इन वास्तु टिप्स से अपने सपनों का घर बनायें, सुख और समृद्धि लाएं 

Share Us

1089
इन वास्तु टिप्स से अपने सपनों का घर बनायें, सुख और समृद्धि लाएं 
20 Oct 2023
6 min read

Blog Post

वास्तु शास्त्र एक प्राचीन वास्तु तंत्र है जो भारतीय उपमहाद्वीप में उत्पन्न हुआ था। इसमें डिज़ाइन, लेआउट, माप, भूमि की तैयारी, स्थान का व्यवस्थित करना, और स्थानिक ज्यामिति शामिल है।

यह तंत्र पारंपरिक हिन्दू और बौद्ध धर्म के विश्वासों को ज्यामिति पैटर्न, सिमेट्री, और दिशा-निर्देशों के साथ मिलाकर एक ऐसी हारमोनियस ढ़ांचा बनाने में आता है जो प्राकृतिक रूप से मिल जाता है।

घर के निर्माण के दौरान वास्तु के सिद्धांतों को अपनाने से घर के अच्छे ऊर्जा प्रवाह पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है, जिससे सभी निवासियों के लिए अच्छे स्वास्थ्य और जीवन के विभिन्न पहलुओं में सफलता प्राप्त होती है।

मकान निर्माण के दौरान वास्तु सिद्धांतों को अपनाने से घर में समग्र ऊर्जा प्रवाह पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है, जिसके परिणामस्वरूप सभी रहने वालों के लिए जीवन के विभिन्न पहलुओं में बेहतर कल्याण और सफलता प्राप्त होती है।

वास्तु-अनुरूप घर बनाने में आपकी सहायता करने के लिए, हमने कुछ आवश्यक सुझाव संकलित किए हैं। प्रवेश द्वार के स्थान से लेकर प्रत्येक कमरे में उपयोग किए जाने वाले रंगों और तत्वों तक, ये सुझाव घर निर्माण प्रक्रिया के सभी पहलुओं को कवर करते हैं।

इन दिशानिर्देशों का पालन करके, आप एक ऐसा घर बना सकते हैं जो न केवल सौंदर्य की दृष्टि से मनभावन हो, बल्कि एक सकारात्मक और संतुलित वातावरण को भी बढ़ावा देता हो।

मकान बनाते समय वास्तु शास्त्र के सुझावों का पालन करने से निवासियों के लिए सकारात्मकता, समृद्धि और कल्याण आ सकता है।

एक घर सिर्फ रहने के लिए ही नहीं, बल्कि यह एक ऐसा आश्रय होता है जो शांति और विश्राम प्रदान करता है। वास्तु शास्त्र, एक प्राचीन भारतीय वास्तुशास्त्र का अनुसरण करता है, जो आकाशमंडल की प्राकृतिक ऊर्जाओं के साथ मेल खाते हुए एक मेल मिलापक सुरम्य घर डिज़ाइन और निर्माण के लिए मार्गदर्शन प्रदान करता है।

घर का निर्माण करते समय वास्तु शास्त्र के सुझावों का पालन करने से आवासियों को सकारात्मकता, समृद्धि और भलाई मिल सकती है। यहां कुछ वास्तु शास्त्र के सुझाव हैं जो एक समृद्ध घर बनाने में मदद कर सकते हैं।

वास्तु शास्त्र क्या है?  What is Vastu Shastra? 

वास्तु शास्त्र एक प्राचीन भारतीय वास्तुकला प्रणाली है जो भारतीय उपमहाद्वीप में उत्पन्न हुई थी। 'वास्तु' शब्द का मतलब 'आवास' या 'घर' होता है, जबकि 'शास्त्र' का मतलब 'ज्ञान' या 'विज्ञान' होता है। इसके द्वारा बनावट की जाती है, योजना बनाई जाती है, और ऐसे भवनों का निर्माण किया जाता है जो प्राकृतिक पर्यावरण के साथ सामंजस्य में होते हैं।

वास्तु शास्त्र का इतिहास The History of Vastu Shastra

वास्तु शास्त्र की जड़ें प्राचीन हिन्दू और बौद्ध ग्रंथों में हैं जो हजारों साल पहले तक जाती हैं। कहा जाता है कि इसका आधार प्राकृतिक तत्वों के - पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु, और आकाश - और उनके प्रति एक-दूसरे के साथ कैसे संवाद होता है, पर है। इस प्रणाली का विकास उन तत्वों और उनके संवादों के साथ मेल करने और उनके साथ सामंजस्य बनाने के लिए किया गया था।

