Non Profit Organisation: समाज कल्याण और समाज सेवा के लिए प्रतिबद्ध

Share Us

12909
Non Profit Organisation: समाज कल्याण और समाज सेवा के लिए प्रतिबद्ध
28 Jul 2023
6 min read

Blog Post

जितने भी संगठन या संस्थाएं होती हैं उन सबका बस एक ही उद्देश्य होता है, अधिक से अधिक प्रॉफिट या लाभ कमाना, लेकिन ऐसे भी कुछ संगठन या संस्थाएं हैं जिनका उद्देश्य समाज कल्याण और समाज सेवा करना होता है।

यानि ये संगठन लाभ के उद्देश्य के लिए काम नहीं करते हैं और इन्हें ही Non Profit Organisation गैर लाभकारी संगठन कहा जाता है। इसकी मूल भावना के कार्य सामाजिक उत्थान, स्वच्छता, पर्यावरण, जल संरक्षण, शिक्षा, संस्कृति, सामाजिक कुरीतियों को दूर कर सभ्य एवम्ं शिक्षित समाज और जिम्मेदार नागरिकों का निर्माण कर उच्च समाज का निर्माण करना है।

आज इस आर्टिकल में आप इसी नॉन प्रॉफिट ऑर्गेनाईजेशन के बारे में विस्तार से जानेंगे।

भारत में या पूरे विश्व में ऐसे कई गैर सरकारी संगठन (Non Profit Organisation) हैं जो समाज में कई अच्‍छे कार्य कर रहे हैं। ये संगठन वंचित समुदायों के जीवन का ख़ास हिस्सा बन रहे हैं, जिसकी वजह से इन लोगों के जीवन में बदलाव आ रहा है।

तो आज इस आर्टिकल में गैर लाभकारी संगठन Non Profit Organisation क्या है और ये संगठन कैसे काम करते हैं विस्तारपूर्वक जानेंगे। 

गैर-लाभकारी संगठन क्या है? हिंदी में जानें (Non Profit Organisation Meaning In Hindi)

बड़ा सवाल यह है कि गैर लाभकारी संगठन क्या होता है? (non profit organisation kya hota hai). बिना लाभ कमाने के उद्देश्य without profit motive से स्थापित की गयी संस्था अलाभकारी संस्था या गैर-लाभकारी संगठन कहलाते हैं।

यानि कोई भी ऐसी संस्था या संगठन जिसकी स्थापना लाभ कमाने के उद्देश्य से नहीं की जाती है बल्कि समाज का कल्याण व समाज सेवा Social welfare and social service के लिए की जाती है, गैर लाभकारी संगठन कहलाते हैं। 

गैर-लाभकारी संगठन हिंदी में (non profit organisation in hindi) कई नामों से जाना जाता है जैसे -गैर लाभकारी संस्था, लाभ न कमाने वाली संस्था, गैर व्यापारिक संस्था, NGO तथा अलाभकारी संस्था आदि। इन सबके अर्थ और कार्य लगभग एक होते हैं। 

गैर-लाभकारी संगठन, सार्वजनिक संगठनों के विकल्प के रूप में उभरे हैं। इस तरह के संगठनों के कार्यक्रमों में नि:शुल्क कानूनी सलाह और कानूनी समर्थन के कार्य होते हैं।

ये संगठन स्वतंत्र और स्वयं के माध्यम से लोगों और समाज हित में निस्वार्थ भाव से सदैव कार्य करने के लिए बनाये जाते हैं। यह एक स्वैच्छिक और गैैर लाभ की संस्थाऐं होती हैं। इसका निर्माण कोई भी साधारण व्यक्ति कर सकता है। 

ये संगठन बिना किसी प्रति फल की इच्छा से कार्य करते हैं। सामाजिक हित के उद्देश्य से इसमें कोई भी व्यक्ति सरलता से सदस्य बन सकता है। इनकी प्रकृति के अनुसार ये संस्थाऐं अनेकों सामाजिक कार्य समाज के उत्थान और एक स्वस्थ समाज के निर्माण के लिए To build a healthy society करती हैं।

