क्या है, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम?

Share Us

2963
क्या है, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम?
21 Nov 2023
6 min read

Blog Post

आज के विकसित और भविष्य की भरपूरी दुनिया में, उपभोक्ताओं की मांगों का ध्यान रखना अत्यंत महत्वपूर्ण है। उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 1986 भारतीय संसद द्वारा उपभोक्ताओं के हकों की सुरक्षा करने के उद्देश्य से अपनाया गया है।

यह अधिनियम उपभोक्ताओं के बढ़ते बेहतर संरचनात्मक जीवन को सुनिश्चित करने के लिए नियमित बाज़ार के पारदर्शिता, गुणवत्ता, और सुरक्षा के मानकों को स्थापित करता है।

उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के तहत, उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों और विकल्पों के बारे में जागरूक किया जाता है। यह अधिनियम उन्हें उनके अधिकारों के बारे में सही जानकारी प्रदान करता है ताकि वे उचित निर्णय ले सकें।

इस अधिनियम के माध्यम से उपभोक्ताओं को संरक्षा के साथ-साथ उनके अधिकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाने का प्रयास किया जाता है। इससे उपभोक्ताओं को अपने अधिकारों के लिए लड़ने में सक्षम बनाया जाता है और वे समाज के साथ एक सक्रिय भागीदारी का हिस्सा बन सकते हैं।

उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम Consumer Protection Act के बारे में जानकर आप एक समझदार और जागरूक नागरिक बन सकते हैं। आप अपने साथ साथ किसी और को भी इस बारे में बताकर या जागरूक कर शोषण होने से बचा सकते हैं।

क्योंकि सबको बाजार में उपलब्ध सेवाओं के बारे में जागरूक कर विवेकपूर्ण उपभोक्ता बनाना सबसे महत्त्वपूर्ण है। काला-बाज़ारी, झूठे और भ्रामक विज्ञापन देने वालों के खिलाफ और अनैतिक व्यवहारों से बचाने का काम करता है उपभोक्‍ता संरक्षण अधिनियम।

जानें क्या है उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, इसके प्रमुख प्रावधान?

हम सब लोगों में हर कोई किसी न किसी रूप में एक उपभोक्ता ही हैं। हम सब लोगों में से कोई न कोई व्यक्ति कुछ न कुछ जरूर खरीदता है। हम मार्केट जाते हैं तो वहाँ जाकर अपनी ज़रूरत की चीज जरूर लेते हैं।

इसका अर्थ यह है कि जब कोई व्यक्ति अपने उपयोग के लिए कोई वस्तु अथवा सेवा खरीदता है तो वही व्यक्ति उपभोक्ता कहलाता है। ख़रीददारी करते वक्त हम और आपमें से कोई भी धोखाधड़ी और ठगी का शिकार हो जाता है यानि उपभोक्ताओं का शोषण किया जाता है।

इसी धोखाघड़ी से बचने के लिए भारत सरकार ने उपभोक्ता संरक्षण एक्ट 1986 बनाया है। हम सबको इसकी जानकारी होनी चाहिए तभी हम अपने अधिकारों के लिए लड़ सकते हैं। आज हम जानते हैं कि क्या है उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम ?

क्या है, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम What is Consumer Protection Act?

  • उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम Consumer Protection Act

जब हम मार्केट में जाकर अपने उपयोग के लिए कोई वस्तु खरीदते हैं तो उन खरीदी हुई वस्तुओं और सेवाओं के बारे में जागरूक करने के लिए ही उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम बना है। हम सबके लिए यह महत्त्वपूर्ण है कि हम सब एक जागरूक और समझदार उपभोक्ता बनें और इन सबकी जानकारी हमें देता है उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम

उपभोक्ताओं के साथ धोखाधड़ी समय समय पर होती रहती है और इसी शोषण से बचाने के लिये Consumer Protection Act, 1986 बनाया है। इसके अनुसार कोई भी उपभोक्ता अपनी शिकायत को दर्ज करवा सकता है। इसके लिए उपभोक्ता को खुली छूट है। 

  • कैसे होता है उपभोक्ता शोषण Consumer Exploitation

उपभोक्ता का शोषण क्या होता है और कैसे होता है ये जानना भी ज़रूरी है। उपभोक्ता के शोषण कई प्रकार से किये जा सकते हैं। जैसे खराब वस्तु दे देना, दूसरा घटिया क्वालिटी की वस्तु देना, तौल में कम दे देना, नकली चीज देना, मूल्य अधिक ले लेना, नकली ब्रांड की वस्तु देना, गारंटी नहीं देना या फिर वस्तु का गारंटी के पीरियड में रहते हुए चेंज नहीं करना, सही समय पर और सही सेवा नहीं देना। ये सब चीज़ें उपभोक्ता शोषण के अंदर आती हैं। 

  • उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के महत्व Importance of consumer protection

उपभोक्‍ता संरक्षण का मतलब उपभक्ताओं के हितों को ध्यान में रखते हुए उनकी रक्षा करना है। उपभोक्‍ताओ को शोषण या फिर गलत व्यवहार, अनैतिक तरीके से बचाने के लिए उपभोक्‍ता संरक्षण महत्वपूर्ण है।

