News In Brief Auto
News In Brief Auto

मारुति सुजुकी राजस्व में 12 बिलियन अमरीकी डालर को पार करने वाली भारत की पहली कार कंपनी बन गई

Share Us

1253
मारुति सुजुकी राजस्व में 12 बिलियन अमरीकी डालर को पार करने वाली भारत की पहली कार कंपनी बन गई
28 Apr 2023
7 min read

News Synopsis

भारत में सबसे बड़ी यात्री वाहन निर्माता मारुति सुजुकी Largest Passenger Vehicle Manufacturer in India Maruti Suzuki ने 12 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक का राजस्व हासिल किया है, जिससे यह वैश्विक शीर्ष 30 में प्रवेश करने वाली पहली भारतीय कार कंपनी बन गई है।

मारुति की सफलता की कहानी और 2023 में शीर्ष 5 भारतीय कार कंपनियों के राजस्व के बारे में जानने के लिए आगे पढ़ें।

ब्लूमबर्ग के आंकड़ों के अनुसार मारुति सुजुकी, भारत की अग्रणी कार निर्माता 12 बिलियन अमेरिकी डॉलर के राजस्व को पार करते हुए, शीर्ष 30 वैश्विक निर्माताओं में शामिल होने वाली भारत की पहली यात्री वाहन निर्माता India's First Passenger Vehicle Manufacturer बन गई है।

टाटा मोटर्स के बाद मारुति सुजुकी समग्र रैंकिंग में शामिल होने वाली दूसरी भारतीय पीवी निर्माता Indian PV Manufacturers है। कंपनी ने 26 अप्रैल 2023 को घोषणा की कि वह निर्यात सहित अनुमानित बाजार मांग के आलोक में प्रति वर्ष 10 लाख यूनिट तक की उत्पादन क्षमता वाला एक नया संयंत्र स्थापित करेगी। यह कदम मारुति सुजुकी के उत्पादन और राजस्व को बढ़ावा देगा, जिससे यह भारतीय और वैश्विक ऑटोमोबाइल बाजारों Indian and Global Automobile Markets में एक मजबूत खिलाड़ी बन जाएगा।

2023 के लिए शीर्ष 5 भारतीय कार कंपनियों की राजस्व संख्या:

आइए एक नज़र डालते हैं, 2023 में शीर्ष 5 भारतीय कार कंपनियों के राजस्व आंकड़ों पर:

मारुति सुजुकी: मारुति सुजुकी 12 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक के राजस्व के साथ भारत की सबसे बड़ी यात्री वाहन निर्माता बन गई है, जिसने शीर्ष 30 वैश्विक निर्माताओं में प्रवेश किया है।

कंपनी की सफलता का श्रेय इसके व्यापक डीलर नेटवर्क, कार मॉडल की एक विस्तृत श्रृंखला और उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादों की प्रतिष्ठा को दिया जा सकता है।

टाटा मोटर्स: जगुआर लैंड रोवर Jaguar Land Rover की मालिक टाटा मोटर्स भारत की दूसरी सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी है, जिसका राजस्व 10 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक है।

कंपनी अपने टिकाऊ और मजबूत वाहनों के लिए जानी जाती है, जो घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों बाजारों में लोकप्रिय हैं।

महिंद्रा एंड महिंद्रा: महिंद्रा एंड महिंद्रा एक प्रसिद्ध भारतीय ऑटोमोटिव कंपनी है, जो एसयूवी, ट्रैक्टर और इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्माण में माहिर है।

2023 के लिए कंपनी का राजस्व 8 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक होने का अनुमान है।

हुंडई मोटर्स इंडिया: हुंडई मोटर्स इंडिया दक्षिण कोरियाई कार निर्माता हुंडई की सहायक कंपनी है।

कंपनी 2023 में 6 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक के राजस्व के साथ भारत में अपनी बाजार हिस्सेदारी लगातार बढ़ा रही है।

होंडा कार्स इंडिया: होंडा कार्स इंडिया जापानी कार निर्माता होंडा की सहायक कंपनी है। कंपनी ने 2023 में 4 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक के राजस्व के साथ खुद को भारतीय बाजार में एक अग्रणी कार निर्माता के रूप में स्थापित किया है।

मारुति सुजुकी की सफलता की कहानी:

मारुति सुजुकी की सफलता के लिए कई कारकों को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, जिसमें कार मॉडल की विस्तृत श्रृंखला इसका बड़ा डीलर नेटवर्क और उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादों के लिए इसकी प्रतिष्ठा शामिल है।

ग्राहकों की संतुष्टि पर मारुति सुजुकी के ध्यान ने कंपनी को एक वफादार ग्राहक आधार स्थापित करने में मदद की है, जिससे व्यापार और सकारात्मक प्रचार-प्रसार को दोहराया जा सके।

