facebook-pixel
Startup Initiative

आत्मनिर्भर भारत

Startup Initiative

आत्मनिर्भर भारत

self-dependent-india

Post Highlights

आत्मनिर्भर भारत के प्रधानमन्त्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी की भारत को एक आत्मनिर्भर राष्ट्र बनाने सम्बन्धी एक सुंदर दृष्टिकोण vision है। इस योजना की सबसे अच्छी बात यह है कि आत्मनिर्भर भारत’ के निर्माण में वैश्वीकरण का बहिष्कार नहीं किया जाएगा अपितु विकास में मदद की जाएगी। इस लेख के माध्यम से आत्मनिर्भर भारत अभियान 1.0, 2.0 तथा 3.0 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। 

पराधीन सपनेहुँ सुख नाही (Dependent dreams are not happiness) शायद इसी सोच के साथ भारत के प्रधानमन्त्री माननीय श्री नरेंद्र मोदी ने भारत के हर हुनर को, हर कला को आत्मनिर्भर होने का स्वप्न दिखाया है। आत्मनिर्भर भारत scheme, भारत के प्रधानमन्त्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी की भारत को एक आत्मनिर्भर राष्ट्र बनाने सम्बन्धी एक सुंदर दृष्टिकोण (vision ) है। पहली बार इसका सार्वजनिक उल्लेख उन्होने 12 मई 2020 को किया था जब वे कोरोना वायरस C -19  जैसी माहमारी से सम्बंधित एक आर्थिक पैकेज की घोषणा कर रहे थे। आशा की जा रही है कि यह अभियान covid-19 महामारी संकट से लड़ने में निश्चित रूप से एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा और एक आधुनिक भारत की पहचान बनेगा। अब हर छोटा बड़ा हुनरमंद भारतीय बन सकेगा-आत्मनिर्भर। 

इस योजना की सबसे अच्छी बात यह है कि आत्मनिर्भर भारत’ Atmanirbhar Bhaarat के निर्माण में वैश्वीकरण globalization का बहिष्कार नहीं किया जाएगा अपितु विकास में मदद की जाएगी। 

मिशन को दो चरणों में लागू किया जाएगा। प्रथम चरण में चिकित्सा, वस्त्र, इलेक्ट्रॉनिक्स, plastic, खिलौने जैसे क्षेत्रों को प्रोत्साहित किया जाएगा ताकि स्थानीय विनिर्माण और निर्यात को बढ़ावा दिया जा सके। द्वितीय चरण में रत्न एवं आभूषण, pharma, steel क्षेत्रों को प्रोत्साहित किया जाएगा।

महामारी और lockdown के कारण देश आर्थिक संकट में आ गया था। इस आर्थिक संकट से देश को निकालने के लिए सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत अभियान आरंभ किया गया था। आत्मनिर्भर भारत अभियान 1.0 की सफलता के बाद भारत सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत अभियान 2.0 तथा आत्मनिर्भर भारत अभियान 3.0 लॉन्च किया गया है। इस लेख के माध्यम से आत्मनिर्भर भारत अभियान 1.0, 2.0 तथा 3.0 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। इसे पढ़कर आपको आत्मनिर्भर भारत अभियान से संबंधित संपूर्ण जानकारी प्राप्त होगी। जैसे कि आत्मनिर्भर भारत अभियान क्या है? इसके लाभ, विशेषताएँ, पात्रता, आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत आने वाली योजनाएँ, आवेदन प्रक्रिया, आदि।

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग (Micro, Small and Medium Enterprises)

सूक्ष्म या माइक्रो इकाई में निवेश की ऊपरी सीमा 1 करोड़ रुपये और turnover 5 करोड़ रुपये होना चाहिए। लघु इकाई में निवेश की ऊपरी सीमा 10 करोड़ रुपये और turnover 50 करोड़ रुपये होना चाहिए। मध्यम इकाई में निवेश की ऊपरी सीमा 50 करोड़ रुपये और 250 करोड़ का turnover होना चाहिए।

