अंतरिक्ष का सफर है सुहाना

Share Us

5974
अंतरिक्ष का सफर है सुहाना
21 Jul 2021
3 min read

News Synopsis

जिस तरह आज विज्ञान अपनी चोटी को छू रहा है उसको देखते हुए लगता है वो दिन दूर नहीं जब लोग अंतरिक्ष में बस्तियां भी बसा पाएंगे। ऐसा विचार ज़हन में इसलिए पनपा है क्योंकि जिस तरह से आज विश्व के अरबपतियों में शुमार अमेज़न के संस्थापक जेफ़ बेज़ोस, तथा इस यात्रा में बेज़ोस के साथ उनके भाई मार्क बेज़ोस, 82 साल की पूर्व पायलट वैली फ़ंक और 18 साल के छात्र ओलिवर डायमेन भी अपनी पहली अंतरिक्ष यात्रा कर लौटे ये एक रोचक और अद्भुत पहल है। इसके द्वारा और भविष्य में आमजनों के लिए भी रास्ता खुलने के आसार दिखाए हैं। स्पेस यात्रा का भविष्य उज्जवल दिख रहा है। तमाम सरकारी स्पेस एजेंसियाँ तो इस कार्य में सलग्न हैं ही साथ-साथ आज के समय में प्राइवेट कंपनियों ने भी अपना योगदान देना शुरू कर दिया है।