पांडे (Mangal Pandey) द्वारा इसकी शुरुआत की गई थी .

  • भारत के विषय में एक अच्छी शांतिपूर्ण बात ये है कि भारत ने अपने इतिहास में कभी किसी भी देश पर आक्रमण नहीं किया। 

  • भारत ने सदियों पहले से ही गणित के क्षेत्र में कई योगदान दिए हैं वहीं, कई गणित से जुड़ी शाखाओं की खोज भारत में हुई इसमें बीजगणित (Algebra), त्रिकोणमिति (Trigonometry) और कलन (Calculus) शामिल है। 

  • शून्य (Zero) का आविष्कार करने वाले आर्यभट्ट भारत के ही थे इसके अलावा, दशमलव प्रणाली की शुरुआत भी भारत में ही हुई थी। 

  • हरियाणा के पानीपत में तीन ऐतिहासिक युद्ध हुआ पहला युद्ध 1526 में हुआ था, जिसमें बाबर (Babar) ने इब्राहिम लोदी (Ibrahim Lodi) को हराया था दूसरा युद्ध 1556 में सम्राट हेम चंद्र विक्रमादित्य (Emperor Hem Chandra Vikramaditya) और अकबर की सेना के बीच हुई थी, जिसमें अकबर की सेना विजय हुई थी तीसरा युद्ध 1761 में हुआ था, जिसमें अहमदशाह अब्दाली (Ahmad Shah Abdali)ने मराठों को परास्त किया था। 

  • तिरुपति शहर में बना विष्‍णु मंदिर 10वीं शताब्‍दी के दौरान बनाया गया था, यह विश्‍व का सबसे बड़ा धार्मिक स्थल है धार्मिक स्‍थलों से भी बड़ा इस स्‍थान पर प्रतिदिन औसतन 30 हजार श्रद्धालु आते हैं और लगभग 6 मिलियन अमेरिकी डॉलर प्रति दिन चढ़ावा आता है। 

  • सिख धर्म का उद्भव पंजाब के पवित्र शहर अमृतसर में हुआ था यहां प्रसिद्ध स्‍वर्ण मंदिर की स्‍थापना 1577 में गई थी। 

  • युद्ध कलाओं का विकास सबसे पहले भारत में किया गया और ये बौद्ध धर्म प्रचारकों द्वारा पूरे एशिया में फैलाई गई। 

  • योग कला का उद्भव भारत में हुआ है, और यह 5,000 वर्ष से अधिक समय से मौजूद है। 

  • भारत में सबसे प्राचीन यूरोपीय गिरजाघर और आराधनालय कोचीन शहर में हैं इन्हें क्रमश: 1503 और 1568 में निर्माण करवाया गया था। 

  • ताजमहल का निर्माण 1632 ईश्वी में शुरू हुआ था, और 1653 में गुम्बद बनकर तैयार हुआ था ताजमहल के निर्माण में 22 साल लगे थे 22,000 से ज्यादा मजदूरों ने ताजमहल के निर्माण में काम किया था 1,000 हाथियों के जरिए ताजमहल के निर्माण सामग्री को लाया गया था ताजमहल के निर्माण में उस वक्त 3.2 करोड़ रुपए का खर्च आया था। 

  • भास्‍कराचार्य (Bhaskaracharya) ने खगोलशास्‍त्र (Astronomy) के जन्म लेने से कई सौ साल पहले पृथ्‍वी द्वारा सूर्य के चारों ओर चक्‍कर लगाने में लगने वाले सही समय की गणना की थी उनकी गणना के अनुसार सूर्य की परिक्रमा में पृथ्‍वी को 365.258756484 दिन का समय लगता है। 

  • जैन धर्म और बौद्ध धर्म की स्‍थापना भारत में क्रमश: 600 बीसी और 500 बीसी में हुई थी। 

Also Read : भारत के सबसे अच्छे इंजीनियरिंग कॉलेज

 भारत का आधुनिक इतिहास  (Modern History Of India)

इतिहास हमारी ज़िन्दगी में बहुत मायने रखता है क्योंकि इतिहास की बदौलत ही हमारा आज मुमकिन हो सका है। आज जो है वह कल इतिहास ही कह लाएगा।। लेकिन इतिहास का अपना महत्व है। इतिहास की वजह से ही हमारा वजूद भी है। मॉडर्न हिस्ट्री को लेकर सभी इतिहासकारों और बुद्धिजीवियों में अलग अलग राय हैं। भारत का इतिहास करीब 5,500 साल पहले तक का माना जा सकता है। आधुनिक भारतीय इतिहास को 1850 के बाद का इतिहास कहा जा सकता है। आधुनिक भारतीय इतिहास के एक बड़े हिस्से पर भारत में ब्रिटिश शासन का कब्जा था। मुगलों के भारत में आने से पहले से लेकर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी (Former Prime Minister Indira Gandhi) के शासन काल तक को माना जा सकता है। सभी इतिहासकारों और बुद्धिजीवियों के अपने अलग तथ्य हैं कि आधुनिक भारतीय इतिहास भारत की आजादी पर खत्म हो जाता है।

स्वतंत्रता दिवस का इतिहास (History Of Indian Independence)

15 अगस्त 1947 की मध्य रात्री में भारत को अंग्रेजों से आजादी मिली थी भारत को ब्रिटिश राज से आजादी लेने में 200 साल से अधिक का समय लग गया था इसी दिन यानी 15 अगस्त 1947 को देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू (Prime Minister Jawaharlal Nehru) ने पहली बार लाल किले पर तिरंगा फहराया था इसके बाद से स्वतंत्रता दिवस पर हर साल भारत के प्रधानमंत्री दिल्ली के लाल किले पर राष्ट्रीय तिरंगा झंडा फहराते हैं ये दिन सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ पूरे देश के स्कूलों में भी मनाया जाता है।