facebook-pixel

JetSetGo की स्थापक 22 साल की कनिका टेकरीवाल की ऊंची उड़ान

Share Us

204
JetSetGo की स्थापक 22 साल की कनिका टेकरीवाल की ऊंची उड़ान
30 Jun 2022
8 min read
TWN In-Focus

Post Highlight

कनिका टेकरीवाल Kanika Tekriwal ने कैंसर जैसी बीमारी को हरा कर न सिर्फ एक मिसाल पैदा की बल्कि इसके बाद सफलता की उस मंजिल को हासिल किया जहाँ पहुँचना हर किसी के बस की बात नहीं होती है। कनिका टेकरीवाल जेटसेटगो JetSetGo कंपनी की को-फाउंडर और सीईओ हैं। महज 22 साल की उम्र में अपना एविएशन बेस्ड स्टार्टअप Aviation Based Startup स्थापित कर आज 10 प्राइवेट जेट की मालिक Owner of Private Jet बन चुकी हैं। जो इंडिया का पहला और अकेला प्राइवेट जेट India's First Private Jet Marketplace और हेलिकॉप्टर चार्टर्स का मार्केटप्लेस है। आज कनिका के ऑफिस दिल्ली के अलावा मुंबई, बैंगलोर, दुबई और न्यूयॉक में भी हैं। कनिका ने 2014 में अपनी जेटसेटगो कंपनी की शुरुआत की थी, जिसकी मदद से कोई भी आसानी से अपने लिए प्राइवेट एयरक्रॉफ्ट, हेलिकॉप्टर और एयर एंबुलेंस की ऑनलाइन बुकिंग कर सकता है। इसके अलावा अपनी इस कंपनी में कनिका बिजनेस ट्रिप से लेककर बर्थडे पार्टी के लिए जेट या हेलिकॉप्टर उपलब्ध करवाती है। यानि इस कंपनी के द्वारा लोग अपने लिए एक निजी जेट की ऑनलाइन बुकिंग कर सकते हैं। टेकरीवाल को भारत के चार्टर प्लेन सेक्टर Charter Plane Sector of India में बड़े बदलाव का श्रेय जाता है।

#KanikaTekriwal
#JetSetGo
#AviationIndustry

Podcast

Continue Reading..

कई मुश्किलों को पार करने के बाद यदि हमें जिंदगी फिर से दुबारा मिलती है तो शायद असल में जिंदगी वही है। जब हम जिदंगी में आने समस्याओं से हार मानने की बजाय कोशिश करते हैं और उन पर विजय पाने के बाद सफलता की एक नयी इबारत लिखते हैं तो वास्तव में वही एक कामयाब जिंदगी कहलाती है। ठीक ऐसी ही हैं जेटसेटगो की चेयरमैन कनिका टेकरीवाल Kanika Tekriwal जो आज सबके लिए एक प्रेरणा बन गयी हैं। कनिका ने कैंसर जैसी बीमारी को हरा कर न केवल खुद को एक नई जिदंगी दी बल्कि दुनिया के कई लोगों को जीने का एक नया तरीका भी सिखाया। उन्हें खुद पर विश्वास था और उन्होंने अपनी दृढ़ इच्छा शक्ति के बलबूते दुनिया को बता दिया कि यदि आप मन में ठान लें कि हमें जीवन में आगे बढ़ना है तो दुनिया की कोई भी ताकत आपको रोक नहीं सकती है। बस मेहनत कीजिये आगे बढ़िए और मजबूत रहते हुए मुश्किल हालातों का सामना कीजिये। कनिका अपने सपने को पूरा करने के लिए दिल्ली आयी जहाँ उन्होंने अपनी कंपनी जेटसेटगो की शुरुआत की। तो आज इस आर्टिकल में कनिका टेकरीवाल और उनकी कंपनी के बारे में विस्तार से जानते हैं कि कैसे वो सफलता के इस मुकाम तक पहुँची हैं। 

कौन है कनिका टेकरीवाल?

