5G किस तरह दुनिया को प्रभावित करेगा?

Share Us

2640
5G किस तरह दुनिया को प्रभावित करेगा?
12 Nov 2021
8 min read

Blog Post

विज्ञान में नवाचार के साथ-साथ प्रौद्योगिकी ने काफी विकास किया है। लोगों की बढ़ती आवश्यकताओं ने अनेक आविष्कारों को जन्म दिया है। उन विकासों में से एक है डेटा प्रौद्योगिकी में बदलाव, जो विश्व को नई ऊंचाइयों तक लेकर जा रहा है। डाटा प्रौद्योगिकी नेम 2G, 3G और 4G नेटवर्क के बाद अब 5G नेटवर्क को संचालित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। 5G नेटवर्क के आने से दुनिया भर में कई तरह के बदलाव आने की संभावना है जो  सकारात्मक भी हो सकते हैं और कुछ हद तक नकारात्मक भी हो सकते हैं।

विज्ञान में नवाचार के साथ-साथ प्रौद्योगिकी ने काफी विकास किया है। लोगों की बढ़ती आवश्यकताओं ने अनेक आविष्कारों को जन्म दिया है। उन विकासों में से एक है डेटा प्रौद्योगिकी में बदलाव, जो विश्व को नई ऊंचाइयों तक लेकर जा रहा है। डाटा प्रौद्योगिकी नेम 2G, 3G और 4G नेटवर्क के बाद अब 5G नेटवर्क को संचालित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। 5G नेटवर्क के आने से दुनिया भर में कई तरह के बदलाव आने की संभावना है जो  सकारात्मक भी हो सकते हैं और कुछ हद तक नकारात्मक भी हो सकते हैं। बेहतर नेटवर्क, सेवा हाई स्पीड डेटा लोगों के लिए कई तरीके से फायदेमंद साबित होंगे। लेकिन इसके साथ साथ नेटवर्क के विकास में अधिक खर्च होने के कारण उपभोक्ताओं की जेब पर भी असर पड़ने की उम्मीद है। अब देखना यह है कि 5जी की बेहतर‌ नेटवर्क सेवाएं किस तरह विश्व पर असर डालती हैं।

नेटवर्क सेवाओं में नवाचार 

जैसे-जैसे विश्व आधुनिकता की ओर बढ़ रहा है, वैसे-वैसे विज्ञान भी तरक्की की ओर बढ़ता जा रहा है। ऐसे में स्मार्टफोन के इस युग में डेटा प्रौद्योगिकी data technology काफी उभरता हुआ दिखाई दे रहा है। 3G नेटवर्क के साथ शुरू हुई यह डेटा सेवा 4G तक आगे बढ़ी और अब यह 5G की तरफ बढ़ती हुई दिखाई दे रही है। कई विदेशी देशों ने तो 5G नेटवर्क को संचालित भी कर दिया है। विज्ञान की यह तरक्की वाकई में सराहनीय है कि, हमारे वैज्ञानिक आविष्कार को नई ऊंचाइयों तक ले‌ जा रहे हैं। लेकिन इतनी फास्ट टेक तकनीक के बाज़ारों में आने से  5G का फायदा व नुकसान लोगों के बीच एक चर्चा का विषय बन गया है। यह तो‌ स्वाभाविक है कि इसके आने से ‌दुनियाभर में ‌कई तरह के बदलाव ज़रूर आएंगे, लेकिन वह सकारात्मक होंगे या नकारात्मक यह अवश्य ही सोचने का विषय है। इस लेख के माध्यम से हम आपको 5G नेटवर्क के फायदे और नुकसान के बारे में बताएंगे।

