सार्वजनिक भाषण, डर को कैसे करें दूर

Share Us

4355
सार्वजनिक भाषण, डर को कैसे करें दूर
08 Nov 2021
8 min read

Blog Post

कुछ ‌सुझाव आपके सार्वजनिक भाषण देने के डर को दूर करने में सहायक हो सकते हैं। हालॉंकि यह कार्य कठिन है लेकिन यह आपके व्यक्तित्व को निखारने में मदद करती है और जीवन के अनेक क्षेत्रों में काम आती है।

अधिकतर लोगों के लिए सार्वजनिक तौर पर भाषण देना या बातचीत करना सबसे मुश्किल कामों में से एक होता है। भाषण देने के नाम से ही लोग घबरा जाते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार यह एक प्रकार का फोबिया माना जाता है। इस समस्या से समाधान पाने के लिए निरंतर अभ्यास की आवश्यकता होती है। परिवार व दोस्तों के सामने अभ्यास करके और खुद में आत्मविश्वास बढ़ाकर अपने भाषण को प्रभावी बनाया जा सकता है। यह निश्चित ही कठिन काम है लेकिन असंभव नहीं।

भाषण देने से क्यों घबराते हैं लोग

हम सभी में से ज़्यादातर लोगों के लिए बहुत सारे लोगों के बीच खड़े होकर कुछ बोलना या फिर भाषण देना सबसे चुनौती भरा काम है। भाषण शब्द ही मानों मन में एक घबराहट पैदा कर देता है। वैज्ञानिकों के अनुसार यह एक प्रकार का फोबिया माना जाता है, जिससे विश्व की करीब 75 प्रतिशत की आबादी ग्रसित है। कुछ लोग इससे कम प्रभावित होते हैं, लेकिन कुछ लोग इससे इस क़दर घबराते हैं कि वे किसी भी कीमत पर सार्वजनिक भाषण अथवा बोल-चाल से बचने की कोशिश करते हैं। लेकिन अपने भीतर से इस डर को दूर किया जा सकता है। लगातार प्रयास और लगन से इस डर पर काबू पाया जा सकता है।

अगर आप भी सार्वजनिक ‌तौर‌ पर‌ भाषण देने ‌या बातचीत करने से घबराते हैं तो नीचे दिए गए कुछ ‌सुझाव आपकी इसमें मदद कर सकते हैं। 

1. अभ्यास से मनुष्य चाहे तो कुछ भी हासिल कर सकता है। इसलिए इस डर से छुटकारा पाने के लिए निरंतर अभ्यास करना चाहिए। सबसे पहले छोटी शुरुआत करें। अभ्यास करने के लिए कुछ मित्रों, परिवार या छोटे समूहों के सामने भाषण का अभ्यास करें। यह आपके डर‌ को कुछ हद तक कम करने में प्रभावी हो सकता है।

2. अपने विषय को याद रखें और उसे पूर्ण आत्मविश्वास के साथ लोगों के सामने प्रस्तुत करें। यह आत्मविश्वास आपको अपने दर्शकों से जोड़े रखता है। आत्मविश्वास ‌लाने के लिए खुद से कई बार अभ्यास करें। यह आपके भाषण को निखारने में मदद करता है। 

3. केवल शब्दों को याद कर लेना आपके भाषण को आकर्षक नहीं बनाता बल्कि दर्शकों के साथ एक जुड़ाव भी भाषण की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए आवश्यक होता है। इसलिए अपने दर्शकों के साथ ऑंखों का संपर्क बनाने का प्रयास अवश्य करें। 

4. कई लोग दर्शकों के सामने खड़े होने पर घबरा जाते हैं और तेजी से बोलने लगते हैं।‌ जिसके कारण आपके प्रदर्शन पर प्रभाव पड़ता है। अपनी घबराहट और तनाव को दूर करने के लिए मंच पर भाषण देने से पहले सामने बैठे दर्शकों के कुछ सदस्यों से अपना परिचय दें। भाषण के दौरान खुद को शांत करने के लिए उन लोगों की ऑंखों में देखें। यह आपके तनाव को कुछ हद तक दूर कर सकता है।