कनिका का जन्म एक रूढि़वादी मारवाड़ी परिवार में हुआ था। जहां महिलाओं को काम के लिए प्रोत्साहित नहीं किया जाता था। लेकिन कनिका टेकरीवाल प्राइवेट जेट Private jet में उड़ान को ज्यादा सुलभ और सस्ता बनाने के मिशन के लिए खासी जुनूनी थीं। उनके पिता रियल एस्टेट और केमिकल का बिजनेस करते थे। उनकी शुरुआती पढ़ाई साउथ इंडिया में हुई। उनका कहना है कि जो भी लोग प्राइवेट जेट का इस्तेमाल करना चाहते थे उन्हें दलालों से जूझना पड़ता था, लेकिन उनकी कंपनी इस सिस्टम को खत्म करना चाहती है। 

कनिका टेकरीवाल जेटसेटगो की फाउंडर founder of jetsetgo हैं, जो एक प्लेन अग्रीगेटर स्टार्टअप plane aggregator startup है। यानि कनिका टेकरीवाल भारत की सबसे बड़ी प्राइवेट जेट कंपनी की मालकिन हैं। आज उनके पास 10 प्राइवेट जेट 10 Private Jets हैं और उन्होंने 22 साल की उम्र में ही अपना स्टार्टअप शुरू कर दिया था। यह मालिकों के चार्टर्ड प्लेन और हेलिकॉप्टर को ऑपरेट, मैनेज और फ्लाई करने का काम करता है। उनकी कंपनी JetSetGo को आसमान का उबर तक कहा जाता है, जिसकी जर्नी 2012 में शुरू हुई। इसका लक्ष्य प्राइवेट फ्लाइंग को अधिक आसान, ट्रांसपेरेंट, इकोनॉमिकल बनाना था। 

दिल्ली की रहने वाली कनिका ने एविएशन इंडस्ट्री Aviation Industry में एक नया मुकाम हासिल किया है। कनिका के पास इस तरह का आइडिया करीब तीन साल से था लेकिन जब उन्होंने शुरुआत की तो उन्हें कैंसर हो गया। ट्रीटमेंट पूरी करने के बाद कनिका ने इसकी शुरुआत की और इसमें सफलता हासिल की। आज इसका परिणाम सबके सामने है। 22 की उम्र में एविएशन बेस्ड स्टार्टअप Aviation Based Startup और दस साल बाद 32 की उम्र में 10 प्राइवेट जेट की मालकिन, कनिका टेकरिवाल की कहानी काफी प्रेरणादायक Inspirational है। 

कनिका ने कैंसर को दी मात और बनी बिजनेस वुमन

कनिका का जन्म भोपाल में हुआ था और वहीं पर जवाहर लाल नेहरु स्कूल से कनिका ने 12 पास की और फिर इंग्लैड से एमबीए की डिग्री हासिल की। 17 साल की छोटी सी उम्र में कनिका ने अपनी कंपनी बनाने की शुरुआत कर दी थी लेकिन कनिका की जिंदगी में एक बेहद मुश्किल दौर आना बाकी था। उन्हें उस वक्त बहुत बड़ा झटका लगा जब उन्हें पता लगा कि उन्हें कैंसर है। वह सिर्फ 21 साल की उम्र में कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हो गई थीं लेकिन इसके बाद उन्होंने जो किया वह सबको आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती है। 

कनिका ने हार नहीं मानी और इलाज के लिए पूरे भारत में घूमी। कनिका कहती हैं कि इंसान का सबसे बड़ा डर मृत्यु होता है और जब आप वो अनुभव कर लेते हैं फिर आपके अंदर कोई डर नहीं बचता है। आपके अंदर का सब डर खत्म हो जाता है। 

कनिका ने कैंसर जैसी बीमारी को अपने ऊपर हावी होने नहीं दिया और इलाज के लिए जगह-जगह गयी। उन्हें इसके लिए कीमोथैरेपी Chemotherapy करवानी पड़ी। उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और फिर धीरे धीरे कैंसर Cancer को पूरी तरह से हरा दिया और वो अपनी दृढ़इच्छा शक्ति के बलबूते जिंदगी की जंग जीत गयी। अब वो पहले से कहीं ज्यादा मजबूत और निडर हो गयी थी। अब उन्हें अपना सपना पूरा करना था जिसके लिए वह भोपाल छोड़ कर दिल्ली चली गई और अपनी कंपनी की एक नयी शुरुआत की। कनिका ने इस बीमारी को मात देने के बाद भारत की सबसे बड़ी प्राइवेट जेट कंपनी जेटसेटगो (JetSetGo) खड़ी कर डाली। आज उनका और उनकी कंपनी का इंडस्ट्री में काफी बड़ा नाम है।

