पर्यावरण, प्रदूषण और तापमान

Share Us

2142
पर्यावरण, प्रदूषण और तापमान
25 Feb 2023
4 min read

News Synopsis

Latest Updated on 25 February 2023
आज हम सभी प्रदूषण Pollution और जलवायु परिवर्तन Climate Change की समस्याओं का सामना कर रहे हैं। इन समस्याओं के बुरे प्रभाव धीरे-धीरे सामने आ रहे हैं। जलवायु परिवर्तन एक बड़ी समस्या है, और यह सभी को अलग-अलग तरीकों से प्रभावित कर रहा है।

जब दूषित पदार्थों के प्रवेश के कारण प्राकृतिक वातावरण Natural Environment में चीजें गलत हो जाती हैं। प्रदूषण कई प्रकार के होते हैं, जैसे वायु प्रदूषण Air Pollution, जल प्रदूषण Water Pollution, ध्वनि प्रदूषण Noise Pollution आदि। कारखानों Factories, मोटर वाहनों Motor Vehicles और चिमनियों Fireplaces से निकलने वाला धुआं हवा Smoke Wind को और अधिक प्रदूषित करता है, जो बदले में जलवायु परिवर्तन का कारण बनता है। वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड Carbon Dioxide की मात्रा में वृद्धि से पृथ्वी गर्म Earth Warm होती है, और ओजोन परत Ozone Layer के क्षरण से त्वचा का कैंसर Cancer बढ़ता है। नदियों का जल हानिकारक लवणों, कार्बनिक पदार्थों तथा अन्य पदार्थों से बड़ी मात्रा में दूषित हो जाता है, जो जल प्रदूषण द्वारा होता है। आज नदियों का पानी मानव उपयोग के लायक नहीं रह गया है। प्रदूषित पानी पीने से पीलिया Jaundice और हैजा Cholera जैसी बीमारियां हो सकती हैं। जल प्रदूषण जल जीवों के जीवन को भी नुकसान पहुंचाता है।

वायु, जल और ध्वनि प्रदूषण पृथ्वी के पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहा है। इस प्रदूषण में जनसंख्या वृद्धि Population Growth, खनन और यातायात का मुख्य योगदान है। परमाणु परीक्षण Nuclear Test जैसी चीजों से भी माहौल प्रभावित होता है। कि हमारा जीवन और पर्यावरण खतरे में है।

जलवायु परिवर्तन एक ऐसी समस्या है, जो दुनिया के विभिन्न हिस्सों में औसत मौसम Average Weather को प्रभावित करती है। कुछ लोग कहते हैं कि यह दुनिया की सबसे गंभीर समस्या है।

जलवायु परिवर्तन के दो मुख्य कारण प्राकृतिक और मानव निर्मित हैं। प्राकृतिक कारण महाद्वीपीय पृथक्करण Natural Causes Continental Separation, ज्वालामुखी Volcano, महासागरीय धाराएँ Ocean Currents और मीथेन गैस Methane Gas जैसी चीज़ें हैं। जलवायु परिवर्तन के मानव जनित कारणों में जीवाश्म ईंधन का उपयोग और शहरीकरण जैसी चीजें शामिल हैं।

जलवायु परिवर्तन दुनिया के लिए एक बहुत बड़ा खतरा है, और यह मनुष्यों के लिए कई समस्याएं पैदा कर रहा है। जलवायु परिवर्तन के कुछ प्रभावों में उच्च तापमान, समुद्र का बढ़ता स्तर, वर्षा के बदलते पैटर्न और अधिक चरम मौसम की घटनाएं शामिल हैं। प्राकृतिक आपदाओं के होने से वन्यजीव प्रजातियों Wildlife Species के नुकसान और बीमारियों के अधिक फैलने के जोखिम भी हैं। इन सब से भारी आर्थिक नुकसान Economic Loss भी हो रहा है।

Last Updated on 04 October 2021

जब पर्यावरण ही नहीं होगा तो जीवन की संभावना कैसे बनेगी? दिन पर दिन बढ़ते  प्रदूषण के चलते जलवायु परिवर्तन और तापमान में उतार-चढ़ाव लगा रहता है जो कि बहुत ही बड़ी समस्या है। ऐसे में  धरती 1.1 डिग्री सेल्यिस की रफ्तार से गरम हो रही है जबकि अगर हमें पृथ्वी को बचाना है, तो 2030 तक यह तापमान 1.5 डिग्री सेल्सियस पहुंचाना होगा और 2050 तक हमें कार्बन प्रदूषण को शून्य के करीब लाना होगा। वरना हम जल्द ही प्राकृतिक सुंदरता और साथ ही मानव सभ्यता भी खो देंगे। हमें इलेक्ट्रिक वाहनों के साथ-साथ ज्यादा से ज्यादा पौधारोपण करने की जरूरत है। ऐसा करके ही हम अपनी पृथ्वी को फिर से सुंदर व खुशहाल बना पाएंगे।

TWN In-Focus