facebook-pixel

दुनिया की 10 सबसे सफल और बड़ी कंपनियां

Share Us

297
दुनिया की 10 सबसे सफल और बड़ी कंपनियां
30 Oct 2022
8 min read
TWN Reviews

Post Highlight

इस दुनिया में कंपनियां तो बहुत हैं लेकिन इनमें से कुछ कंपनियां ऐसी हैं जिनका सिर्फ नाम ही काफी है। ये कंपनियां बहुत ही सफल  कंपनियां हैं। क्योंकि ये कंपनियां ऐसी कंपनियां हैं जो सिर्फ महीने में अरबो रुपए कमाते हैं। इनमें से बहुत सी कंपनियों का प्रोडक्ट हम लोग भी इस्तेमाल करते हैं। ये कंपनियां Biggest Companies in The World के साथ साथ World’s Most Valuable Companies भी बन चुकी हैं। आपको बता दें कि इन कंपनियों का बिज़नेस पूरी दुनिया में फैला हुआ है और इनकी सर्विसेज लेना हर व्यक्ति पसंद करता है। अक्सर लोग सर्च करते हैं कि दुनिया में सबसे बड़ी कंपनियां कौन सी हैं। क्योंकि इन सफल और बड़ी कंपनियों के बारे में हर कोई जानना चाहता है। तो चलिए आज इस आर्टिकल में हम आपको दुनिया की 10 बड़ी कंपनियां कौन सी हैं, उनके बारे में बताएंगे जो कि आज सफल कंपनियों में गिनी जाती हैं। 

Podcast

Continue Reading..

इस दुनिया में कई सारी कंपनियां हैं लेकिन उन कंपनियों में से कुछ कंपनियां ऐसी हैं जिन्हें हर कोई जानता है। यानि वो ऐसी कंपनियां हैं जो किसी नाम की मोहताज नहीं हैं। ये कंपनियां मार्केट में अपनी सेवाएं देती हैं और लोग इन कंपनियों पर आँख बंद कर विश्वास करते हैं। इन कंपनियों ने लोगों की लाइफ स्टाइल में बदलाव किया है और अच्छा खासा पैसा कमाया है। ऐसे ही आज हम आपको दुनिया की 10 सबसे बड़ी the biggest और सफल कंपनियों Most successful companies in the world के बारे में बतायेगे जो अपनी सेवाएं देकर दुनिया की सबसे कीमती कंपनियां (Most Valuable Companies) बन चुकी हैं। तो चलिए जानते हैं दुनिया की 10 सबसे सफल और महगी, बड़ी कंपनियों के बारे में।

1- एप्पल कंपनी Apple company

एप्पल कंपनी को आज कौन नहीं जानता और इसकी कंपनी की क्या Value है वो इस बात से पता चल जाती है कि इसके प्रोडक्ट को यूज़ करने वाले व्यक्ति का स्टेटस अपने आप ही बढ़ जाता है। यह कंपनी सालो से दुनिया की सबसे सबसे मूल्यवान कंपनी Most Valuable Company बनी हुई है। वर्तमान समय में टिम कुक Tim Cook, Apple कंपनी के CEO हैं। एप्पल कंपनी 1976 में शुरू की गयी थी जो एक अमेरिकन कंपनी American company है। Apple कंपनी की स्थापना 1 अप्रैल 1976 में स्टीव जॉब्स Steve Jobs, स्टीव वॉजनिएक व रोनाल्ड वेन द्वारा की गयी थी। इस कंपनी का मुख्यालय अमेरिका के कैलिफोर्निया शहर California City of America में स्थित है। 

यह कंपनी टेक्नोलॉजी पर काम कर रही है और आज का जो समय है वो टेक्नोलॉजी का ही है तो ज़ाहिर सी बात है कंपनी तो ग्रो करेगी ही। साल 1994 में एप्पल कंपनी ने अपना पहला ऑपरेटिंग सिस्टम Macintosh लांच किया था और इस ऑपरेटिंग सिस्टम को काफी पसंद किया गया था। Apple का ऑपरेटिंग सिस्टम iOS है जो सिर्फ Apple के प्रोडक्ट में ही यूज़ किया जा सकता है और कम्प्यूटर के लिए MacOS है जो लैपटॉप, कम्प्यूटर आदि में इस्तेमाल किया जाता है। एप्पल 1 ट्रिलियन के मूल्य को पार करने वाली पहली अमेरिकी कंपनी है।

