facebook-pixel

हरित क्रांति क्या है? भारत में हरित क्रांति का प्रभाव

Share Us

203
हरित क्रांति क्या है? भारत में हरित क्रांति का प्रभाव
21 Sep 2022
6 min read
TWN Special

Post Highlight

जीवन की ज़रूरत में सबसे पहले अन्न है, और भारत की समृद्धि किसानों के श्रमसाध्य प्रयासों का परिणाम है। भारत एक संसाधन संपन्न देश है जिसका मुख्य उद्योग कृषि है। भारत की पहचान कृषि में निहित है,  कृषि ही देश की अर्थव्यवस्था की मूल जड़ है। भारत कृषि प्रधान देश होने के लिए प्रसिद्ध है। कृषि की बुनियाद पर देश ने सबसे पहले समाज से गरीबी मिटाने की ठानी, और हम ऐसा करने में काफी हद तक सफल रहे। किसानों के पास अब कृषि की बदौलत जीवित रहने का एक कारण है। हरित क्रांति (Green Revolution) सूर्य के प्रकाश की पहली किरण की तरह देश में प्रवेश कर गई, जिसकी चमक समय के साथ बढ़ती और फैलती गई। प्रकाश की इस किरण से देश का सबसे बड़ा भाग प्रभावित हुआ। साथ ही इससे औद्योगिक क्षेत्र (Industrial Area) को भी काफी फायदा हुआ।

Podcast

Continue Reading..

निश्चित रूप से, किसी भी क्षेत्र में परिवर्तन का उस प्रगति पर प्रभाव पड़ता है। हरित क्रांति दुनिया भर में कृषि के क्षेत्र में कई वैज्ञानिक सफलताओं, तकनीकी प्रगति और अन्य विकासों से शुरू हुई थी।

हरित क्रांति क्या है? (What Is Green Revolution)

"हरित क्रांति" शब्द का तात्पर्य (Green Revolution Meaning) विश्व स्तर पर आधुनिक उपकरणों और विधियों का उपयोग करके कृषि उत्पादन को बढ़ावा देने की प्रक्रिया से है। दूसरे शब्दों में, कृषि उत्पादकता हरित क्रांति (Green Revolution) से जुड़ी है। दुनिया भर में, आधुनिक तकनीकों और तकनीकों को कृषि पर लागू नहीं किया गया, जिससे कृषि उत्पादन (Agricultural Production) में वृद्धि को रोका गया। कई देशों में पर्याप्त भोजन की कमी एक प्रमुख मुद्दा हुआ करती थी क्योंकि पारंपरिक कृषि में कम भोजन का उत्पादन होता था जबकि जनसंख्या बढ़ रही थी। इन सभी देशों में भारत के साथ मुद्दा एक जैसा था।

इन सभी समस्याओं का सामना करने के लिए दुनिया भर में कृषि के क्षेत्र में उच्च उपज देने वाली किस्म के बीज, सिंचाई सुविधाएं, ट्रैक्टर, शाकनाशी और उर्वरक (Irrigation facilities, Tractors, Herbicides and Fertilizers) कुछ आधुनिक तरीके और तकनीकें अपनानी पड़ीं। यही सबको देखते हुए, खाद्य आपूर्ति की तुलना में तेजी से बढ़ रही आबादी द्वारा उपज को बढ़ावा देने के लिए कठोर और तीव्र कार्रवाई की आवश्यकता पैदा की गई थी। इस कार्रवाई ने हरित क्रांति का रूप ले लिया, जिससे विश्व स्तर पर हरित क्रांति (Green Revolution in World) की शुरुआत हुई। 

हरित क्रांति पहलू (Green Revolution Aspect)

समकालीन तकनीकों का उपयोग उच्च उपज देने वाली किस्मों का उपयोग किया जाता है (HYV) कृषि सिंचाई सुविधा मशीनीकरण उर्वरकों (Mechanization Fertilizers)और कीटनाशकों का उपयोग करके भूमि जोतों को समेकित किया जा रहा है।

विश्व में हरित क्रांति का जन्म (Green Revolution In The World)

हरित क्रांति का जन्म 1960 में नार्मन अर्नेस्ट बोरलॉग (Father of Green Revolution in World) ने की थी। उन्हें हरित क्रांति का जनक भी कहा जाता है। उन्हें अधिक उपज देने वाले गेहूं के बीज बनाने के लिए 1970 में दुनिया का सर्वोच्च सम्मान नोबेल पुरस्कार मिला। हालांकि, एमएस स्वामीनाथन (MS Swaminathan) भारत में हरित क्रांति के लिए सभी श्रेय के पात्र हैं। यह बताता है कि हरित क्रांति चावल, सेम और गेहूं सहित अनाज के उत्पादन को कैसे बढ़ा सकती है। हरित क्रांति को कई राष्ट्रों द्वारा अपनाया गया था, और उन्होंने इसका उपयोग कृषि को बेहतर बनाने के लिए किया।

भारत में हरित क्रांति (Green Revolution in India)

