facebook-pixel

क्या व्यक्तिगत ब्रांडिंग महतवपूर्ण है?

Share Us

1094
क्या व्यक्तिगत ब्रांडिंग महतवपूर्ण है?
29 Sep 2021
8 min read
TWN In-Focus

Post Highlight

व्यक्तिगत ब्रांडिंग आपकी उपस्थिति के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है। ब्रांडिंग का आपके नौकरी के प्रस्तावों, आपके द्वारा चलाए जा सकने वाले सोशल मीडिया अभियानों के प्रकार और आपके जीवन की कई अन्य स्थितियों पर सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।आज, इक्कीसवी सदी में, आपको अपना खुद का ब्रांड बनना होगा। इसलिए व्यक्तिगत ब्रांडिंग को हलके में न लें और सामाजिक व्यापार जगत में योगदान देना शुरू करें। आप अपनी और अपने व्यवसाय की मदद करेंगे।

Podcast

Continue Reading..

व्यक्तिगत ब्रांडिंग बहुत महतवपूर्ण है, लेकिन आईये शब्दार्थ से प्रभावित न हों। आपकी प्रतिष्ठा आपकी व्यक्तिगत ब्रांडिंग है और वही आपके करियर की नींव है।  बात यह है कि जब लोग तेजी से लक्ष्य प्राप्त नहीं कर रहे होते हैं, तो लोग चिंतित हो जाते हैं। वे दूसरों को अल्पावधि में आगे बढ़ते हुए देखते हैं और वह भी चाहते हैं कि उनकी भी उनत्ति उसी प्रकार हो। वे धैर्यवान नहीं हैं, वे अपने उत्पाद को पहली बातचीत में ग्राहक को बेचने की कोशिश करते रहते हैं । लोग इसे नहीं समझते हैं लेकिन धीरे-धीरे आपके प्रतिष्ठा का निर्माण होता है और लम्बा खेल खेलना हमेशा आपके पक्ष में होता है। वे धैर्य रखने के बजाय त्वरित बिक्री चाहते हैं। जैसे कि एक सीख जो बच्चा-बच्चा जनता है, वो आपने सुनी ही होगी कि - "दुर्घटना से देर भली "। आपको धीरज से काम करना होगा , जल्दबाज़ी में कोई भी कार्य अच्छा नहीं होता।   

लोग जो नहीं समझते हैं वह यह है कि अल्पकालिक प्रगति अक्सर दीर्घकालिक व्यक्तिगत ब्रांडिंग की कीमत पर होती है। अच्छी कंपनियां सिर्फ बेचती ही नहीं  हैं - वे ब्रांडिंग करती हैं। सबसे सटीक उदाहरण व्यक्तिगत ब्रांडिंग का "मर्सिडीज" से अच्छा नहीं हो सकता। आप "टेलीविजन" या "होर्डिंग्स"  पर इसके नियमित विज्ञापन कभी नहीं देखेंगे, लेकिन हर कोई जनता है कि "मर्सिडीज" क्या है। वे आपकी कल्पना में सुन्दर सपना बनाते हैं, वे ब्रांडिंग पे ध्यान देते हैं। अगर आप बॉलीवुड मूवीज में दिलचस्पी रखते हैं, तो आपने यह वार्ता सुनी ही होगी मशहूर बॉलीवुड मूवी 'गब्बर इस बैक' में -- "गब्बर पाटिल से बड़ा ब्रांड है''। आपको क्या लगता है, गब्बर पाटिल से बड़ा ब्रांड क्यों था ? गब्बर की उन लोगो में -जो भ्रष्टाचार करते हैं, उनमें खौफ था और ईमानदार लोगो में इज़्ज़त थी। यह मूवी सबसे अच्छा उदाहरण है व्यक्तिगत ब्रांडिंग के लिए।  

 कोई भी बिक्री छोड़ने को नहीं कह रहा, यह एक आवश्यकता है लेकिन व्यक्तिगत ब्रांडिंग एक मूल्यवान कारक है, जिस पर सबसे अधिक ध्यान केंद्रित नहीं किया जाता है। ब्रांड एक भावना है, जैसे जब कोई 'डोमिनोस' या 'मैक्डोनाल्ड्स' कहता है, तो आप एक भावना/प्रतिक्रिया महसूस करते हैं (जो मुझे लगता है कि 'स्वादिष्ट !!' ही होगा)। आपको यही करना है ग्राहकों की कल्पना में रोमांचक प्रतिक्रिया /भावना पैदा करें।

 ब्रांड सिर्फ व्यवसायों के लिए हुआ करते थे। लेकिन फिर इंटरनेट आ गया। दुनिया भर में हर तरह की जानकारी घूमने लगी। कंपनियां, सरकारें और संस्थान कम महत्वपूर्ण हो गए। सोशल मीडिया ने हमें इंटरनेट कनेक्शन के साथ किसी से भी जुड़ने की अनुमति दी और बाद में स्मार्ट फोन के साथ किसी से भी।

पिछले दशकों में विज्ञापन के लिए कई अवसर नहीं थे। यह तब काफी महंगा था, लेकिन अब आपके पास सोशल मीडिया है, जो चुगली करने वाली पड़ोसन की तरह है, जो आपके बारे में हर एक बात फैलाती है और यह आपके लिए विस्तार करने के लिए एक शानदार अवसर है और यदि यह "सरल अवसर" भी काम नहीं करेगा तो पता नहीं क्या काम करेगा !!

व्यक्तिगत ब्रांडिंग आपके लिए, आपके व्यवसाय के लिए और आपके करियर के लिए बेहद सकारात्मक है। अपने लिए एक सकारात्मक व्यक्तिगत ब्रांड बनाने के लिए इन लाभ का उपयोग करने से आपके करियर और आपके जीवन में हमेशा सकारात्मक परिणाम होंगे।

व्यक्तिगत ब्रांडिंग आपकी उपस्थिति के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है। ब्रांडिंग का आपके नौकरी के प्रस्तावों, आपके द्वारा चलाए जा सकने वाले सोशल मीडिया अभियानों के प्रकार और आपके जीवन की कई अन्य स्थितियों पर सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। आपका ब्रांड आपकी प्रतिष्ठा है; लोग आपके बारे में कैसा सोचते हैं। हर किसी के पास एक ब्रांड होता है, लेकिन हर किसी का निजी ब्रांड एक ताकत बनने के लिए विकसित नहीं होता है। बड़ी कंपनियां ब्रांड के महत्व को समझती हैं। हम "रतन टाटा" का  उदाहरण ले सकते हैं जो कि एक प्रसिद्ध उद्योगपति हैं, दुनिया में शायद ही कोई ऐसा होगा जो इनको या इनके ब्रांड को न जानता हो, इनकी लगभग हर देश में पहुंच है, उनका नाम चलता है और इसी को व्यक्तिगत ब्रांडिंग कहते हैं । आज, इक्कीसवी सदी में, आपको अपना खुद का ब्रांड बनना होगा। इसलिए व्यक्तिगत ब्रांडिंग को हलके में न लें और सामाजिक व्यापार जगत में योगदान देना शुरू करें। आप अपनी और अपने व्यवसाय की मदद करेंगे। मुझे आशा है कि आप इसका लाभ उठाएंगे। मुझे आशा है कि आप इसका लाभ उठाएंगे ।