facebook-pixel

व्यवसायी और उद्यमी के बीच के अंतर को समझें | Difference Between Businessman And Entrepreneur

Share Us

17358
व्यवसायी और उद्यमी के बीच के अंतर को समझें | Difference Between Businessman And Entrepreneur
15 Dec 2022
5 min read
TWN In-Focus

Post Highlight

ब्लॉग के मुख्य विषय :

  • व्यवसायी और उद्यमी Businessman And Entrepreneur
  • कौन होता है व्यवसायी? Who Is A Businessman? 
  • उद्यमी किसे कहते हैं? Who Is An Entrepreneur?
  • व्यवसायी बनाम उद्यमी Businessman vs. Entrepreneur

Post Highlight

हम में से ज्यादातर लोगों की यह धारणा है कि व्यवसायी और उद्यमी एक ही हैं क्योंकि व्यवसाय दोनों करते हैं और मुनाफा दोनों ही चाहते हैं। आपकी धारणा व्यवसाय और मुनाफे को लेकर गलत नहीं है लेकिन आपको बता दें कि बिजनेसमैन और उद्यमी businessman and entrepreneur यह शब्द व्यवसाय के लिए अलग-अलग दृष्टिकोण रखने वाले अलग-अलग व्यक्ति को संदर्भित करते हैं।

आसान भाषा में कहें तो एक व्यवसायी उस रास्ते पर चलता है, जहां पहले ही कई लोग चल चुके हैं और मंजिल तक पहुंच चुके हैं लेकिन एक उद्यमी अपनी राह खुद बनाता है और वह किसी की नकल करने के बजाय, रिस्क लेने में और अपने आइडिया को इंप्लीमेंट करने में विश्वास रखता है। एक उद्यमी अन्य किसी बिजनेसमैन के लिए एक दिशानिर्देश बन जाता है।

व्यवसायी वह होता है जो व्यवसाय चलाता है लेकिन उद्यमी वह होता है जो पहले किसी व्यावसायिक विचार की शुरुआत करता है और इस तरह बाजार में वह उस प्रोडक्ट का लीडर होता है।

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से व्यवसायी और उद्यमी के बीच के अंतर difference between businessman and entrepreneur को समझने में मदद करने वाले हैं। इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे अंतर बताने वाले हैं, जिससे आप बड़ी आसानी से यह समझ जाएंगे कि एक व्यवसायी और एक उद्यमी में क्या फर्क होता है।

 

Podcast

Continue Reading..

बाजारवाद और आधुनिकता के दौर में अब व्यवसाय सिर्फ एक जगह सिमटा हुआ नहीं है, जैसा पहले हुआ करता है। आज ज़माना पूरी तरह से बदल गया है और व्यवसाय करने के तरीके भी बदल गए हैं। व्यवसाय के कई प्रकार और कई नाम हो गए हैं। आपने बाजारवाद से संबंधित दो शब्द ज़रूर सुने होंगे।

एक है बिज़नेसमैन businessman और दूसरा उद्यमी entrepreneur. हां, लेकिन यदि कोई आपसे बस इतना पूछ ले कि इन दोनों में अंतर क्या है तो शायद आप भी कंफ्यूज हो जाएं। 

इन दो शब्दों को लेकर सबसे बड़ी गलतफहमी ये है कि ज्यादातर लोग बिज़नेसमैन और उद्यमी को एक ही मानते हैं मगर ऐसा नहीं है। अगर आप भी इन दोनों शब्दों को एक ही तरह से परिभाषित करते हैं तो आपको इनमें अंतर जानना चाहिए। आप बस इतना समझ लीजिए कि यह दोनों एक दूसरे से कई मायनों में अलग हैं। 

व्यवसायी और उद्यमी के बीच के अंतर Difference Between Businessman And Entrepreneur

व्यवसायी और उद्यमी Businessman And Entrepreneur

अक्सर कुछ लोग इस बात का अंतर नहीं समझ पाते कि आखिर एक व्यवसायी और एक उद्यमी में अंतर क्या होता है। इसे लेकर कुछ लोग यह भी समझ लेते हैं कि यह दोनों एक ही तरह काम करते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है व्यवसायी और उद्यमी होना अलग है।

इसके बीच के अंतर को समझना भी काफी जरूरी है। व्यवसायी और उद्यमी Businessman And Entrepreneur के बीच कुछ समानताएं जरूर हो सकती हैं लेकिन अच्छी तरह समझा जाए तो यह दोनों विधाएं काफी अंतर रखती हैं।

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से व्यवसायी और उद्यमी के बीच के अंतर को समझने में मदद करने वाले हैं। इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे अंतर बताने वाले हैं जिससे आप बड़ी आसानी से यह समझ जाएंगे कि एक व्यवसायी और एक उद्यमी में क्या फर्क होता है।

कौन होता है व्यवसायी? Who Is A Businessman? 