इसकी मूल भावना के कार्य सामाजिक उत्थान, स्वच्छता, पर्यावरण, जल संरक्षण, शिक्षा, संस्कृति, सामाजिक कुरीतियों को दूर कर सभ्य एवम्ं शिक्षित समाज और जिम्मेदार नागरिकों का निर्माण कर उच्च समाज का निर्माण करना है। 

गैर सरकारी संगठन के उद्देश्य Objectives of NGO

गैर सरकारी संगठन के उद्देश्य निम्न हैं -

  • गैर सरकारी संगठन का उद्देश्य निस्वार्थ भाव से लोगों की मदद करना है।
  • गैर-लाभकारी संगठन का मुख्य उद्देश्य समाज का कल्याण, समाज की सेवा, अपने सदस्यों का कल्याण और लाभ पहुंचाना होता है।
  • ऐसी संस्था का उद्देश्य बिना लाभ के लोक कल्याण में वृद्धि करना, धर्म, शिक्षा, स्वास्थ्य, साहित्य आदि के उन्नयन एवं चेतना में वृद्धि Upgradation of religion, education, health, literature etc. and increase in consciousness करना होता है।
  • इसका प्राथमिक उद्देश्य लाभ कमाने के बजाय जनता की भलाई को बढ़ावा देना, आर्थिक उन्नति करना और उनकी समस्याओं को हल करना है।
  • एक अद्भुत और समर्पित समूह के नेतृत्व में, गैर सरकारी संगठन देश के विभिन्न हिस्सों में सेवा करते हैं। 
  • उनके विकास कार्यक्रम के अंतर्गत शिक्षा, स्वास्थ्य, बच्चों और महिलाओं के लिए आजीविका, संसाधनों की कमी से परेशान होने वाले लोगों की मदद करना है।
  • साथ ही स्वालम्बन व आत्मनिर्भरता, सांस्कृतिक प्रचार प्रसार, स्वच्छता, प्रकृति की रक्षा, पर्यावरण की सुरक्षा, जल संरक्षण, भूमि संरक्षण, वनो का संरक्षण Self-reliance, cultural promotion, cleanliness, protection of nature, protection of environment, water conservation, land conservation, conservation of forests करना है।
  • इनका मुख्य उद्देश्य किसी विशिष्ट समूह या समस्त जनता को सेवाएँ प्रदान करना होता है। यह किसी प्रकार का उत्पादन , क्रय - विक्रय और उधार लेन - देन नहीं करती है। 
  • इनका उद्देश्य गरीबी उन्मूलन, बचपन के संरक्षण हेतु, कुपोषण का उन्मूलन, जीवन स्तर को सुधारने हेतु, स्वास्थ्य की सुरक्षा, सामाजिक बुराईयों के उन्मूलन Eradication of poverty, Protection of childhood, Eradication of malnutrition, To improve the standard of living, Protection of health, Eradication of social evils हेतु कार्य करना है। 
  • लोगों का दुख-दर्द दूर करना, निर्धनों के हितों का संवर्द्धन करने और पर्यावरण की रक्षा करना भी इनका मुख्य उद्देश्य होता है। 
  • इस संगठन का उद्देश्य बुनियादी सामाजिक सेवाएँ प्रदान करने अथवा सामुदायिक विकास के लिये गतिविधियाँ चलाना है। 
  • इन संस्थाओं के उद्देश्य प्रमुखता से सामाजिक हित की दृष्टि से ही होते हैं। 
  • इनका मकसद धार्मिक, सांस्कृतिक या शैक्षिक उद्देश्यों को बढ़ावा देना है। महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देना promote women empowerment भी इनका मुख्य उद्देश्य है। 

