मीडिया संस्थानों के लिए आईपीएल 2023 के गाइडलाइन्स, आपको भी जरूर जानना चाहिए

Share Us

2629
मीडिया संस्थानों के लिए आईपीएल 2023 के गाइडलाइन्स, आपको भी जरूर जानना चाहिए
01 Apr 2023
5 min read

Blog Post

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) दुनिया में सबसे प्रत्याशित और रोमांचक क्रिकेट टूर्नामेंटों में से एक है। जैसे-जैसे 2023 सीज़न नज़दीक आ रहा है, समाचार और करंट अफेयर्स ब्रॉडकास्टर टूर्नामेंट के ऑडियो विजुअल प्रसारण की उत्सुकता से तैयारी कर रहे हैं।
हालांकि, उन्हें आधिकारिक ब्रॉडकास्टर, स्टार इंडिया प्राइवेट लिमिटेड Star India Private Limited को लाइसेंस प्राप्त अधिकारों की अखंडता की रक्षा के लिए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) Board of Control for Cricket in India (BCCI) द्वारा जारी सख्त नियमों का पालन करना होगा।

इन रेगुलेशंस को 2012 में दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा समर्थित सुस्थापित उचित उपयोग सिद्धांतों के आधार पर तैयार किया गया है।
ये केवल सूचना और प्रसारण मंत्रालय के "अपलिंकिंग" के तहत "समाचार और समसामयिक मामलों" चैनलों की श्रेणी के तहत पंजीकृत प्रसारकों पर लागू होते हैं।
''डाउनलिंकिंग दिशानिर्देश" और टूर्नामेंट या मैचों से संबंधित किसी भी फुटेज का उपयोग करने से अन्य चैनलों, विशेष रूप से खेल चैनलों या खेल समाचार / कार्यक्रमों को प्रतिबंधित करता है।

इस ब्लॉग पोस्ट में, हम टी20 क्रिकेट टूर्नामेंट T20 cricket tournament के ऑडियो विजुअल प्रसारण के लिए समाचार प्लेटफार्मों के लिए टाटा इंडियन प्रीमियर लीग 2023 Tata Indian Premier League 2023 के नियमों पर विस्तार से चर्चा करेंगे।

परिचय (Introduction)

नियम बीसीसीआई द्वारा आधिकारिक प्रसारक को लाइसेंस प्राप्त अधिकारों की अखंडता की रक्षा करते हुए टूर्नामेंट में शामिल मैचों से संबंधित समाचारों के व्यापक वितरण की अनुमति देते हैं और बढ़ावा देते हैं। समाचार प्रसारकों को टूर्नामेंट या मैचों से संबंधित किसी भी ऑडियो-विजुअल या केवल-दृश्य फुटेज को प्रसारित करने, वितरित करने या स्ट्रीम करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए, जिसमें स्टेडियम में होने वाले सभी कार्यक्रम, समारोह, मैच से पहले, पारी या पोस्ट के बीच शामिल हैं। 

परिभाषाएं (Definitions) 

दिशानिर्देश विभिन्न शर्तों जैसे अचीवमेंट फुटेज, आर्काइव फुटेज, फ्रेश फुटेज, समाचार कार्यक्रम, आधिकारिक प्रसारणकर्ता, विशेष कार्यक्रम और खेल खंड को परिभाषित करते हैं।

फुटेज का उपयोग (Use of Footage)

समाचार प्रसारकों को इन नियमों में निहित सीमाओं के अनुसार समाचार कार्यक्रमों और/या विशेष कार्यक्रमों पर एक दिन में अधिकतम साढ़े पांच (5.5) मिनट के ताजा फुटेज प्रसारित करने की अनुमति होगी। इसके अतिरिक्त, प्रसारण के प्रति घंटे दो (2) मिनट से अधिक ताजा फुटेज का प्रसारण नहीं किया जा सकता है। समाचार प्रसारक द्वारा किसी भी ताजा फुटेज के प्रसारण से पहले आधिकारिक प्रसारक द्वारा लाइव प्रसारण से कम से कम तीस (30) मिनट की देरी होनी चाहिए।