Revenue- $274.05 Billion Dollar (as on April 2021) Market Cap Value- $2215.02 Billion Dollar

उद्योग Industry- Electronics, Information, Technology इलेक्ट्रॉनिक्स, सूचना, प्रौद्योगिकी

Apple कंपनी के प्रोडक्ट -IPhone, IOS, Apple Pencil, IPod, WatchOS, Siri, IPad, Charger, Earphones, Apple TV, HomePod,Final Cut Pro, IPadOS, Apple Watch, GarageBand,macOS, AirTags

2- माइक्रोसॉफ्ट Microsoft

माइक्रोसॉफ्ट दुनिया की Software Development करने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी है। Microsoft Corporation एक अमेरिकी बहुराष्ट्रीय प्रौद्योगिकी निगम है जो कंप्यूटर सॉफ्टवेयर, उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स, पर्सनल कंप्यूटर computer software, consumer electronics, personal computer का उत्पादन करता है। इसका मुख्यालय रेडमंड, वाशिंगटन, संयुक्त राज्य अमेरिका में स्थित Microsoft Redmond परिसर में है। 2014 में भारतीय मूल के सत्य नाडेला (Satya Nadella) माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ (CEO of Microsoft) नियुक्त किए गए।

 माइक्रोसॉफ्ट कंपनी सन 1975 में शुरू की गयी थी और इसको शुरू करने वाले बिल गेट्स (Bill Gates) और पॉल एलन (Paul Allen) थे। Bill Gates को कौन नहीं जानता है। क्योकि ये दुनिया के सबसे अमीर लोगो में से एक है। माइक्रोसॉफ्ट कंपनी पर्सनल कंप्यूटर, कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का निर्माण, विकास और इनका लाइसेंस देती है। इसके प्रमुख हार्डवेयर उत्पाद Xbox वीडियो गेम कंसोल और टचस्क्रीन पर्सनल कंप्यूटर के Microsoft सरफेस लाइनअप हैं। माइक्रोसॉफ्ट लगातार अपने बिजनेस और पोर्टफोलियो को विस्तार दे रही है जिसके लिए कंपनी दूसरी कंपनियों का अधिग्रहण कर रही है। कंपनी का पिछला सबसे बड़ा अधिग्रहण लिंक्डइन (2016) और स्काइप टेक्नोलॉजी (2011) (Microsoft Acquisition of LinkedIn and Skype) का था। यह Google, Amazon, Apple के साथ-साथ बड़ी अमेरिकी सूचना प्रौद्योगिकी कंपनियों में से एक है। 

Revenue- US$145.30 Billion Dollar (as on April 2021)

3- गूगल Google

आज शायद ही कोई ऐसा हो जो गूगल यूज़ न करता हो। हर Internet User गूगल का प्रयोग करता है Computer Software Computer Hardware and Advertisement के साथ साथ गूगल काफी तरह के काम करता है। यह कम्पनी स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से पी.एच.डी. के दो छात्र लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन Larry Page and Sergey Brin द्वारा स्थापित की गयी थी। गूगल दुनिया में इंटरनेट पर पकड़ बनाने वाली दुनिया की पहली और सबसे बड़ी कंपनी है जहा भी इंटरनेट का प्रयोग होता है सबसे पहले गूगल का ही नाम आता है और कुछ भी सर्च करना हो गूगल का ही नाम आता है। गूगल Google एक अमेरिकी बहुराष्ट्रीय प्रौद्योगिकी कम्पनी American multinational technology company है, जिसने इंटरनेट सर्च, क्लाउड कम्प्यूटिंग और विज्ञापन तंत्र में नाम कमाया है। यह इंटरनेट पर आधारित कई सेवाएँ और उत्पाद बनाता तथा विकसित करता है और यह मुनाफा मुख्यतया अपने विज्ञापन कार्यक्रम ऐडवर्ड्स से कमाता है।

गूगल को एप्पल, एमाज़ॉन, और माइक्रोसॉफ्ट के साथ सूचना प्रौद्योगिकी में से एक माना जाता है। गूगल विश्व का सबसे ताकतवर (नामी) ब्राण्ड है।