वास्तु शास्त्र के सिद्धांत The Principles of Vastu Shastra

वास्तु शास्त्र के सिद्धांत इस विचार पर आधारित हैं कि ब्रह्मांड में सब कुछ जुड़ा हुआ है और मनुष्य और उसके आसपास के वातावरण के बीच एक संबंध है। वास्तु शास्त्र के सिद्धांत इन दोनों तत्वों के बीच सामंजस्य स्थापित करने के लिए हैं।

वास्तु शास्त्र के कुछ प्रमुख सिद्धांतों में भवन का उचित अभिविन्यास, कमरों का स्थान और डिजाइन, दरवाजे और खिड़कियों का स्थान, और रंग और अन्य डिजाइन तत्वों का उपयोग शामिल है। इन सिद्धांतों का पालन करके, यह माना जाता है कि एक इमारत प्राकृतिक पर्यावरण के अनुरूप हो सकती है और स्वास्थ्य, धन और खुशी को बढ़ावा दे सकती है।

वास्तु शास्त्र के लाभ Benefits of Vastu Shastra

ऐसा माना जाता है कि वास्तु शास्त्र उन लोगों को कई प्रकार के लाभ प्रदान करता है जो इसके सिद्धांतों का पालन करते हैं। वास्तु शास्त्र के कुछ लाभों में शामिल हैं:

  • बेहतर स्वास्थ्य और खुशहाली
  • समृद्धि और वित्तीय स्थिरता में वृद्धि
  • रिश्ते और पारिवारिक सौहार्द बढ़े
  • करियर और बिजनेस में बड़ी सफलता
  • उन्नत आध्यात्मिक वृद्धि और विकास

वास्तु शास्त्र एक प्राचीन भारतीय वास्तुशिल्प प्रणाली है जिसका आज भी व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। इसके सिद्धांत ऐसी इमारतें बनाने के लिए हैं जो प्राकृतिक पर्यावरण के अनुरूप हों और स्वास्थ्य, धन और खुशी को बढ़ावा दें। ऐसा माना जाता है कि वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों का पालन करके व्यक्ति जीवन के सभी पहलुओं में अधिक सफलता और पूर्णता प्राप्त कर सकता है।

घर बनाने के लिए वास्तु शास्त्र टिप्स Vastu Shastra Tips to Create a Harmonious Home

साइट चयन Site Selection 

वास्तु अनुरूप घर बनाने में पहला कदम एक शुभ स्थान का चयन करना है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, उस स्थान का आकार नियमित होना चाहिए और वह किसी कब्रिस्तान या मंदिर के निकट नहीं होना चाहिए। प्लॉट पूर्व या उत्तर दिशा की ओर थोड़ा ऊंचा होना चाहिए और उत्तर या पूर्व दिशा में पेड़, खंभा या इमारत जैसी कोई रुकावट नहीं होनी चाहिए।

मुख्य प्रवेश द्वार Main Entrance

घर का मुख्य द्वार घर के अंदर ऊर्जा के प्रवाह को निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। प्रवेश द्वार पूर्व या उत्तर की ओर होना चाहिए, और यह अच्छी रोशनी वाला और अव्यवस्था मुक्त होना चाहिए। मुख्य प्रवेश द्वार दक्षिण या पश्चिम की ओर रखने से बचें, क्योंकि यह नकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित कर सकता है।

आंतरिक सज्जा Interior Design

घर का इंटीरियर डिजाइन भी वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों के अनुरूप होना चाहिए। उदाहरण के लिए, रसोई घर के दक्षिण-पूर्व कोने में स्थित होनी चाहिए, जबकि शयनकक्ष दक्षिण-पश्चिम कोने में होना चाहिए। लिविंग रूम उत्तर-पूर्व या उत्तर-पश्चिम कोने में होना चाहिए। इंटीरियर डिजाइन करते समय उचित रंग, बनावट और सामग्री का उपयोग करना आवश्यक है। वास्तु शास्त्र सफेद, क्रीम और पेस्टल जैसे हल्के और चमकीले रंगों का उपयोग करने की सलाह देता है।

फ़र्निचर प्लेसमेंटFurniture Placement

वास्तु शास्त्र में फर्नीचर का स्थान भी महत्वपूर्ण है। घर के मध्य में भारी फर्नीचर रखने से बचें, क्योंकि यह ऊर्जा के प्रवाह को अवरुद्ध कर सकता है। शयनकक्ष में दर्पण लगाने से बचना भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि वे नकारात्मक ऊर्जा को प्रतिबिंबित कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त, घर के उत्तर-पूर्व कोने में फर्नीचर रखने से बचने की सलाह दी जाती है।

