जैविक खेती के लाभ एवं आवश्यकता

Share Us

26063
जैविक खेती के लाभ एवं आवश्यकता
29 Dec 2023
7 min read

Blog Post

आधुनिक कृषि प्रणालियों ने उच्च उत्पादकता के लिए बड़े पैमाने पर रसायनों का उपयोग किया है, लेकिन इसके साथ ही उपयोग किए जाने वाले रसायनों का खेती के पर्यावरण और स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव भी होता है।

इसलिए, जैविक खेती ने एक सुरक्षित, स्वास्थ्यपूर्ण और पर्यावरण मिति खेती की दिशा में बदलाव लाया है। जैविक खेती में रसायनिक कीटनाशकों, उर्वरकों, और हार्मोन के उपयोग की जगह नैसर्गिक तत्वों का प्रयोग किया जाता है, जो खेती में उच्च गुणवत्ता और पोषणशील उत्पादों की उत्पत्ति करते हैं।

पर्यावरण में देखे गए कई परिवर्तन दीर्घकालिक हैं, जो समय के साथ धीरे-धीरे घटित होते हैं। जैविक कृषि Organic Farming कृषि-पारिस्थितिकी तंत्र पर कृषि हस्तक्षेपों के मध्यम और एक लम्बे प्रभाव पर विचार करती है।

इसका उद्देश्य मिट्टी की उर्वरता या कीट समस्याओं को रोकने के लिए पारिस्थितिक संतुलन स्थापित करते हुए भोजन का उत्पादन करना है। स्वस्थ भोजन उगाने के लिए, हमें स्वस्थ मिट्टी से शुरुआत करनी चाहिए। यदि आप मिट्टी को हानिकारक कीटनाशकों और रसायनों से बचते हैं ।

जैविक खेती पर्यावरण के स्वास्थ्य में सुधार करने का प्रयास करती है और पर्यावरण की मदद करती है। यह पारिस्थितिकी तंत्र को नष्ट करने के बजाय उसके प्रबंधन पर निर्भर करता है। जैविक क्षेत्र में किसानों को उन उत्पादों की "जैविकता" सुनिश्चित करने के लिए नियमों का पालन करना चाहिए ।

पर्यावरण पर जैविक खेती के लाभ बहुत अधिक हैं, यह ब्लॉग  उनमे से कुछ सबसे प्रभावशाली प लाभों से आपको परिचित कराएगा ।

जिस तरह से पूरे विश्व की जनसँख्या बढ़ रही है तथा अजैविक खाद वाली भोजन सामग्री का बाजार बढ़ता जा रहा है। उसी बीच एक मंद गति से प्रगति करती हुई जैविक खेती दिन व दिन पनप रही है, जो कि मानवीय स्वास्थ्य के लिहाज़ से अति आवश्यक है।

हर दौर में कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो दूसरे के हित के लिए कार्य करते हैं, पर्यावरण के लिए कार्य करते हैं, एवं जलवायु को स्वच्छ करने के लिए कुछ कार्य करते हैं। जैविक खेती Organic Farming की पहल भी कुछ ऐसी ही पहल है, हालाँकि ये प्राचीन पद्दति है, जो आज फिर अपना सर उठा रही है, जो कि आने वाले भविष्य के लिए लाभकारी भी है।

जैविकी खेती करना क्यों है लाभकारी- Why Is It Beneficial To Do Organic Farming?

जैविक खेती क्या है? What is organic farming?

जैविक खेती एक प्राकृतिक खेती प्रणाली है जिसमें संसाधनों का सही उपयोग करके पोषक और स्वास्थ्यपूर्ण फसलों की उत्पत्ति की जाती है। इसमें जीवाणु शक्ति, खेती अपशिष्ट, बायोडाइनामिक तत्व, बायोफर्टिलाइजर, और जैविक कीटनाशकों का उपयोग किया जाता है। जैविक खेती उत्पादों के स्वास्थ्यपूर्ण गुणों को बढ़ाती है और माटी की उर्वरता और प्रजनन क्षमता को सुधारती है।

जैविक खेती एक प्रक्रिया है जिसके द्वारा भूमि की उपजाऊ क्षमता soil fertility में वृद्धि हो जाती है ताकि, भूमि लंबे अंतराल तक खेती लायक बनी रहे। जैविक खेती में सिंचाई के अन्तराल में वृद्धि होती है।