व्यवसायी वे होते हैं जो देखते हैं कि बाज़ार में किस वस्तु की अत्यधिक मांग है और इसी के आधार पर वह अपने व्यवसाय को स्थापित करते हैं। वे अत्यधिक मांग की पहचान करके अपना व्यवसाय इसीलिए शुरू करते हैं ताकि वे ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमा सकें।

एक बात का ध्यान रखें कि यह जिस तरह के व्यवसाय को शुरू करते हैं वह पहले से ही चले आ रहे दूसरे व्यवसायों से मिलता जुलता होता है और इसमें कोई नयापन या ओरिजिनेलिटी नहीं होती है। 

व्यवसायी पहले से ही मौजूद किसी आइडिया के साथ अपना व्यवसाय शुरू करते हैं। एक व्यवसायी जिस तरह के व्यवसाय की शुरुआत करते हैं उसे पहले से ही कई लोग कर रहे होते हैं और यही कारण है कि उन्हें कड़ी प्रतिस्पर्धा tough competition का सामना करना पड़ता है लेकिन इसके कुछ फायदे भी हैं।

जब आप उस रास्ते पर चलते हैं जिस पर पहले कई लोग चल चुके हैं तो आपको ये पता होता है कि कहां गलती करना भारी पड़ सकता है और कहां आप रिस्क ले सकते हैं।

बिज़नेसमैन उन आइडियाज पर काम करते हैं जो पहले से ही कई अन्य बिज़नेसमैन द्वारा आजमाएं और परखे गए हैं इसीलिए उन्हें कम जोखिम का सामना करना पड़ता है और साथ ही साथ विफलताओं की भी संभावनाएं कम हो जाती हैं। 

उद्यमी किसे कहते हैं? Who Is An Entrepreneur?

उद्यमी वह होता है जो एक नई आइडिया के साथ आता है और कुछ ऐसा काम करता है, जिसे पहले कभी किसी ने नहीं किया हो। एक उद्यमी बनने की शुरुआत एक यूनिक आइडिया से होती है, उसके बाद वह अपने इसी आइडिया को इंप्लीमेंट करके अपने व्यवसाय की शुरुआत करता है।

आप कह सकते हैं कि एक उद्यमी का काम अपने ओरिजनल आइडिया original idea को वास्तविकता में बदलना होता है। 

एक स्टार्टअप startup शुरू करना आसान नहीं होता है। आप कुछ ऐसा कर रहे होते हैं, जिसे पहले किसी ने भी नही किया है इसीलिए जोखिम तो बिन बुलाए ही आ जाते हैं।

एक उद्यमी को अनिश्चितताओं और बड़े-बड़े जोखिम का सामना करना पड़ता है और इसीलिए एक बिज़नेसमैन की तुलना में एक उद्यमी के असफल होने के चांसेज ज्यादा होते हैं। एक बात जान लें कि एक लंबी अवधि में बाद एक उद्यमी भी बिजनेसमैन बन जाता है। 

एप्पल के सह संस्थापक- स्टीव जॉब्स, माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक- बिल गेट्स, गूगल के सह संस्थापक- लैरी पेज और फेसबुक के सह संस्थापक- मार्क जुकरबर्ग, Co-founder of Apple- Steve Jobs, Founder of Microsoft- Bill Gates, Co-founder of Google- Larry Page and Co-founder of Facebook- Mark Zuckerberg, इन सभी लोगों ने अपने आइडियाज को वास्तविकता में बदला है और अपने व्यवसाय की शुरुआत की है इसीलिए इनकी गिनती दुनिया ने सर्वश्रेष्ठ उद्यमियों में की जाती है। 

व्यवसायी बनाम उद्यमी | Businessman vs. Entrepreneur

ऐसी धारणा बन चुकी है कि व्यवसायी और उद्यमी एक सरीका के होते हैं, लेकिन दोनों शब्द व्यवसाय में अलग मायने रखते हैं। अगर एक व्यवसायी की बात की जाए तो वह एक रास्ता पकड़कर उस पर अमल करके आगे बढ़ते हैं। जिसकी योजना पहले से बनी हुई होती है।

वहीं अगर एक उद्यमी की बात की जाए तो वह अपने नए विचारों को उकेर कर आगे बढ़ता है। वह अपनी योजना और रास्ता खुद बनाता है। हालांकि देखा जाए तो एक उद्यमी भविष्य में व्यवसायी  के रूप जरूर उभर सकता है। लेकिन इन दोनों में फर्क जरूर होता है।

ये भी पढ़े: What Is an Entrepreneur?

