हिंदी दिवस 2023: भाषाओं की समृद्ध विरासत का उत्सव

Share Us

1406
हिंदी दिवस 2023: भाषाओं की समृद्ध विरासत का उत्सव
14 Sep 2023
6 min read

Blog Post

हिंदी दिवस 2023: 14 सितंबर को भारतीय राष्ट्रीय 'हिंदी दिवस' मनाते हैं। 1949 में आज ही के दिन हिंदी भाषा को भारत गणराज्य की आधिकारिक भाषाओं में से एक के रूप में अपनाया गया था।

देवनागरी लिपि में लिखे गए, भारत के संविधान ने 14 सितंबर 1949 को हिंदी भाषा को भारत की आधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकार किया। और, 14 सितंबर 1953 को, भारत ने पहला हिंदी दिवस (हिंदी दिवस) मनाया।

लगभग 425 मिलियन लोग हिंदी को अपनी पहली भाषा के रूप में बोलते हैं और लगभग 120 मिलियन लोग हिंदी को अपनी दूसरी भाषा के रूप में बोलते हैं।

भारत में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा हिंदी है। वर्तमान समय में हिन्दी भाषा को लेकर एक अजीबोगरीब अवधारणा चल रही है। लोग अंग्रेजी भाषा का बहुत अधिक उपयोग कर रहे हैं और इस वजह से भारत में अंग्रेजी भाषा को भाषा से ज्यादा महत्व दिया जाता है।

सालों पहले जब लोगों को लगा कि इस तरह तो हम हिंदी भाषा से दूर हो जाएंगे, तब हिंदी दिवस मनाने का विचार आया। क्या आप जानते हैं हिंदी दिवस कब बनाया जाता है, या हिंदी भाषा पर योग दिवस क्यों निर्धारित किया जाता है। यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है जो पूरे भारत में मनाया जाता है ।

आज इस लेख में हम आपको हिंदी दिवस 2023 Hindi Divas2023  से संबंधित कुछ विस्तृत जानकारी सरल शब्दों में प्रस्तुत करने जा रहे हैं। हर साल 14 सितंबर को हम हिंदी दिवस  (14 september hindi diwas) मनाते हैं। हर साल 14 सितंबर को हिंदी भाषा को शिक्षित करने और जागरूकता बढ़ाने के लिए हिंदी दिवस मनाया जाता है।

आज इस लेख में हम आपको यह भी बताएंगे कि हिंदी दिवस कब शुरू हुआ और कैसे इस पवित्र अवसर को विशेष महत्व के साथ मनाया जाता है।

हिंदी बोलने, लेखकों और पाठकों के लिए आज का दिन बहुत ही खास है। 14 सितंबर 1949 को हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया था। तब से हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। वैसे तो हर भाषा का अपना महत्व होता है, लेकिन हिंदी हमारे लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

मुहम्मद इकबाल ने 1905 में ब्रिटिश राज के विरोध में 'हिंदी है हम वतन है हिंदोस्ता हमारा' लिखा, लेकिन यह पंक्ति बाद में हिंदी बोलने वालों के बीच देशभक्ति का प्रतीक बन गई। हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है, लेकिन बहुत से लोग इसके महत्व से अनजान हैं।

हिंदी दिवस 2023: भाषाओं की समृद्ध विरासत का उत्सव Hindi Diwas 2023: Celebrating the rich heritage of languages

हिंदी दिवस 2023: मनाने का कारण  (Why is Hindi Divas celebrated)

14 सितंबर को, भारत में हिंदी दिवस मनाया जाता है, जिसमें हिंदी को 1949 में भारतीय गणराज्य की आधिकारिक भाषा मान्य करने का महत्वपूर्ण पल है। भारतीय संविधान को देवनागरी लिपि में लिखा गया है और 14 सितंबर 1949 को ही इसे आधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकृति दी गई थी।

1947 में जब भारत को स्वतंत्रता मिली, तो देश के सामने सबसे अधिक दबाव वाला मुद्दा एक आधिकारिक भाषा का चुनाव था। चूँकि भारत जैसे विशाल देश में सैकड़ों भाषाएँ और बोलियाँ बोली जाती हैं, सबसे बड़ा सवाल यह था कि आधिकारिक भाषा के रूप में किसे नामित किया जाना चाहिए।

जब बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर (Babasaheb Bhimrao Ambedkar) 6 दिसंबर, 1946 को स्वतंत्र भारत का संविधान (The constitution of India) तैयार कर रहे थे, उनके सामने राष्ट्रभाषा एक बहुत ही महत्वपूर्ण मुद्दा था। बहुत विचार-विमर्श के बाद, हिंदी और अंग्रेजी को राष्ट्रीय भाषाओं के रूप में चुना गया था।

