facebook-pixel

व्यवसाय में पनपने वाले जोखिम को कम करने के तरीके

Share Us

1189
व्यवसाय में पनपने वाले जोखिम को कम करने के तरीके
29 Sep 2021
7 min read
TWN In-Focus

Post Highlight

अगर आप एक नया व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं और आप यह सोच रहे हैं कि किसी काम को शुरू करने के पहले मुझे यह पता चल जाए कि, इसमें कौन-कौन से जोखिम का सामना करना पड़ सकता है तो यह लेख आपके लिए फायदेमंद साबित होगा।

Podcast

Continue Reading..

अगर आप एक नया व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं और आप यह सोच रहे हैं कि किसी काम को शुरू करने के पहले मुझे यह पता चल जाए कि, इसमें कौन-कौन से जोखिम का सामना करना पड़ सकता है, तो यह लेख आपके लिए फायदेमंद साबित होगा। आज हम आपको बताने वाले हैं कि किस तरह से व्यवसाय में आने वाले जोखिम को आप कम कर सकते हैं। चाहे व्यवसाय छोटा हो या बड़ा हो जोखिम आना तो आम बात है। व्यवसाय में जोखिम किसी भी प्रकार के हो सकते हैं, जिसमें सबसे बड़ी भूमिका होती है वित्तीय जोखिम की। अगर वित्तीय जोखिम आ गया तो आप का व्यवसाय बर्बाद भी हो सकता है, इसके अलावा उपभोक्ता बाजार में परिवर्तन, व्यवसाय के कानूनी मसले, व्यक्तिगत सुरक्षा और अन्य कई जोखिमों से गुजरना पड़ता है। अब इन सभी जोखिमों से कैसे निपटा जाए और इन्हें कैसे कम किया जाए इन सभी मुद्दों पर चर्चा हम आगे करने वाले हैं।

वित्तीय जोखिम को कम करने का तरीका

किसी भी व्यवसाय में सफल होने के लिए सबसे पहले निवेश की आवश्यकता होती है यह निवेश आपके व्यवसाय की नींव बनता है। जिसकी मदद से आप आगे बढ़ते हैं। वित्तीय मामलों को अच्छी तरह निपटा लेना किसी भी व्यवसाय के मालिक के लिए बेहद जरूरी है। हालांकि व्यवसाय के मालिक के पास केवल वित्तीय चीजों को देखने का समय नहीं होगा क्योंकि, उन पर ढेरों जिम्मेदारियां होती हैं। इसके लिए उन्हें जिम्मेदार व्यक्तियों की आवश्यकता होती है, जो सारे वित्तीय मसलों को बखूबी संभाल सकें।

 वित्तीय मामलों की देखरेख के लिए आप नई टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर सकते हैं। सारी जानकारी टेक्नोलॉजी की मदद से आजकल कंप्यूटर में सुरक्षित हो जाती है। तकनीक का इस्तेमाल कर अब इन मसलों से अच्छी तरह निपट सकते हैं।

ऋण लेने के मामले में रहें सतर्क

व्यवसाय को शुरू करने के लिए जब आपके पास लागत नहीं होती तो आप सरकारी या निजी बैंक से ऋण ले कर अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने की सोचते हैं, लेकिन आपको ऋण लेने के बारे में अच्छी तरह विचार करके ही ऋण लेना चाहिए। आपको व्यवसाय की लागत उसमें होने वाला मुनाफा और खर्चों को देखते हुए अपने लोन के बारे में योजना बनाएं। अगर आप अपने लोन को सतर्कता से लेंगे, तो इसको चुकाने में भी सक्षम होंगे। इस तरह आपके लिए लोन लेना गलत नहीं होगा। लोन लेने के बारे में आप सबसे आखरी में सोचें, पहले आप यह सोच सकते हैं कि किस तरह में बिना लोन लिए अपने व्यवसाय को आगे बढ़ा सकते  हैं ।

खर्चों की योजना को बनाना

व्यवसाय शुरू करने के लिए आप उस में होने वाले खर्चों की योजना को अच्छी तरह बनाएं ताकि जब आप व्यवसाय शुरू करें, तो इसमें होने वाले खर्चे आपका सर दर्द न बनें। व्यवसाय में अलग-अलग विभाग होते हैं और हर विभाग में खर्च होने वाले पैसे के बारे में ध्यान रखें और इसकी ऐसी योजना बनाएं कि आपको भविष्य में कोई कठिनाई न आए। इसके साथ ही अगर कोई जोखिम भरे खर्चे हो जाते हैं तो आपको इसके लिए भी तैयारी करके रखनी चाहिए ताकि आप अपने व्यवसाय को डगमगाने से बचा सके और अपने कर्मचारियों की वेतन भी समय पर दे सकें।

