मिड-डे मील स्कीम हुई PM पोषण योजना

Share Us

1536
मिड-डे मील स्कीम हुई PM पोषण योजना
15 Feb 2023
4 min read

News Synopsis

Latest Updated on 15 February 2023

सरकार हर साल पीएम पोषण योजना PM Nutrition Scheme पर बहुत पैसा खर्च करती है, जिसे मिड-डे मील योजना Mid Day Meal Scheme के रूप में भी जाना जाता है। यह कार्यक्रम 12 मिलियन से अधिक बच्चों की मदद करता है, जो वर्तमान में सरकारी या सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों में नामांकित हैं।

प्रधानमंत्री पोषण शक्ति निर्माण योजना Pradhan Mantri Poshan Shakti Nirman Yojana एक सरकारी कार्यक्रम है, जो स्कूलों में एक से आठ तक के छात्रों की मदद करता है। इसमें वे छात्र शामिल हैं। जो बाल वाटिका कक्षाओं में हैं। इस आयु वर्ग के लगभग 12 करोड़ बच्चे PMPShNY से लाभान्वित हो रहे हैं, जिसमें बाल वाटिका के 22.6 लाख बच्चे, 7.2 करोड़ प्राथमिक और 4.6 करोड़ उच्च प्राथमिक विद्यालय Upper Primary School के बच्चे शामिल हैं।

यह योजना बाल वाटिका Yojana Bal Vatika और कक्षा 1 से 8 तक के सरकारी और सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों में बच्चों के पोषण की स्थिति में सुधार करने के साथ-साथ वंचित वर्गों के गरीब बच्चों को नियमित रूप से स्कूल जाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए तैयार की गई है।

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 National Food Security Act के तहत भोजन पर बहुत पैसा खर्च किया गया है। 2017 में सरकार ने 9,500 करोड़ रुपये की खाद्य सब्सिडी Food Subsidy सहित 20,000 करोड़ रुपये खर्च किए। इस वर्ष सरकार उन सभी बच्चों को खाद्य सुरक्षा भत्ता Food Security Allowance भी प्रदान कर रही है, जो कोरोनोवायरस Coronovirus महामारी के दौरान लॉकडाउन Lockdown के कारण स्कूल में नामांकित हैं। अब तक 31 लाख मीट्रिक खाद्यान् Metric Food Grains का वितरण किया जा चुका है।

Last Updated on 30 September 2021

मिड-डे मील स्कीम की शुरुआत सन् 1995 में हुई थी और इसका मुख्य उद्देश्य प्राथमिक विद्यालयों के बच्चों को दिन में एक बार पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराना था। मोदी सरकार ने मिड-डे मील स्कीम का नाम बदलकर पीएम पोषण कर दिया है। शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान Education Minister Dharmendra Pradhan ने बताया है, कि इस योजना में प्री स्कूल से लेकर प्राइमरी स्कूल के सभी विद्यार्थियों को कवर किया जाएगा। इस योजना में देश के 11.20 लाख स्कूलों को शामिल किया जाएगा और 11.80 करोड़ विद्यार्थी इस योजना का लाभ उठा पाएंगे। आपको बता दें कि इस योजना के लिए केंद्र सरकार 54061.73 करोड़ रुपये और विभिन्न केंद्र शासित प्रदेश प्रशासन और राज्य सरकार 31,733.17 करोड़ रुपये का योगदान देंगे।