सभी ताज़ा फ़ुटेज को बिना किसी बदलाव या संशोधन के "जैसा है," प्रसारित किया जाना चाहिए, और जिस मैच से यह संबंधित है, उसके शुरू होने के चौबीस (24) घंटों के भीतर प्रसारित किया जाना चाहिए। ताज़ा फ़ुटेज का उपयोग केवल समाचार रिपोर्टिंग के लिए किया जा सकता है न कि विश्लेषण या किसी व्यावसायिक उपयोग या उद्देश्य के लिए।

खेल खंडों में फुटेज का उपयोग (Use of Footage in Sports Segments)

समाचार कार्यक्रम के हिस्से के रूप में टूर्नामेंट पर रिपोर्टिंग करते समय प्रायोजकों और विज्ञापनों के सम्मिलन सहित किसी भी तरीके से ताजा फुटेज को शामिल करने वाले खेल खंडों के व्यावसायीकरण की अनुमति नहीं दी जाएगी और इसे इन नियमों का उल्लंघन माना जाएगा।
इसके अतिरिक्त, कोई भी विज्ञापन, स्टिंग, लोगो, ग्राफिक, या कोई अन्य व्यावसायिक (मॉर्फिंग) गतिविधि किसी खेल खंड से या उसके पहले, उसके दौरान या बाद में ताज़ा फ़ुटेज का उपयोग करके क्लिप के तुरंत पहले, तुरंत बाद, या उसके दौरान नहीं की जा सकती है।

विशेष कार्यक्रमों में फुटेज का उपयोग (Use of Footage in Special Programmes)

विशेष कार्यक्रमों में ताज़ा फ़ुटेज के उपयोग की अनुमति तब तक नहीं दी जाएगी जब तक कि ताज़ा फ़ुटेज का उपयोग केवल समाचार रिपोर्टिंग उद्देश्यों के लिए नहीं किया जाता है और न कि विश्लेषण या किसी व्यावसायिक उपयोग या उद्देश्य के लिए।
इसके अतिरिक्त, कोई भी विज्ञापन, स्टिंग, लोगो, ग्राफिक, या कोई अन्य व्यावसायिक गतिविधि किसी भी मैच से ताज़ा फ़ुटेज का उपयोग करने से पहले, तुरंत बाद, या क्लिप के दौरान या ताज़ा फ़ुटेज का उपयोग करने वाले किसी विशेष कार्यक्रम के दौरान नहीं की जा सकती है।

ताजा फुटेज के व्यावसायीकरण और प्रसारण पर प्रतिबंध (Restrictions on Commercialisation and Broadcasting of Fresh Footage)

जब समाचार प्रसारक अपने समाचार कार्यक्रमों या खेल सेगमेंट में ताज़ा फ़ुटेज का उपयोग करते हैं, तो उन्हें सामान्य विज्ञापन ब्रेक के दौरान इसका व्यावसायिक रूप से दोहन करने की अनुमति होती है।
हालाँकि, कुछ शर्तें हैं जिन्हें पूरा किया जाना चाहिए। सबसे पहले, कोई भी विज्ञापन, स्टिंग, लोगो, ग्राफिक, या कोई अन्य व्यावसायिक गतिविधि फ्रेश फुटेज या अचीवमेंट फुटेज के ठीक पहले, दौरान या बाद में नहीं हो सकती है।
दूसरे, फ्रेश फ़ुटेज और किसी तीसरे पक्ष के ब्रांड या उत्पाद के बीच कोई संबंध नहीं बनाया या निहित किया जा सकता है।