बीमा लेना भी जोखिम को कम करेगा

आज के इस दौर में बीमा सभी के जीवन में अहम भूमिका निभा रहा है। इसी तरह जवाब व्यवसाय शुरू करें, तो बीमा के बारे में जरूर सोचें और इससे अवश्य लें क्योंकि जब आप व्यवसाय शुरू करते हैं, तो आप की लागत लगती है। लागत लगने का मतलब है कि आपने इसमें कई संसाधन लगाकर काम को आगे बढ़ाया है। उपयोग में आने वाली हर वो चीज जिसकी लागत काफी ज्यादा है, उसका बीमा जरूर करवाएं क्योंकि जोखिम आने पर आप बीमा कंपनी की मदद से आप नुकसान की भरपाई कर सकते हैं। इसके साथ ही काम करने वाले कर्मचारियों का बीमा भी करा सकते हैं ताकि किसी विपरीत परिस्थिति में फसे कर्मचारी को इसकी मदद मिल सके, इससे आप का भार कम होगा।

छोटे से छोटे काम को अहमियत दें

व्यवसाय में अक्सर हम छोटी-छोटी चीजों को नकार देते हैं लेकिन हमें छोटे से छोटे काम को अहमियत देनी चाहिए। जब हम व्यवसाय को शुरू करते हैं, तो छोटी-छोटी चीजों को सही करके ऊंचाइयों पर पहुंचा जा सकता है। कई बार व्यवसाय में बड़े-बड़े काम बखूबी निभाए जाते हैं लेकिन छोटी चीजों पर ध्यान न दिया जाए, तो भी व्यवसाय ठप हो जाता है। इसलिए सबसे जरूरी है कि आप हर एक चीज के लिए छोटे-छोटे लक्ष्य बनायें और उन्हें पूरा अवश्य करें।

सुरक्षा का ध्यान हमेशा रखें

व्यवसाय में सुरक्षा एक बड़ी जिम्मेदारी है चाहे वह उपकरणों की सुरक्षा हो या फिर कर्मचारियों की या फिर सामान की आपको हर चीज की सुरक्षा का ख्याल बड़ी बारीकी से रखना होगा अगर जरा सी भी आधारभूत या सुरक्षा में कमी आई, तो आपके व्यवसाय में गिरावट आने में देर नहीं लगेगी।

जोखिम नियंत्रण के लिए पहले से योजना बनाएं

व्यवसाय में आप जोखिम आने का इंतजार नहीं कर सकते आप को पहले से किसी भी जोखिम के लिए तैयार रहना पड़ेगा। इसके लिए अपनी एक टीम तैयार करें। यह टीम पहले से जोखिम आने के बारे में मूल्यांकन करेगी और इस पर नियंत्रण पाने के लिए योजना बना लेगी। जिसके चलते आप जोखिम आने से पहले ही सतर्क हो जाएंगे और मान लिया जाए कि जोखिम आ भी गया तो आप इसे नियंत्रण पाने में सक्षम हो जाएंगे।

जोखिम को रोकने के लिए आप बाहरी संस्था या सलाहकार की भी मदद ले सकते हैं। सलाहकार आपकी मदद बाहरी रूप से कर सकते हैं। वह कंपनी के हर मुद्दे पर नजर रखकर आपको पहले से सजग कर सकते हैं, जिसके चलते आप जोखिम आने का पता लगा सकते हैं। यह सलाहकार संस्था निष्पक्ष रूप से आपके साथ जोड़कर आपको अच्छाई और बुराई के बारे में बताकर आपके व्यवसाय को आगे बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। 

आखिर में सबसे बड़ी बात, जो हम आपके साथ साझा करना चाहते हैं, वह यह है कि व्यवसाय को हमेशा योजनाबद्ध तरीके से अमल में लाएं अगर आप की योजना अच्छी होगी तो आप अपने व्यवसाय को उड़ान देने में जरूर सफल होंगे। बिना योजना के किसी भी क्षेत्र में सफलता अर्जित नहीं की जा सकती इसीलिए योजना पर कार्य अवश्य करें। आपकी योजना आपको जोखिम के दरवाजे तक पहुंचने ही नहीं देगी।