facebook-pixel

एलोवेरा से स्वास्थ्य पर होते फायदे और नुकसान

Share Us

697
एलोवेरा से स्वास्थ्य पर होते फायदे और नुकसान
06 Sep 2021
9 min read
TWN Special

Post Highlight

प्रत्येक वस्तु लाभ और हानि साथ में लेकर चलती है, यह हम पर निर्भर करता है कि हम उसका इस्तेमाल लाभ के लिए करते हैं या उससे खुद को हानि पहुंचाते हैं। यदि हम संतुलित मात्रा में किसी चीज़ को प्रयोग में लें तो हमें उससे कोई नुकसान नहीं होगा। एलोवेरा से फायदे हैं तो नुकसान भी हैं, परन्तु हम उससे होने वाली हानि को नजरअंदाज करके एलोवेरा के गुणों का पूरी तरह से फायदा नहीं उठा पाते।    

Podcast

Continue Reading..

दुनिया में प्रत्येक वस्तु के कुछ फायदे और कुछ नुकसान अवश्य होते हैं। एक वस्तु चाहे कितना भी गुणकारी क्यों न हो, उसमें कुछ न कुछ खामियां निश्चित रूप से होती हैं। कृषि आयुर्वेद के क्षेत्र में भी विभिन्न प्रकार के पौधों का उत्पादन करके अपना योगदान देती है। ऐसे कई पौधे हैं जिनका उपयोग चिकित्सा में दवा के रूप में किया जाता है। जिस प्रकार खेत में जरूरत से ज्यादा सिंचाई कर देने पर पूरी फसल नष्ट हो जाती है। उसी प्रकार यदि किसी औषधीय पौधे को अधिक मात्रा में उपचार के लिए प्रयोग में लिया जाय तो वह हानि पहुंचाती है। किसी भी वस्तु का ज़रूरत से ज्यादा इस्तेमाल हानिकारक ही होता है। मनुष्य अपने शरीर की देखभाल के लिए कई उपाय करता है। परन्तु कभी-कभी इस जतन में हम अपने शरीर को ज्यादा नुकसान पहुंचाते हैं। कृषि से उत्पादित किये जाने वाला एलोवेरा का पौधा कई औषधीय गुणों से भरा होता है। परन्तु इसका उपचार के लिए लगातार ज़रूरत से ज्यादा इस्तेमाल शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है।  


एलोवेरा से नुकसान पर नहीं जाता ध्यान 

एलोवेरा कई गुणों की खान है। यह कई रोगों के उपचार के साथ हमारी त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह हमारे शरीर को स्वस्थ रखता है और हमें कई रोगों से ग्रसित होने से बचाता है। एलोवेरा के प्रत्येक जगह आसानी से उपलब्ध होने के कारण लोग बड़ी तत्परता से इसका इस्तेमाल करते हैं। अधिकतम लोगों को यही लगता है कि एलोवेरा से केवल लाभ होता है। वह इस्तेमाल करते वक़्त इसकी मात्रा और कितने समय तक इसका इस्तेमाल करना चाहिए इस बात पर ध्यान नहीं देते। इससे कोई नुकसान होगा इससे ज़्यादातर लोग अंजान रहते हैं। 

एलोवेरा कम करता वजन और शरीर में पानी की उपलब्धता  

एलोवेरा के जूस को वजन कम करने का बहुत अच्छा उपचार माना जाता है। यही कारण है कि दुनिया में कई लोग अपने शरीर की आकृति सही बनाये रखने के लिए इसका उपयोग करते हैं। परन्तु यदि एलोवेरा के जूस का अधिक मात्रा में इस्तेमाल किया जाता है तो व्यक्ति के शरीर में पानी की कमी होने लगती है तथा वह अक्सर चक्कर आने जैसी परेशानी का सामना करते हैं।      

मधुमेह में लाभदायक, कम रक्तचाप के लिए खतरा 

मधुमेह की परेशानी में एलोवेरा बहुत लाभदायक होता है। इसके उपयोग से शुगर स्तर नियंत्रित रहता है। इसके साथ ही अधिक रक्तचाप वाले व्यक्ति को डॉक्टर एलोवेरा के जूस का सेवन करने का सुझाव देते हैं। यह उनके रक्तचाप को कम करने का काम करता है। परन्तु यह उन लोगों के लिए नुकसानदेह है जिनका पहले से रक्तचाप कम है। इससे जान जाने का खतरा होता है। कम रक्तचाप वाले व्यक्ति को एलोवेरा के सेवन से बचना चाहिए। 

गर्भवती महिलाओं के लिए हानिकारक 

महिलाओं को गर्भधारण के समय एलोवेरा के सेवन से दूर रहने की सलाह दी जाती है। एलोवेरा में त्वचा को संकुचित करने की क्षमता होती है। महिलाओं में इसके सेवन से गर्भाशय संकुचित होने की अत्यधिक सम्भावना रहती है। इस परिस्थिति में बच्चे पैदा होने के समय समस्या आती है या गर्भपात कराना पड़ जाता है। गर्भवती महिलाएं एलोवेरा से दूर रहें तो वो और उनका बच्चा सुरक्षित रहेंगे। 

एलोवेरा से डेटोक्सिडेशन में बाधा 

एलोवेरा शरीर की क्रियाओं को सुचारु रूप से चलने में मदद करता है। परन्तु इसमें मौजूद एक्टिव कंपाउंड डिटोक्सिडेशन में बाधा उत्पन करते हैं। इससे लीवर से जुड़ी कई बीमारियां हो सकती हैं। जिन लोगों को लीवर से जुड़ी कोई समस्या हो उन्हें एलोवेरा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। एलोवेरा के अधिक इस्तेमाल से पेट दर्द की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

त्वचा की बीमारियों को करता दूर 

हम एलोवेरा का उपयोग अपनी त्वचा को मुलायम बनाये रखने और उस पर चमक लाने के लिए करते हैं। एलोवेरा त्वचा से जुड़े कई रोगों के लिए और सामान्यतः भी  बहुत लाभदायक होता है। एलोवेरा के इस्तेमाल से चेहरे पर मौजूद दाग-धब्बे ख़त्म हो जाते हैं। परन्तु कुछ लोगों को एलोवेरा से एलर्जी होती है, यदि वह एलोवेरा को उपयोग में लेते हैं तो उन्हें त्वचा पर खुजली, आँखों में जलन जैसी परेशानी होती है। एलोवेरा बालों को झड़ने से रोकने में मदद करता है। 

IBM की परेशानी से जूझ रहे लोगों को एलोवेरा के उपयोग से दूर रहना चाहिए। यह उनकी मुश्किलों को और बढ़ा सकता है। व्यक्ति को डायरिया की बीमारी हो सकती है, पेट ख़राब हो सकता है।