सुंदर पिचाई ने अपना घर बेच दिया, जानिए किसने खरीदा?

Share Us

697
सुंदर पिचाई ने अपना घर बेच दिया, जानिए किसने खरीदा?
20 May 2023
8 min read

News Synopsis

अशोक नगर के अभिनेता और निर्माता सी मणिकंदन ने खरीदा सुंदर पिचाई का घर

सुंदर पिचाई Sundar Pichai के साथ जुड़े घर को बेचने का फैसला हो गया है। गूगल Google के सीईओ सुंदर पिचाई ने चेन्नई का अपना पुश्तैनी घर बेच दिया है। यह घर तमिल एक्टर और फिल्म निर्माता सी मणिकंदन C Manikandan द्वारा खरीदा गया है। सुंदर पिचाई का यह बिक चुका घर चेन्नई के अशोक नगर इलाक़े में स्थित है। इस घर में सुंदर पिचाई ने अपनी बचपन से लेकर 20 साल तक बिताए थे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मणिकंदन ने अपने लिए एक प्रॉपर्टी देख रहे थे और जब उन्हें पता चला कि कि अशोक नगर में एक घर बिक रहा है, जिसमें सुंदर पिचाई ने अपना बचपन और जवानी बिताई है, तो उन्होंने इसे खरीदने का निर्णय लिया। मणिकंदन, जो रियल एस्टेट डिवेलपमेंट के कार्य में भी लगे हुए हैं, कहते हैं कि सुंदर पिचाई ने हमारे देश को गर्व महसूस कराया है और जिस घर में वह रहते थे, उसे खरीदना मेरे जीवन की एक बड़ी उपलब्धि है। हालांकि, इस घर की क़ीमत के बारे में कोई जानकारी अभी तक उपलब्ध नहीं हुई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सुंदर पिचाई के घर की डील चार महीने पहले शुरू हुई थी और अब इसकी अंतिम समाप्ति हुई है। इसलिए, इस सौदे में समय लगा क्योंकि घर के मालिक, सुंदर पिचाई के पिता आर. एस. पिचाई, लंबे समय से अमेरिका में थे। मणिकंदन ने बताया कि गूगल के सीईओ के माता-पिता बहुत विनम्र हैं और उन्होंने घर के ट्रांसफ़र के दौरान घंटों तक रजिस्ट्रार ऑफ़िस में इंतज़ार किया। उन्होंने अपने बेटे का नाम का उपयोग नहीं किया ताकि कार्य प्रक्रिया में जल्दी हो सके। उनकी सादगी ने उन्हें बहुत प्रभावित किया है। उन्होंने बताया कि घर के दस्तावेज़ सौंपने के समय सुंदर पिचाई के पिता बहुत भावुक हो गए थे।

यह घर चेन्नई के एक प्रमुख इलाके, अशोक नगर में स्थित है। सुंदर पिचाई ने यहीं अपना बचपन और युवावस्था बिताई है। यह घर उनके लिए खास महत्व रखता है क्योंकि यह उनके संघर्ष और सफलता की कहानी का प्रतीक है।

इस घर की ख़रीद पर मणिकंदन ने कहा, "मुझे गर्व है कि मैंने सुंदर पिचाई के उस घर को ख़रीदा है जहां उन्होंने अपनी माता-पिता के साथ अपना बचपन बिताया। उन्होंने गूगल के साथ अपनी मेहनत और सामर्थ्य से देश का नाम रोशन किया है। यह घर मेरे जीवन की एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।"

सुंदर पिचाई ने इस घर को 20 साल तक अपना घर माना है, जब तक कि उन्होंने 1989 में IIT खड़गपुर में

इंजीनियरिंग करने के लिए जाना था और उन्हें नौकरी मिल गई। इसके बाद से, सुंदर पिचाई इस घर में केवल कभी-कभी ही आने वाले रहे हैं। अमेरिका में बेहतर मौके के लिए रहते हुए, उन्होंने अपने परिवार को अमेरिका में स्थापित किया है।

मणिकंदन ने इस अवसर पर बताया कि उन्हें पहली नजर में ही इस घर में रुचि हुई और वह इसे खरीदने का निर्णय लिया। उन्होंने कहा, "यह घर मेरे लिए एक संकेतिक महत्व रखता है क्योंकि यह एक सफलता की कहानी को दर्शाता है। सुंदर पिचाई ने अपने मेहनत और प्रयासों से गूगल को विश्वस्तरीय ब्रांड बनाया है और हमारे देश का नाम गर्व से रोशन किया है। इसलिए, इस घर को खरीदने का निर्णय मेरे जीवन की एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।"

सुंदर पिचाई के इस घर की डील का आयोजन चार महीने पहले हुआ था और हाल ही में इसकी अंतिम समाप्ति हुई है। इसके दौरान, घर के मालिक सुंदर पिचाई के पिता, आर. एस. पिचाई, अमेरिका में लंबे समय से रहते थे। मणिकंदन ने बताया कि गूगल के सीईओ के माता-पिता बहुत विनम्र हैं और उन्होंने घर के ट्रांसफ़र के दौरान घंटों तक रजिस्ट्रार ऑफ़िस में इंतज़ार किया। यह प्रमाणित करता है कि उनकी सादगी और संवेदनशीलता का परिचय उनके परिवार के द्वारा दिया जाता है। उन्होंने इसके बारे में कहा, "मेरे पिता बहुत भावुक हो गए थे जब हमने घर के दस्तावेज़ सौंपे। यह घर हमारे परिवार के लिए एक आदर्श स्थान है जो सुंदर पिचाई की मेहनत और सामर्थ्य की कहानी को प्रतिष्ठित करता है।"

इस खरीदारी सौदे से पहले, सुंदर पिचाई ने अपने घर को 20 साल तक अपना घर माना है। इस घर में उन्होंने अपना बचपन और जवानी बिताई है। यह घर उनकी सफलता और संघर्ष का प्रतीक है। वह इसे खरीदकर अपने जीवन की एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल कर चुके हैं। इस घर की मूल्य के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है।

मणिकंदन के मुताबिक, सुंदर पिचाई ने गूगल को विश्वासघात नहीं किया है। उन्होंने इस घर को खरीदने के पश्चात अपने पिता के साथ अमेरिका वापस आए और अपनी गूगल की नौकरी जारी रखी। उन्होंने यह साझा किया कि उन्हें भारतीय मूल के होने पर गर्व है और वे अपने पूरे करियर में नई और आधुनिक विचारधारा को समर्पित रहेंगे।

इस घर की खरीदारी ने मणिकंदन के जीवन के लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ बना दिया है। उन्होंने बताया कि यह घर उनके लिए एक सपना की तरह है और वह इसे अपनी परिवार की आभा का स्रोत मानते हैं। वह इस नए घर में अपने परिवार के साथ खुशहाली से रहने की आशा करते हैं और इससे उनकी सामाजिक और आर्थिक स्थिति में सुधार होगी।