Zomato ने Blinkit में 300 करोड़ निवेश करने की योजना बनाई

Share Us

115
Zomato ने Blinkit में 300 करोड़ निवेश करने की योजना बनाई
11 Jun 2024
7 min read

News Synopsis

स्विगी और ज़ेप्टो के साथ प्रतिस्पर्धा बढ़ने के कारण ज़ोमैटो ब्लिंकिट में 300 करोड़ का निवेश करेगा। रजिस्ट्रार ऑफ़ कंपनीज़ के अनुसार गुड़गांव स्थित ज़ोमैटो अपनी क्विक कॉमर्स यूनिट ब्लिंकिट में 300 करोड़ का निवेश करेगी।

ज़ोमैटो Zomato ने अगस्त 2022 में 4,477 करोड़ के ऑल-स्टॉक सौदे में ब्लिंकिट का अधिग्रहण करने के बाद से अब तक इसमें 2,300 करोड़ का निवेश किया है।

ब्लिंकिट Blinkit के अलावा ज़ोमैटो अपनी सहायक कंपनी ज़ोमैटो एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड Zomato Entertainment Pvt Ltd में भी 100 करोड़ का निवेश करेगी, जो लाइव इवेंट और टिकटिंग का काम संभालती है। यह निवेश ऐसे समय में हुआ है, जब ब्लिंकिट को स्विगी इंस्टामार्ट और ज़ेप्टो से कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है। स्विगी ने 10,414 करोड़ के आईपीओ के लिए ड्राफ्ट पेपर दाखिल किए हैं, जबकि ज़ेप्टो 300 मिलियन डॉलर (करीब 2,500 करोड़ रुपये) जुटाने के लिए बातचीत कर रही है। क्विक डिलीवरी सेक्टर में फ्लिपकार्ट जैसी कंपनियाँ भी आ सकती हैं, जिसने हाल ही में संभावित सौदे के लिए ज़ेप्टो के साथ बातचीत की है।

वर्ष 2024 में ब्लिंकिट ने 2,302 करोड़ का राजस्व दर्ज किया, जो वर्ष 23 में 1,064 करोड़ से अधिक है। जनवरी-मार्च 2024 तिमाही में इसका समायोजित एबिटा घाटा एक साल पहले के 203 करोड़ से घटकर 37 करोड़ रह गया। ब्लिंकिट की योजना 31 मार्च तक अपने डार्क स्टोर की संख्या 562 से बढ़ाकर 1,000 करने की है। ब्लिंकिट अपैरल, होम डेकॉर, इलेक्ट्रॉनिक्स, स्पोर्ट्स के सामान और होम एप्लायंसेज को शामिल करने के लिए अपनी प्रोडक्ट रेंज का विस्तार भी कर रही है।

ब्लिंकिट ज़ोमैटो के लिए शेयरहोल्डर वैल्यू का एक महत्वपूर्ण ड्राइवर बन गया है, जिसने मार्केट वैल्यू में इसके फ़ूड डिलीवरी बिज़नेस को पीछे छोड़ दिया है। गोल्डमैन सैक्स की अप्रैल की एक रिपोर्ट में ब्लिंकिट का वैल्यू 119 रुपये प्रति शेयर होने का अनुमान लगाया गया था, जबकि ज़ोमैटो के फ़ूड डिलीवरी बिज़नेस के लिए यह 98 रुपये प्रति शेयर था। इसका मतलब है, कि ब्लिंकिट ज़ोमैटो के वैल्यू में $13 बिलियन का योगदान देता है, जो मार्च 2023 में $2 बिलियन से अधिक है।

ज़ोमैटो का मार्केट कैप $19 बिलियन (1.6 लाख करोड़ रुपये) से अधिक था, जिसका शेयर बीएसई पर 0.4 प्रतिशत बढ़कर 182.50 रुपये पर कारोबार कर रहा था। 2022 में ब्लिंकिट को पूरी तरह से अधिग्रहित करने से पहले ज़ोमैटो के पास 9 प्रतिशत हिस्सेदारी थी। ज़ोमैटो और टाइगर ग्लोबल से $120 मिलियन जुटाने के बाद जून 2021 में ब्लिंकिट एक यूनिकॉर्न बन गई। मार्च 2022 में ब्लिंकिट ने कन्वर्टिबल नोट्स के माध्यम से ज़ोमैटो से $100 मिलियन जुटाए, और ज़ोमैटो ने उसी महीने ब्लिंकिट को $150 मिलियन का लोन दिया।