संकटग्रस्त MSME के लिए 20 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया, इससे 2 लाख MSME को मदद मिलेगी। MSME के लिए 3 लाख करोड़ रुपये की आपातकालीन कार्यशील पूँजी सुविधा दी गई है। सरकार और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों द्वारा 45 दिन के भीतर MSME  के बकायों का भुगतान करना होगा। सूक्ष्‍म खाद्य उद्यमों Ministry of food processing को औपचारिक रूप देने के लिए 10 हजार करोड़ रुपये की योजना शुरू की गई।  MSME की सहायता और कारोबार के नए अवसर के लिए ‘Championsपोर्टल लॉन्च किया गया है।

vocal for local 

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने रेडियो पर प्रसारित होने वाले अपने मासिक कार्यक्रम 'मन की बात' के 82वें एपिसोड में एक बार फिर से 'वोकल फॉर लोकल' पर जोर दिया है। पिछले वर्ष भारत ने कोरोना वैक्सीन की 100 करोड़ डोज पूरी होने की उपलब्धि पर राष्ट्र के नाम संबोधन किया था, तब भी इसपर जोर दिया था और बताया गया था कि किस तरह से देश को टीकाकरण (vaccination ) से इतनी बड़ी सफलता हासिल हो सकी है। जब उन्होंने आने वाले महत्वपूर्ण त्योहारों को लेकर भी इस मुद्दे को उठाया है तो लोगों को खरीदारी करते समय स्वदेशी (local ) सामानों की खरीद पर जोर देने की अपील की। 

प्रधानमन्त्री स्वनिधि योजना

prime minister स्वनिधि योजना, इस योजना के अंतर्गत रेहड़ी पटरी वालों को सरकार द्वारा 10,000 रूपये का ऋण मुहैया कराया जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत दी जा रही अल्पकालिक सहायता 10,000 रुपया छोटे सड़क विक्रेताओं को अपना काम फिर से शुरू करने में सक्षम बनाएंगे। इस योजना के ज़रिये भी आत्मनिर्भर भारत अभियान को गति मिलेगी।

आत्मनिर्भर भारत अभियान 3.0 2021-22 का बजट

1 फरवरी 2021 को भारतीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा आम बजट की घोषणा की गई है।आत्मनिर्भर भारत में पिछले वर्ष कोरोना वायरस संक्रमण के चलते अर्थव्यवस्था को बल प्रदान करने के लिए आरंभ किया गया था। आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत सरकार एवं रिजर्व बैंक के द्वारा 27.1 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया गया है। यह भी बताया गया कि पिछले वर्ष आत्मनिर्भर भारत अभियान के 3 package लांच किए गए थे जो अपने आप में ही 5 मिनी बजट के बराबर थे।

आत्मनिर्भर भारत अभियान निम्नलिखित 5 स्तंभों पर आधारित है।

1. अर्थव्यवस्था (economy)

2. अवसंरचना (infrastructure)

3. प्रौद्योगिकी संचालित प्रणाली (technology driven method )

4. जीवंत जनसांख्यिकी (vibrant demography)

5. मांग (demand)

आत्मनिर्भर भारत कई अलग-अलग चरणों में launch किया गया, जिसमें कई सारी योजनाएँ जनहित में लागू की गई हैं, जैसे-

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड one nation one ration card : इस योजना के अंतर्गत पूरे भारत में एक ही राशन कार्ड से राशन की किसी भी दुकान से राशन खरीदा जा सकता है। वन नेशन वन राशन कार्ड 1 सितंबर 2020 से लॉन्च किया गया था। 

पीएम सवनिधि योजना: सवनिधि योजना PM Savanidhi Scheme के अंतर्गत 13.78 लाख के loans, street vendors को वितरित किए गए हैं। जो कि 1373.33 करोड़ रुपए के हैं। यह लोग 30 राज्यों में तथा 6 केंद्र शासित प्रदेशों union territories में वितरित किए गए हैं।

किसान क्रेडिट कार्ड योजनाकिसान क्रेडिट कार्ड योजना के अंतर्गत अब तक 157.44 लाख किसानों को 1,43,262 करोड़ रुपए का लोन प्रदान किया गया है।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना (PMSSY) : प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana (PMSSY) के अंतर्गत अब तक 1681.32 करोड रुपए का लोन वितरित किया गया है।