प्रकाश Lighting

प्रकाश व्यवस्था वास्तु शास्त्र का एक अनिवार्य पहलू है। आंतरिक सज्जा उज्ज्वल और अच्छी रोशनी वाली होने की सलाह दी जाती है, क्योंकि यह सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करता है। मंद या अँधेरी रोशनी का उपयोग करने से बचें, विशेष रूप से लिविंग रूम और शयनकक्ष में। प्राकृतिक रोशनी भी फायदेमंद है और उत्तर और पूर्व में खिड़कियां और दरवाजे रखने की सलाह दी जाती है।

Also Read : चिंता से कैसे दूरी बनाएं ?

शयनकक्ष की स्थिति Bedroom Position

वास्तु शास्त्र के अनुसार, आपके शयनकक्ष की स्थिति शांतिपूर्ण और आरामदायक नींद सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। शयनकक्ष के लिए घर का दक्षिण-पश्चिम कोना सबसे अनुकूल स्थान माना जाता है।

अधिकतम विश्राम और आराम सुनिश्चित करने के लिए बिस्तर को आदर्श रूप से कमरे के दक्षिण, पूर्व या पश्चिम कोने में रखा जाना चाहिए। उत्तर दिशा में बिस्तर लगाने से बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इससे नींद में खलल पड़ता है और बेचैनी होती है।

बिस्तर की स्थिति के अलावा, शयनकक्ष में प्रयुक्त रंग योजना भी कमरे के माहौल को प्रभावित करती है। अपने शयनकक्ष में शांत और प्राकृतिक वातावरण बनाने के लिए, भूरे और हरे जैसे मिट्टी के रंगों का चयन करें।

ये रंग विश्राम और शांति को बढ़ावा देते हैं, जिससे लंबे दिन के बाद आराम करना आसान हो जाता है। चमकीले और गाढ़े रंगों से बचना सबसे अच्छा है, जो अत्यधिक उत्तेजना पैदा कर सकते हैं और आरामदायक नींद में बाधा डाल सकते हैं।

इन वास्तु शास्त्र युक्तियों का पालन करके, आप एक सामंजस्यपूर्ण और शांतिपूर्ण शयनकक्ष बना सकते हैं जो आरामदायक नींद को बढ़ावा देता है और आपके समग्र कल्याण को बढ़ाता है।

उत्तर कोने का प्रयोग करें Make use of North Corner

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का निर्माण शुरू करने के लिए उत्तर दिशा शुभ मानी जाती है। सौभाग्य और वित्तीय आशीर्वाद को आकर्षित करने के लिए, इस क्षेत्र में "जल" तत्व को शामिल करने की सिफारिश की जाती है। आप अपने घर के उत्तरी कोने में वॉशरूम, स्विमिंग पूल, तालाब या आरओ वॉटर फ़िल्टरिंग यूनिट जैसी सुविधाएं जोड़ सकते हैं।

यदि आपके घर में शुद्ध उत्तर कोना नहीं है, तो विकल्प के रूप में उत्तर-पूर्व दिशा का उपयोग किया जा सकता है। हालाँकि, यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि घर के समग्र सद्भाव और ऊर्जा पर किसी भी नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए इन क्षेत्रों में जल तत्वों को हमेशा साफ और अच्छी तरह से बनाए रखा जाए।

रसोईघर Kitchen

रसोई घर के समग्र सामंजस्य और खुशहाली में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि रंग योजना, लेआउट और दिशा को ध्यान में रखते हुए रसोई को सही ढंग से डिजाइन और तैनात किया गया है। दक्षिण-पूर्व कोने को रसोई के लिए आदर्श स्थान माना जाता है, सकारात्मक ऊर्जा लाने के लिए खाना पकाने का क्षेत्र पूर्व की ओर होता है।

यह भी महत्वपूर्ण है कि रसोई को सामने के दरवाजे के सामने न रखें, क्योंकि इससे घर में ऊर्जा का प्रवाह बाधित हो सकता है। इन दिशानिर्देशों का पालन करके, आप अपने परिवार के स्वास्थ्य और कल्याण को सुनिश्चित करते हुए, अपनी रसोई में एक सकारात्मक और सामंजस्यपूर्ण वातावरण बना सकते हैं।

