कुछ रहस्यमयी और डरावनी जगहें

Share Us

2044
कुछ रहस्यमयी और डरावनी जगहें
27 Oct 2021
5 min read

Blog Post

दुनिया में कई ऐसी जगहें हैं जिनके बारे में सुनकर आपका दिल भी एक पल को विश्वास नहीं कर पायेगा। लेकिन कुछ पुरानी मान्यताओं या फिर कुछ लोगों के अनुभवों के द्वारा हम इन सब बातों पर विश्वास करने को मजबूर हो जाते हैं। ये भी संभव है कि ये अंधविश्वास हो। अजब-गजब रहस्य, आत्मायें और कुछ डरावनी बातें हर युग, हर सभ्यता से चली आ रही हैं। इस संसार के किसी न किसी हिस्से में इस तरह की डरावनी जगह या डरावनी बातें सुनने को मिलती हैं। ये पूरा संसार अजूबा और हैरान कर देने वाला है।

आपने भी अनेकों ऐसी घटनायें सुनी होंगी या देखी होंगी जो रहस्यों से भरी और डरावनी होती हैं। दुनिया के किसी न किसी कोने में इस तरह की घटनायें सुनने को मिलती हैं। भूत-प्रेतों से जुड़ी घटनायें भी हमें अक्सर सुनने को मिलती हैं। कुछ लोग इन बातों को सच मानते हैं तो कुछ लोग इस पर विश्वास नहीं करते हैं। कुछ लोगों के अनुसार हमारे आस-पास भूत-प्रेत का साया होता है,तो कुछ इस बात को बिलकुल भी मानने को तैयार नहीं होते हैं लेकिन दुनिया में कई ऐसी जगहें हैं जिनके बारे में सुनकर आपके रौंगटे खड़े हो जाएंगे। 

भानगढ़ का किला 

राजस्थान किलों का गढ़ है और हर किले की अपनी एक अलग पहचान है। इन्हीं किलों में से एक हैं राजस्थान के अलवर जिले की अरावली पर्वतमाला में स्थित भानगढ़ किला। पहले यह किला बहुत ही सुंदर था। अब ये एक खंडहर में तब्दील हो चुका है, जो देखने में काफी डरावना लगता है। अब इस किले के पास जाने से भी लोग घबराते हैं। लोगों का मानना है कि जो भी इंसान यहां पर रात के समय गया है वो कभी लौटकर वापस नहीं आया है। हांलांकि इस बात की कोई पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन ये सभी बातें आज भी रहस्य हैं। दरअसल एक जादूगर ने इस किले को श्राप दिया था कि यह किला जल्द ही नष्ट हो जायेगा। जिसके बाद से इस किले में अगर कोई भी रहता है तो उसकी मृत्यु हो जाती है। इसके बाद उनकी आत्मा इस किले में भटकती रहती है। सरकार ने भी पर्यटकों को यहाँ अँधेरा होने के बाद जाने की अनुमति नहीं दी है। ये भी हो सकता है कि ये सिर्फ लोक प्रचलित मान्यतायें हो लेकिन अगर आप किले घूमने के शौकीन हैं तो यहां पर दिन के समय घूम सकते हैं। यह अभी भी दिन के समय लोगों के घूमने के लिए खुला हुआ है।

कोलोराडो का होटल 

अमेरिका का कोलोराडो अपनी ख़ूबसूरती के लिए जाना जाता है । यह जगह इतनी खूबसूरत है कि इसकी सुंदरता बरबस ही लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर लेती है। यहाँ खूबसूरत जंगल, पर्वत और नेशनल पार्क लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। यहीं कोलोराडो में एक होटल है, होटल स्टेनली। ऐसी मान्यता है कि यहाँ अँधेरा होने के बाद इस जगह में रहस्यमयी शक्तियाँ आ जाती हैं। ये होटल लगभग 100 साल पुराना है। यहाँ के लोग बताते हैं कि होटल जब बनना शुरू हुआ था तो वहाँ अजीब सी घटनायें होने लगी। जो लोग यहाँ रुकते थे उनकी भी मौतें होने लगी। इस खूबसूरत होटल और पहाड़ों को देखने पर्यटक दिन के समय ही जाते हैं। अँधेरा होते ही यहाँ से निकल जाते हैं। ये एक अंधविश्वास भी हो सकता है पर यहाँ के लोग इन घटनाओं को सच मानते हैं। 

द प्रिंसेस थिएटर 

ये थिएटर ऑस्ट्रेलिया में स्थित है। इस होटल में 1888 में एक गायक, फ्रेडरिकी बेकर की मौत हो गयी थी। तब से ऐसा माना जाता है कि उनकी आत्मा वहाँ भटकती है। जब भी वहाँ पर कोई भी काम शुरू होता था या जब कोई परफॉर्मेंस होती थी तो गायक फ्रेडरिकी बेकर के लिए एक सीट पहले से रखी जाती थी। ठीक ऐसा ही किस्सा पंजाब रेजिमेंट के जवान हरभजन सिंह का है। माना जाता है कि हरभजन सिंह की आत्मा पिछले 45 सालों से लगातार देश की सीमा की रक्षा कर रही है। क्या किसी मृत सैनिक की आत्मा, अपना कर्तव्य निभाते हुए देश की सीमा की रक्षा कर सकती है ? आप सब को यह सवाल अजीब से लग सकते हैं, आप सब कह सकते हैं कि भला ऐसा कैसे मुमकिन है ? सैनिकों का कहना है कि हरभजन सिंह की आत्मा, चीन की तरफ से होने वाले खतरे के बारे में पहले से ही उन्हें बता देती है इसलिए भारत और चीन के बीच होने वाली हर फ्लैग मीटिंग में हरभजन सिंह के नाम की एक खाली कुर्सी लगाई जाती है ताकि वो मीटिंग, में शामिल हो सकें।

मनिला फिल्म सेंटर, फिलीपिंस

यह जगह डरावनी जगहों की तरह दिखाई तो नहीं देती है लेकिन इसे सबसे डरावनी जगह माना जाता है। दरअसल 1981 में यहां निर्माण कार्य के दौरान 169 मजदूर सीमेंट ढहने से दब गए थे। जिस वजह से इसमें कई मजदूरों की मौत हो गयी। दुर्घटना होने के कई घंटे बाद भी रेस्क्यू ऑपरेशन जल्दी नहीं हो पाया। करीब 9-10 घंटे तक भी यहाँ कोई नहीं पहुंच पाया इनको बचाने के लिए। उसके बाद से माना जाता है कि उन मजदूरों की मृत आत्माएं आज भी वहां भटकती हैं। वहाँ के लोग आज भी उनको देखने का दावा करते हैं। अब इन सब बातों में कितनी सच्चाई है, कोई नहीं जानता या फिर ये इस बात पर भी निर्भर करता है कि हम या आप इन बातों पर कितना विश्वास करते हैं। अगर कभी हमारे साथ इस तरह की कोई घटना घटित होती है तो फिर हम शायद इन पर कुछ विश्वास कर लेते हैं। इस तरह के दावे आज भी कई लोग करते हैं और अपने साथ हुए अनुभव शेयर करते हैं।