जैविक खेती के उपयोग से रासायनिक खाद chemical fertilizer पर निर्भरता कम होने से लागत में कमी आती है और विषैली फसल लोगों तक नहीं पहुँचती तथा साथ ही साथ फसलों की उत्पादकता में वृद्धि increasing the productivity of crops होती है।

इससे किसानों को भी लाभ होता है और वह किसानी को एक व्यवसाय से हटकर भी समझ पाते हैं। 

इसका सबसे बड़ा लाभ उन सब छोटे-छोटे कीटों को भी मिलेगा जो मिट्टी की उर्वरता को बढ़ने में मदद करते हैं क्योंकि अजैविक खाद द्वारा उनके खत्म होने से मिट्टी में उपस्थित रासायनिक क्रियायें मंद पड़ जाती हैं जो कि घातक है। 

जैविक खेती के लाभ Benefits Of Organic Farming

किसानों को जैविक खेती से होने वाले लाभ (Jaivik kheti ke labh)- जिस तरह से जैविक खेती से फसल की उपज बढ़ रही है, उसको देखते हुए ये अनुमान लगाया जा सकता है कि किसानों को इसका प्रत्यक्ष लाभ मिल रहा है।

रोज़-रोज़ नए तरीके खोज-खोज कर लोग जैविक खेती को बढ़ावा दे रहे हैं। किसानों की आय में वृद्धि हुई है और जैविक खेती से हुई फसलों को डिमांड बढ़ी है। 

वर्षा आधारित क्षेत्रों rainfed areas में जैविक खेती की विधि और भी अधिक लाभदायक है। जैविक विधि द्वारा खेती करने से उत्पादन की लागत तो कम होती है साथ ही साथ किसान भाइयों को आय अधिक प्राप्त होती है।

अंतराष्ट्रीय बाजार की स्पर्धा में जैविक उत्पाद अधिक खरे उतरते हैं। जिसके फलस्वरूप सामान्य उत्पादन की अपेक्षा में किसान अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं। जैविक खेती के कई लाभ (Benefits of Organic Farming) होते हैं। कुछ मुख्य लाभ निम्नलिखित हैं:

भूमि की उपजाऊ क्षमता में वृद्धि हो जाती है: बेहतर फसल उगाने के लिए मिट्टी की उर्वरता अति आवश्यक है और जैविक खेती के द्वारा इसकी उर्वरता बनी रहती है। मिट्टी में सम्मिलित पोटेशियम, फास्फोरस इत्यादि जैविक खेती द्वारा बने रहते हैं जो लाभदायक है।

यदि हम मिट्टी की दृष्टि से देखें तो जैविक खाद के उपयोग से भूमि की गुणवत्ता में सुधार improve the quality of land आता है, भूमि की जल धारण की क्षमता बढ़ती है और भूमि बंज़र होने से बची रहती है। साथ ही साथ भूमि से पानी का वाष्पीकरण भी कम होता है। 

स्वस्थ खाद्य प्रदान करना: जैविक खेती से उत्पादित फल, सब्जियां और अन्य खाद्य पदार्थ स्वस्थ होते हैं क्योंकि इसमें कोई भी जहरीला कीटनाशक नहीं होता है जो कि उनमें तथा जो उनको खाते हैं, नुकसान पहुंचाता है।

वातावरण के लिए अधिक उपयोगी: जैविक खेती से पैदा हुआ उत्पाद वातावरण के लिए बेहतर होता है क्योंकि उसमें कोई जहरीले विषाणु नहीं होते हैं जो कि मानव और पशुओं के स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक होते हैं।

मानव स्वास्थ्य के लिए अधिक उपयोगी: जैविक खेती से उत्पादित फल, सब्जियां और अन्य खाद्य पदार्थ में अधिक पोषक तत्व होते हैं।

अधिक नायाब महँगी फसलों की खेती: जैविक खेती से पैदा हुए उत्पादों की बाजार मूल्य अधिक होती है जिससे किसानों की कमाई बढ़ती है।

सोखाने के लिए कम पानी का उपयोग: जैविक खेती में फसल के लिए कम पानी का उपयोग होता है जिससे पर्यावरण को भी फ़ायदा होता है। ग्राउंड वाटर टेबल को भी लाभ होता है। 

आधुनिक समय में निरन्तर बढ़ती हुई जनसंख्या, पर्यावरण प्रदूषण, भूमि की उर्वरा शक्ति का संरक्षण एवं मानव स्वास्थ्य के लिए जैविक खेती की राह अत्यन्त लाभदायक व प्रभावपूर्ण साबित हुई है।