अंग्रेजी के साथ, संविधान सभा (Constituent Assembly) ने देवनागरी लिपि (Devanagari script) में लिखी गई हिंदी को आधिकारिक भाषा के रूप में नामित किया। इसके बाद 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने सर्वसम्मति से फैसला किया कि हिंदी भारत की राजभाषा होगी। 26 जनवरी 1950 को भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद, हिंदी आधिकारिक भाषा बन गई।

हिंदी के महत्व को देखते हुए पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू (Prime Minister Pandit Jawaharlal Nehru) ने हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाने का फैसला किया। इसके बाद, पहला हिंदी दिवस 14 सितंबर, 1953 को मनाया गया। तब से, 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में नामित किया गया है।

हिंदी दिवस मनाने का कारण Hindi Diwas Reason to celebrate

भाषा के माध्यम से एकता का संकेत

यूनियन होम मिनिस्टर अमित शाह ने हिंदी दिवस के मौके पर इसे एकता की भाषा कहा, "हिंदी भारत की अनेक भाषाओं को एक साथ जोड़ने का नाम है, जो दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। स्वतंत्रता संग्राम से लेकर आज तक, हिंदी ने देश को एकत्र करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।"

हिंदी की भूमिका Role of hindi

हिंदी भाषा मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और पंजाब जैसे भारतीय राज्यों में बोली जाती है। भाषाओं की दृष्टि से, हिंदी को मॉरीशस, नेपाल, फिजी, सुरीनाम, गुयाना, ट्रिनिडाड और टोबैगो जैसे देशों में भी बोला जाता है।

हिंदी दिवस का मनाने का कारण

हिंदी दिवस का मुख्य कारण देश में अंग्रेजी भाषा के प्रति बढ़ते प्रवृत्तियों को कम करना है। महात्मा गांधी ने हिंदी को जनता की भाषा कहा था। इस मौके पर भारत में विभिन्न साहित्यिक और सांस्कृतिक आयोजन होते हैं। इसके अलावा, राजभाषा कीर्ति पुरस्कार और राजभाषा गौरव पुरस्कार जैसे पुरस्कार हिंदी दिवस के मौके पर मंत्रालयों, विभागों, सार्वजनिक क्षेत्रीय इकाइयों, और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को उनके योगदान और हिंदी को प्रोत्साहित करने के लिए प्रदान किए जाते हैं।

भारत में अन्य भाषाएं

भारतीय संविधान ने "8वीं अनुसूची" में भारत की 22 प्रमुख भाषाओं की मान्यता दी है। इनमें संस्कृत, असमीया, बंगला, बोडो, डोगरी, गुजराती, हिंदी, कश्मीरी, कन्नड़, कोंकणी, मैथिली, मलयालम, मणिपुरी, मराठी, नेपाली, उड़िया, पंजाबी, तमिल, तेलुगु, संताली, सिंधी और उर्दू शामिल हैं।

प्रारंभ में केवल 14 भाषाएं "8वीं अनुसूची" में शामिल थीं, लेकिन बोडो, डोगरी, कोंकणी, मैथिली, मणिपुरी, नेपाली, संताली, और सिंधी को बाद में मान्यता दी गई।

हिंदी दिवस न केवल एक भाषा के रूप में है, बल्कि यह भारत की भाषाओं और संस्कृतियों के धरोहर को संरक्षित रखने की महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जो एक देश के भाषाओं और संस्कृतियों की रिच टैपेस्ट्री के लिए जाने जाने वाले एक समृद्ध जाल की पहचान को अंजाम देता है।

Also Read: आइये अतुल्य भारत के सांस्कृतिक वैभव को जानें 

कैसे मनाया जाता है हिंदी दिवस (How is Hindi Diwas celebrated)

हर साल 14 सितंबर को हिंदी भाषा के सम्मान में हिंदी दिवस Hindi Diwas का आयोजन किया जाता है। इस दिन हिंदी भाषा को उत्सव के रूप में मनाने के साथ ही आने वाली पीढ़ी में हिंदी भाषा के प्रति रुचि जगाने के लिए विभिन्न प्रतियोगिताएं भी आयोजित की जाती हैं।