Industry की बात करें तो - Internet, Multinational Conglomerate , Company Products- Android, AdSense, Analytics, Blogger, Drive, YouTube, आदि हैं। कम्पनी ऑनलाइन उत्पादक सॅाफ्टवेअर, जैसे कि जीमेल ईमेल सेवा और सामाजिक नेटवर्क साधन, ऑर्कुट और हाल ही का, गूगल बज़ प्रदान करती है।आज गूगल Parent organization के साथ मिलकर काम करती है जिसका नाम Alphabet Inc है। गूगल डेस्कटॉप कम्प्यूटर के उत्पादक सॅाफ्टवेअर का भी उत्पादन करती है, जैसे— वेब ब्राउज़र गूगल क्रोम, फोटो व्यवस्थापन और सम्पादन सोफ़्ट्वेयर पिकासा और शीघ्र संदेशन ऍप्लिकेशन गूगल टॉक। गूगल के CEO भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक Sundar Pichai सुंदर पिचाई हैं | गूगल के CEO सुन्दर पिचाई की प्रतिदिन 3.5 करोड रुपए कमाते हैं।

Revenue की बात करें तो इसका Revenue - $ 182.82 Billion Dollar (as on April 2021)

4- अमेज़न Amazon

अमेज़न विश्व की सबसे बड़ी E-Commerce कंपनी है जो अपने कस्टमर्स के साथ ऑनलाइन डील करती है। Amazon ऐमज़ॉन.कॉम, इंक. सीऐटल, वाशिंगटन Seattle, Washington में स्थित एक अमेरिकी बहुराष्ट्रीय प्रौद्योगिकी कंपनी है। ऐमज़ॉन दुनिया का सबसे बड़ा ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस largest e-commerce marketplace और क्लाउड कंप्यूटिंग प्लेटफॉर्म है। एमाज़ॉन.कॉम की स्थापना जेफ बेजोस Jeff Bezos ने 5 जुलाई 1994 को की थी, और एक ऑनलाइन बुकस्टोर के रूप में शुरू किया था। अमेज़ॉन से आप किसी भी प्रकार का Product Online खरीद सकते हैं। और यह कंपनी तेजी से आगे बढ़ रही है इसके मालिक Jeff Bezos दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति हैं। 

Amazon का नाम पूरी दुनिया में Richest Companies in The World and Most Valuable Companies में आता है। ऐमज़ॉन का नाम एप्पल, फेसबुक, गूगल, और माइक्रोसॉफ्ट के साथ गिना जाता है। आज के समय में हर कोई अपनी लाइफ में बहुत ही व्यस्तता के दौर से गुजर रहा है इसलिए किसी के पास भी आज इतना समय नही है कि वह बाहर जाकर शॉपिंग करे। इसलिए इस टेक्नोलॉजी के युग मे ऐमज़ॉन ने लोगों का काम काफी आसान कर दिया है। ई-कॉमर्स ने, लोगों को काफी सुविधाये दी हैं जैसे – ऑनलाइन सामान खरीदना, सामान का घर पर पहुँचना, कोई भी सामान पसंद ना आने पर वापसी की सुविधा प्रदान आदि। इसकी वजह से पैसे व समय दोनों की बचत होती है। इसी ई-कॉमर्स की दुनिया मे अमेज़न भी बहुत ही फेमस कंपनियों मे से एक है। जिस समय जेफ़ बेज़ोस ने, अमेज़न की स्थापना की, तब किसी ने नही सोचा था कि, ई-कॉमर्स या इंटरनेट का व्यापार ,या ऑनलाइन शॉपिंग इतनी आगे जायेगा और एक दिन ऐसा आएगा कि लोग पूरी तरह से सिर्फ ऑनलाइन शॉपिंग पर निर्भर होंगे। अमेज़न कंपनी ने लोगो की जरुरत को देखते हुये, सभी चीजों का व्यापार अपनी इस कंपनी के माध्यम से शुरू किया जैसे- इलेक्ट्रॉनिक, मोबाईल, कपड़े, होम अप्लान्सेस और भी ऐसी वस्तु जो कि जीवन मे आवश्यक हो सुई से लेकर बड़ी चीज तक तक। यानि अमेज़न पर क़िताबे, इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स, बच्चो से लेकर बड़े तक की प्रत्येक जरुरत का समान, घर की छोटी-बड़ी सभी वस्तुए, मोबाईल, कंप्यूटर और उससे संबंधित सभी टूल्स, गहने, किराने का समान सब कुछ मिलता है। अमेज़न एक ऐसी कंपनी है जो किसी वस्तु का स्वयं निर्माण नही करती बल्कि उसे अलग-अलग कंपनियों से उचित मूल्य पर खरीदती है, और फिर उसे अपने अनुसार बेचती है।

