facebook-pixel
Suresh--Kumar-Lehri
Industry Expert 159 143319

Suresh Kumar Lehri

I might not write well every day, but I can always edit a bad page.

Recent Post

लिज्जत पापड़ - 7 महिला उद

समाज को एक साथ रखने की अधिकांश जिम्मेदारी महिलाएं ही उठाती हैं, चाहे वह घर हो, स्कूल हो, स्वास्थ्य सेवा हो या हमारे बुजुर्गों की देखभाल। ये सभी कार्य वे आमतौर पर बिना वेतन के करती हैं। और इन कामों का हमारे समाज में कोई मूल्य नहीं समझा जाता था। पर अब समाय  बदल रहा है, महिलाओं ने बीते दशकों में स्वयं को आत्मनर्भर बनाने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाये है। महिलाएं सांगठनिक स्तर पर अधिक मजबूती से...

Popular Posts View All

Entrepreneurship Startup Think With Niche

MBA चाय वाले से लें उद्यमिता की प्रेरणा

आज हम आपको ऐसे शख्स की कहानी बताने जा रहे हैं, जिन्होंने कभी एमबीए MBA में पढ़ाई करके अपने आप को भविष्य में आगे बढ़ाने के बारे में सोचा था, लेकिन बात कुछ जमी नहीं और आज वह एक सफल उद्यमी Entrepreneur बनकर देश में बड़ा नाम कमा रहें हैं। हम बात कर रहे हैं प्रफुल्ल बिलौरे Praful Billaure की जो मध्य प्रदेश Madhya Pradesh के रहने वाले हैं, उनका सपना था कि वह किसी भी तरह आईआईएम IIM में पढ़ाई करें और एमबीए की डिग्री हासिल करें, लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। उन्होंने आईआईएम में ...
Entrepreneurship Skill Development Think With Niche

भारत की अमीर और सफल उद्यमी बेटियाँ

रोशनी नादर Roshni Nadar रोशनी नादर मल्होत्रा ​​एचसीएल एंटरप्राइज HCL Enterprises की कार्यकारी निर्देशिका और सीईओ CEO हैं। वह भारतीय अरबपति और एचसीएल HCL के संस्थापक शिव नादर Shiv Nadar की बेटी है। रोशनी ये अच्छी तरह से जानती है कि यदि कोई काम करना है तो उसकी क्या तकनीक होनी चाहिये। रोशनी मल्होत्रा फोर्ब्स मैगज़ीन forbes magazine के अनुसार दुनिया की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं में से एक हैं और साथ ही देश की सबसे अमीर महिलाओं में से भी एक हैं। 38 वर्षीय रोशनी नादर मल्होत्रा को भारत के तीसरे सबसे ...
Entrepreneurship Motivation Think With Niche

उद्यमिता का प्रेम, अजीम प्रेम

मनुष्य अपने जीवन में बहुत कुछ करने का सोचता है, परन्तु वास्तविकता में जब उसे क्रियान्वित करने की बारी आती है, तो उसकी हिम्मत उसका साथ नहीं देती है। कोई भी बड़ा काम केवल एक कदम चल के ही पूरा हो जाये ऐसा संभव नहीं होता है। परन्तु यही छोटे-छोटे कदम आगे बढ़ने में लोग सकुचाते हैं, उनके मन में यही चलता रहता है कि कहीं एक कदम आगे चलने के बाद वह दो कदम पीछे ना चले जाएं। यही डर कई लोगों को उनके सपनों से उन्हें हमेशा के लिए दूर कर देता है। उद्यमिता के क्षेत्र में हर एक इंसान अपने पैर जमा पाए, ऐसा कम ही होता...




Newsletter

Read and Subscribe