ओवरहेड्स बीम से बचें Avoid Overheads Beam

आधुनिक इंटीरियर डिज़ाइन में, लिविंग रूम या डाइनिंग एरिया में बोल्ड और सौंदर्यपूर्ण स्पर्श जोड़ने के लिए खुली छत के बीम एक लोकप्रिय विकल्प बन गए हैं। हालाँकि, वास्तु शास्त्र के अनुसार, ओवरहेड बीम आपके घर में निराशा, विवाद और असामंजस्य जैसी नकारात्मक ऊर्जा ला सकते हैं।

यदि आप अपने रहने की जगह में शांति और सद्भाव बनाए रखना चाहते हैं तो ओवरहेड बीम से बचने की सलाह दी जाती है। इसके बजाय, आप शांतिपूर्ण और सामंजस्यपूर्ण रहने का वातावरण बनाने के लिए वैकल्पिक डिज़ाइन तत्वों पर विचार कर सकते हैं जो वास्तु सिद्धांतों के अनुरूप हैं।

दरवाज़ों पर ध्यान दें Pay attention to Doors

वास्तु शास्त्र में, दरवाज़ों को वह माध्यम माना जाता है जो ऊर्जा को आपके घर में प्रवाहित करने की अनुमति देता है। इसलिए दरवाजे के स्थान और दिशा पर ध्यान देना जरूरी है। वास्तु के अनुसार प्रवेश द्वार घर का सबसे बड़ा दरवाजा होना चाहिए और हमेशा अंदर की ओर खुलना चाहिए। इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह आसानी से होता है।

इसके अतिरिक्त, ऊर्जा के निर्बाध प्रवाह के लिए दरवाजे हमेशा 90 डिग्री के कोण पर रखे जाने चाहिए। किसी भी रुकावट से बचने के लिए वस्तुओं और फर्नीचर को दरवाजों से दूर रखना महत्वपूर्ण है। इन वास्तु सिद्धांतों का पालन करके, आप अपने घर में सकारात्मक ऊर्जा का मुक्त प्रवाह सुनिश्चित कर सकते हैं, जो आपके समग्र कल्याण पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

कमरे का आकार Shape of room

वास्तु के अनुसार, कमरे का आकार उसमें ऊर्जा के प्रवाह को निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। चौकोर आकार के कमरे सबसे अनुकूल माने जाते हैं क्योंकि वे संतुलन और सद्भाव को बढ़ावा देते हैं। आयताकार कमरे भी भाग्यशाली माने जाते हैं क्योंकि ऐसा माना जाता है कि वे अनुकूल ऊर्जा प्रवाह पैदा करते हैं।

दूसरी ओर, एल-आकार और टी-आकार के कमरे अशुभ माने जाते हैं क्योंकि वे नकारात्मक ऊर्जा ला सकते हैं और चिंता पैदा कर सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि असमान आकार के कमरे गरीबी और वित्तीय अस्थिरता को आकर्षित कर सकते हैं।

विशेष रूप से, ऐसा माना जाता है कि अष्टकोणीय कमरे वित्तीय समृद्धि पर नकारात्मक प्रभाव डालते हैं, जबकि त्रिकोणीय कमरे व्यक्तिगत विकास और प्रगति में बाधा बन सकते हैं। इसलिए, सलाह दी जाती है कि कमरे के आकार का चयन सावधानी से करें और अपरंपरागत आकृतियों से बचें जो आपकी भलाई पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं।

निष्कर्ष Conclusion

घर बनाते समय वास्तु शास्त्र को ध्यान में रखना एक महत्वपूर्ण पहलू है। यह सुनिश्चित करता है कि पृथ्वी की ऊर्जा संतुलित है और रहने की जगहों के साथ सामंजस्य में है। घर के प्रत्येक कमरे के लिए इस ब्लॉग में साझा की गई युक्तियों और दिशानिर्देशों को शामिल करके, कोई ऐसा घर बना सकता है जो न केवल सौंदर्य की दृष्टि से मनभावन हो, बल्कि अच्छे स्वास्थ्य और प्रचुरता के लिए भी अनुकूल हो।

चाहे आप पहले से ही इनमें से कुछ युक्तियों का पालन कर रहे हों या उन्हें अपने स्थान में शामिल करने की योजना बना रहे हों, महत्वपूर्ण बात यह है कि अपने घर का निर्माण या नवीनीकरण करते समय वास्तु के सिद्धांतों को ध्यान में रखें।