Revenue- US$386.88 Billion Dollar (as on April 2021) Net Income- US$21.331 billion (as on April 2021)

Also Read: भारत की टॉप 10 नेटवर्क मार्केटिंग कंपनियां

5- फेसबुक Facebook

फेसबुक के बारे में तो बताने की जरुरत नहीं है। आज फेसबुक के बारे में हर कोई जानता है। क्योंकि Facebook का यूज़ हर कोई करता है। हर किसी के पास आज के समय में Smart Phone है और उस फ़ोन में Facebook Application जरूर होता है। लोग फेसबुक पर काफी समय बिताना पसंद करते हैं। फेसबुक एक सोशल सर्विसेज एप्लीकेशन है। इसका आरंभ 2004 में हार्वर्ड के एक छात्र मार्क ज़ुकेरबर्ग Mark Zuckerberg ने की थी। तब इसका नाम द फेसबुक था। अगस्त 2005 में इसका नाम फेसबुक कर दिया गया। फेसबुक आज बहुत बड़े मुकाम पर है। फेसबुक का नाम Richest Companies in The World and Most Valuable Companies के अंदर आता है। 

फेसबुक इंटरनेट पर स्थित एक निःशुल्क सामाजिक नेटवर्किंग सेवा है जिसके माध्यम से इसके सदस्य अपने मित्रों, परिवार और परिचितों के साथ संपर्क रख सकते हैं। यह फेसबुक इंक. नामक निजी कंपनी द्वारा संचालित है। फेसबुक का उपयोग करने वाले अपना एक प्रोफाइल पृष्ठ तैयार कर उस पर अपने बारे में जानकारी देते हैं। इसमें उनका नाम, फोटो, जन्मतिथि, विद्यालय और कॉलेज आदि का ब्यौरा दिया होता है।

इस पृष्ठ के द्वारा लोग अपने मित्रों और परिचितों का नाम, ईमेल आदि डालकर उन्हें ढूंढ़ सकते हैं। साथ ही वे अपने मित्रों और परिचितों के साथ जुड़ सकते हैं। 

Revenue- $ 67.83 Billion DollarMarket Cap Value- $590.97 Billion Dollar 

6- कोका कोला Coca Cola

कोल्ड ड्रिंक का शौकीन आज के समय में हर कोई है फिर चाहे वो बच्चा हो या बड़ा और कोल्ड ड्रिंक पीने के शौकीन कोका कोला के बारे में न जाने ये हो नहीं सकता। कोला अपनी ड्रिंक्स के कारण आज दुनिया की सबसे अमीर कम्पनियो में शुमार है। आपको बता दें कि शुरू में कोका कोला कम्पनी दवाइयां बनाया करती थी लेकिन इसने बाद में अपने प्रोडक्ट में सॉफ्ट ड्रिंक को लॉन्च किया और जिसका नतीजा आज सबके सामने है। द कोका-कोला कंपनी एक अमेरिकी बहुराष्ट्रीय बेवरेज कॉर्पोरेशन American Multinational Beverage Corporation है। कंपनी की स्थापना 8 मई 1886 को हुई थी। इस पेय का आविष्कार 1886 में फार्मासिस्ट जॉन स्टिथ पेम्बर्टन John Stith Pemberton द्वारा किया गया था। यानि कोका कोला की स्थापना जॉन पेंबर्टन ने की थी लेकिन 1889 में कंपनी और इसके फॉर्मूले को बिजनेसमैन असा ग्रिग्स कैंडलर ने खरीद लिया जिन्होंने इसे नई बुलंदियों पर पहुंचा दिया। 