मानव जीवन के सम्पूर्ण विकास के लिए ये अत्यधिक आवश्यक है कि प्राकृतिक संसाधन प्रदूषित न हों, शुद्ध वातावरण रहे एवं पौष्टिक आहार मिलता रहे।

इसके लिये हमें जैविक खेती की कृषि पद्धतियाँ अपनाना होगा जोकि हमारे अतिआवश्यक संसाधनों एवं मानवीय पर्यावरण को प्रदूषित किये बगैर मनुष्य जाती को खाद्य सामग्री उपलब्ध करा सकेगी तथा हमें खुशहाल जीने की राह दिखा सकेगी।

Also Read: हरित क्रांति क्या है? भारत में हरित क्रांति का प्रभाव

ये कुछ महत्वपूर्ण लाभ हैं जोकि जैविक खेती द्वारा आसानी से संभव हैं। 

जैविक खेती के कई अन्य फायदे भी हैं जो निम्न हैं - 

1. हानिकारक कीटनाशकों की कमी Lack of harmful pesticides

पारंपरिक खेती traditional farming में इस्तेमाल होने वाले कई तरह के सिंथेटिक कीटनाशक synthetic insecticide जानवरों और इंसानों दोनों के लिए हानिकारक हो सकते हैं। कभी-कभी, ये कीटनाशक हवा में घुल सकते हैं और भूजल स्रोत भी इस प्रकार खेत के आसपास के क्षेत्र को प्रदूषित कर सकते हैं।

इसके अलावा, जो खरपतवार हमेशा कीटनाशकों के संपर्क में रहते हैं, वे रसायनों के प्रति प्रतिरोध पैदा करना शुरू कर देते हैं, जिससे खरपतवारों का एक मजबूत रूप बन जाता है जो उन्हें नियंत्रित करने के लिए मजबूत रसायनों की जरूरत पड़ती है ।

जैविक खेती में, कीटनाशकों का उपयोग पूरी तरह से छोड़ दिया जाता है जिससे प्रदूषण का खतरा कम हो जाता है।

2. सतत स्वस्थ मिट्टी Sustainable healthy soil

जैविक खेती के विपरीत, पारंपरिक खेती मूल्यवान पोषक तत्वों को छीन लेती है और सिंथेटिक उर्वरकों के माध्यम से कृत्रिम रूप से पोषक तत्वों को वापस लौटा देती है। यह विधि स्वस्थ जीवाणुओं या अन्य अपघटकों के विकास को प्रोत्साहित नहीं करती है जो मिट्टी के स्वास्थ्य को स्थिर करते हैं।

इसका मतलब यह है कि जब एक पारंपरिक किसान अपने खेत को बैठने के लिए छोड़ देता है, तो मिट्टी को पोषक तत्वों nutrients to the soil को वापस पाने के लिए संघर्ष करना पड़ेगा और इसमें भी अधिक समय लगेगा।

जैविक खेती स्थायी कृषि प्राप्त करने का प्रयास करती है और बैक्टीरिया और डीकंपोजर Bacteria and Decomposers के अस्तित्व को बढ़ावा देती है जिससे मिट्टी अधिक टिकाऊ होती है।

अंत में, यह कृत्रिम रूप से उपचारित मिट्टी artificially treated soil की तुलना में बेहतर तरीके से भूमि कटाव soil erosion से लड़ता है। इसका मतलब है कि मिट्टी को अधिक समय लगेगा और यह हवा या बारिश से नहीं बहेगी।

3. जैव विविधता Biodiversity

जैविक खेती पौधों में जैव विविधता प्राप्त करने का प्रयास करती है - इसका मतलब है कि पौधों की कई प्रजातियाँ एक निश्चित वर्ष के दौरान खेत में पनपती हैं।

मिट्टी के लिए जैव विविधता स्वस्थ होने के अलावा, यह कीटों की आबादी को नियंत्रित करने में भी मदद करती है और अधिक संतुलित पारिस्थितिकी तंत्र balanced ecosystem सुनिश्चित करके जंगली जीवों जैसे हिरण, सरीसृप, कृन्तकों, पक्षियों और अन्य जानवरों के लिए एक स्वस्थ वातावरण बनाती है।

जैविक खेती के हानि (Disadvantages of organic farming)

