उद्यमशीलता की सफलता के कुछ सिद्धांत

Share Us

2593
उद्यमशीलता की सफलता के कुछ सिद्धांत
29 Dec 2021
8 min read

Blog Post

आर्थिक उन्नति उन लोगों के द्वारा सम्भव व विकसित हो पाई है जो उद्यमी हैं व नई पद्धति को अपनाने वाले हैं, जो सुअवसर का लाभ उठाने वाला तथा जोखिम उठाने के लिए तैयार है। उद्यमशीलता entrepreneurship बदलाव, सृजनात्मक, निपुणता और परिवर्तन से जुड़ी हैं। उद्यमशीलता का मतलब है लोगों को रोजगार उपलब्ध कराना, अनुसंधान Research और विकास प्रणाली में योगदान, अर्थव्यवस्था में अपना योगदान देकर राष्ट्र के निर्माण में अहम भूमिका निभाना आदि बहुत से कार्य हैं लेकिन ये सारे कार्य एक उद्यमी तभी कर सकता है जब उसे ये पता हो कि उद्यमिता में सफल होने के लिए किन-किन गुणों की आवश्यकता होती है ।

उद्यमिता वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा या तो कोई व्यक्ति या एक टीम एक व्यावसायिक अवसर की पहचान करती है और इसके दोहन के लिए आवश्यक संसाधनों को प्राप्त और तैनात करती है। उद्यमिता मूल्य का सृजन या निष्कर्षण है। एक उद्यमी वह व्यक्ति होता है जो एक नए विचार या आविष्कार को एक सफल नवाचार innovation में बदलने के लिए इच्छुक और सक्षम होता है। उद्यमिता entrepreneurship नये संगठन को आरम्भ करने की भावना को कहते हैं। उद्यमिता में एक तरफ भरपूर लाभ कमाने की सम्भावना होती है तो दूसरी तरफ जोखिम, अनिश्चितता और अन्य खतरे की भी प्रबल संभावना होती है। एक उद्यमी बनने के लिए आपके पास कुछ गुण होने चाहिए। उद्यमशीलता नये विचारों को पहचानने, विकसित करने एवं उन्हें वास्तविक स्वरूप प्रदान करने की क्रिया है। ये सब कुछ तभी संभव है जब आपमें एक सफल उद्यमी के गुण हों। कुल मिलाकर हम ये कह सकते हैं कि एक उद्यमी अपने क्षेत्र में तभी सफल हो सकता है जब उसको ये पता हो कि सफल होने के लिए उसे क्या-क्या करना है और वो कौन कौन से गुण या सिद्धांत हैं जो एक उद्यमशीलता entrepreneurship की सफलता के लिए जरुरी हैं। तो चलिए जानते हैं सफलता के उन गुणों के बारे में जो एक उद्यमी को सफलता की ऊंचाइयों को छूने के लिए अत्यंत आवश्यक हैं।

कड़ी मेहनत और दृढ़ दृष्टिकोण

एक उद्यमी entrepreneur को सफलता पाने के लिए सबसे पहले कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। कई बार ऐसा भी होता है कि कड़ी मेहनत करने के बाद भी सफलता नहीं मिल पाती है और एक उद्यमी यहीं पर हार मान जाता है। लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए। अपने तरीके में थोड़ा बदलाव लायें और मेहनत करना जारी रखें। अपना दृष्टिकोण दृढ़ रखें। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपको उच्च उपलब्धि जरूर प्राप्त होगी। इस प्रकार एक सफल उद्यमी वह है जो कड़ी मेहनत और उच्च उपलब्धि की अपनी इच्छा के साथ सभी निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करता है।

