facebook-pixel

उद्यमिता अपनी हो तो अच्छा, ना हो तो बहुत अच्छा

Share Us

11895
उद्यमिता अपनी हो तो अच्छा, ना हो तो बहुत अच्छा
09 Oct 2021
5 min read
TWN In-Focus

Post Highlight

हम यहां इस लेख के माध्यम से आपको यह बताना चाहते हैं कि अगर आप किसी उद्यमी के बने बनाए बिजनेस को अपना बनाएंगे, तो आपको क्या ख्याल रखना होगा और अगर आपने उस खयाल को नहीं रखा तो, परेशानियों का बवंडर भी खड़ा हो सकता है।

Podcast

Continue Reading..

यदि आप उद्यमिता के क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहते हैं और चाहते हैं कि आपका इस क्षेत्र में अपना वर्चस्व बने, तो इसे अपनी सोच और समझ से ही शुरू करें। अगर आप अपनी उद्यमिता किसी और के भरोसे संपन्न करेंगे, तो धोखा भी खा सकते हैं। हम यहां बात कर रहे हैं कुछ ऐसे लोगों की जो उद्यमिता में उतरना तो चाहते हैं, लेकिन वह किसी और की चलती हुई उद्यमिता में अपना हाथ डालने की कोशिश करते हैं। जहां उन्हें कई बार धोखे भी मिलते हैं। ऐसे कई उदाहरण हैं जब कई बार लोगों ने दूसरों की उद्यमिता में अपने पैर जमाने की कोशिश की लेकिन उनके हाथ सिर्फ धोखा आया। हम यहां इस लेख के माध्यम से आपको यह बताना चाहते हैं कि अगर आप किसी उद्यमी के बने बनाए बिजनेस को अपना बनाएंगे, तो आपको क्या ख्याल रखना होगा और अगर आपने उस खयाल को नहीं रखा तो, परेशानियों का बवंडर भी खड़ा हो सकता है। 

जोश में होश न खोना

अगर आप भी इस फिराक में हैं कि किसी का बना बनाया बिजनेस आप आसानी से अपने पैसे की बदौलत खरीद सकते हैं, तो यह इरादा थोड़ा भारी पड़ सकता है। कृपया जोश में होश ना खोएं, क्योंकि कई बार आप सोचते कुछ हैं और होता कुछ और है। कई बार जब आप किसी को उद्यमिता के क्षेत्र में आगे बढ़ता देखते हैं, तो आपको दूर से देख कर लगता होगा कि वाह.. क्या तरक्की हो रही है जनाब की, लेकिन जो ऊपर से दिखता है वो अंदर से भी हो, ऐसा हमेशा सही नहीं होता। कई बार अंदरूनी तौर पर कई मसले चल रहे होते हैं, जो आपको नज़र नहीं आते और कंपनी घाटे में भी हो सकती है। अगर आप भी किसी उद्यमी के व्यवसाय को खरीदना चाह रहे हैं, तो सबसे पहले जांच परख लें, उसके बाद ही निर्णय लें और अगर आपको पहले से पता है कि किसी उद्यमी का व्यवसाय फेल हो रहा है तो उसकी ज्यादा से ज्यादा जानकारी ले लें, उसके बाद ही इसमें निवेश करने की सोचें। 

कारण को समझना ज़रूरी

अगर आप किसी उद्यमी के व्यवसाय में अवसर देख रहे हैं, तो सबसे पहले आपको यह जानने की जरूरत है कि वह उद्यमी अपना व्यवसाय बेचना क्यों चाहता है। एक बात जिसकी आप अपने दिमाग में गांठ बांध सकते हैं वह यह कि कभी उस उद्यमी से जो अपना व्यवसाय बेचना चाह रहा है उससे सीधा संपर्क ना साधें, क्योंकि वह आपको गोल-मोल बातें करके जरूर फंसा लेगा और आप को उसके व्यवसाय को बेचने की असल वजह कभी पता नहीं चल पाएगी। आप अपने अनुसार खुद इस बात की खोज करें कि आखिर उसके व्यवसाय को बेचने का कारण क्या है अगर वह फेल भी हो रहा है तो उसकी भी जांच करें कि आखिर वह फेल क्यों हो रहा है। अच्छी तरह जांच करने के बाद ही निवेश के बारे में सोचा जा सकता है।

कानूनी दांव पेंच में तो नहीं फंसी कंपनी

आप जिस भी उद्यमी के व्यवसाय को खरीदने की कोशिश में लगे हैं या फिर आपका मन है कि इस व्यवसाय से जुड़कर आप अच्छा पैसा कमा सकते हैं, तो कानूनी दांवपेंच का पूरा ख्याल रखें, अगर पहले से उस व्यवसाय में कानूनी उलझन फंसी होंगी तो यह आपके लिए काफी उलझन का सफर होगा। इसलिए आप भी किसी व्यवसाय में निवेश करने से पहले कानून से जुड़े विशेषज्ञों की मदद जरूर ले लें। जब भी कानूनी कार्रवाई की बात हो आप इस विषय पर शुरुआती ध्यान दें, नहीं तो यह मसले बाद में सामने आने पर आप का रक्तचाप बढ़ा देंगे। 

कर्ज में डूबी कश्ती में सवार मत होना

कई बार आंकड़ों में सामने आया है कि कई लोग उद्यमिता इसलिए छोड़ना चाहते हैं क्योंकि वह कर्ज में डूब जाते हैं और अगर आपने ऐसी कश्ती में कदम रखा जो कर्ज में डूबी हुई है तो आप समझ सकते हैं कि आपका कितना बड़ा नुकसान हो सकता है। इसलिए ध्यान रहे कि जब आप अपना निवेश करें तो इस बात का पता बारीकी से लगा ले कि उद्यमी की कंपनी कर्ज में तो नहीं डूबी है और अगर डूबी है तो किस कदर, कहीं ऐसा ना हो कंपनी आपको बेचने के बाद उसकी नैया पार हो जाए और आप कर्ज के समंदर में डूब जाए। यहां यह समझदारी होगी कि आप यह पहले ही साफ कर लें कि जो आपको कंपनी बेच रहा रहा वह कर्ज मुक्त करके बेच रहा है या नहीं।

अगर आपने सभी बातों का ध्यान रखा और फिर निर्णय लिया तो आप फायदे के सौदे में हैं। यह भी जान लें की हर कंपनी के साथ ऐसा ही हो हम यहां ऐसी कोई बात नहीं कह रहे हैं। आप बेहिचक अपनी मनमर्जी के मुताबिक निवेश करें, लेकिन हमारी बताई गई सभी बातों का भी ख्याल जरूर रखें।

हम यहां यह बिल्कुल नहीं कहते कि आप किसी और की उद्यमिता में कदम रखकर आगे नहीं बढ़ सकते, बेशक बढ़ सकते हैं। यहां हमारा मकसद सिर्फ आपको सचेत करना था। अगर आप भी किसी दूसरे के स्टार्टअप को खरीद कर आगे कदम रखेंगे तो आपको समझदारी का परिचय देना आवश्यक है।