जैविक खेती एक संतुलित, प्राकृतिक और वातावरण संरक्षण के दृष्टिकोण से बेहतर विकल्प होता है, हालांकि कुछ मुख्य हानियां भी होती हैं। निम्नलिखित कुछ मुख्य जैविक खेती की हानियां हैं:

  • कम उत्पादकता: जैविक खेती में उत्पादकता कम हो सकती है जो पूर्ण रूप से स्थानिक और वातावरण की शर्तों पर निर्भर होती है।
  • बढ़ती लागत: जैविक खेती में खाद और कीटनाशक के उपयोग की कमी से उत्पन्न उत्पादों की खरीद की लागत बढ़ सकती है।
  • तकनीकी मुश्किलें: जैविक खेती को संचालित करने के लिए विशेष तकनीक की आवश्यकता होती है जो स्थानिक और वातावरण की विशेषताओं के अनुसार होती है।
  • खेतों के आकार: जैविक खेती के लिए बड़े क्षेत्रों की आवश्यकता होती है जो छोटे खेती कारों के लिए अधिक मुश्किल हो सकता है।
  • जीवाणु जनित बीमारियों का सामना: जैविक खेती में कीटनाशक के अभाव में, विभिन्न जीवाणुओं से उत्पन्न बीमार।

जैविक खेती के तरीके Organic Farming Methods

जैविक खेती के तरीकों में निम्नलिखित विधियां शामिल होती हैं:

जैविक खाद उपयोग: Organic Fertilizer Use:

जैविक खाद जैविक संसाधनों से बनाई जाती है, जैसे कि खेती अपशिष्ट, नदी कीटाणु, वर्मीकंपोस्ट, आदि। इसे मिट्टी में मिश्रित करके खेती की उपज की गुणवत्ता बढ़ाई जा सकती है।

जैविक कीटनाशक: Biological Pesticides:

जैविक कीटनाशक प्राकृतिक संसाधनों से बने होते हैं और नकारात्मक प्रभावों के बिना कीटों को नष्ट करने में मदद करते हैं। इनमें नीम पत्तियां, प्याज और लहसुन का पेस्ट, और जीवाणुशक्ति के उपयोग की जाती है।

बायोडाइनामिक खेती: Biodynamic Farming:

बायोडाइनामिक खेती एक पूर्णतावादी तरीका है जहां खेती विधियों के साथ निर्मितियों की सुरक्षा, जीवाणुशक्ति, और नवीनतम प्राकृतिक तत्वों का ध्यान रखा जाता है। इसमें बायोडाइनामिक खाद, खेती अपशिष्ट, और पौधों की प्राकृतिक प्रबंधन की तकनीकें शामिल होती हैं।

जैविक खेती की आवश्यकता (Need of organic farming)

जैविक खेती की आवश्यकता विभिन्न कारणों से होती है।

पहला कारण वातावरण संरक्षण है। जैविक खेती में खाद, कीटनाशक और जलवायु न्यूनतम मात्रा में उपयोग किए जाते हैं, जो प्राकृतिक तरीके से पैदा होते हैं और वातावरण को नुकसान पहुंचाने वाले तत्वों का उपयोग नहीं करते हैं। इसलिए, जैविक खेती वातावरण संरक्षण के लिए बेहद महत्वपूर्ण है।

दूसरा कारण स्वस्थ खाद्य संसाधनों की आवश्यकता है। जैविक खेती में उपयोग किए जाने वाले उत्पादों का खाद्य तत्व मूल रूप से स्थानीय खेती से ही प्राप्त होता है, जिससे खेती के स्वस्थ विकास के लिए संतुलित पोषण में सुनिश्चित होता है।

तीसरा कारण सामाजिक उत्थान की आवश्यकता है। जैविक खेती में उत्पादों की गुणवत्ता सुधार होती है जिससे खेतीकरों को बेहतर मूल्य मिलता है और साथ ही स्थानीय अर्थव्यवस्था में भी सुधार होता है।

जैविक खेती संपूर्णता के दिशा में बदलाव लाती है और विभिन्न प्रकार के खेती रोगों का नियंत्रण करती है। यह स्वास्थ्यपूर्ण खाद्य उत्पादन को बढ़ाती है, पृथ्वी को संतुलित करती है, और पर्यावरण को संरक्षित रखती है। इसलिए, हमारी आज की जरूरतों को पूरा करने के लिए जैविक खेती की आवश्यकता बहुत महत्वपूर्ण है।