2014 में की कंपनी की शुरुआत 

कनिका ने कैंसर को हराने के बाद साल 2014 में जेटसेटगो (JetSetGo) की शुरुआत की। वैसे तो कनिका को 16 साल की उम्र से ही एविएशन के प्रति एक जुनून था और उसी जुनून को वह सच करना चाहती थी। वह उड़ना चाहती थी, जिसे कई परेशानियों के बावजूद उन्होंने सच कर दिखाया। उन्होंने अपनी इच्छा शक्ति Willpower को मजबूत रखते हुए एक आश्चर्य जनक सफलता प्राप्त की। कनिका एमबीए ग्रेजुएट हैं और वह जेटसेटगो को 'आसमान की उबर' भी कहती हैं।

कनिका की कंपनी जेटसेटगो के बारे में 

कनिका 22 साल की उम्र में अपना एविएशन बेस्ड स्टार्टअप स्थापित कर चुकी थीं और ऊंची उड़ान भरते हुए वह 10 प्राइवेट जेट की मालिक बन चुकी हैं। कनिका ने अपने स्टार्टअप को एक ऊंची उड़ान दी है और वह आज जेटसेटगो की फाउंटर सीईओ के पद पर तैनात हैं। कंपनी एक प्लेन एग्रीगेटर plane aggregator है, उनकी कंपनी मालिकों के लिए प्लेन का ऑपरेशन और मेंटीनेंस करती है. साथ ही जेटसेटगो हेलीकॉप्टर, जेट्स, एयरक्राफ्ट रेंट पर मुहैया कराती है। उनकी कंपनी मैनजमेंट, प्लेन्स के पार्ट्स और सर्विस का काम भी करती है। वैसे एविएशन इंडस्ट्री (Aviation Industry) को पुरुषों के वर्चस्व वाली इंडस्ट्री कहा जाता है लेकिन दिल्ली की एक लड़की ने न केवल इस इंडस्ट्री में कदम रखा बल्कि एक बहुत बड़ी कामयाबी भी हासिल की। कंपनी क्लाउड बेस्ड शिड्यूलिंग, एयरक्राफ्ट मैनेजमेंट और सर्विसेज व पार्ट्स Cloud Based Scheduling, Aircraft Management & Services & Parts के लिए इनबिल्ट मार्केटप्लेस भी उपलब्ध कराती है। जेटसेटगो अपनी वेबसाइट के जरिए यात्रियों को प्लेन से जोड़ती है। 

इनकी कंपनी की मदद से कोई भी बिना किसी परेशानी के अपने लिए प्राइवेट एयरक्रॉफ्ट, हेलिकॉप्टर और एयर एंबुलेंस Private aircraft, helicopter and air ambulance की ऑनलाइन बुकिंग online booking कर सकता है। अपनी इस कंपनी में कनिका बिजनेस ट्रिप से लेककर बर्थडे पार्टी के लिए जेट या हेलिकॉप्टर उपलब्ध करवाती है और लोग आसानी से अपने लिए एक निजी जेट की ऑनलाइन बुकिंग कर सकते है। 

Related: कैसे तैयार करें व्यवसाय का ढांचा?

कनिका को जेटसेटगो का आइडिया कैसे आया 

कनिका टेकरीवाल का कहना है कि प्राइवेट जेट में उड़ान को ज्यादा सुलभ और सस्ता बनाने के मिशन के लिए उनमें एक अलग तरह का जूनून था। उन्होंने कहा कि कई मुश्किल हालातों को पार करने के बाद JetSetGo की स्थापना की। इसे उन्होंने सुधीर परला Sudhir Parla के साथ मिलकर शुरू किया था। कनिका ने भारत की एविएशन इंडस्ट्री में प्राइवेट जेट स्पेस में एक एग्रीगेटर की जरूरत महसूस की। कनिका ऐसे कई लोगों से मिलीं, जिनका कहना था कि भारत में प्राइवेट जेट बुकिंग अनुभव बेहद खराब रहा। साथ ही कई प्राइवेट जेट ओनर ऐसे भी थे, जो बढ़ती कॉस्ट, नियमित मेंटीनेंस और अन्य परेशानियों के चलते अपने प्लेन बेच रहे थे। इसी बीच ब्रिटेन में अपने एक सहकर्मचारी के साथ बातचीत करते हुए कनिका को जेटसेटगो का आइडिया आया। दरअसल जेटसेटगो की शुरुआत में कनिका का मकसद उन क्लाइंट को कवर करना था, जो एक दिन में तीन से 4 शहरों में अपने काम के सिलसिले में जाते हैं, जो टूरिस्ट हैं या फिर इसके अलावा किसी इमरजेन्सी में प्लेन किराए पर लेना चाहते हैं। 

