facebook-pixel

विफलता और अस्वीकृति में शक्ति

Share Us

1667
विफलता और अस्वीकृति में शक्ति
14 Oct 2021
8 min read
TWN In-Focus

Post Highlight

कठिनाई के सामने मूल्य और अर्थ बढ़ जाते हैं। सबसे बड़ा उत्सव सबसे कठिन लड़ाइयों से आता है। हर असफलता की कड़वाहट हर जीत में मिठास भर देती है। जुनून और महत्वाकांक्षा वाला खुद को श्रेष्ठ ‌समझता है और ‌यह हानिकारक हो जाता है जब असफलता का सामना करना पड़ता है।

Podcast

Continue Reading..

अस्वीकृति दिल के लिए एक क्रूर घाव है क्योंकि यह मनुष्य के अभिमान पर सीधा प्रहार करता है। इसको खारिज किया जाना बेहद दर्दनाक है। अस्वीकृति को अमूमन सफल नहीं होने के रूप में देखा जाता है लेकिन वास्तव में इसके पीछे सफल होने का एक रहस्य छिपा होता है। अस्वीकृति जीवन का एक हिस्सा है जो हमें कुछ न कुछ अवश्य सिखाती है। हमारे नए कौशल को उजागर कर जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती है। जीवन में नए अवसर प्रदान करती है। यह मनुष्य को धैर्य सिखाती है और उन्हें मजबूत बनाती है। खुद की कमियों पर पुनर्विचार कर उन्हें सुधारने का अवसर प्रदान करती है। हालांकि असफलता दर्द दे सकती है लेकिन उसे सकारात्मक नजरिए से देखने पर यह हमें बहुत कुछ सिखा भी सकती है।

अस्वीकृति में है प्रगति

अस्वीकृति, हारना, असफलता इन्हें कोई नहीं चाहता।  कोई भी एथलीट हारने के लिए तैयार नहीं होता ‌और‌‌ ना किसी भी उद्यमी का लक्ष्य व्यवसाय में असफलता होती है। लेकिन जैसे कि दैवीय दया का कार्य‌ है कि नकारात्मकता‌ में सकारात्मकता ‌अवश्य‌ होती है। अस्वीकृति मानव अनुभव का एक दुर्भाग्यपूर्ण लेकिन आवश्यक हिस्सा है। हर कोई अपने जीवन में किसी न किसी मोड़ पर अस्वीकृति का अनुभव करता है, चाहे उन्हें इसका एहसास हो या न हो। बहुत से लोग जो इसका अनुभव करते हैं, वे कभी नहीं जानते कि अस्वीकृति के लाभ क्या हैं। हालांकि यह आत्म-विरोधाभासी लग सकता है, किसी ऐसे व्यक्ति से पूछें जिसे कभी नौकरी के लिए ठुकरा दिया गया हो। अगर इसे सही तरीके से देखा जाए तो अस्वीकृति वास्तव में एक बहुत ही सकारात्मक बात हो सकती है। एक सफल व्यक्ति की पहचान नकारात्मक परिस्थितियों के प्रति उनकी प्रतिक्रिया में ही होती है। अस्वीकृति, हार और असफलता के पीछे कुछ आशीर्वाद ‌भी छिपे होते हैं।

1. अस्वीकृति बेहतर करने के लिए प्रेरित करती है

हम में से कई लोग निर्णय लेने में संघर्ष करते हैं। अक्सर, कम जुनून, असफलता और हार का परिणाम होता है। जब किसी ‌को अस्वीकृति का सामना करना पड़ता है, तो यह एक संकेत हो सकता है कि या तो उन्हें कुछ ऐसा करने की ज़रूरत है जो वे नहीं कर रहे हैं, या कुछ ऐसा बंद करने की आवश्यकता जो वह करते हैं। यह व्यक्ति को बेहतर करने की राह पर ले जाएगा, और भविष्य में कम अस्वीकृति में मदद करेगा।

2.अस्वीकृति नए कौशल को उजागर करती है

चुनौतियों का सामना करना और नुकसान सहना संसाधनों को इकट्ठा करने और अपने कौशल को विकसित करने के लिए मजबूर करता है। कभी-कभी अस्वीकृति हमें यह बताती है कि हम जहां होना चाहते हैं, वहां पहुंचने के लिए हमें एक अलग रास्ते को देखने की जरूरत है। अस्वीकृति एक सकारात्मक अनुभव हो सकता है और व्यक्ति को अपना एक नया कौशल उजागर करने में मदद कर सकता है।

3. अस्वीकृति धैर्य सिखाती है

अस्वीकृति वास्तव में धैर्य रखना सिखाती है और आगे बढ़ते रहने में मदद करती है। हो सकता है कि व्यक्ति को वह तुरंत न मिले जो वह चाहता है लेकिन कड़ी मेहनत और धैर्य अंततः इन सभी चीजों को हासिल करने में मदद करती है जो वह चाहता है।