नाबार्ड Nabard के माध्यम से इमरजेंसी वर्किंग कैपिटल फंडिंग emergency working capital funding ECLGS किसानों के लिए:  इस योजना के अंतर्गत 25000 करोड रुपए अब तक किसानों के खाते में वितरित किए जा चुके हैं।

ECLGS 1.0: इस योजना के अंतर्गत अब तक 2.05 लाख करोड़ रुपए 61 लाख लोगों को सैंक्शन किए जा चुके हैं। जिसमें से 1.52 लाख करोड़ पर अब तक वितरित किए जा चुके हैं।

आंशिक ऋण गारंटी योजना (partial credit guarantee scheme 2.0): इस योजना के अंतर्गत अब तक पब्लिक सेक्टर बैंक ने पोर्टफोलियो की खरीद के लिए 26,899 करोड रुपए स्वीकृत कर दिए हैं।

liquidity injection for discs: इस योजना के अंतर्गत अब तक 118273 करोड रुपए का ऋण स्वीकृत किया जा चुका है। जिसमें से 31136 करोड़ रुपए का लोन वितरित किया जा चुका है।

छोटे लेकिन महत्वपूर्ण कदम 

आत्मनिर्भर भारत भारतीय सरकार द्वारा जनहित में उठाया गया एक ऐसा कदम है जिसके कारण बहुत से छोटे-छोटे कुशल कारीगरों, कलाकारों, छोटे लघु उद्योगों को काफी संबल मिला है और पुरस्कार भी, जैसे-

-गुजरात का खत्री परिवार, जिसने प्राचीन रोगन कला परम्परा को जीवित रखा, उन्हें पुरस्कृत किया गया ।

-काशी की गुलाबी मीनाकारी को जीवित रखने वाले कलाकारों को पुरस्कृत किया गया ।

 -नया भारत, नया अवसर, नई समृद्धि । 

इस प्रकार पिछले वर्ष कई प्रकार से भारत को एक नए भारत का रूप दे गया। एक नई पहचान दे गया और यह नया वर्ष भी और नई सौगातें दे जाएगा तो अगर आपको भी आत्मनिर्भर भारत का हिस्सा बनना है तो इसकी आधिकारिक website पर जाकर register करके बाकी की जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

पराधीन सपनेहुँ सुख नाही (Dependent dreams are not happiness) शायद इसी सोच के साथ भारत के प्रधानमन्त्री माननीय श्री नरेंद्र मोदी ने भारत के हर हुनर को, हर कला को आत्मनिर्भर होने का स्वप्न दिखाया है। आत्मनिर्भर भारत scheme, भारत के प्रधानमन्त्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी की भारत को एक आत्मनिर्भर राष्ट्र बनाने सम्बन्धी एक सुंदर दृष्टिकोण (vision ) है। पहली बार इसका सार्वजनिक उल्लेख उन्होने 12 मई 2020 को किया था जब वे कोरोना वायरस C -19  जैसी माहमारी से सम्बंधित एक आर्थिक पैकेज की घोषणा कर रहे थे। आशा की जा रही है कि यह अभियान covid-19 महामारी संकट से लड़ने में निश्चित रूप से एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा और एक आधुनिक भारत की पहचान बनेगा। अब हर छोटा बड़ा हुनरमंद भारतीय बन सकेगा-आत्मनिर्भर। 

इस योजना की सबसे अच्छी बात यह है कि आत्मनिर्भर भारत’ Atmanirbhar Bhaarat के निर्माण में वैश्वीकरण globalization का बहिष्कार नहीं किया जाएगा अपितु विकास में मदद की जाएगी। 

मिशन को दो चरणों में लागू किया जाएगा। प्रथम चरण में चिकित्सा, वस्त्र, इलेक्ट्रॉनिक्स, plastic, खिलौने जैसे क्षेत्रों को प्रोत्साहित किया जाएगा ताकि स्थानीय विनिर्माण और निर्यात को बढ़ावा दिया जा सके। द्वितीय चरण में रत्न एवं आभूषण, pharma, steel क्षेत्रों को प्रोत्साहित किया जाएगा।

