विदेशियों को लुभाते भारतीय पर्यटन स्थल

Share Us

2894
विदेशियों को लुभाते भारतीय पर्यटन स्थल
29 Sep 2021
8 min read

Blog Post

यह थे कुछ ऐसे भारतीय पर्यटन स्थल जो‌ हूबहू विदेशी पर्यटन स्थलों जैसे दिखाई देते हैं। भारत में ऐसी और भी बहुत सी जगहें हैं जो अंतर्राष्ट्रीय जगहों से मिलती जुलती हैं। भारत को विदेशी स्थानों के साथ सबसे अच्छे पर्यटन स्थलों के रूप में भी जाना जाता है। बात यहीं खत्म नहीं होती। भारत दुनिया के सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है, जहां घूमने के लिए ऐसी जगहें हैं जो हमारे आसपास की दुनिया पेश नहीं करती हैं। केरल के शांत बैकवाटर, लद्दाख जैसी सुरम्य घाटी, हर राज्य और हर संभव भौगोलिक इलाके में अनगिनत स्मारक। भारत का परिदृश्य अपने आप में कला का एक खूबसूरत नमूना है जहां हर नुक्कड़ और कोना देखने लायक है।

भारत कई अजूबों और आश्चर्यजनक घटनाओं से भरा देश है। विदेशों में कुछ ऐसे स्थान हैं जो एक ऐसे सुंदर रहस्य की तरह प्रतीत होते हैं जो भारत में भी हूबहू देखने को मिलते हैं। भारत के पास भी विदेशी परिदृश्य जैसे ही ‌भारत में कई ऐसे स्थान हैं जो विदेशी परिदृश्यों ‌जैसे ही हैं। विदेशों के‌ खूबसूरत पर्यटन स्थलों की यात्रा करने‌ में असमर्थ लोग भारत के इन पर्यटन स्थानों का लुत्फ उठा सकते हैं। यहां तक कि कुछ ऐसे भी मनमोहक पर्यटन स्थल‌ हैं जिनकी कल्पना भारत में नहीं की जा सकती। आस-पास की दुनिया भी‌ इन्हें पेश नहीं करती।

भारत के आकर्षक पर्यटन स्थल

भारत हमेशा अपनी विविध संस्कृति और परंपराओं के लिए जाना जाता है। न केवल संस्कृति में हमारा राष्ट्र प्रकृति में भी समृद्ध है। भारत में ऐसे कई जगह हैं, जो विदेश में छुट्टियां मनाने का एहसास दिलाती हैं। हम सभी को दुनिया के सभी अजूबों का अनुभव करने का सौभाग्य नहीं मिल पाता है। चाहे वह काम के दबाव की वजह से हो या फिर कभी पैसे के कारण। इसके अलावा अंतर्राष्ट्रीय यात्रा आसान नहीं होती है।‌ वीजा की व्यवस्था और मुद्रा का आदान-प्रदान आदि समस्या भी आती हैं। लेकिन यह चिंता की बात नहीं, क्योंकि भारत में भी दुनिया के कुछ सबसे अच्छे स्थान हैं, जो विदेशी पर्यटन स्थलों का अनुभव कराते हैं। नहीं, यह कल्पना की बात नहीं है।  दुनिया के विभिन्न हिस्सों में भारत के पास वास्तव में जुड़वां परिदृश्य हैं। तो, आइए भारत में ही खूबसूरत स्थलों की खोज करने का प्रयास करें।  

1. गुरुडोंगमार झील, सिक्किम : आइसलैंड

भव्य गुरुडोंगमार झील दुनिया की 15 सबसे ऊंची झीलों में से एक है। 17,100 फीट (5212 मीटर) की ऊंचाई पर स्थित, राज्य के उत्तर में स्थित भव्य गुरुडोंगमार झील, दुनिया की 15 सबसे ऊंची झीलों में से एक है और भारत में दूसरी सबसे ऊंची झील है। यह आइसलैंड की खूबसूरत जोकुलसरलोन झील जैसा दिखता है। यह झील न केवल दर्शनीय है बल्कि माना जाता है कि इसमें अद्भुत औपचारिक गुण हैं। इसीलिए पर्यटक अक्सर झील का पानी अपने साथ ले जाते हैं। यहाँ पर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय नवंबर से जून तक का है।