उपभोक्‍ता संरक्षण इस संबंध में उपभोक्ताओं की शिकायत का समाधान भी करता है। इसके द्वारा उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों के बारे में बताकर उन्हें शिक्षित किया जा सकता है। दूसरा है, उपभोक्‍ता संगठन के रूप में। यह संगठन उपभोक्‍ताओं के हितों की रक्षा और पर्याप्त सुरक्षा देने की ओर कार्य कर रहे हैं।

झूठे और भ्रामक विज्ञापन, जमाखोरी, काला-बाजारी, ठगी आदि इन सबसे उपभोक्ताओं को बचाने में भी उपभोक्‍ता संरक्षण का महत्व है। इसके अलावा उपभोक्‍ता संरक्षण व्यावसायिक संगठन उन संसाधनों का उपयोग करते हैं जो सबके हित में होते हैं। 

उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के अंतर्गत, उपभोक्ताओं को विभिन्न प्रकार की धोखाधड़ी, गलत विज्ञापन, वसूली और अन्य दुर्व्यवहारों से बचाने का प्रयास किया जाता है। इससे उन्हें सही जानकारी मिलती है और वे अपने अधिकारों के लिए सड़क पर उतर सकते हैं।

इस अधिनियम के तहत, उपभोक्ताओं को विकल्पों के बारे में भी जागरूक किया जाता है ताकि वे अपने अधिकारों के लिए उचित निर्णय ले सकें।

  • उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के माध्यम से उपभोक्ताओं की सुरक्षा और संरक्षण सुनिश्चित किया जाता है। यह अधिनियम उपभोक्ताओं के हकों की रक्षा करता है और उन्हें विशेष संरक्षा प्रदान करता है।

  • उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम विभिन्न कंपनियों और व्यापारियों को उपभोक्ता संरक्षण के मानकों का पालन करने के लिए बाध्य करता है। यह उन्हें उपभोक्ता संरक्षण के लिए संबंधित अधिकारियों को नियुक्त करने की अनुमति देता है।

  • इस अधिनियम के अंतर्गत, उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों के बारे में जागरूकता प्राप्त करने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जाता है। यह उन्हें अपने अधिकारों का समझने और संरक्षण के लिए सक्रिय बनाता है।

उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के प्रमुख उद्देश्य Main Objectives of the Consumer Protection Act

  • उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के अंतर्गत, उपभोक्ताओं को विभिन्न प्रकार की धोखाधड़ी, गलत विज्ञापन, वसूली और अन्य दुर्व्यवहारों से बचाने का प्रयास किया जाता है।

  • यह अधिनियम उपभोक्ताओं के लिए उनकी संवेदनशीलता और सुरक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण है। यह उन्हें विशेषतः बच्चों, महिलाओं और वर्द्धकों की संरक्षा प्रदान करता है।

  • उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के अंतर्गत, उपभोक्ताओं को उनके सामाजिक और आर्थिक अधिकारों के बारे में जागरूक किया जाता है। इससे उन्हें समाज में अपनी एकाधिकार की पहचान होती है और वे अपने अधिकारों के लिए लड़ सकते हैं।

  • इस अधिनियम के तहत, उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों के लिए लड़ने के लिए विभिन्न न्यायिक प्राधिकरणों का संबंधित मामलों में सहायता और समर्थन प्रदान किया जाता है।

Also Read: Consumer Awareness क्या है और इसका क्या महत्व है ?

नया उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 2019 New Consumer Protection Act, 2019

उपभोक्ता संरक्षण कानून, 2019 और भी अच्छे तरीके से उपभोक्ताओं की शिकायतों का समाधान करता है। उपभोक्ताओं को और अधिक जागरूक और उनके हितों को ध्यान में रखता है। यह हर प्रकार के व्यवसाय पर लागू होता है।

यह नया उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 2019 उपभोक्ताओं को और भी मजबूत और सशक्त बनता है। यह संरक्षण अधिनियम पहले के मुकाबले और भी बढ़िया तरीके से कार्यवाही करेगा। इस अधिनियम में झूठा प्रचार करने पर 10 लाख जुर्माने का प्रावधान है। 

नया उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 2019 एक महत्वपूर्ण विधेयक है जो भारतीय उपभोक्ताओं की सुरक्षा और संरक्षण के लिए विशेषतः निर्धारित किए गए अधिकारियों को जिम्मेदार बनाता है।

इस अधिनियम के तहत, विभिन्न कंपनियों और व्यापारियों को उपभोक्ता संरक्षण के मानकों का पालन करने के लिए बाध्य किया जाता है ताकि भारतीय उपभोक्ताओं को अधिक सुरक्षा और आत्मविश्वास मिल सके।

मुख्य विशेषताएँ:

उपभोक्ता संरक्षण के प्रमुख उद्देश्य: Major Objectives of Consumer Protection:

नया उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 2019 का प्रमुख उद्देश्य उपभोक्ताओं को विभिन्न प्रकार की धोखाधड़ी, गलत विज्ञापन, वसूली और अन्य दुर्व्यवहारों से बचाने का प्रयास करना है।