गैर-लाभकारी संगठन की विशेषता | Characteristics Of A Non-profit Organization

गैर-लाभकारी संगठन की विशेषता निम्न है -

  • संगठन की मुख्य विशेषता लाभ कमाना नहीं है। सबसे पहली विशेषता गैर-लाभकारी संगठन की स्थापना समाज को लाभ पहुंचाने, अपने सदस्यों का कल्याण तथा सेवा प्रदान करना होता है।
  • खेल से संबंधित संस्थाएं – खेल से संबंधित संस्थाओं के अंतर्गत खेल, क्लब ,व्यामशाला आदि आते हैं। इसके अलावा शिक्षा देने वाली संस्थाएं – विद्यालय, महाविद्यालय एवं विश्वविद्यालय और सामाजिक संस्थाएं – जिसमें पुस्तकालय, औषधालय, अस्पताल आदि आते हैं।
  • गैर-लाभकारी संस्थाएं धर्म, शिक्षा (स्कूल,कॉलेज) खेलकूद, कला, संस्कृति के प्रचार-प्रसार promotion of culture एवं प्रोत्साहन के लिए कार्य करते हैं। इनकी स्थापना ट्रस्ट (प्रन्यास) धर्मार्थ सोसायटी, क्लब Trust Charitable Societies, Clubs आदि के रूप में की जाती है।
  • गैर-लाभकारी संगठन भी लाभ कमाते हैं लेकिन वे सदस्यता, दान, सरकारी अनुदान, सदस्यता शुल्क, प्रवेश शुल्क, विरासत, donations, government grants, membership fees, entrance fees, inheritances आदि से धन जुटाते हैं। यानि अलाभकारी संगठनों की आय का मुख्य स्रोत दान, चन्दा, सरकार से सहायता main source of income is donations,assistance from the government. आदि होता है। गैर-लाभकारी संगठन कई प्रकार के हो सकते हैं जैसे -सार्वजनिक संगठन,धार्मिक संगठन, विभिन्न फंड, स्वायत्त गैर-लाभकारी संगठन, संस्था के मालिक द्वारा वित्त पोषित आदि।

Also Read: बुजुर्गों की खुशियाँ और सम्मान वापस दिलाती ये संस्थाएं

कर में छूट Tax Exemption

  • गैर-लाभकारी संस्था कर-मुक्त स्थिति के लिए आवेदन कर सकती है। कई देशों में इसे लागू किया गया है। जिससे संगठन को आयकर और अन्य करों से छूट मिल सके। हालांकि सभी गैर-लाभकारी संस्थाएं कर-मुक्त होने के योग्य नहीं हैं। जैसे संयुक्त राज्य में, संघीय आय करों से मुक्त होने के लिए, संगठन को आंतरिक राजस्व संहिता में निर्धारित आवश्यकताओं को पूरा करना होगा। इसी तरह यूके में पंजीकृत गैर-लाभकारी संगठनों को कुछ राहत और छूट का फायदा हो जाता है। 

गैर-लाभकारी संगठन का महत्व | Importance Of Non-profit Organization

  • समाज की सेवा को सर्वोपरि मानते हुए समाज सेवा को सदैव तत्पर रहते हैं।
  • नागरिकों में सकारात्मक भावना का प्रसार कर जीवन में स्वालम्बन की ओर बढ़ने के लिए प्रेरित करना। 
  • बिना स्वार्थ के समाज एवं देश के हितों के बारे में सोचना।
  • देश के बेहतर भविष्य के लिए समाज के लोगों का कल्याण करना।
  • वंचित समुदायों के जीवन का ख़ास हिस्सा बनकर इन लोगों के जीवन में बदलाव लाना 
  • आज हर व्यक्ति किसी भी काम को केवल लाभ कमाने के लिए ही करता हैं लेकिन गैर-लाभकारी संगठन ऐसा नहीं करते हैं। 
  • इनकी स्थापना ऐसे लोगों के समूह द्वारा की जाती है, जो सदस्यों और लोगों को सेवा प्रदान करने के लिए एक सामान्य उद्देश्य के लिए एक साथ आते हैं।
  • इसका एक अहम् महत्व यह भी है कि यह खेल-कूद, शिक्षा जैसे क्षेत्र पर कार्य करती हैं।
  • यह संस्थाऐं अनेकों सामाजिक कार्य समाज के उत्थान और एक स्वस्थ समाज के निर्माण हेतु करती हैं।
  • धार्मिक संस्थाओं का मूल मुख्यतः धर्म और संस्कृति का प्रचार-प्रसार और धर्म संरक्षण प्रमुख उद्देश्य रहता है।