4. अस्वीकृति खुद का पुनर्मूल्यांकन करने के लिए मजबूर करती है

बहुत से लोग अस्वीकृति से बुरी तरह निपटते हैं। यह स्वाभाविक है। अस्वीकृति एक दर्दनाक अनुभव है। कई बार मनुष्य के पास संख्य कौशल होते हैं, लेकिन फिर भी उन्हें अस्वीकृति का सामना करना पड़ता है‌ जो उनके लिए काफी चिंताजनक होती है। अस्वीकृति का एक महत्वपूर्ण लाभ है जिसे लोग अक्सर अनदेखा करते हैं जैसे कि अस्वीकृति हमें आस-पास के लोगों के साथ बेहतर तरीके से जुड़ने के लिए खुद को अधिक लक्ष्य-उन्मुख करती है या हमारे व्यक्तित्व के पहलुओं को बदलना सीखाती है।

5. अस्वीकृति परिवर्तन के अवसर पैदा करती है

अस्वीकृति विश्लेषण करने के लिए एक शक्तिशाली शक्ति होती है जो ‌यह सोचने में ‌मदद करती है कि हम अपने लक्ष्यों की तरफ क्यों जाते हैं और इन लक्ष्यों में ऐसा क्या है जो हमें आगे या दूर ले जा सकती है। यह आत्मनिरीक्षण, लोगों, नौकरियों या स्थितियों के पीछे जाने के कारणों पर विचार करने के लिए एक अच्छा समय हो सकता है। यदि हम केवल इन चीजों के बारे में खुद को सुनते‌ हैं, तो हम अधिक खुश होते हैं और अपनी प्रवृत्ति पर अधिक विश्वास करते हैं।

6. अस्वीकृति हमें चीजों को देखने का नया नजरिया देती है

हर किसी को कभी न कभी टनल विजन जरूर मिलता है। हम अक्सर एक लक्ष्य, एक व्यक्ति, या एक सपने पर ध्यान केंद्रित करने में बाकी सभी चीजों को छोड़ देते हैं।  अस्वीकृति हमें उन चीजों के लिए रुकने और अपने उद्देश्यों पर एक और नज़र डालने का समय देती है। यह हमें नई आँखों से चारों ओर देखने और विचार करने‌ का‌ मौका देती है, न केवल एक ही लक्ष्य को प्राप्त करने के नए तरीकों पर बल्कि अपने लक्ष्यों और सपनों को देखने के लिए भी।

7. अस्वीकृति हमें मजबूत बनाती है

एक पुरानी कहावत है: सबसे मजबूत मछली वह है जो ऊपर की ओर तैरती है। अस्वीकृति अक्सर पूरी तरह से सब कुछ रुका हुआ महसूस कराती है कि लेकिन वास्तव में यह आगे बढ़ने के लिए हमें धक्का देती है। लोग तब मजबूत नहीं होते जब सब कुछ उनके लिए काम कर रहा होता है लेकिन अप्रत्याशित या अवांछनीय महसूस होने पर यह व्यक्ति को मजबूत करती है। इस तरह, अस्वीकृति हमें यह दिखाने में मदद करती है कि हम वास्तव में कितने मजबूत, साधन संपन्न और सक्षम हैं।

8. अस्वीकृति विकास का एक अवसर है

अस्वीकृति का स्वत: नकारात्मक होना आवश्यक नहीं है। इसके बजाय, अस्वीकृति को एक व्यक्ति के रूप में विकसित होने और सीखने के अवसर के रूप में देखने का प्रयास करना चाहिए। अस्वीकृति से हम जो सबक सीखते हैं, उसे आपके जीवन के किसी भी पहलू पर लागू किया जा सकता है। यह मनुष्य को एक मजबूत, दयालु‌ और बेहतर व्यक्ति बनने ‌में मदद करती है।

कठिनाई के सामने मूल्य और अर्थ बढ़ जाते हैं। सबसे बड़ा उत्सव सबसे कठिन लड़ाइयों से आता है। हर असफलता की कड़वाहट हर जीत में मिठास भर देती है। जुनून और महत्वाकांक्षा वाला हर‌ कोई खुद को श्रेष्ठ ‌समझता है। और ‌यह हानिकारक हो जाता है जब असफलता का सामना करना पड़ता है। विफलता आपको पुनरावृत्ति में संलग्न होने के लिए प्रोत्साहित करती है। पुनर्मूल्यांकन और शोधन की प्रक्रिया बेहतर परिणाम देती है। अस्वीकृति दर्दनाक हो सकती है लेकिन साथ ही एक आशीर्वाद भी हो सकती है। अब सवाल यह है कि अस्वीकृति से कैसे निपटा जाए? यह असल में व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वह विफलता और अस्वीकृति को किस नजरिए से देखता है। असफलता को मन में बैठा लेना कहीं से उचित नहीं है। उसके बजाय असफलताओं से सीख लेना और आगे बढ़ना सकारात्मक परिणाम अवश्य दे सकता है।