इससे उन्हें सही जानकारी मिलती है और वे अपने अधिकारों के लिए सड़क पर उतर सकते हैं। इस अधिनियम के तहत, उपभोक्ताओं को विकल्पों के बारे में भी जागरूक किया जाता है ताकि वे अपने अधिकारों के लिए उचित निर्णय ले सकें।

  • उपभोक्ता जागरूकता: नया उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के तहत, उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों और विकल्पों के बारे में जागरूक किया जाता है। यह अधिनियम उन्हें उनके अधिकारों के बारे में सही जानकारी प्रदान करता है ताकि वे उचित निर्णय ले सकें।

  • इससे उपभोक्ताओं को संरक्षा के साथ-साथ उनके अधिकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाने का प्रयास किया जाता है।

  • नया उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 2019 के अंतर्गत उपभोक्ता संरक्षण के क्षेत्र में सुधार किए जाने के साथ-साथ उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों की प्रायोजना और संरक्षण के लिए जरूरी कदम उठाने के लिए सरकार का प्रयास चल रहा है।
  • यह अधिनियम उपभोक्ताओं के संरक्षा के प्रति सरकार की जागरूकता को भी बढ़ाता है और उन्हें अधिक सशक्त बनाता है। नए अधिनियम के तहत उपभोक्ता संरक्षण के मानकों का पालन करने वाले व्यापारियों और कंपनियों को सख्ती से नियमों का पालन करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।
  • इससे उपभोक्ताओं को विश्वसनीय और भरोसेमंद विकल्पों का लाभ मिलता है, जो उनके लिए बेहद महत्वपूर्ण होता है।

उपभोक्‍ता के अधिकार Consumer Rights

उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 2019 के कुछ प्रावधान हैं जिनके बारे में जानना आवश्यक है। इन अधिकारों में मुख्य हैं जैसे - सुरक्षा का अधिकार, सूचित किए जाने का अधिकार, आवश्स्त होने का अधिकार, सुनवाई का अधिकार, निवारण पाने का अधिकार और उपभोक्ता शिक्षा का अधिकार।

इन सब अधिकारों की जानकारी हर उपभोक्ता को होनी आवश्यक है। जिससे आपके साथ कोई अनुचित कार्य न करें। 

खरीददारी करते समय बरतने वाली सावधानियाँ Precautions

हम लोग अक्सर खरीददारी करने तो जाते हैं पर हमें इसकी पूरी जानकारी नहीं होती है और इस वजह से हम शोषण का शिकार हो जाते हैं। इनसे बचने के लिए कुछ जानकारी रखना आवश्यक है। जैसे - जो भी सामान आप खरीदें उस पर उसका नाम, बैच नंबर, मात्रा, उत्पादन एवं समाप्ति तिथि, MRP आदि होना आवश्यक है।

आप खरीदी हुई चीज का बिल और गारंटी/वारंटी कार्ड अवश्य लें। आई एस आई ISI, एगमार्क आदि मानक चिह्नों को भी अवश्य देखें। वस्तु की तौल का भी ध्यान रखें और इसके अलावा भ्रामक विज्ञापनों से बचना चाहिए। 

शिकायत कहाँ और कैसे करें? Where and how to complain?

जब आप किसी धोखाधड़ी और ठगी का शिकार हो जाते हैं तो इसके लिए ये जानना ज़रूरी है कि इसकी शिकायत कहाँ और कैंसे करें। शोषण से बचाने के लिए सरकार के द्वारा Consumer Protection Act, 1986 बनाया गया है। इसके लिए उपभोक्ता न्यायालयों का गठन किया गया है।

आप ये शिकायत जिला उपभोक्ता मंच और एक करोड़ रूपये से अधिक राशि से संबंधित शिकायत राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग National Consumer Disputes Redressal Commission में कर सकते हैं और ऐसे ही एक करोड़ तक के विवाद की शिकायत राज्य उपभोक्ता आयोग State Consumer Commission में कर सकते हैं। आप ये शिकायत लिखकर डाक से या फिर उपभोक्ता न्यायालय में जाकर दर्ज कर सकते हैं। इसमें शिकायत का पूरा विवरण, नाम और पता होना चाहिए।

निष्कर्ष 

उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के अंतर्गत, उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों की सुरक्षा और संरक्षण की विशेष जिम्मेदारी सौंपी जाती है। यह अधिनियम विभिन्न कंपनियों और व्यापारियों को उपभोक्ता संरक्षण के मानकों का पालन करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के अंतर्गत, उपभोक्ताओं को अपने अधिकारों की जागरूकता और संरक्षा के लिए विभिन्न प्रोग्राम और अभियान चलाए जाते हैं। इससे उन्हें समाज में अपनी एकाधिकार की पहचान होती है और वे अपने अधिकारों के लिए सड़क पर उतर सकते हैं।

इस अधिनियम के तहत, उपभोक्ताओं को न्यायिक प्राधिकरणों का सहायता और समर्थन प्रदान किया जाता है, जो उनके अधिकारों के लिए लड़ने के लिए सहायक होते हैं।