लाभ संगठन और गैर-लाभ संगठन के बीच महत्वपूर्ण अंतर (Key Differences Between Profit Organization and Non-Profit Organization)

  • लाभ और गैर-लाभ संगठन के बीच के अंतर को जानना जरुरी है। क्योंकि कई लोग इस अंतर को समझ नहीं पाते हैं। चलिए जानते हैं लाभ संगठन और गैर-लाभ संगठन के बीच के अंतर को। 
  • लाभ संगठन एक कानूनी इकाई है, जो मालिक के लिए लाभ कमाने के लिए काम करती है, इसे प्रॉफिट आर्गेनाईजेशन के रूप में जाना जाता है। यानि इसका मकसद लाभ कमाना है। एक गैर-लाभकारी संगठन एक कानूनी इकाई है, जो सम्पूर्ण समाज को सेवा देने के लिए तत्पर रहता है और इसका मकसद सिर्फ सेवा करना होता है। 
  • प्रॉफिट आर्गेनाईजेशन का प्रबंध एकमात्र मालिक या एकल स्वामित्व, निर्देशक,साझेदारी या एक निकाय कॉर्पोरेट मतलब कंपनी हो सकता है। नॉन प्रॉफिट आर्गेनाईजेशन का प्रबंध ट्रस्टी, समितियां या शासी निकाय द्वारा होता है। यानि यह एक संघ है, जो एक क्लब, ट्रस्ट, सार्वजनिक अस्पताल, सहकारी समिति, आदि होता है। 
  • लाभ संगठन द्वारा लाभ के ऊपर अर्जित धन, पूंजी खाते में स्थानांतरित कर दिया जाता है। वहीं नॉन प्रॉफिट आर्गेनाईजेशन सरप्लस को कैपिटल फंड में ट्रांसफर किया जाता है यानि वह पूंजी कोष में स्थानांतरित हो जाता है।
  • सबसे बड़ी बात प्रॉफिट आर्गेनाईजेशन या लाभ संगठन के राजस्व का स्रोत माल और सेवाओं की बिक्री है। वहीं गैर-लाभ संगठन का दान, सदस्यता, सदस्यता शुल्क आदि से है।
  • प्रॉफिट आर्गेनाईजेशन का वित्तीय विवरण आय स्टेटमेंट, बैलेंस शीट और कैश फ्लो स्टेटमेंट से है। गैर-लाभकारी संगठन अपनी वित्तीय स्थिति जानने के लिए लेखांकन वर्ष के अंत में तैयार रसीद और भुगतान / ए, आय और व्यय ए / सी और बैलेंस शीट तैयार करते हैं।

ट्रस्ट क्या है? (What is Trust?)

कोई भी धर्मार्थ ट्रस्ट जो किसी भी अच्छे काम को करने के लिए अपनी सम्पत्ति या आय से कोई संगठन का निर्माण करता है ट्रस्ट कहलाता है। इसमें कोई व्यक्ति अकेला या फिर कई लोग पैसा लगाकर समाज के लिए कुछ भी अच्छा कार्य करके लोगों की मदद करते हैं।

ये एक कानून का ही हिस्सा है। इसे एक प्रकार से NGO से भी जोड़ा जा सकता है। किसी भी NGO को ट्रस्ट नहीं कह सकते हैं लेकिन किसी भी ट्रस्ट को NGO कह सकते हैं। 

NGO क्या है?