1960 और 1980 के बीच की अवधि जब हमारे देश में कृषि उत्पादन में वृद्धि हुई, उसे "हरित क्रांति" कहा जाता है। भारत में हरित क्रांति को एम एस स्वामीनाथन के द्वारा लाया गया। हमारे देश में, हरित क्रांति ने कृषि उत्पादन में वृद्धि की और राष्ट्रीय स्तर पर खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने में सहायता की। देश के कृषि उत्पादन में सबसे अधिक वृद्धि हुई, विशेषकर हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश में जहाँ गेहूँ और चावल का उत्पादन तेजी से बढ़ा।

भारत हरित क्रांति के परिणामस्वरूप दुनिया के अग्रणी कृषि (Pioneer Agriculture) देशों की श्रेणी में खाद्य-कमी वाले देश की श्रेणी में चला गया, जो 1967-1968 और 1977-1978 के वर्षों के दौरान राष्ट्र में हुआ था। हरित क्रांति का मुख्य उद्देश्य कृषि को व्यवसाय के तौर पर विश्व स्तर पर ले जाना था। हरित क्रांति के अंतर्गत गेहूं, चावल, दाल,ज्वर,बाजरा और मक्का (Wheat, Rice, Pulses, Fever, Millet and Maize) जैसे अनाज आते हैं, जो प्रत्येक मनुष्य के भोजन का आधार हैं। इस तथ्य से इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि कृषि उत्पादन में विस्तार से देश की अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव पड़ा होगा।

हरित क्रांति के इतिहास (History Of Green Revolution)

यू.एस. एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (US agency for International Development)  के प्रशासक विलियम एस. गौड (William S. Gaud) ने 8 मार्च, 1968 को एक भाषण में पहली बार "हरित क्रांति" वाक्यांश का प्रयोग किया। अमेरिकी वैज्ञानिक नॉर्मन बोरलॉग (American scientist Norman Borlaug), जिन्होंने 1940 के दशक में मेक्सिको में अपना अध्ययन शुरू किया और गेहूं की नई, रोग प्रतिरोधी, उच्च उपज देने वाली किस्मों का निर्माण किया, को हरित क्रांति के जनक के रूप में जाना जाता है। हरित क्रांति ने मेक्सिको में ग्रामीण अर्थव्यवस्था में क्रांति लाने के लिए औद्योगिक खाद्य उत्पादन तकनीकों का इस्तेमाल किया। इसके अतिरिक्त, यह जनसंख्या की आवश्यकता से अधिक गेहूं का उत्पादन करने में सक्षम था, और 1960 के दशक तक, वे गेहूं का निर्यात कर रहे थे।

1950 और 1960 के दशक में, मेक्सिको में हरित क्रांति सफल होने के कारण इसकी प्रौद्योगिकियां दुनिया भर में फैल गई जिससे कई देशों ने कृषि उत्पादन में आत्मनिर्भर हो गया। 1940 के दशक में अमेरिका ने बहुत कम गेहूं का उत्पादन किया, लेकिन हरित क्रांति के अत्याधुनिक विचारों और तकनीकों को नियोजित करके, यह 1950 के दशक में आत्मनिर्भर बनने और 1960 के दशक के अंत तक गेहूं का निर्यात करने में सक्षम था। इन सब के आलोक में, कई देशों ने खाद्य उत्पादन बढ़ाने के लिए हरित क्रांति प्रौद्योगिकियों का उपयोग करना शुरू कर दिया। भारत, 1960 की तरह, अपनी विस्फोटक जनसंख्या के कारण भूखे रहने के खतरे में था। तब एमएस स्वामीनाथन ने भारत में हरित क्रांति की शुरुआत की।

हरित क्रांति के आर्थिक प्रभाव (Economic Effects Of the Green Revolution) 

हरित क्रांति द्वारा लाए गए खाद्य उत्पादन और तीव्रता में उल्लेखनीय वृद्धि के परिणामस्वरूप भारत ने खाद्य आत्मनिर्भरता हासिल की। गेहूं का उत्पादन 1968 में 170 लाख टन पर पहुंच गया, जो उस समय एक रिकॉर्ड था, और बाद के वर्षों में यह बढ़ता गया।

हरित क्रांति के बाद, नए कृषि उपकरण जैसे ट्रैक्टर, हार्वेस्टर, ट्यूबवेल, पंप आदि का उपयोग किया गया। नतीजतन, प्रौद्योगिकी ने कृषि के स्तर को बढ़ाया और कम प्रयास और समय के साथ अधिक उत्पादन करना संभव बना दिया।

खेती के लिए उपयोग की जाने वाली मशीनों के अलावा, कृषि के आधुनिकीकरण के परिणामस्वरूप हाइब्रिड बीजों, कीटनाशक, खरपतवारनाशी और रासायनिक उर्वरकों की मांग में काफी वृद्धि हुई है। नतीजतन, परिणामस्वरूप देश में इससे संबंधित उद्योगों का अत्यधिक विकास हुआ।