2. श्रीनगर में ट्यूलिप गार्डन : एम्स्टर्डम में ट्यूलिप गार्डन

डल झील के किनारे श्रीनगर का ट्यूलिप गार्डन पूरी तरह पर्यटकों को घाटी की ओर आकर्षित करता है। श्रीनगर के ट्यूलिप गार्डन एम्स्टर्डम के ट्यूलिप गार्डन से कम खूबसूरत नहीं हैं। 15 लाख से अधिक ट्यूलिप वाला यह उद्यान ज़बरवां पहाड़ों की तलहटी में 15 हेक्टेयर में फैला हुआ है। यह एशिया का सबसे बड़ा ट्यूलिप गार्डन है। मनमोहक दृश्य, ठंडी हवा, ताजे फूल और प्रकृति की ध्वनियों के साथ यह एक तरह से परियों का देश लगता है।

3. गुलमर्ग, कश्मीर : स्विट्ज़रलैंड

गर्मी के महीने में गर्मी से राहत पाने के इच्छुक लोगों के लिए एक स्वर्ग है, गुलमर्ग। यह भारत के प्रमुख पर्यटक आकर्षणों में से एक है। यहां बर्फ से ढके पहाड़ों का नजारा काफी हद तक स्विटजरलैंड से मिलता-जुलता है। गुलमर्ग का खूबसूरत शहर श्रीनगर शहर से 32 मील (52 किमी) दूर है। यहां का एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण गुलमर्ग गोंडोला है, जो एशिया की सबसे ऊंची और सबसे लंबी केबल कार परियोजना है। यह उन लोगों के लिए एक स्वर्ग है जो एक साहसिक गंतव्य के रूप में गर्मी से आराम चाहते हैं। बर्फ का आनंद लेने के लिए घूमने का सबसे अच्छा समय दिसंबर से मार्च तक माना जाता है। अन्यथा अप्रैल, मई और जून भी घूमने के लिए आदर्श समय माना जाता है।

4. चित्रकोट झरना, छत्तीसगढ़ : नियाग्रा झरना

छत्तीसगढ़ में चित्रकोट जलप्रपात कनाडा के नियाग्रा जलप्रपात की तरह ही लुभावनी है। यह 95 फीट ऊंचा और देश का सबसे चौड़ा झरना है। बस्तर जिले का यह जलप्रपात 95 फीट (29 मीटर) ऊँचा और देश का सबसे चौड़ा जलप्रपात है। चौड़ाई में लगभग एक तिहाई कम जलप्रपात को अक्सर इसकी चौड़ाई और परिपूर्णता के लिए भारत का नियाग्रा जलप्रपात कहा जाता है। यदि जलप्रपात की पूरी महिमा के साथ यात्रा करना हो तो जुलाई और अक्टूबर के बीच के महीने आदर्श हैं। यह तब होता है जब मानसून इंद्रावती नदी को प्रफुल्लित करता है, जहां जलप्रपात स्थित है। जलप्रपात को पूरी तरह से देखने के लिए जुलाई से अक्टूबर में इस स्थान के भ्रमण पर निकल सकते हैं।  

5. कूर्ग, कर्नाटक : स्कॉटलैंड

पश्चिमी घाट की पन्ना पहाड़ियाँ स्कॉटलैंड की विशाल श्रृंखलाओं के निकट हैं। यह आधिकारिक तौर पर कोडागु के रूप में जाना जाता है और आकस्मिक रूप से इसके कभी न खत्म होने वाले हरे भरे परिदृश्य के लिए भारत के स्कॉटलैंड के रूप में नामित किया जाता है। यह लोकप्रिय हिल स्टेशन देश में कॉफी का सबसे बड़ा उत्पादक भी है। मानसून प्रेमियों को तो इस स्थान की यात्रा अवश्य करनी चाहिए क्योंकि यह भारत में सबसे अधिक वर्षा प्राप्त करने वाला स्थान है। यहॉं घूमने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मई तक है।

6. शिलांग में चेरी ब्लॉसम : जापान में चेरी ब्लॉसम फेस्टिवल

जापान के चेरी ब्लॉसम जैसा अनुभव भारत में भी किया जा सकता है। आकर्षक अंतर्राष्ट्रीय चेरी ब्लॉसम उत्सव की प्रशंसा करने के लिए नवंबर में मेघालय राज्य के आकर्षक पहाड़ी शहर शिलांग की यात्रा करनी चाहिए, जो बहुत ही खूबसूरत दिखाई पड़ता है। यहॉं अक्टूबर तक कलियाँ अंकुरित होने लगती हैं और नवंबर तक वे पूरी तरह से खिल जाती हैं, इसलिए यह मौसम इस बेहद‌ खूबसूरत नज़ारे को देखने के लिए उत्तम है। हर साल मेघालय की राजधानी शिलांग में अंतर्राष्ट्रीय चेरी ब्लॉसम का फेस्टिवल भी आयोजित किया जाता है, जिसमें लाइव संगीत, पेजेंट, नृत्य गायन और अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं, साथ ही स्टॉल भी होते हैं जहॉं स्थानीय व्यंजनों के नमूनों का आनंद लिया जा सकता है।

