News In Brief Business and Economy
News In Brief Business and Economy

अडानी ग्रीन 10000 MW रिन्यूएबल एनर्जी को पार करने वाली भारत की पहली कंपनी बन गई

Share Us

92
अडानी ग्रीन 10000 MW रिन्यूएबल एनर्जी को पार करने वाली भारत की पहली कंपनी बन गई
03 Apr 2024
7 min read

News Synopsis

भारत की सबसे बड़ी और दुनिया की अग्रणी रिन्यूएबल एनर्जी कंपनियों में से एक अडानी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड Adani Green Energy Limited ने राष्ट्रीय ग्रिड को विश्वसनीय, सस्ती और स्वच्छ बिजली प्रदान करते हुए ऑपरेशनल पोर्टफोलियो के 10,000 मेगावाट को पार कर लिया है। एजीईएल के ऑपरेशनल पोर्टफोलियो में 7,393 मेगावाट सौर, 1,401 मेगावाट पवन और 2,140 मेगावाट पवन-सौर हाइब्रिड क्षमता शामिल है। यह कदम एजीईएल और उसके विकास भागीदारों के लिए एक प्रमाण है, जो 2030 तक 45,000 गीगावॉट रिन्यूएबल एनर्जी के लक्ष्य की ओर मजबूती से आगे बढ़ रहे हैं।

एजीईएल का 10,934 मेगावाट ऑपरेशनल पोर्टफोलियो 5.8 मिलियन से अधिक घरों को बिजली देगा और सालाना लगभग 21 मिलियन टन CO2 उत्सर्जन से बचाएगा।

एजीईएल इस बात के लिए एक मिसाल कायम कर रहा है, कि कैसे नवीन प्रौद्योगिकी, निष्पादन क्षमताएं, डिजिटलीकरण, एक मजबूत आपूर्ति श्रृंखला नेटवर्क और दीर्घकालिक बुनियादी ढांचे के वित्तपोषण, टिकाऊ प्रथाओं के साथ मिलकर, गीगा पैमाने पर स्वच्छ ऊर्जा संक्रमण और डीकार्बोनाइजेशन को चला सकते हैं।

अडानी ग्रुप के अध्यक्ष गौतम अडानी Gautam Adani Chairman of Adani Group ने कहा "हमें नवीकरणीय क्षेत्र में भारत का पहला दस हजारी होने पर गर्व है।" "एक दशक से भी कम समय में अडानी ग्रीन एनर्जी ने न केवल एक हरित भविष्य की कल्पना की है, बल्कि इसे साकार भी किया है, स्वच्छ ऊर्जा का पता लगाने के एक मात्र विचार से बढ़कर अभूतपूर्व 10,000 मेगावाट की स्थापित क्षमता हासिल की है। यह उपलब्धि तेजी का प्रदर्शन है, और जिस पैमाने पर अडानी ग्रुप का लक्ष्य भारत को स्वच्छ, विश्वसनीय और किफायती ऊर्जा की ओर ले जाना है। 2030 तक 45,000 मेगावाट की दिशा में अपने अभियान में हम खावड़ा में दुनिया का सबसे बड़ा रिन्यूएबल एनर्जी प्लांट बना रहे हैं, 30,000 मेगावाट की एक परियोजना जो वैश्विक मंच पर अद्वितीय है। एजीईएल न केवल दुनिया के लिए मानक स्थापित कर रहा है, बल्कि उन्हें फिर से परिभाषित कर रहा है।"

प्राकृतिक और सामाजिक पूंजी को बढ़ाने की एजीईएल की प्रतिज्ञा के अनुरूप कंपनी अपने ऑपरेशनल में टिकाऊ प्रथाओं को अपना रही है। सभी के लिए एक स्थायी भविष्य को ऊर्जावान बनाने पर एजीईएल का अटूट फोकस सस्ती और स्वच्छ ऊर्जा, सभ्य कार्य और आर्थिक विकास, उद्योग, नवाचार और बुनियादी ढांचे, जल प्रबंधन, अपशिष्ट प्रबंधन और एक परिपत्र अर्थव्यवस्था, जैव विविधता प्रबंधन और जलवायु कार्रवाई संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों से जुड़ा हुआ है।

एजीईएल का ऑपरेटिंग पोर्टफोलियो 'एकल उपयोग प्लास्टिक मुक्त', 'शून्य अपशिष्ट-टूलैंडफिल' और '200 मेगावाट से अधिक क्षमता वाले संयंत्रों के लिए पानी सकारात्मक' प्रमाणित है।

भारत के आरई लक्ष्यों में एजीईएल का 10,000 मेगावाट का योगदान:

भारत के आरई क्षेत्र में सबसे बड़ा ग्रीनफील्ड विस्तार

भारत की स्थापित उपयोगिता-पैमाने की सौर और पवन क्षमता का लगभग 11% प्रतिनिधित्व करता है।

भारत के उपयोगिता-पैमाने के सौर प्रतिष्ठानों में 15% से अधिक का योगदान

3,200 से अधिक प्रत्यक्ष हरित नौकरियाँ सृजित हुईं

विश्व स्तर पर गीगा-स्केल विकास के लिए खाका प्रदान किया गया:

एजीईएल गुजरात के कच्छ के खावड़ा में बंजर भूमि पर 30,000 मेगावाट की दुनिया की सबसे बड़ी रिन्यूएबल एनर्जी प्रोजेक्ट विकसित कर रही है। 538 वर्ग किमी में निर्मित यह पेरिस के आकार का पांच गुना और लगभग मुंबई शहर जितना बड़ा है। एजीईएल ने काम शुरू करने के 12 महीनों के भीतर 2,000 मेगावाट संचयी सौर क्षमता (यानी नियोजित 30,000 मेगावाट का 6% से अधिक) का संचालन किया है। खावड़ा में काम तेज गति से जारी है, जिसमें एजीईएल अडानी इंफ्रा की परियोजना निष्पादन क्षमताओं, अडानी न्यू इंडस्ट्रीज लिमिटेड की मैन्युफैक्चरिंग एक्सपेर्टीज़ अडानी इंफ्रास्ट्रक्चर मैनेजमेंट सर्विसेज लिमिटेड की ऑपरेशनल एक्सीलेंस और हमारे रणनीतिक भागीदारों की मजबूत आपूर्ति श्रृंखला का लाभ उठा रहा है।