गैर सरकारी संगठन (NGO) जिसमे किसी प्रकार की सरकारी भागीदारी नहीं होती है। हालांकि प्राकृतिक या कानूनी व्यक्तियों के द्वारा किये गए विधि पूर्वक संगठित गैर सरकारी संगठनों को संदर्भित करने के लिए कुछ व्यापक रूप से कार्य कर स्वीकृति दी जाती है।

इनमे सरकार का किसी प्रकार का कोई साझा नहीं होता है और कुछ में आंशिक रूप से सरकार का साझा होता है लेकिन इन्हे गैर सरकारी संगठन (NGO) ही माना जाता है। 

गैर सरकारी संगठन (NGO) के कुछ अपने नियम हैं जिसके हिसाब से ये कार्य करता है और इसमें किसी भी सरकारी प्रतिनिधियों को सदस्यता नहीं दी जाती है। इन्हे कई कोर्ट में “नागरिक समाज संगठन” भी कहा जाता है।

NGO को आप ट्रस्ट के नाम में रजिस्टर करा सकते हैं लेकिन ट्रस्ट को NGO के नाम में नहीं। NGO के रजिस्टर के लिए तीन ऑप्शन होते हैं कि आप अपने NGO को किस कैटगरी में रखना चाहते हैं जैसे सोसाइटी, ट्रस्ट या फिर कम्पनी।

सोसाइटी Society और Trust

सोसाइटी Society में रक्त संबंध की अनुमति नहीं है यानि कि आप परिवार के व्यक्ति को नहीं रख सकते हैं। ट्रस्ट में रक्त संबंध की अनुमति होती है यानि आप अपने परिवार के कई लोगों को मेम्बर बना सकतें हैं। 

चैरिटी और फाउंडेशन (Charity and Foundation)

चैरिटी और फाउंडेशन सार्वजनिक कल्याणकारी कार्यक्रमों में शामिल हैं। चैरिटी में कार्यक्रमों का संचालन करते हैं, जबकि फाउंडेशन उन्हें धन के साथ प्रदान करते हैं। निजी फाउंडेशन के पास धन के एक निश्चित स्रोत होते हैं और वे अन्य दानदाताओं को अपने स्वयं के बजाय अच्छे कार्यों को पूरा करने के लिए पैसे प्रदान करते हैं। निजी फाउंडेशन को एक परिवार या एक व्यक्ति द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है, जैसे बिल गेट्स फाउंडेशन। 

प्रमुख गैर लाभकारी संगठनों के नाम

समाजसेवी संस्थाओं के नाम-

राष्ट्र की कुछ प्रमुख समाजसेवी संस्थाओं के नाम जो समाज की सेवा को सर्वोपरि मानते हुए समाज सेवा को सदैव तत्पर रहते हैं निम्न हैं -

  • नारायण सेवा संस्थान

  • गौरी गोपाल वृद्धाश्रम

  • राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ

  • श्री गौ गौरी गोपाल सेवा संस्था समिति

  • रिलायंस फाउंडेशन

  • सेवा भारती

  • महिला सशक्तिकरण के लिए काम करने वाले संगठन -

  • स्नेहालया

  • एनईएन: उत्तर पूर्व नेटवर्क

  • आज़ाद फाउंडेशन Azad Foundation

  • विमोचाना

  • स्वनीति

  • द सेल्फ एमप्लाइड वुमेंस एसोसिएशन(एसईडब्ल्यूए) सेवा

  • जनोदया

  • सेंटर फॉर सोशल रिसर्च (सीएसआर)

कुछ प्रमुख NGO's जो समाज में बेहतरीन कार्य कर रहे हैं-

  • नन्ही कली

  • स्माइल फाउंडेशन Smile Foundation 

  • गूंज

  • हेल्पएज इंडिया HelpAge India

  • गिवइंडिया भारत

कुछ सबसे धनी फाउंडेशन Wealthiest foundations-

  • Novo Nordisk Foundation नोवो नॉर्डिस्क फाउंडेशन

  • Bill & Melinda Gates Foundation बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन

  • Azim Premji Foundation अजीम प्रेमजी फाउंडेशन

  • Church Commissioners for England चर्च कमिशनर्स फॉर इंग्लैंड 

  • William and Flora Hewlett Foundation विलियम और फ्लोरा हेवलेट फाउंडेशन

  • Children's Investment Fund Foundation चिल्ड्रेन इन्वेस्टमेंट फंड फाउंडेशन

  • Wellcome Trust वेलकम ट्रस्ट

कुछ मुख्य चैरिटी के नाम -

  • Doctors Without Borders, USA डॉक्टर्स विदाउट बॉर्डर्स, यूएसए

  • DAV (Disabled American Veterans) Charitable Service Trust डीएवी (डिसेबल्ड अमेरिकन वेटरन्स) चैरिटेबल सर्विस ट्रस्ट

  • World Wildlife Fund वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड

  • American Red Cross अमेरिकन रेडक्रॉस

  • ALSAC - St. Jude Children's Research Hospital ALSAC - सेंट जूड चिल्ड्रेन रिसर्च हॉस्पिटल

  • The Nature Conservancy द नेचर कन्जर्वेंसी 

  • UNICEF USA यूनिसेफ यूएसए

  • Save the Children सेव द चिल्ड्रेन

कुछ धर्मार्थ फाउंडेशन charitable foundations

  • The Alliance for Safe Children द अलायन्स फॉर सेफ चिल्ड्रेन 

  • American Academy in Rome अमेरिकन अकडेमी इन रोम

  • Belarus Solidarity Foundation बेलारूस सॉलिडैरिटी फाउंडेशन 

  • Sir Dorabji Tata and Allied Trusts सर दोराबजी टाटा एंड एलाइड ट्रस्ट्स

  • Best Friends Animal Society बेस्ट फ्रेंड्स एनिमल सोसाइटी

  • The Canadian International Learning Foundation कैनेडियन इंटरनेशनल लर्निंग फाउंडेशन

  • Children's Miracle Network Hospitals

  • Heal the World Foundation हील द वर्ल्ड फाउंडेशन

  • George S. and Dolores Doré Eccles Foundation जॉर्ज एस. और डोलोरेस डोर एक्ल्स फाउंडेशन

गैर-लाभकारी संगठन के कार्य

दुनिया भर में एनजीओ मानव कल्याण और सामाजिक कल्याण के लिए लक्षित सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला का प्रदर्शन करते हैं। ये संगठन लगातार विकास की दिशा में काम करते हैं और समाज में सकारात्मक बदलाव लाते हैं।

गैर-सरकारी संगठनों की अलग-अलग संरचनाएँ, गतिविधियाँ और नीतियां हो सकती हैं, लेकिन सभी गैर-सरकारी संगठन अपने उद्देश्यों के प्रति प्रतिबद्ध हैं और अपने संबंधित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए अपने कार्य करते हैं।

गैर-सरकारी संगठन सरकार की नीतियों को दूरस्थ क्षेत्रों तक पहुँचाने और सामाजिक कल्याण योजनाओं की समग्र प्रभावशीलता को बढ़ाने में मदद करते हैं। जैसा कि ऊपर अनुभाग में चर्चा की गई है, गैर-सरकारी संगठन या तो विकास परियोजनाओं को लागू करने या नीति समर्थन के माध्यम से सामाजिक भलाई के लिए विभिन्न प्रकार की सेवाएं प्रदान करते हैं। यहाँ गैर लाभकारी संगठनों के कुछ प्रमुख कार्यों को दिया गया है:

  • गरीबी उन्मूलन के लिए प्रयासरत

 ये तो हम सब जानते हैं कि गरीबी मानव समाज के लिए एक अभिशाप की तरह है। इसका उन्मूलन करना आवश्यक है। ये संगठन गरीबी के दुष्प्रभाव को खत्म करने के लिए ये प्रयासरत हैं। 

  • शिक्षा के प्रति नागरिकों को जागरूक करना और शिक्षा को बढ़ावा देना 

गैर लाभकारी संस्थाओं का यह प्रमुख उद्देश्य रहता है कि समाज में शिक्षा के प्रति नागरिकों को जागरूक करना और शिक्षा को बढ़ावा देना। पूरे समाज में फैली अशिक्षा को मिटा कर एक शिक्षित समाज का निर्माण करना जिससे लोग आत्मनिर्भर बन सकें। ये निशुल्क शिक्षा के माध्यम से छोटे छोटे विद्यालयों को भी चलाते हैं। 