महामारी और lockdown के कारण देश आर्थिक संकट में आ गया था। इस आर्थिक संकट से देश को निकालने के लिए सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत अभियान आरंभ किया गया था। आत्मनिर्भर भारत अभियान 1.0 की सफलता के बाद भारत सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत अभियान 2.0 तथा आत्मनिर्भर भारत अभियान 3.0 लॉन्च किया गया है। इस लेख के माध्यम से आत्मनिर्भर भारत अभियान 1.0, 2.0 तथा 3.0 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। इसे पढ़कर आपको आत्मनिर्भर भारत अभियान से संबंधित संपूर्ण जानकारी प्राप्त होगी। जैसे कि आत्मनिर्भर भारत अभियान क्या है? इसके लाभ, विशेषताएँ, पात्रता, आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत आने वाली योजनाएँ, आवेदन प्रक्रिया, आदि।

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग (Micro, Small and Medium Enterprises)

सूक्ष्म या माइक्रो इकाई में निवेश की ऊपरी सीमा 1 करोड़ रुपये और turnover 5 करोड़ रुपये होना चाहिए। लघु इकाई में निवेश की ऊपरी सीमा 10 करोड़ रुपये और turnover 50 करोड़ रुपये होना चाहिए। मध्यम इकाई में निवेश की ऊपरी सीमा 50 करोड़ रुपये और 250 करोड़ का turnover होना चाहिए।

संकटग्रस्त MSME के लिए 20 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया, इससे 2 लाख MSME को मदद मिलेगी। MSME के लिए 3 लाख करोड़ रुपये की आपातकालीन कार्यशील पूँजी सुविधा दी गई है। सरकार और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों द्वारा 45 दिन के भीतर MSME  के बकायों का भुगतान करना होगा। सूक्ष्‍म खाद्य उद्यमों Ministry of food processing को औपचारिक रूप देने के लिए 10 हजार करोड़ रुपये की योजना शुरू की गई।  MSME की सहायता और कारोबार के नए अवसर के लिए ‘Championsपोर्टल लॉन्च किया गया है।

vocal for local 

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने रेडियो पर प्रसारित होने वाले अपने मासिक कार्यक्रम 'मन की बात' के 82वें एपिसोड में एक बार फिर से 'वोकल फॉर लोकल' पर जोर दिया है। पिछले वर्ष भारत ने कोरोना वैक्सीन की 100 करोड़ डोज पूरी होने की उपलब्धि पर राष्ट्र के नाम संबोधन किया था, तब भी इसपर जोर दिया था और बताया गया था कि किस तरह से देश को टीकाकरण (vaccination ) से इतनी बड़ी सफलता हासिल हो सकी है। जब उन्होंने आने वाले महत्वपूर्ण त्योहारों को लेकर भी इस मुद्दे को उठाया है तो लोगों को खरीदारी करते समय स्वदेशी (local ) सामानों की खरीद पर जोर देने की अपील की। 

प्रधानमन्त्री स्वनिधि योजना

prime minister स्वनिधि योजना, इस योजना के अंतर्गत रेहड़ी पटरी वालों को सरकार द्वारा 10,000 रूपये का ऋण मुहैया कराया जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत दी जा रही अल्पकालिक सहायता 10,000 रुपया छोटे सड़क विक्रेताओं को अपना काम फिर से शुरू करने में सक्षम बनाएंगे। इस योजना के ज़रिये भी आत्मनिर्भर भारत अभियान को गति मिलेगी।

आत्मनिर्भर भारत अभियान 3.0 2021-22 का बजट

1 फरवरी 2021 को भारतीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा आम बजट की घोषणा की गई है।आत्मनिर्भर भारत में पिछले वर्ष कोरोना वायरस संक्रमण के चलते अर्थव्यवस्था को बल प्रदान करने के लिए आरंभ किया गया था। आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत सरकार एवं रिजर्व बैंक के द्वारा 27.1 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया गया है। यह भी बताया गया कि पिछले वर्ष आत्मनिर्भर भारत अभियान के 3 package लांच किए गए थे जो अपने आप में ही 5 मिनी बजट के बराबर थे।