कोका-कोला कंपनी अन्य गैर-मादक पेय सांद्र और सिरप, और मादक पेय का निर्माण, बिक्री और विपणन भी करती है। कंपनी का मुख्यालय अमेरिका के अटलांटा Headquarters Atlanta of America में है। कंपनी का 200 से ज्यादा देशों में कारोबार है। कंपनी फ्रैंचाइजी मॉडल पर शुरुआत से ही काम करती है। कोका कोला अपने पेय का केवल सीरप मिश्रण बनाती है जिसे वो दुनियाभर में अपने फ्रैंचाइजी को भेजती है। भारत में कदम रखते ही कंपनी ने कई भारतीय ब्रैंड को खरीद लिया। कोका कोला ने भारतीय सॉफ्ट ड्रिंक ब्रैंड थम्स अप को 1993 में खरीदा इसके बाद ओडवाला फ्रूट जूस के ब्रैंड को 2007 में खरीदा। भारत में माजा, मिनट मेड, लिम्का, फैंटा, स्प्राइट, किनले वाटर और स्मार्टवाटर आदि कोका कोला के प्रोडक्ट हैं। प्रमुख शीतल पेय कंपनी कोका-कोला इंडिया का लाभ वित्त वर्ष 2021-22 में 3.82 प्रतिशत बढ़कर 460.35 करोड़ रुपये हो गया जबकि उसकी परिचालन आय 35.85 प्रतिशत बढ़कर 3,121.29 करोड़ रुपये पर पहुंच गयी। कारोबार आसूचना मंच टॉफलर ने प्राप्त वित्तीय आंकड़ों के आधार पर कोका कोला इंडिया के प्रदर्शन की जानकारी दी। 

7- सैमसंग Samsung 

सैमसंग दक्षिण कोरिया की एक कंपनी Samsung is a South Korean company है। कोरियाई कंपनियों में सैमसंग पसंदीदा कंपऩी है। सैमसंग एक समूह है, सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स और सैमसंग लाइफ इंश्योरेंस, सैमसंग फायर तथा मरीऩ आदि इसकी पूऱक कंपनियां हैं। साउथ कोरिया की इस कंपनी ने दुनिया भर में अपना नाम चमकाया है। साउथ कोरिया से निकल कर विदेशो में भी इस कंपनी ने अपना व्यापार किया और आज सफलता के उस पायदान पर खड़ी है जहाँ पहुँचने का सपना हर कंपनी देखती है। 1938 में शुरू की गयी इस कंपनी को आज कौन नहीं जानता है, टेक्नोलॉजी के ही व्यापार में इस कंपनी ने अपना नाम बनाया है। 

ली ब्युंग-चुल Lee Byung-chul अब सैमसंग कंपनी के मालिक है। उनका जन्म 1910 में साउथ कोरिया के एक शहर में हुआ था। उन्होंने इस कंपनी की शुरुवात 1 मार्च 1938 में की थी। सैमसंग समूह का मुख्यालय सैमसंग टाउन, सियोल Samsung Town, Seoul में स्थित है। इसमें कई सम्बंधित व्यवसाय शामिल हैं,उनमें से अधिकांश सैमसंग ब्रांड के तहत एकजुट हैं। सैमसंग कंपनी लगभग 80 देशों में है और लगभग 489,000 लोगो को रोजगार देती है। सैमसंग मेड इन इंडिया प्रोडक्ट्स (Samsung Company ke Indian Products) जैसे -सैमसंग टीवी, मोबाइल, फ्रिज, वाशिंग मशीन आदि हैं। सैमसंग भारत में मोबाइल फोन का निर्माण कर रहा है। 2007 के बाद से, एकमात्र ऐसा ब्रांड है जो वास्तव में भारत में बना है। सैमसंग कंपनी ने अपना पहला विद्युत अत्पादन 1970 में बनाया था और वो एक 12 इंच का ब्लैक एंड व्हाइट टीवी था। सैमसंग कंपनी अपने 90% उत्पादन खुद ही बनाती है। 2020 के अनुसार सैमसंग कंपनी का टर्नओवर लगभर 78,651.20 crore है। सैमसंग कंपनी की सबसे बड़ी कंपनी नोयडा उत्तरप्रदेश मे है। 

Market Cap Value- $140.1 Billion Dollar

8- बर्कशायर हैथवे इंक Berkshire Hathaway Inc. 