हरित क्रांति ने कृषि के विकास के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचे का निर्माण किया, जिसमें परिवहन सुविधाओं के लिए राजमार्ग, नलकूपों के माध्यम से सिंचाई, ग्रामीण क्षेत्रों में ऊर्जा आपूर्ति, भंडारण सुविधाएं और अनाज बाजार शामिल हैं।

हरित क्रांति और मशीनीकरण के कारण उत्पादन में वृद्धि के परिणामस्वरूप ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार की नई संभावनाएं उभरीं। हरित क्रांति के परिणामस्वरूप पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और ओडिशा से लाखों लोग नौकरियों की तलाश में पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जाने लगे।

Also Read : विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस- जानिए इसका इतिहास, महत्व और थीम

हरित क्रांति के सामाजिक प्रभाव (Social Effects Of Green Revolution)

हरित क्रांति ने भारत के ग्रामीण समाज में महत्वपूर्ण परिवर्तन लाए, जिनमें से सबसे महत्वपूर्ण यह था कि यह अधिक गतिशील और बाजारोन्मुखी हो गया। हरित क्रांति के बाद अब कृषि ने ग्रामीण समुदायों में आय के अन्य स्रोतों को निर्वाह के प्राथमिक साधन के रूप में बदल दिया है।

आय के स्तर में वृद्धि के साथ किसानों की सामाजिक और शैक्षिक स्थिति में सुधार हुआ।

परिणामस्वरूप अमीर और गरीब किसानों के बीच की खाई और चौड़ी हो गई। कुछ क्षेत्रों में इस असमानता से संघर्ष भी हुआ।

हरित क्रांति से महिलाओं के जीवन पर काफी प्रभाव पड़ा। हरित क्रांति से पहले, महिलाएं बाहर के खेतों में श्रम करके घर के पुरुष सदस्यों की सहायता करती थीं, लेकिन जैसे-जैसे किसानों की आय बढ़ती गई और मशीनरी का उपयोग बढ़ता गया, ग्रामीण महिलाओं की स्वतंत्रता कम होती गई।

हरित क्रांति के राजनीतिक प्रभाव (Political Effects Of Green Revolution)

स्वतंत्रता के बाद जमींदारी के उन्मूलन और उसके बाद के भूमि सुधार जैसे कार्यों के कारण, हरित क्रांति ने भारत के एक समतावादी समाज (Egalitarian Society) में संक्रमण को जन्म दिया। छोटे और मध्यम स्तर के किसानों की सामाजिक आर्थिक स्थिति में सुधार के परिणामस्वरूप, वे अधिक शिक्षित और राजनीतिक रूप से जागरूक होने लगे।

हरित क्रांति से भारतीय राजनीति पर काफी प्रभाव पड़ा। स्थानीय स्तर पर शुरू होकर, किसानों के एक नए वर्ग ने राजनीति में प्रवेश किया। निम्न सामाजिक वर्गों के लोग अब पहले की तुलना में राजनीति में अधिक भाग ले रहे हैं, जब केवल शीर्ष जातियों और अमीरों ने ही इसे नियंत्रित किया था।

किसान और उनके सामने आने वाली चुनौतियाँ देश के प्रमुख राजनीतिक दलों के समर्थन का स्रोत बन गईं और कई दलों ने इन कारणों को बढ़ावा देना शुरू कर दिया।

हरित क्रांति के फायदे (Advantages Of Green Revolution)

हरित क्रांति के परिणामस्वरूप देश ने खाद्यान्न आत्मनिर्भरता हासिल की। नतीजतन, अब राष्ट्रीय स्तर पर पर्याप्त अनाज रिजर्व में हैं। हरित क्रांति की बदौलत देश के किसानों का जीवन बदल जाएगा, जिससे उनके कृषि लाभ को भी बढ़ावा मिलेगा। भुखमरी को रोकना सूखे जैसी स्थितियों से निपटना आसान था जब खाद्यान्न की पर्याप्त आपूर्ति होती थी।

हरित क्रांति के नुकसान (Disadvantages Of Green Revolution)

इससे मिट्टी की गुणवत्ता में गिरावट आई है। अधिक रासायनिक उर्वरकों, कृत्रिम शाकनाशियों (Chemical Fertilizers, Artificial Herbicides) के उपयोग से पर्यावरण और मृदा प्रदूषण में वृद्धि हुई। जिससे स्वास्थ्य संबंधी परेशानी होती है। इसके साथ ही इसके अत्यधिक उपयोग से मिट्टी का कटाव भी हुआ है।

हरित क्रांति ने पूरे देश की रूप रेखा बदल दी। गरीबी की मार झेल रहा देश अपने पैरों पर खड़ा हो गया और दूसरों को भी सहारा देने के काबिल हो गया। किसानों की मुश्किलें आसान हो गयीं और वो दिल से मुस्कुराने लगा। देश की अर्थव्यवस्था कृषि का हाथ पकड़कर विकास को अपना लक्ष्य मानते हुए लगातार आगे की ओर बढ़ रही है। कई मुश्किलों को पार करके विश्व में अपनी पहचान बनाता देश नयी दिशा की ओर निकल पड़ा। आज देश विश्व की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है, जिसमें कृषि के विकास ने मुख्य भूमिका अदा की है।