 टेकरीवाल ने बताया कि हमें उम्मीद थी कि अमीर प्लेन मालिक अपने प्लेन यहां पर लिस्ट कराएंगे और कस्टमर्स हमारे प्लेटफॉर्म से बुकिंग Booking Platform करेंगे, लेकिन हमारी पहली उड़ान शुरू नहीं हुई क्योंकि पायलट ही नहीं मिले और वह कहती हैं कि मुझे अहसास हो गया कि बुकिंग प्लेटफॉर्म से आधी समस्या दूर हुई है। धीरे-धीरे हम एयरक्राफ्ट मैनेजमेंट कंपनी Aircraft Management Company बन गए और एक बार हमारी चार्टर डिमांड उपलब्ध सप्लाई से ज्यादा हो गई तो हमने विमान खरीदने का फैसला किया। उसके बाद का रिजल्ट आप सबके सामने है। इंडियाटाइम्स India times की रिपोर्ट के अनुसार उनका स्टार्टअप टेक, विशेष रखरखाव प्रक्रियाओं और स्मार्ट मैनेजमेंट Smart Management का इस्तेमाल करता है।

कनिका की उपलब्धि Kanika's Achievement

कनिका टेकरीवाल (Kanika Tekriwal) को फोर्ब्स ,Forbes ने साल 2016 में रिटेल व ईकॉमर्स Retail & Ecommerce के मामले में एशिया Asia की 30 Under 30 लिस्ट में जगह दी थी। कनिका भारत की 7 एस्पिरेशनल महिलाओं में से एक है। आज कनिका के ऑफिस दिल्ली Delhi के अलावा मुंबई, बैंगलोर, दुबई और न्यूयॉक Mumbai, Bangalore, Dubai and New York में भी हैं। साल 2017 में फोर्ब्स ने एशिया के लिए All Star Alumni की 30 Under 30 लिस्ट में कनिका को जगह दी। फोर्ब्स मैगजीन में कनिका के काम की तारीफ हो चुकी है। कनिका को Kotak Wealth Hurun- Leading Wealthy Women, 2020 लिस्ट में भी जगह मिल चुकी है। कनिका को भारत सरकार की ओर से ईकॉमर्स के लिए नेशनल एंटरप्रेन्योरशिप अवार्ड National Entrepreneurship Award भी मिल चुका है।

निवेशकों में सीमेंट व्यवसायी पुनीत डालमिया और क्रिकेटर युवराज सिंह भी

जेटसेटगो किसी एयरक्राफ्ट को सीधे इंपोर्ट करने वाली पहली भारतीय कंपनी बन गई है। कंपनी ने Hawker 800 XP का इंपोर्ट किया है। जेटसेटगो के निवेशकों Investors में सीमेंट व्यवसायी पुनीत डालमिया (Puneet Dalmia) का नाम भी शामिल है। इसके अलावा भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह Indian cricketer Yuvraj Singh भी कनिका की कंपनी जेटसेटगो में फंडिग कर चुके हैं।

नई टेक्नोलॉजी के बल पर जमाया बिजनेस

जेटसेटगो JetsetGo, जो इंडिया का पहला और अकेला प्राइवेट जेट India's First Private Jet Marketplace और हेलिकॉप्टर चार्टर्स का मार्केटप्लेस है। जेटसेटगो स्टार्टअप ने चार्टिंग प्लेन के साथ जुड़ी समस्याओं की पहचान की और कस्टमर्स के लिए प्रोसेस को आसान बनाने के लिए नई टेक्नोलॉजी पर काम किया। इसकी प्रॉफिटेबिलिटी सुनिश्चित होती है और रखरखाव की लागत कम होती है। वहीं कस्टमर्स के लिए चार्टर फ्लाइट्स Charter Flights बुक करना आसान हो जाता है।

Related: कामयाबी की नई कहानी

कनिका की नेट वर्थ और Jetsetgo की नई ऊंचाईयां 

सूत्रों के मुताबिक 2022 में कनिका की कुल संपत्ति Kanika Net Worth 2022, 70 मिलियन डॉलर $ 70 million है। JetSetGo वर्तमान में एकमात्र सबसे बड़े शेयरधारक के रूप में 20% से अधिक बाजार का मालिक है और भारत के सबसे बड़े निजी जेट और हेलीकॉप्टर बेड़े को नियंत्रित करता है। इसकी ग्राहक संतुष्टि दर customer satisfaction rate 98.2% है। अगस्त 2021 में, JetSetGo पहली भारतीय लीजिंग कंपनी थी जो हॉकर 800 XP को सीधे देश में डायरेक्ट लीजिंग के तहत लाई ।