Warren Buffett को कौन नहीं जानता है। वॉरेन बफेट (warren buffett) आज की तारीख में किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं। इन्हें आज दुनिया Stock Market का King मानती है। दुनिया के सबसे महंगे शेयर वाली कंपनी Berkshire Hathaway Inc. के प्रमुख वॉरेन बफेट ही हैं। उन्होंने यह कंपनी शुरू की और धीरे-धीरे इसे बहुत बड़े मुकाम पर पहुँचाया। वर्तमान समय में Berkshire Hathaway Inc. के पास प्रमुख अमेरिकी एयरलाइन वाहक की एक बड़ी हिस्सेदारी है। जिसका मुख्यालय ओमाहा, नेब्रास्का, अमेरिका Omaha, Nebraska, US में है। बर्कशायर हैथवे बीमा, रेल परिवहन, ऊर्जा उत्पादन और वितरण, विनिर्माण और खुदरा बिक्री में व्यवसायों का मालिक है। बीमा सबसे अधिक राजस्व उत्पन्न करता है, लेकिन विनिर्माण करों से पहले सबसे अधिक आय उत्पन्न करता है। Berkshire Hathaway Inc. एक होल्डिंग कंपनी हैं. इसकी कई सब्सिडियरी कंपनियां हैं जो विभिन्न तरह के कारोबार में लगी हुई हैं। इसकी सब्सिडियरी कंपनियां कंपनियां इंश्योरेंस और Reinsurance, यूटिलिटी और एनर्जी, फ्रेट रेल ट्रांसपोर्टेशन, मैन्यूफैक्चरिंग और रिटेलिंग जैसे सेक्टर्स में सक्रिय है। 

इस कंपनी का केवल एक शेयर आपको करोड़पति बना देगा। एक शेयर की जितनी कीमत है, एक आम आदमी पूरी जिंदगी में उतनी कमाई नहीं कर पाता है। इसके एक शेयर में आप घर, गाड़ी, नौकर-चाकर, बैंक बैलेंस और ऐशो आराम की सभी चीजें जुटा सकते हैं। इस शेयर को खरीदना तो आम आदमी केवल सपना रहता है। दिग्गज निवेशक वॉरेन बफेट को दुनियाभर में लोग फॉलो करते हैं। कहा जाता है कि जिस कंपनी में वॉरेन बफेट निवेश करते हैं, उसके दिन बदल जाते हैं। Berkshire Hathaway Inc. अमेरिका के अलावा चीन में विस्तार की योजना बना रही है। वॉरेन बफेट ने जब 1965 में इस टेक्सटाइन कंपनी का कमान संभाली थी, तब इसके एक शेयर की कीमत 20 डॉलर से भी कम थी। कंपनी का सबसे ज्यादा कारोबार अमेरिका में है। कंपनी में करीब 3,72,000 कर्मचारी काम करते हैं। इस कंपनी में बफेट की 16.2 फीसदी हिस्सेदारी (Buffett Share in Berkshire Hathaway) है। फोर्ब्स मैगजीन के मुताबिक, कंपनी के स्टॉक में उछाल से बफेट 119.2 बिलियन डॉलर की संपत्ति के साथ दुनिया के सबसे अमीर लोगों की सूची में पहुंच गए हैं। Berkshire को पिछले साल 27.46 बिलियन डॉलर का मोटा मुनाफा हुआ था। 

Market Cap $ 613.79 Billion

9- अलीबाबा Alibaba

Alibaba कंपनी चीन और दुनिया की सबसे बड़ी Virtual Trading Platforms वर्चुअल ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म में से एक है। यह कंपनी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म की सहायता से आयातकों और निर्यातकों को आपस में मिलकर Business को आसान बनाती है। कंपनी Aliexpress.com की भी मालिक है जहाँ चीनी बाज़ार दुनिया भर में अपना माल बेचता हैं और इसके साथ ही Taobao Market भी चीन का सबसे बड़ा ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफ़ॉर्म है। Amazon, Apple, Samsung, Reliance हम सिर्फ इन्ही टेक-जायन्ट कंपनी के बारे में सुनते है मगर दुनिया में Alibaba नमक ऐसा भी समूह है जो इन कंपनियों से अपने प्रसिद्धि और कामो में भी आगे है। इस कंपनी को बनाने वाले jack ma , joseph c, peng lie और trudy dai हैं, इस कंपनी को 4 अप्रैल 1999 में बनाया गया था।

