खेल क्षेत्र में विकास के अवसर

Share Us

3460
खेल क्षेत्र में विकास के अवसर
25 Nov 2021
8 min read

Blog Post

कुछ साल पहले भारत में खेलों को लेकर अलग सोच हुआ करती थी, भारत में केवल क्रिकेट को प्रमुख खेल माना जाता रहा है, लेकिन पिछले 3-5 वर्षों में खेल क्षेत्र में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिले हैं। भारतीय खेल क्षेत्र में क्रिकेट के अलावा अन्य खेलों की ओर भी देखा जा रहा है। जिसका परिणाम यह हैे की खेल में भागीदारी, दर्शकों की संख्या और खेल से संबंधित उद्योगों का विकास बड़ा है।

कुछ साल पहले भारत में खेलों को लेकर अलग सोच हुआ करती थी, भारत में केवल क्रिकेट को प्रमुख खेल माना जाता रहा है, लेकिन पिछले 3-5 वर्षों में खेल क्षेत्र में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिले हैं। भारतीय खेल क्षेत्र में क्रिकेट के अलावा अन्य खेलों की ओर भी देखा जा रहा है। जिसका परिणाम यह हैे की खेल में भागीदारी, दर्शकों की संख्या और खेल से संबंधित उद्योगों का विकास बड़ा है। कई निवेश संभावनाएं सामने आती है, जो उपकरणों के निर्माण और बेचने manufacturing and retail से लेकर विज्ञापन advertising, प्रशिक्षण training और प्रबंधन management से जुड़ी हैं।

कई सालों से खेल दुनिया भर में मिलियन डॉलर million dollar का उद्योग बन गया है। यहां प्रतिष्ठित करियर के अवसर भी है। हालांकि इसे भारत में अभी भी एक अलग उद्योग के रूप में देखा जाता है, लेकिन यह एक विकास से भरा क्षेत्र है। खेल और अन्य सेवाओं से जुड़े व्यक्ति तेजी से बड़ी व्यावसायिक इकाइयाँ बनते जा रहे हैं। सरकार खेल के बुनियादी ढांचे को बनाने तथा उन्नत करने और खेलों में युवाओं से अधिक जुड़ाव को बढ़ावा देने के लिए योजनाएं बना रही है। इसका एकमात्र उद्देश्य राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में उत्कृष्टता हासिल करना है। राष्ट्रीय खेल संघ National Sports federation जो सरकार से जुड़ी संस्था है, यह संस्था खेल क्षेत्र को सरकार की मदद से बढ़ावा देने में प्रमुख भुमिका निभा रही है।

फॉर्मूला वन रेसिंग चैंपियनशिप ने यात्रा और आतिथ्य Travel and Hospitality उद्योगों के माध्यम से भारतीय अर्थव्यवस्था में US $100mn का योगदान देखा गया था। आईपीएल IPL प्रतियोगिता ने भी 15000 से अधिक लोगों के लिए रोजगार पैदा किया है। भारत में खेल क्षेत्र में बड़े समूहों और कॉरपोरेट्स से निवेश प्रमुख रूप से प्रायोजन sponsorship, विज्ञापन advertisement और कंपनी सीएसआर जनादेश company CSR mandate के लिए किया है।

Federation Of Indian Chambers Of Commerce And Industry (FICCI)

FICCI को भारत के व्यापार और उद्योग की आवाज माना जाता है। FICCI ने विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से खेल क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।  जैसे कि..

1. सरकार और उद्योग के बीच आम सहमति बनाने और संवाद में सुधार के लिए एक राष्ट्रीय खेल समिति बनाई गई। समिति में इंडिया आईएनसी India Inc, एनएसएफ NSF, ओलंपिक सहित खिलाड़ी और अंतरराष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक, मीडियाकर्मी आदि के हितधारक शामिल हैं।

2. FICCI ने उद्योग के अनुकूल वातावरण बनाने के लिए नीति के अनुसार वकालत शुरू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। अनुभवी हितधारकों आदि के लिए इनपुट के साथ आवश्यकता-आधारित ज्ञान विकास और प्रसार के लिए भी कदम उठाए हैं।

यदि आप एक अंतरराष्ट्रीय या राष्ट्रीय संगठन हैं, जो भारतीय खेल क्षेत्र में व्यवसाय और सेवाएं शुरू करने में रुचि रखते हैं तो FICCI प्लेटफार्म और सलाहकार सेवाएं प्रदान करता है।

खेल और अन्य क्षेत्र

खेल क्षेत्र अन्य क्षेत्रों के साथ-साथ बुनियादी ढांचे, पर्यटन, आतिथ्य, प्रायोजन, शिक्षा, मनोरंजन, तकनीकी, विनिर्माण, प्रबंधन, प्रायोजन आदि से जुड़ा हुआ है। हाल ही में मिजोरम ने इस निरंतर विस्तार को एक सही दिशा प्रदान करने के लिए खेल को एक उद्योग के रूप में घोषित किया है। अगर पूरी तरह से खेल क्षेत्र को बढ़ावा मिले तो यह देश के सकल घरेलू उत्पाद GDP में 1-5% योगदान दे सकता है।

खेलो इंडिया

खेलो इंडिया Khelo India कार्यक्रम 2018 में भारत में खेल संस्कृति को ज़मीनी स्तर पर पुनर्जीवित करने, भारत में खेले जाने वाले सभी खेलों के लिए एक प्रणाली स्थापित करने और इसे एक महान खेल राष्ट्र के रूप में स्थापित करने के लिए बनाया गया था। मुख्य उद्देश्य बढ़ी हुई भागीदारी और प्रतियोगिताओं, ग्रामीण क्षेत्रों में खेलों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और स्थानीय और राष्ट्रीय स्तर पर बुनियादी ढांचे को मजबूत करने पर था।

चुनौतियों

खेल क्षेत्र में भारत में 'उद्योग' की स्थिति और खेल संस्कृति का भी अभाव है। अधिकांश कॉर्पोरेट निवेश corporate investment गैर-लाभकारी सीएसआर तक सीमित हैं। कई लाभ-संबंधी अवसरों, क्षेत्रों और गतिविधियों की खोज की जानी अभी बाकी है। खेल रोजगार और राजस्व पैदा करने में महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं। यह एक फलता-फूलता क्षेत्र है, जिससे आने वाले वर्षों में कई व्यावसायिक गतिविधियों को लाभ होगा।

भारत में खेलों को लेकर मौजूदा बाजार में विस्तार की जबरदस्त संभावनाएं हैं। खेल के लिए मजबूत जुनून, तकनीकी प्रगति और पिछले कुछ वर्षों में विज्ञापन उद्योग से क्रांति के परिणाम को देखते हुए इस क्षेत्र के विकास की काफी संभावनाएं हैं। स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय कंपनियां बाजार को आसानी से लक्षित कर सकती हैं, इससे व्यापार के बड़े अवसर और कंपनियों के लिए भारी राजस्व प्राप्त होगा।

फॉर्मूला वन रेसिंग formula one racing , हॉकी, महिला क्रिकेट जैसे खेल आदि में बड़ी व्यावसायिक संभावनाएं हैं। खेल के सामान और परिधान उद्योग बढ़ रहे हैं और रोजगार भी प्रदान करते हैं। पंजाब और उत्तर प्रदेश ऐसे उत्पादों के उत्पादन के काफी बड़े केंद्र हैं।

खेल परिधान, खेल पर्यटन, खेल चिकित्सा आदि जैसे क्षेत्र इस उद्योग को मार्केटिंग, प्रायोजन/प्रबंधन, निर्यात आदि के लिए भारत में जबरदस्त व्यावसायिक क्षमता प्रदान करते हैं। यह निवेश गतिशीलता को सुविधाजनक बनाने का समय है, ताकि कॉर्पोरेट घराने में लाभदायक खेल उद्यमों में ऊंचाइयां हासिल कर सकें।