News In Brief Brand Stories
News In Brief Brand Stories

अलीगढ़ की मशहूर मिठाई चमचम के आगे सब पकवान फीके, जानिए खासियत

Share Us

3717
अलीगढ़ की मशहूर मिठाई चमचम के आगे सब पकवान फीके, जानिए खासियत
11 Jul 2022
8 min read

News Synopsis

आज हम बात करेंगे अलीगढ़ की मशहूर मिठाई Aligarh's famous sweets चमचम Chamcham की। चमचम मिठाई अलीगढ़ Tehsil Iglas की तहसील इगलास में बनाई जाती है। दूध के छेना से बनने वाली यह मिठाई इतनी स्वादिष्ट है कि एक बार जो खाता है, वह दोबार जरूर मांगता है। इगलास की 'चमचम' मिठाई यहां की सुप्रसिद्ध मिठाई है। सबसे खास बात यह है कि ये चमचम सिर्फ यहीं बनती है। जब भी कोई इधर से होकर गुजरता है तो यहां से चमचम खरीदना नहीं भूलता है।

अगर इसके इतिहास की बता करें तो साल 1944 में चमचम मिठाई बनाने की शुरुआत यहां के प्रसिद्ध हलवाई  लाला रघुवरदयाल उर्फ रग्घा सेठ Lala Raghuvardayal, Ragha Seth ने की थी। उस समय सारा काम हाथ से किया जाता था। उसके बाद उनकी मिठाई इतनी मशहूर हो गई कि कई ब्रांच खुल गईं। उनकी दुकान की चमचम की ख्याति आज भी दूर-दूर तक फैली हुई है। अब यह दुकान उनके बेटे चला रहे हैं। 

अगर इसके बनाने की प्रक्रिया की बता की जाए तो चमचम को बनाने के लिए दूध को फाड़कर पहले छैना तैयार किया जाता है। फिर इसे सीधे चीनी की चासनी sugar syrup में पकाया जाता है। सबसे मजेदार बात यह है कि इसमें घी या रिफाइंड ghee or refined का इस्तेमाल नहीं होता है। चमचम की बिक्री पूरे साल होती है पर दीवाली Diwali पर इसकी डिमांड बढ़ जाती है। मथुरा-वृंदावन Mathura-Vrindavan आने वाले भक्तगण भी चममच के स्वाद के लिए इगलास तक चले आते हैं। चमचम को अगर कोई नहीं जानता हो तो इसे गुलाबजामुन Gulab Jamun ही समझेगा।

TWN Opinion