इसके अलावा कवियों और लेखकों द्वारा हिंदी के प्रति अपने प्रेम को प्रदर्शित किया जाता है। अलग-अलग संस्थान में हिंदी दिवस के अवसर पर हिंदी कविता प्रतियोगिता या हिंदी लेख प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। इस साल आपको हिंदी दिवस के अवसर पर इस तरह के बेहतरीन सम्मेलन 14 सितंबर 2022 को देखने को मिलेंगे।

हिंदी दिवस का इतिहास (Hindi Diwas History)

हर साल 14 सितंबर को, हिंदी दिवस या राष्ट्रीय हिंदी दिवस 14 सितंबर, 1949 को संविधान सभा द्वारा हिंदी (देवनागरी लिपि में लिखी गई) को आधिकारिक भाषा के रूप में अपनाने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। देश के पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू ने जश्न मनाने का फैसला किया।

14 सितंबर को हिंदी दिवस। हिंदी दिवस के अलावा, विश्व हिंदी दिवस (World Hindi Day)10 जनवरी, को मनाया जाता है। यह दिन पहले विश्व हिंदी सम्मेलन की याद दिलाता है, जो 10 जनवरी, 1975 को नागपुर में आयोजित किया गया था, और इसमें 30 देशों के 122 प्रतिनिधियों ने भाग लिया था।

सम्मेलन का लक्ष्य दुनिया भर में हिंदी भाषा को बढ़ावा देना था। पूर्व प्रधान मंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने हिंदी को बढ़ावा देने के लक्ष्य के साथ 2006 में विश्व हिंदी दिवस की स्थापना की।

हिंदी दिवस का महत्व (Significance Of Hindi Diwas)

हिंदी को इसका नाम फारसी शब्द हिंद से मिला है, जिसका अर्थ है 'सिंधु नदी की भूमि'। 11वीं शताब्दी की शुरुआत में, तुर्की आक्रमणकारियों ने इस क्षेत्र की भाषा का नाम हिंदी रखा, जिसका अर्थ है "सिंधु नदी की भूमि की भाषा।" यह भारत की आधिकारिक भाषा है, अंग्रेजी माध्यमिक आधिकारिक भाषा के रूप में है।

भारत के बाहर, हिंदी मॉरीशस, फिजी, सूरीनाम, गुयाना, त्रिनिदाद और टोबैगो और नेपाल में भी बोली जाती है। हिंदी कई चरणों के माध्यम से अपने वर्तमान स्वरूप में विकसित हुई, जिसके दौरान इसे विभिन्न नामों से जाना जाता था।

हिंदी का संरक्षण और संस्कृति का प्रचार-प्रसार Preservation of Hindi and propagation of culture

हिंदी दिवस मनाने का एक प्रमुख कारण देश में अंग्रेजी भाषा के बढ़ते प्रभाव का मुकाबला करना है। महात्मा गांधी Mahatma Gandhi ने हिंदी को "लोगों की भाषा" कहा। इस दिन पूरे भारत में कई साहित्यिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं।

यह हिंदी को बढ़ावा देने के प्रयासों को पहचानने और पुरस्कृत करने के लिए एक मंच के रूप में भी कार्य करता है, जिसमें मंत्रालयों, विभागों, सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को उनके योगदान के लिए राजभाषा कीर्ति पुरस्कार और राजभाषा गौरव पुरस्कार जैसे पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं।

हिंदी भाषा के बारे में मुख्य तथ्य (Hindi Diwas Facts)

  • विश्व में बोली जाने वाली कुल भाषाओं में हिंदी पांचवीं सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है।
  • हिंदी पाकिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश, अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, न्यूजीलैंड, संयुक्त अरब अमीरात, युगांडा, गुयाना, सूरीनाम, त्रिनिदाद, मॉरीशस और दक्षिण अफ्रीका सहित कई देशों में बोली जाती है।
  • आधुनिक देवनागरी लिपि (Devanagari script) 11वीं शताब्दी में अस्तित्व में आई।
  • ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी (Oxford Dictionary) में 2017 में 'बड़ा दिन', (बड़ा दिन) 'अचा', (अच्छा) 'बच्चा' (बच्चा) और 'सूर्य नमस्कार' जैसे शब्द शामिल थे। यह हिंदी के महत्व और स्वीकृति का प्रतिनिधित्व करता है। 
  • काका कालेलकर, मैथिली शरण गुप्त, हजारी प्रसाद द्विवेदी, सेठ गोविंददास (Kaka Kalelkar, Maithili Sharan Gupta, Hazari Prasad Dwivedi, Seth Govinddas) जैसे कई लेखकों ने हिंदी को राजभाषा बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया।