News In Brief Business and Economy
News In Brief Business and Economy

Reliance Jio ने जनवरी में Airtel के मुकाबले अधिक 4G और 5G यूज़र्स जोड़े: TRAI

Share Us

106
Reliance Jio ने जनवरी में Airtel के मुकाबले अधिक 4G और 5G यूज़र्स जोड़े: TRAI
02 Apr 2024
6 min read

News Synopsis

भारत के टेलीकॉम लैंडस्केप में जनवरी 2024 में वायरलेस ग्राहकों में मामूली वृद्धि देखी गई। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण Telecom Regulatory Authority of India की रिपोर्ट से पता चला कि भारत में वायरलेस ग्राहकों में वृद्धि देखी गई, जो जनवरी 2024 के अंत तक कुल 1160.71 मिलियन तक पहुंच गई। दिसंबर 2023 के अंत में 1158.49 मिलियन 0.19 प्रतिशत की मासिक वृद्धि दर का संकेत देता है।

ट्राई के अनुसार रिलायंस जियो Reliance Jio ने 41.78 लाख (4.178 मिलियन) मोबाइल ग्राहक जोड़कर अपने बाजार नेतृत्व को मजबूत किया। और ग्राहकों में इस उछाल से Jio का कुल मोबाइल उपयोगकर्ता आधार बढ़कर 46.39 करोड़ हो गया।

भारती एयरटेल Bharti Airtel ने अपने वायरलेस ग्राहक संख्या में भी वृद्धि देखी, जनवरी में 7.52 लाख (0.752 मिलियन) उपयोगकर्ता जोड़े। इस वृद्धि से एयरटेल की मोबाइल ग्राहकों की संख्या बढ़कर 38.24 करोड़ (382.4 मिलियन) हो गई।

वोडाफोन आइडिया Vodafone Idea को चुनौतियों का सामना करना पड़ा, इसी अवधि के दौरान 15.2 लाख (1.52 मिलियन) वायरलेस ग्राहक खो गए। और संख्या में कमी से इसका मोबाइल ग्राहक आधार घटकर 22.15 करोड़ (221.5 मिलियन) हो गया।

शहरी क्षेत्रों में वायरलेस ग्राहकों की संख्या 633.44 मिलियन से थोड़ा अधिक होकर 633.96 मिलियन हो गई, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में भी 525.05 मिलियन से बढ़कर 526.75 मिलियन हो गई। जनवरी में 12.36 मिलियन मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी अनुरोध सबमिट किए गए थे।

टेलीकॉम सेक्टर के व्यापक दृष्टिकोण से पता चलता है, कि जनवरी 2024 तक भारत में कुल टेलीफोन ग्राहक आधार 1193.25 मिलियन था, जिसमें महीने के दौरान वायरलेस और वायरलाइन दोनों सेवाओं में 2.92 मिलियन ग्राहक शामिल हुए। इस व्यापक वृद्धि ने भारत में समग्र टेली-घनत्व को 85.38 प्रतिशत तक पहुंचा दिया, जो दिसंबर 2023 में 85.23 प्रतिशत से मामूली वृद्धि है, जो दूरसंचार सेवाओं की उपलब्धता और पहुंच में वृद्धि को दर्शाता है।

वायरलाइन सेगमेंट में भी सकारात्मक गति दर्ज की गई, जिसमें 0.70 मिलियन ग्राहकों की शुद्ध वृद्धि हुई, जिससे कुल संख्या 32.54 मिलियन हो गई। इस खंड की वृद्धि दर 2.19 प्रतिशत रही, जो स्थिर और विश्वसनीय इंटरनेट और संचार सेवाओं में बढ़ती रुचि को दर्शाती है, विशेष रूप से शहरी क्षेत्रों में जहां अधिकांश वायरलाइन ग्राहक स्थित हैं।

डेटा ने निजी एक्सेस सेवा प्रदाताओं के प्रभुत्व को भी उजागर किया, जिनकी वायरलेस बाजार हिस्सेदारी में 92.01 प्रतिशत हिस्सेदारी थी, जबकि सार्वजनिक क्षेत्र की दो इकाइयों बीएसएनएल और एमटीएनएल की संयुक्त बाजार हिस्सेदारी सिर्फ 7.99 प्रतिशत थी।

इसके अलावा वायर्ड और वायरलेस दोनों सेवाओं को मिलाकर ब्रॉडबैंड ग्राहक दिसंबर 2023 में 904.54 मिलियन से बढ़कर 911.03 मिलियन हो गए, जो 0.72 प्रतिशत की मासिक वृद्धि दर है। ब्रॉडबैंड ग्राहकों में वृद्धि भारत में हाई-स्पीड इंटरनेट सेवाओं की बढ़ती मांग का प्रमाण है, जो आर्थिक गतिविधियों और व्यक्तिगत उपयोग दोनों के लिए महत्वपूर्ण है।

भारत में वायरलेस और ब्रॉडबैंड सेवाओं का निरंतर विस्तार डिजिटल विभाजन को पाटने, आर्थिक विकास को बढ़ावा देने और देश के विशाल और विविध परिदृश्य में कनेक्टिविटी बढ़ाने में दूरसंचार की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित करता है।