बाजार की स्थिति के मुताबिक समझें | Understand according to the market situation

अगर बाजार की स्थिति के मुताबिक समझा जाए तो एक व्यवसायी जो व्यवसाय करता है, वह बाजार में हो रही उथल-पुथल के मुताबिक निर्णय लेता है। साधारण भाषा में कहें तो ऐसा खिलाड़ी जो टीम में हो रही गतिविधियों के मुताबिक चलता है।

वहीं अगर बाजार की स्थिति के मुताबिक एक उद्यमी की बात की जाए तो यह एक नेतृत्व क्षमता वाला खिलाड़ी होता है। जो अपनी नई सोच और योजना के मुताबिक चलकर कई लोगों को दिशा दिखाता है।

बाजार के दृष्टिकोण से…

व्यवसायी वह होता है जो बाजार में अपने पैर पसार कर कर काम करता है और यह पैर वह कड़ी मेहनत के बाद जमाता है। बाजार में बने रहने के लिए कड़ी मेहनत तो लगती है साथ में समय भी लगता है।

वहीं अगर उद्यमी की बात की जाए तो वह अपना बाजार खुद बनाता है, क्योंकि उसके पास एक ऐसी योजना होती है जो रचनात्मक और नई है इस नई रचनात्मक सोच के माध्यम से यह लोगों के दिमाग और बाजार पर कब्जा करता है।

जोखिम के आधार पर समझें

अगर एक व्यवसाय की बात करें जो पिछले काफी सालों से चला आ रहा है और उसमें एक व्यवसायी ने अच्छी पकड़ बना ली है तो यहां काफी कम जोखिम होगा। व्यवसायी  के लिए कम जोखिम इसलिए भी होगा क्योंकि यह व्यवसाय शायद उसे किसी और से भी मिल सकता है।

वहीं अगर एक उद्यमी की बात की जाए तो यहां बड़ा जोखिम होता है। क्योंकि ऐसे में आपके पास कोई अगला पिछला अनुभव नहीं होता आप ऐसी जगह कदम रख रहे होते हैं, जहां आपको खुद अपनी जिम्मेदारी लेनी होती है। यहां जोखिम बढ़ा है लेकिन सफलता भी अपार है। 

प्रक्रिया के अनुसार का फर्क

व्यवसाय के लिए जो प्रक्रिया होती है वह पुरानी होती है। जो लंबे अरसे से व्यवसाय को चला रहे हैं वह एक ही तरह का प्रारूप अपनाकर अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाते हैं। लेकिन एक उद्यमी का तरीका काफी अलग होता है। वह इस प्रारूप में हर उस कदम को उठाता है जिसे लेकर वह आगे बढ़ सकता है। वह कदम कई बार अच्छे भी साबित होते हैं और बुरे भी। 

इस प्रक्रिया में एक व्यवसायी का ध्यान मुनाफा कमाने के ऊपर ज्यादा होता है। जबकि एक उद्यमी अपने कर्मचारी, अपने ग्राहक और जनता के प्रति अच्छा व्यवहार रखकर मुनाफे की तरफ ध्यान देते हैं। यहां हम यह नहीं कह रहे कि व्यवसायी इन बातों पर ध्यान नहीं देते, जरूर देते हैं, लेकिन एक उद्यमी का ध्यान इस तरफ ज्यादा होता है।

ये भी पढ़े: अपनी कॉफ़ी शॉप कैसे शुरू करें ?

प्रतिद्वंदिता के विषय पर

अगर प्रतिद्वंदिता के विषय पर देखा जाए तो व्यवसाय में यह काफी ज्यादा होती है। क्योंकि व्यवसाय कई लोग करते हैं और पुश्तैनी व्यवसाय कई बरसों से चले आ रहे हैं। वहीं अगर उद्यमी की प्रतिद्वंदिता देखें तो यह काफी कम होती है।

उद्यमी में कम प्रतियोगिता का कारण यह होता है कि एक उद्यमी का विचार, उसकी सोच, उसकी नई योजना सिर्फ उसकी होती है, इसीलिए प्रतियोगिता का स्तर कम हो जाता है।

निष्कर्ष 

भले ही एक व्यवसायी और उद्यमी में कई अंतर हो लेकिन इस ब्लॉग को पढ़ने वक्त आप भी समझ गए होंगे कि इन दोनों का मुख्य उद्देश्य व्यापार करना और मुनाफा कमाना होता है। उद्यमी बाज़ार की ज़रूरत को समझते हुए एक प्रॉब्लम सॉल्व करता है और अपने स्टार्टअप से लोगों का काम आसान करता है ।

वहीं दूसरी तरफ एक व्यवसायी पहले से चले आ रहे किसी व्यवसाय में बाज़ार की मांग को देखते हुए उसी तरह का एक व्यवसाय शुरू करता है ताकि वह ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमा सके। 

यहां हमने व्यवसायी और उद्यमी के बीच के फर्क को समझाया है और हमें यकीन है कि हम इस बात को आप तक पहुंचा पाए कि दोनों विधाओं में काफी अंतर होता है।