  • सामाजिक बुराईयों को जड़ से खत्म करना 

समाज में फैली बुराईयाँ अपने पैर बहुत तेजी से पसार रही हैं। इन्ही कुरीतियों और बुराईयों का उन्मूलन करने के लिए ये हर संभव कोशिश करते हैं।

  • जल संरक्षण अत्यंत ही महत्वपूर्ण कार्य

जल ही जीवन है ये तो आपने सुना ही होगा। यह इंसान की एक मूलभूत आवश्यकता है इसलिए इसका संरक्षण बेहद आवश्यक है। जल का उपयोग सही रूप से करना और बेवजह इसको बर्बाद न करना इनका महत्वपूर्ण कार्य है। लोगों को जल संरक्षण के प्रति प्रेरित करने का यह महत्वपूर्ण कार्य इन संगठनों के द्वारा किया जाता है। 

  • भारतीय संस्कृति को बढ़ावा देना

भारतीय संस्कृति को आगे बढ़ाने के लिए ये सांस्कृतिक प्रचार प्रसार करते हैं। क्योंकि भारतीय संस्कृति विश्व पटल पर बहुत आगे है इसलिए इसका संरक्षण अत्यंत आवश्यक है। ये इसके लिए विशेष प्रयास करते हैं। 

  • वनों का संरक्षण

इंसान यदि जीवित है तो वो इन्ही वनों के कारण। क्योंकि इन्हीं से हमें प्राण वायु मिलती है। इनके बिना हम जीने की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं इसलिए इन संगठनों द्वारा इनका संरक्षण किया जाता है। 

  • जीवन स्तर सुधारने के लिए

ये लोगों का जीवन स्तर सुधारने के लिए पूरी तरह प्रयासरत रहते हैं। ये समाज में फैली नफरत की भावना को मिटाकर सकारात्मक विचारों का प्रचार प्रसार करते हैं। 

  • पर्यावरण का संरक्षण 

ये इकाईयां पर्यावरण के संरक्षण के लिए कई कार्यक्रम करते हैं। लोगों को पर्यावरण और प्रदूषण के प्रति सजग रहने के लिए और वृक्षारोपण करने के लिए प्रेरित करते हैं। 

  • सामाजिक उत्थान

एक स्वस्थ समाज का निर्माण करना इनका मुख्य कार्य होता है क्योंकि एक स्वस्थ समाज ही एक स्वस्थ राष्ट्र का निर्माण कर सकता है। इसके लिए समाज के प्रति गम्भीर और जिम्मेदार नागरिकों का निर्माण करना जरुरी है। 

  • अच्छे स्वास्थ्य के प्रति लोगों को जागरूक करना 

इस बात से तो हम सब वाकिफ हैं कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निर्माण होता है इसलिए नागरिकों को स्वास्थ्य के प्रति जागरुक और सजग करने का ये प्रयास करते हैं। सरकार द्वारा भी कई योजनाएं इस दिशा में चलायी जा रही हैं। 

  • आत्मनिर्भरता के लिए जागरुकता

आत्मनिर्भरता के लिए जागरुकता फैलाना इनके कार्यों में सर्वोपरि होता है। जब हर व्यक्ति आत्मनिर्भर बनेगा तभी तो देश प्रगति करेगा। 

  • स्वच्छता के प्रति जागरुकता

स्वच्छता के अभियान को आगे बढ़ाना और इसके लिए निरंतर प्रयास करना ये इनका मुख्य कार्य होता है। वैसे भी सरकार के द्वारा भी स्वच्छ भारत अभियान के माध्यम से कई प्रयास और कार्यक्रम किये जाते हैं लेकिन इन संस्थाओं के द्वारा ये कार्य करना प्रत्येक दृष्टि से एक बेहद सराहनीय कदम है।