Retail Inflation: औद्योगिक श्रमिकों के लिए खुदरा मुद्रास्फीति सितंबर में बढ़ी

Share Us

332
Retail Inflation: औद्योगिक श्रमिकों के लिए खुदरा मुद्रास्फीति सितंबर में बढ़ी
01 Nov 2022
min read

News Synopsis

Retail Inflation: देश में सितंबर महीने में औद्योगिक श्रमिकों Industrial Workers के लिए खुदरा मुद्रास्फीति Retail Inflation बढ़कर 6.49 प्रतिशत हो गई है। जबकि यह अगस्त, 2022 में 5.85 फीसदी पर थी। सरकार की तरफ से सोमवार को जारी किए गए सरकारी आंकड़ों Govt Data की मानें तो, मुख्य रूप से खाने-पीने का सामान महंगा होने से खुदरा मुद्रास्फीति Retail Inflation बढ़ी है। श्रम मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि सितंबर, 2022 के लिए मुद्रास्फीति दर पिछले महीने के 5.85 प्रतिशत तथा गत वर्ष के इसी माह के 4.40 प्रतिशत की तुलना में 6.49 प्रतिशत रही।

जबकि इसी तरह खाद्य मुद्रास्फीति Food Inflation की दर इस साल अगस्त में 6.46 प्रतिशत और इससे पिछले वर्ष के इसी महीने में 2.26 प्रतिशत की तुलना में सितंबर, 2022 में 7.76 प्रतिशत रही। अखिल भारतीय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक All India Consumer Price Index (औद्योगिक श्रमिक) सितंबर, 2022 में 1.1 अंक बढ़कर 131.3 अंक के स्तर पर पहुंच गया। यह अगस्त में 130.2 अंक था। सूचकांक में दर्ज वृद्धि का सबसे अधिक प्रभाव खाने-पीने के सामान पर रहा।

इसके कारण सूचकांक में 0.68 प्रतिशत अंक की वृद्धि हुई। वहीं अगर वस्तुओं की बात करे तो, खाद्य पदार्थों Foods में चावल Rice, गेहूं का आटा , भैंस का दूध Buffalo Milk, डेयरी मिल्क Dairy Milk, पॉल्ट्री चिकन Poultry Chicken, गाजर Carrot, फूलगोबी Cauliflower, हरा धनिया, प्याज, आलू, टमाटर, वडा, इडली, डोसा इत्यादि सूचकांक को बढ़ाने में जिम्मेदार नजर आए हैं।

वहीं, दूसरी तरफ ताजा मछली, पाम तेल, सरसों का तेल, सूरजमुखी का तेल, सोयाबीन तेल, सेब, हींग, संतरा Orange, लौकी Gourd आदि ने सूचकांक में दर्ज वृद्धि को नियंत्रित करने का प्रयास किया।