News In Brief Science & Innovation
News In Brief Science & Innovation

इसरो 17 फरवरी को INSAT-3DS लॉन्च करेगा

Share Us

135
इसरो 17 फरवरी को INSAT-3DS लॉन्च करेगा
12 Feb 2024
5 min read

News Synopsis

अंतरिक्ष अन्वेषण और मौसम संबंधी निगरानी में भारत की क्षमताओं को मजबूत करने के अपने चल रहे प्रयासों के तहत इसरो 2024 में अपना दूसरा मिशन लॉन्च करने की तैयारी कर रहा है। प्राथमिक लक्ष्य जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट Geosynchronous Satellite लॉन्च व्हीकल का उपयोग करके INSAT-3DS उपग्रह को जियोसिंक्रोनस ट्रांसफर ऑर्बिट में स्थापित करना है।

INSAT-3DS मौसम उपग्रह का अवलोकन:

1. INSAT-3DS मौसम उपग्रह 17 फरवरी को शाम 5:30 बजे श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र SHAR से उड़ान भरने के लिए निर्धारित है। इस मिशन का उद्देश्य मौसम संबंधी टिप्पणियों को मजबूत करना है, जिससे मौसम की भविष्यवाणी और आपदा चेतावनी क्षमताओं को बढ़ाया जा सके।

2. INSAT-3DS भारत के तीसरी पीढ़ी के मौसम विज्ञान उपग्रह का प्रतिनिधित्व करता है, जो पूरी तरह से पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय Ministry of Earth Sciences द्वारा वित्त पोषित है। इसका डिज़ाइन परिचालन INSAT-3D और INSAT-3DR उपग्रहों के साथ-साथ मौसम संबंधी सेवाओं को बढ़ाने के लिए तैयार किया गया है। उन्नत मौसम संबंधी अवलोकनों पर प्राथमिक ध्यान देने के साथ INSAT-3DS भूमि और महासागर दोनों सतहों की निगरानी करेगा, जिससे मौसम पूर्वानुमान और आपदा प्रबंधन प्रयासों में उल्लेखनीय सुधार होगा।

3. जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल F14 (GSIV FI4) पृथ्वी संसाधन सर्वेक्षण, संचार और नेविगेशन सहित विभिन्न अंतरिक्ष अभियानों का समर्थन करने के लिए उन्नत क्षमताओं का प्रदर्शन करते हुए INSAT-3DS के प्रक्षेपण की सुविधा प्रदान करेगा।

INSAT-3DS मिशन के मुख्य उद्देश्य:

INSAT-3DS मिशन के प्राथमिक उद्देश्यों में पृथ्वी की सतह की निगरानी करना, समुद्री अवलोकन करना और उन्नत पेलोड के माध्यम से मौसम संबंधी डेटा प्रदान करना शामिल है। छह-चैनल इमेजर और 19-चैनल साउंडर से सुसज्जित, उपग्रह का उद्देश्य वायुमंडलीय स्थितियों और पर्यावरणीय परिवर्तनों में महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्रदान करना है।

INSAT-3DS परियोजना इसरो और पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के तहत विभिन्न विभागों के बीच सहयोगात्मक प्रयासों का एक प्रमाण है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD), राष्ट्रीय मध्यम-सीमा मौसम पूर्वानुमान केंद्र (NCMRWF), भारतीय उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान संस्थान (IITM), राष्ट्रीय महासागर प्रौद्योगिकी संस्थान (NIOT), भारतीय राष्ट्रीय महासागर सूचना सेवा केंद्र (INCOIS) जैसी संस्थाएँ), और अन्य एजेंसियां उन्नत मौसम पूर्वानुमान और मौसम संबंधी सेवाएं प्रदान करने के लिए उपग्रह डेटा का उपयोग करेंगी।

INSAT-3DS का प्रक्षेपण इसरो के 2024 के महत्वाकांक्षी कैलेंडर में एक महत्वपूर्ण कदम है, जिसमें विभिन्न प्रकार के मिशन शामिल हैं। इस साल की शुरुआत में इसरो ने 1 जनवरी को एक्सपीओसैट (एक्स-रे पोलारिमीटर सैटेलाइट) को सफलतापूर्वक लॉन्च किया, जिससे तीव्र एक्स-रे स्रोतों के ध्रुवीकरण और ब्लैक होल के अध्ययन की जांच शुरू हुई।