facebook-pixel

देश के पहले इको-फ्रेंडली रेलवे स्टेशन की खास बातें

Share Us

1445
देश के पहले इको-फ्रेंडली रेलवे स्टेशन की खास बातें
16 Nov 2021
8 min read
TWN In-Focus

Post Highlight

देश के पहले इको-फ्रेंडली रेलवे स्टेशन को जर्मनी के एक रेलवे स्टेशन के मॉडल की तरह बनाया गया है। कई वर्ष पहले जर्मनी में एक रेलवे स्टेशन का निर्माण किया गया था, जो उच्च स्तरीय सुविधाओं से लैस है। इसी तरह रानी कमलापति रेलवे स्टेशन को भी बनाया गया है। खाने-पीने से लेकर बच्चे और बूढ़ों तक के लिए हर जरूरी सुविधा दी गई है। म्यूजियम, क्वालिटी फूड, गेमिंग जोन आदि सुविधाएं भी मौजूद हैं। यहाँ जाकर आप ऐसा महसूस कर सकते हैं जैसे आप किसी बेहतरीन मॉल में मटरगश्ती करने आए हैं।

Podcast

Continue Reading..

देश का पहला इको-फ्रेंडली रेलवे स्टेशन भोपाल मध्य प्रदेश में बनकर तैयार हो चुका है। जिसका लोकार्पण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भोपाल पहुंचकर किया है। इस भव्य रानी कमलापति रेलवे स्टेशन को इको-फ्रेंडली तरीके से बनाया गया है। यहां की ढेरों खासियतें हैं, जो इसे लाजवाब रेलवे स्टेशन बनाती हैं। कई विशेषज्ञों का मानना है कि देश में इस तरह के कई एयरपोर्ट मौजूद हैं, और यह एयरपोर्ट की तरह ही अनुभव करवाता है। भारत की जनता के लिए यहां पर सर्व-सुविधा युक्त व्यवस्थाएं की गई है। यह स्टेशन इतने बड़े पैमाने पर बना है कि यहां भीड़-भाड़ की स्थिति बनना काफी मुश्किल है। यात्रियों के आने-जाने की व्यवस्था से लेकर, कई ऐसी सुविधाएं हैं, जो केवल एयरपोर्ट पर मुहैया कराई जाती है, लेकिन रानी Rani Kamlapati Railway Station अनूठी सुविधाओं से लैस है। आइए जानते हैं इस भव्य स्टेशन की खास बातें।

रेलवे प्लेटफॉर्म पर जाने के लिए यह सुविधा

रानी कमलापति रेलवे स्टेशन पर एक platform से दूसरे प्लेटफार्म पर जाने के लिए escalator और lift की व्यवस्था की गई है। जो बिना रुके और बिना दुविधा के यात्रियों को उनकी ट्रेन तक पहुंचाने में मदद करेंगी।इसके साथ ही प्लेटफार्म पर 700 यात्री एक साथ बैठ पाएंगे। पूरे रेलवे स्टेशन पर खूबसूरत डिस्प्ले बोर्ड लगाए गए हैं। जिसमें ट्रेन की जानकारी आसानी से मिल सकेगी। जिसमें अलग-अलग भाषाओं का display board भी मौजूद होगा। यात्रियों के मनोरंजन के लिए भी यहां अच्छी व्यवस्था है। सुरक्षा को देखते हुए उच्च स्तर के सीसीटीवी कैमरे और स्टेशन पर आग लग जाने को लेकर भी उत्तम व्यवस्था की गई। अगर रेलवे स्टेशन पर कोई दुर्घटना होती है तो सभी यात्रियों को सुरक्षित बाहर करने की व्यवस्था भी है। सौर ऊर्जा से 70% बिजली लेने की पहल हो, या फिर अन्य सुविधाएं, यह इस को अनूठा रेलवे स्टेशन बनाती हैं।

जर्मनी के रेलवे स्टेशन का है मॉडल

देश के पहले इको-फ्रेंडली रेलवे स्टेशन को जर्मनी के एक रेलवे स्टेशन के मॉडल की तरह बनाया गया है। कई वर्ष पहले जर्मनी में एक रेलवे स्टेशन का निर्माण किया गया था, जो उच्च स्तरीय सुविधाओं से लैस है। इसी तरह रानी कमलापति रेलवे स्टेशन को भी बनाया गया है। खाने-पीने से लेकर बच्चे और बूढ़ों तक के लिए हर जरूरी सुविधा दी गई है। म्यूजियम, क्वालिटी फूड, गेमिंग जोन आदि सुविधाएं भी मौजूद हैं। यहाँ जाकर आप ऐसा महसूस कर सकते हैं जैसे आप किसी बेहतरीन मॉल में मटरगश्ती करने आए हैं।

बड़े मॉल और एयरपोर्ट की तरह है रेलवे स्टेशन

रानी कमलापति रेलवे स्टेशन पर शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, हॉस्पिटल, बड़ी-बड़ी दुकानें, स्मार्ट पार्किंग, हाई सिक्योरिटी, समेत कई अत्याधुनिक सुविधाएं दी गई हैं। इस भव्य रेलवे स्टेशन पर ऐसी फूड जोन, एसी वेटिंग रूम, रिटायरिंग रूम, डॉरमेट्री, वीआईपी लॉन्च भी मौजूद। पार्किंग में ई-चार्जिंग की व्यवस्था बनाई गई है। 

देश में यह ऐसा पहला रेलवे स्टेशन है, जहां इस तरह की है कि एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं मिल रही है। वही किसी-किसी एयरपोर्ट पर भी इस तरह की बड़ी सुविधाएं उपलब्ध नहीं होती, इन सभी सुविधाओं को देखते हुए रानी कमलापति रेलवे स्टेशन को किसी मॉल और बड़े एयरपोर्ट की तरह देखा सकता है।

अगर आप भी मध्य प्रदेश से होते हुए कहीं घूमने जाने का मन बना रहे हैं और आप एक वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन से सैर करते हुए जाना चाहते हैं, तो यह अनुभव आपके लिए अनूठा होने वाला है। भारत में इस तरह का इको-फ्रेंडली रेलवे स्टेशन आज तक नहीं बना है। जिसको देखते हुए हमने आप तक यह जानकारी पहुंचाई है। इस तरह के इको-फ्रेंडली रेलवे स्टेशन देश में और भी बने, ऐसी सभी देश वासियों की कामना होगी।