अलीबाबा चीन की और दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स (E-Commerce) कंपनी मानी जाती है। अलीबाबा या मूल रूप से Amazon और E-Bay की तरह सहकर्मी से सहकर्मी काम करने वाली एक विशाल टेक कंपनी है। इसे पूरी दुनिया में व्यापार से व्यापार, व्यापारी से उपभोक्ता और उपभोक्ता से उपभोक्ता को जोड़े रहने के लिए बनाया गया है। यह कंपनी ई-कॉमर्स ऑनलाइन मनी ट्रांसफर जैसे कार्य करती है इसमें वर्तमान समय में कर्मचारियों के काम करने की संख्या 70000 से भी ज्यादा हो गई है। अलीबाबा समूह के E-Commerce अलीबाबा की (Alibaba.com) जो की दुनिया का सबसे बड़ा Business To Business Treading Platform है। जोकि व्यापारी से व्यापारी को जोड़े रखता है इसका मतलब इसमें एक साधारण उपभोक्ता भाग नहीं ले सकता। अलीबाबा समूह के E-Commerce को मूल रूप से तीन हिस्सों में बांटा हुआ है जहां अलीबाबा अपने अलग अलग कामो को करता है। जिसमें पहले है टाऊ-बाउ -Taobao जिसका उद्देश्य उपभोक्ता से उपभाक्तो को जोड़े रखना है। दूसरी है टी-मॉल (T-Mall) जिसका उद्देश्य व्यापारी और उपभोक्ता को जोड़े रहने के लिए बनाया गया है और तीसरी है Alibaba जो कि व्यापारी को व्यापारी से जोड़े रहने के लिए बनाई गई है। 

इसके रिवेन्यू की बात की जाए तो वे 39.89 बिलियन डॉलर है और इसकी मार्केट कैप वैल्यू $506.02 मिलियन डॉलर है इसका कार्यालय चाइना में स्थित है।

10- टोयोटा Toyota

आज मार्केट में आपको काफी कार बेचनी वाली कंपनियां मिल जाएंगी लेकिन टोयोटा में एक अलग ही बात है। टोयोटा ने अपनी कामयाबी के बदौलत फोर्ब्स की एक सूची में Top car selling कंपनी में अपना नाम शामिल किया है। आज टोयोटा Richest Companies in The World and Most Valuable Companies दुनिया की सबसे अमीर कंपनियां और सबसे मूल्यवान कंपनियों में शामिल है। Toyota 'जापान' की कंपनी है। इसका मुख्यालय जापान के टोयोटा Toyota city में स्थित है। टोयोटा कंपनी की स्थापना Kiichiro Toyoda ने 28 अगस्त 1937 में की थी। ऑटोमोबाइल के अलावा टोयोटा ग्रुप कई और सर्विस प्रदान करती है जैसे - finance, banking, leasing आदि। ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में यह जानीमानी कंपनी है।

आज यह पूरे विश्व मे अपनी शानदार फोर व्हीलर्स के लिए जानी जाती है। इसकी कारें अपनी दमदार परफॉर्मेंस, क्वालिटी और शानदार लुक्स की वजह से आज दुनियाँ के कई देशों में पसंद की जाती है। इस कंपनी की नींव रखने के कारण कीचिरो को ही इस कंपनी का मालिक कहा जाता है। इस कंपनी की स्थापना के पहले kiichiro मशीनें बनाते थे जो इनके पिताजी ने शुरू किया था। आज toyota कंपनी की सफलता का श्रेय Kiichiro Toyoda को ही जाता है। वर्तमान में टोयोटा ग्लोबल कंपनी के प्रेसिडेंट Akio Toyoda है और इस कंपनी के चेयरमैन Takashi Uchiyamada हैं। कंपनी बस आगे बढ़ती रही और 2000 के बाद से टोयोटा ने पीछे मुड़कर नही देखा। आज टोयोटा को दुनियाँ की बडी ऑटोमोबाइल कंपनियों में गिना जाता है। टोयोटा ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में एक बड़ा ब्रांड है जो दुनियां के कई देशों में अपनी दमदार फोर व्हीलर को बेचता है। भारत में भी इसकी गाड़ियां काफी पसंद की जाती है। 

Toyota कंपनी की कुछ कार जिनके नाम हैं- Toyota Corona (1965), Toyota 2000 GT, Toyota Celica ST, Toyota Celia Supra (1983), The Lexus LS 400 - (1990), Toyota corolla GT-S - (1985), Toyota Supra Turbo - (1993), Toyota Lexus LFA -(2011) आदि।