7. सहारा मरुस्थल: थार मरुस्थल

 अंतहीन टीलों और सितारों से भरी रातों वाला भारत का सहारा रेगिस्तान किसी थार रेगिस्तान से कम नहीं है। यह ग्रेट इंडियन डेजर्ट के रूप में भी जाना जाता है और उत्तर-पश्चिमी रेगिस्तान 77,000 वर्ग मील (200,000 वर्ग किमी) के क्षेत्र को कवर करता है और दुनिया में 18वां सबसे बड़ा और सबसे घनी आबादी वाला स्वर है। अत्यंत ही शुष्क रेगिस्तानी भूमि, सहारा रेगिस्तान में महान थार रेगिस्तान की गर्मी का अनुभव होता है। पाकिस्तान की सीमा से लगा यह शानदार इलाका सहारा रेगिस्तान जितना खूबसूरत है। भूरे रंग के टीलों के असंख्य रंगों के ख़िलाफ़ सूरज का ढलता हुआ दृश्य और ऊंट सवारी अत्यंत ही आनंदमयी है। घूमने के लिए दिसंबर से जनवरी का समय सबसे अच्छा है।

8. अंडमान और निकोबार द्वीप : को-फी-फी द्वीप

इस द्वीप को भारत के को फी फी द्वीप के नाम से भी जाना जाता है। अंडमान में बिना वीजा पर पैसा खर्च किए भारत में थाईलैंड शहर का पता लगाया जा सकता है। अंडमान द्वीप समूह के आस-पास कुछ बेहतरीन स्कूबा डाइविंग स्थान हैं, साथ ही आस-पास की हर चीज़ नीले और हरे रंग में रंगी हुई हैं, इसलिए इसका अनुभव करने के लिए थाईलैंड के लिए उड़ान भरने की आवश्यकता नहीं है। खूबसूरत परिवेश के साथ भारत में भी इसी नजारे का आनंद लिया जा सकता है।

9. खज्जियार, हिमाचल प्रदेश : स्विट्ज़रलैंड

खज्जियार हिमाचल प्रदेश में स्थित है और इसे भारत के मिनी स्विट्जरलैंड के रूप में भी जाना जाता है। स्विट्जरलैंड के समान जलवायु का अनुभव करने के लिए यहां सर्दियों में यात्रा करना बेहतर होता है। खज्जियार जाने का सबसे अच्छा समय सर्दी का मौसम है। यहां पर बर्फबारी के कारण बर्फ पर चलते हुए और तस्वीरें क्लिक करते हुए अपने चारों ओर बर्फ की रेखा का आनंद लिया जा सकता है।‌ चंबा में छोटा पठार समुद्र तल से 6,500 फीट (1,981 मीटर) की ऊंचाई पर स्थित है। हरे-भरे परिवेश के साथ सुंदर मौसम इसे एक लोकप्रिय हनीमून और छुट्टी का गंतव्य बनाता है। बीच में एक झील के साथ घने देवदार और देवदार के जंगल हिल स्टेशन के आकर्षण को बढ़ाते हैं जिसे "मिनी स्विट्जरलैंड" के नाम से जाना जाता है। यहॉं घूमने का सबसे अच्छा समय अप्रैल से अक्टूबर तक है।

10. श्रीनगर में तैरता बाज़ार : बैंकॉक में तैरता बाज़ार

हमारी मातृभूमि में कुछ ऐसा है जो बैंकॉक के तैरते बाज़ारों के समान है, जो अत्यअधिक शानदार है। वह है श्रीनगर की डल झील का शानदार तैरता बाज़ार। कश्मीर के बीचों-बीच बसे श्रीनगर के तैरते बाज़ार को दुनिया के सबसे अच्छे तैरते बाज़ारों में से एक माना जाता है। इस बाज़ार की हलचल के बीच भी एक दुर्लभ शांति है, जो आपके दिमाग में उमंग भर देगी। डल झील अपने सुरम्य स्थान के लिए प्रसिद्ध है जो पानी पर शिकारा की सवारी प्रदान करती है। श्रीनगर में तैरते बाज़ार के आसपास करने के लिए बहुत सी चीजें हैं। बैंकॉक जाने की योजना बनाने वालों के लिए यह स्थान बहुत ही सुन्दर है, जहॉं बैंकॉक का लुत्फ उठाया जा सकता है।