इसके अतिरिक्त अनुसंधान और विकास में कंपनी के निवेश ने इसे भारतीय बाजार की जरूरतों को पूरा करने वाले तकनीकी रूप से उन्नत वाहनों का उत्पादन करने की अनुमति दी है। भारतीय बाजार में मारुति सुजुकी की सफलता ने भी इसे 100 से अधिक देशों में निर्यात के साथ अपने वैश्विक पदचिह्न का विस्तार करने में मदद की है।

भारतीय कार कंपनियों के लिए फ्यूचर आउटलुक:

बढ़ते मध्यम वर्ग और बढ़ती डिस्पोजेबल आय के कारण वाहनों की मांग बढ़ने से भारतीय कार कंपनियों Indian Car Companies के लिए भविष्य आशाजनक दिख रहा है।

इसके अतिरिक्त इलेक्ट्रिक वाहनों की ओर सरकार का जोर कार निर्माताओं के लिए ईवी प्रौद्योगिकी के अनुसंधान और विकास में निवेश Investment in Research and Development of EV Technology करने के नए अवसर पैदा कर रहा है।

2023 के लिए शीर्ष 5 भारतीय कार कंपनियों की राजस्व संख्या:

1. मारुति सुजुकी: यूएस $ 12 बिलियन (1 लाख करोड़ रुपये)

मारुति सुजुकी की 12 बिलियन अमेरिकी डॉलर के राजस्व के आंकड़े को पार करने की उपलब्धि ने अन्य भारतीय कार कंपनियों के लिए एक मानदंड स्थापित किया है।

प्रति वर्ष 10 लाख यूनिट तक की उत्पादन क्षमता के साथ एक नया संयंत्र स्थापित करने का कंपनी का निर्णय बाजार की मांग को पूरा करने और प्रतिस्पर्धा से आगे रहने की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

2. टाटा मोटर्स: US$9.5 बिलियन (70,000 करोड़ रुपए)

वैश्विक स्तर पर शीर्ष 30 निर्माताओं में शामिल होने वाली दूसरी भारतीय पीवी निर्माता टाटा मोटर्स Indian PV Manufacturer Tata Motors भी इलेक्ट्रिक वाहनों पर अपना ध्यान केंद्रित करके उद्योग में प्रगति कर रही है।

कंपनी का लक्ष्य ईवी बाजार में एक प्रमुख खिलाड़ी बनना है, और 2030 तक ईवीएस से अपनी बिक्री का 50% हासिल करने का लक्ष्य रखा है।

3. महिंद्रा एंड महिंद्रा: यूएस $ 6 बिलियन (44,000 करोड़ रुपये)

महिंद्रा एंड महिंद्रा भी ईवी तकनीक Mahindra & Mahindra also EV technology में निवेश कर रहा है, और आने वाले वर्षों में इलेक्ट्रिक एसयूवी की एक श्रृंखला लॉन्च करने की योजना बना रहा है।

मॉड्यूलर ईवी प्लेटफॉर्म विकसित करने के लिए इज़राइल स्थित आरईई ऑटोमोटिव Israel-based REE Automotive के साथ कंपनी की हालिया साझेदारी ने बाजार में अपनी स्थिति को और मजबूत किया है।

4. हुंडई मोटर इंडिया: यूएस $ 4.5 बिलियन (33,000 करोड़ रुपये)

Hyundai Motor India अपने लोकप्रिय मॉडल जैसे Creta और i20 के साथ अच्छा प्रदर्शन कर रही है। कंपनी ईवी तकनीक में भी निवेश कर रही है, और निकट भविष्य में भारत में एक किफायती इलेक्ट्रिक एसयूवी लॉन्च Electric SUV Launch करने की योजना बना रही है।

5. होंडा कार्स इंडिया: 3.5 बिलियन अमेरिकी डॉलर (26,000 करोड़ रुपये)

होंडा कार्स इंडिया, उद्योग में चुनौतियों का सामना करने के बावजूद भारत की शीर्ष पांच कार कंपनियों में अपनी स्थिति बनाए रखने में कामयाब रही है।

कंपनी नए मॉडल पेश करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है, और हाल ही में उसने देश में होंडा सिटी हाइब्रिड लॉन्च Honda City Hybrid Launched की है।

मारुति सुजुकी ने यूएस $ 12 बिलियन रेवेन्यू मार्क को पार किया, भारतीय कार कंपनियों की सूची में सबसे ऊपर:

ThinkWithNiche समाचार पर अंतिम जानकारी:

भारतीय कार उद्योग ने पिछले कुछ वर्षों में एक लंबा सफर तय किया है, और भविष्य में विकास के लिए तैयार है। ईवी की बढ़ती मांग और सरकार के समर्थन के साथ उद्योग एक बड़ा परिवर्तन देखने के लिए तैयार है। कंपनियां जो अनुकूलन और नवाचार करने में सक्षम हैं, वे प्रतिस्पर्धी बाजार में सफल होंगी।