आत्मनिर्भर भारत अभियान निम्नलिखित 5 स्तंभों पर आधारित है।

1. अर्थव्यवस्था (economy)

2. अवसंरचना (infrastructure)

3. प्रौद्योगिकी संचालित प्रणाली (technology driven method )

4. जीवंत जनसांख्यिकी (vibrant demography)

5. मांग (demand)

आत्मनिर्भर भारत कई अलग-अलग चरणों में launch किया गया, जिसमें कई सारी योजनाएँ जनहित में लागू की गई हैं, जैसे-

एक राष्ट्र एक राशन कार्ड one nation one ration card : इस योजना के अंतर्गत पूरे भारत में एक ही राशन कार्ड से राशन की किसी भी दुकान से राशन खरीदा जा सकता है। वन नेशन वन राशन कार्ड 1 सितंबर 2020 से लॉन्च किया गया था। 

पीएम सवनिधि योजना: सवनिधि योजना PM Savanidhi Scheme के अंतर्गत 13.78 लाख के loans, street vendors को वितरित किए गए हैं। जो कि 1373.33 करोड़ रुपए के हैं। यह लोग 30 राज्यों में तथा 6 केंद्र शासित प्रदेशों union territories में वितरित किए गए हैं।

किसान क्रेडिट कार्ड योजनाकिसान क्रेडिट कार्ड योजना के अंतर्गत अब तक 157.44 लाख किसानों को 1,43,262 करोड़ रुपए का लोन प्रदान किया गया है।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना (PMSSY) : प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana (PMSSY) के अंतर्गत अब तक 1681.32 करोड रुपए का लोन वितरित किया गया है।

नाबार्ड Nabard के माध्यम से इमरजेंसी वर्किंग कैपिटल फंडिंग emergency working capital funding ECLGS किसानों के लिए:  इस योजना के अंतर्गत 25000 करोड रुपए अब तक किसानों के खाते में वितरित किए जा चुके हैं।

ECLGS 1.0: इस योजना के अंतर्गत अब तक 2.05 लाख करोड़ रुपए 61 लाख लोगों को सैंक्शन किए जा चुके हैं। जिसमें से 1.52 लाख करोड़ पर अब तक वितरित किए जा चुके हैं।

आंशिक ऋण गारंटी योजना (partial credit guarantee scheme 2.0): इस योजना के अंतर्गत अब तक पब्लिक सेक्टर बैंक ने पोर्टफोलियो की खरीद के लिए 26,899 करोड रुपए स्वीकृत कर दिए हैं।

liquidity injection for discs: इस योजना के अंतर्गत अब तक 118273 करोड रुपए का ऋण स्वीकृत किया जा चुका है। जिसमें से 31136 करोड़ रुपए का लोन वितरित किया जा चुका है।

छोटे लेकिन महत्वपूर्ण कदम 

आत्मनिर्भर भारत भारतीय सरकार द्वारा जनहित में उठाया गया एक ऐसा कदम है जिसके कारण बहुत से छोटे-छोटे कुशल कारीगरों, कलाकारों, छोटे लघु उद्योगों को काफी संबल मिला है और पुरस्कार भी, जैसे-

-गुजरात का खत्री परिवार, जिसने प्राचीन रोगन कला परम्परा को जीवित रखा, उन्हें पुरस्कृत किया गया ।

-काशी की गुलाबी मीनाकारी को जीवित रखने वाले कलाकारों को पुरस्कृत किया गया ।

 -नया भारत, नया अवसर, नई समृद्धि । 

इस प्रकार पिछले वर्ष कई प्रकार से भारत को एक नए भारत का रूप दे गया। एक नई पहचान दे गया और यह नया वर्ष भी और नई सौगातें दे जाएगा तो अगर आपको भी आत्मनिर्भर भारत का हिस्सा बनना है तो इसकी आधिकारिक website पर जाकर register करके बाकी की जानकारी प्राप्त की जा सकती है।




Newsletter

Read and Subscribe