50 साल बाद भी चांद पर मौजूद हैं इंसान के कदमों के निशान, जानें वजह

Share Us

411
50 साल बाद भी चांद पर मौजूद हैं इंसान के कदमों के निशान, जानें वजह
22 Jul 2022
min read

News Synopsis

दुनियां world की सबसे बड़ी अंतरिक्ष एजेंसी space agency नासा Nasa के अपोलो 11 Apollo 11 मिशन को 50 साल से ज्‍यादा का समय गुजर चुका है। इस मि शन के जरिए ही पहली बार इंसान ने चंद्रमा पर पहला कदम first steps on the moon रखा था। इसे सेलिब्रेट करते हुए स्‍पेस एजेंसी ने एक वीडियो शेयर किया है। इसमें दिखाया गया है कि मिशन के इतने साल बाद भी अंतरिक्ष यात्रियों के कदमों के निशान astronaut footprints चंद्रमा पर बने हुए हैं।

इस वीडियो को लूनर रीकानसन्स ऑर्बिटर lunar reconnaissance orbiter से रिकॉर्ड किया गया था। नासा ने ट्विटर अकाउंट twitter account से इसे शेयर किया है, जिसे हजारों लाइक्‍स और रीट्वीट likes and retweets मिले हैं। वीडियो उस स्‍पॉट पर जूम करता है, जहां मिशन के दौरान अंतरिक्ष यात्रियों ने लैंडिंग की थी। चंद्रमा पर सबसे पहले कदम रखने वालों में नील आर्मस्‍ट्रांग और बज़ एल्ड्रिन neil armstrong and buzz aldrin का नाम आता है। बज़ एल्ड्रिन तो इस मिशन से जुड़ी कुछ खास चीजों की नीलामी भी 26 जुलाई को करने जा रहे हैं। इसमें वह जैकेट भी शामिल है, जो उन्‍होंने चंद्रमा पर रहते हुए पहनी थी। माना जा रहा है कि वह जैकेट jacket 2 मिलियन डॉलर तक नीलाम हो सकती है।

वहीं, बात करें नासा के वीडियो की, तो वह जूम करते हुए उस जगह तक पहुंच जाता है, जहां अंतरिक्ष यात्रियों ने लैंड किया था। नासा ने जानकारी साझा करते हुए कहा है कि उस जगह पर आज भी अंतरिक्ष यात्रियों astronauts के कदमों के निशान मौजूद हैं। अपोलो 11 मिशन ने 16 जुलाई 1969 को उड़ान भरी थी। उसी साल अंतरिक्ष यात्रियों ने वहां लैंड किया था। एक ओर नासा इस वीडियो के जरिए अपनी उपलब्‍धि को दर्शा रही है, वहीं आर्टिमिस मिशन artemis mission के जरिए वह एक बार फ‍िर से मून मिशन की तैयारी कर रही है। इस बार ना सिर्फ इंसानों को चंद्रमा पर लैंड कराने की योजना है, बल्कि उनके लिए वहां अस्‍थायी बसेरा temporary shelter भी तैयार करना है।