उचित प्रबंधन

एक सफल उद्यमी को एक प्रबंधक के रूप में भी काम करना पड़ता है। कई उद्यमी अक्सर व्यवसाय चलाने की ज़मीनी हक़ीक़त में खुद को शामिल नहीं करते हैं और इसे दूसरों पर छोड़ देते हैं। हर उद्यमी के लिए अपने व्यवसायों का प्रबंधन करना अत्यंत आवश्यक है। प्रत्येक उद्यमी को सही management की जानकारी होनी चाहिए। management को बिज़नेस के हर क्रियाकलापों में पूरी भागीदारी रखनी चाहिए। उद्यमी को कई प्रबंधकीय गतिविधियाँ करनी पड़ती हैं जैसे योजना planning, आयोजन, स्टाफ staff, कर्मचारी भर्ती, उत्पादन production, वित्त finance, बिक्री sales, निर्देशन और दूसरों को नियंत्रित करना। ये सभी चीज़ें उद्यमशीलता की सफलता के लिए आवश्यक हैं।

जोखिम लेना

कोई भी व्यवसाय ऐसा नहीं है जिसमें जोखिम risk नहीं उठाना पड़ता है। उद्यमी को ऐसे व्यक्ति के रूप में माना जाता है जो भविष्य की परिस्थितियों के बारे में अनिश्चितता की स्थिति में किसी व्यवसाय के संचालन का जोखिम उठाता है। यह आवश्यक नहीं है कि प्रत्येक व्यवसाय में लाभ ही हो। कभी-कभी आपको हानि भी उठानी पड़ सकती है। कोई भी जोखिम व्यक्ति के कार्यों में बाधा बनने का काम करता है। एक उद्यमी को सदैव जोखिम उठाने के लिए आगे बढ़ना चाहिए तभी जाकर वह सफलता प्राप्त कर सकता है। क्योंकि ये सब जानते हैं कि जितने भी सफल व्यवसायी successful businessman हैं सबने अपने व्यवसायों के शुरुआती दिनों में भारी जोखिम उठाया था तभी जाकर वे सफल हुए हैं।

आत्मविश्वास

एक उद्यमी को कई बार खुद ही निर्णय लेने पड़ते हैं। अगर उनका आत्मविश्वास कमजोर पड़ जाता है तो वह सही निर्णय लेने में असमर्थ हो सकता है इसलिए उद्यमी को हमेशा आत्मविश्वास Self-confidence से भरपूर होना चाहिए। हर इंसान को जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए अपने आप में आत्मविश्वास उत्पन्न करना चाहिए। अगर उद्यमी के अंदर आत्मविश्वास है तो वह समस्याओं का तुरंत आत्मविश्वास के साथ समाधान कर लेते हैं और उसके उद्देश्य क्या हैं वे भली भाँति जानते हैं। आत्मविश्वास से भरपूर उद्यमी अपने साथ-साथ दूसरों को भी कार्य करने के लिए प्रेरित कर सकता है। आत्मविश्वास की बदौलत वे भविष्य की किसी भी अप्रत्याशित समस्या पर काबू पाने में भी सक्षम होते हैं।

दूरदर्शिता

एक उद्यमी को सफलता प्राप्त करने के लिए दूरदर्शिता farsightedness का गुण होना आवश्यक है। क्योंकि उसे वर्तमान के साथ-साथ भविष्य के बारे में भी सोचना पड़ता है। जैसे कि उसे प्रतिस्पर्धियों Competitors के बारे में भी सोचना पड़ेगा कि आने वाले समय में मार्केट market में क्या स्थिति रहेगी। उसे व्यावसायिक वातावरण और उसके व्यवसाय की भविष्य में क्या संभावना है इस बारे में भी सोचना पड़ता है। इसके अलावा बाजार की प्रवृत्ति market trend और ग्राहक की मांग customer demand के बारे में भी एक उद्यमी की अच्छी दूरदर्शिता होनी चाहिए। कह सकते हैं कि उद्यमी को दुनिया से कुछ अलग बनने के लिए और सफल होने के लिए भविष्य में होने वाले परिवर्तनों की संभावना के बारे में सोचना चाहिए और इसके लिए तैयार भी रहना चाहिए। क्योंकि यह दूरदर्शिता का गुण भविष्य में उसके व्यवसाय में मदद करने में सहायक सिद्ध होगा।