5G नेटवर्क से होंगे ये फायदे

यह तो स्पष्ट है कि 5G नेटवर्क के आने से सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि हर कोई 4G की तुलना में बेहतर‌ गति वाले डेटा का उपयोग कर सकेगा। इसके अलावा 5जी नेटवर्क की बेहतर बैंडविड्थ के कारण लोग डेटा सेवाओं का आसानी से उपयोग कर सकेंगे। आसान शब्दों में कहें तो जब बैंडविड्थ में बढ़ोतरी होगी तो उपभोक्ताओं को बिना किसी परेशानी के डेटा स्ट्रीम और डाउनलोड करने का अवसर मिलेगा। किसी वीडियो को डाउनलोड करने में जो दिक्कत पहले के समय में आती थी, वह इसके आने से सुलझ जाएगी। आपके आसपास स्थित 5G टावर आपको बेहतर नेटवर्क स्पीड प्रदान करने में सक्षम होंगे, जिससे आप तेज दर से इंटरनेट पर एक्सेस कर सकेंगे और मिनटों में HD विडियो डाउनलोड कर सकेंगे। 

मौजूदा समय में उपभोक्ताओं को टावर सिग्नल रुकने की समस्याओं का सामना करना पड़ता है, लेकिन 5G के आने से यह समस्या दूर हो जाएगी, क्योंकि यह अधिक बैंडविड्थ के कारण ज़्यादा से ज़्यादा उपभोक्ताओं को लाभ पहुंचाने में सक्षम होगा। जिसके कारण उपभोक्ता बिना किसी रुकावट के इंटरनेट पर सर्फिंग कर सकेंगे।

अधिक तकनीकी प्रगति हमें अधिक से अधिक आविष्कारों की ओर लेकर जाएगी। 5G नेटवर्क की ओर प्रगति वीआर और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस संबंधित अधिक स्मार्ट आविष्कारों के दरवाजे खोल देगी जो पहले उपलब्ध नहीं थे। इसके साथ साथ आने वाला 5G नेटवर्क इंटरनेट एक्सेस प्वाइंट से बेहतर होगा, जो उपभोक्ताओं के अतिरिक्त बिलों की बचत करने में मदद करेगा। उपभोक्ता अपने स्मार्टफोन को इंटरनेट एक्सेस प्वाइंट की का इस्तेमाल कर सकेंगे और अधिक से अधिक उपकरणों के लिए 5G बैंडविड्थ का उपयोग कर पाएंगे।

5G नेटवर्क के नुकसान

यह बात स्पष्ट होती है कि जहाँ एक तरफ कोई चीज़ दो कदम आगे बढ़ाती है तो‌ दूसरी तरफ वह एक कदम पीछे भी अवश्य ढकेलती है। सीधे शब्दों में कहें तो हर एक चीज़ का फ़ायदा और नुकसान दोनों ही होता है, कोई भी चीज़ पूरी तरह से कभी सही नहीं होती। विशेषज्ञों के अनुसार 5G की उच्च रेडियो फ्रीक्वेंसी स्वास्थ्य जोखिमों को आमंत्रण देगी। लेकिन अभी भी यह बहस का विषय है और यह साबित करने के लिए उचित सबूतों की ज़रूरत है कि 5G नेटवर्क स्वास्थ्य को प्रभावित करेगी या नहीं। नेटवर्क में सुधार, बुनियादी ढांचे में सुधार और रखरखाव की लागत के कारण उपभोक्ताओं को हाई-एंड 5G तकनीक का लाभ उठाने के लिए बहुत खर्च करना पड़ सकता है। अनुमान तो ऐसा भी लगाया जा रहा है कि 5G नेटवर्क सिर्फ आबादी वाले क्षेत्रों में ही प्रभावी रूप से काम करेगा, क्योंकि ये फ़्रीक्वेंसी तरंगें केवल थोड़ी दूरी तक ही स्थानांतरित हो सकती हैं। शहरी क्षेत्रों के लिए यह एक सपने के सच होने जैसा हो सकता है, लेकिन ग्रामीण लोगों के लिए 5G नेटवर्क का‌ लाभ मिलने की संभावना नहीं होगी।

इस लेख में बताए गए तथ्यों के अनुसार 5G नेटवर्क के फायदे और नुकसान दोनों ही हैं। प्रौद्योगिकी कंपनियां 5G नेटवर्क से होने वाले नुकसान को दूर करने के लिए प्रयास कर रही हैं। उम्मीद है कि इससे कुछ सकारात्मक परिणाम देखने को मिल‌ सकता है।