इसके अलावा, समाचार प्रसारक किसी भी 'प्लेयर-ऑफ-द-डे', 'इवेंट-ऑफ-द-डे', 'इमेज-ऑफ-डे' से ठीक पहले या बाद में कोई भी विज्ञापन, स्टिंग, लोगो, ग्राफिक, या कोई अन्य व्यावसायिक गतिविधि शामिल नहीं कर सकते हैं।
वे समाचार कार्यक्रमों, खेल खंडों, या विशेष कार्यक्रमों में ताज़ा फ़ुटेज का उपयोग भी नहीं कर सकते हैं जो साइड स्क्रीन, साक्षात्कार पृष्ठभूमि, या लोगो या उत्पाद प्लेसमेंट गतिविधि के माध्यम से किसी तृतीय-पक्ष ब्रांड या उत्पाद का प्रचार करते हैं।
फ्रेश फ़ुटेज का उपयोग बिना किसी बदलाव या संशोधन के "जैसा है" किया जाना चाहिए, और समाचार प्रसारक इसका उपयोग अपने स्वयं के संकलन बनाने के लिए नहीं कर सकते हैं या इसे अन्य टेलीविज़न कार्यक्रमों, खेल आयोजनों, वृत्तचित्रों, टूर्नामेंट के संदर्भ से बाहर के साक्षात्कारों के साथ मिला सकते हैं। 

अंत में, आधिकारिक ब्रॉडकास्टर ने टूर्नामेंट और मैचों के संबंध में स्टूडियो आधारित रैप-अराउंड कार्यक्रमों के निर्माण के लिए बीसीसीआई से विशेष अधिकार प्राप्त किए हैं। किसी भी परिस्थिति में किसी समाचार प्रसारक को ऐसी किसी भी प्रोग्रामिंग से ताज़ा फ़ुटेज का उपयोग करने की अनुमति नहीं दी जाएगी, जिसमें शो में रखी गई टेलीविज़न स्क्रीन को ज़ूम करना शामिल है, जिस पर आधिकारिक ब्रॉडकास्टर द्वारा ताज़ा फ़ुटेज प्रदर्शित किया जा सकता है।

कोर्टसे बग्स (Courtsey Bugs) 

ऊपर उल्लिखित आवश्यकताओं के अलावा, समाचार प्रसारकों को अनिवार्य रूप से टूर्नामेंट का नाम, यानी 'टाटा इंडियन प्रीमियर लीग' या 'टाटा आईपीएल' (या ऐसे अन्य नाम या नाम या इस तरह के अन्य तरीके से निर्दिष्ट किया जा सकता है) बीसीसीआई द्वारा समय-समय पर), और टूर्नामेंट का आधिकारिक लोगो और आधिकारिक ब्रॉडकास्टर अपने सभी प्रसारणों में ताजा फुटेज का उपयोग करते समय और इन विनियमों के तहत अनुमत किसी भी आर्काइव फुटेज और/या उपलब्धि फुटेज का उपयोग करते समय उल्लेख करते हैं।

इसके अलावा, बीसीसीआई, टूर्नामेंट और आधिकारिक ब्रॉडकास्टर को स्वीकार करने वाले शिष्टाचार बग को मैच सामग्री या फुटेज ऑन-एयर के उपयोग के दौरान न्यूज ब्रॉडकास्टर द्वारा चिपकाया जाएगा।
टूर्नामेंट और आधिकारिक ब्रॉडकास्टर दोनों के लोगो को "जैसा है" देखा जाना चाहिए या उचित प्रमुखता के साथ संदर्भित किया जाना चाहिए।
यदि कोई भी लोगो न्यूज़ ब्रॉडकास्टर के लोगो या ओवरले द्वारा कवर किया गया है, तो स्क्रीन के निचले भाग में न्यूज ब्रॉडकास्टर के अपने लोगो या ओवरले के समान फ़ॉन्ट आकार में एक स्रोत क्रेडिट या एक शिष्टाचार रेखा विस्तारित होगी।
इन शर्तों का पालन करने में विफल रहने पर सामग्री में कॉपीराइट का उल्लंघन होगा, जिस पर बीसीसीआई और/या आधिकारिक ब्रॉडकास्टर द्वारा लागू कानून के तहत कार्रवाई की जा सकती है।

समाचार प्रसारकों की आधिकारिक वेबसाइटों पर स्ट्रीमिंग (Streaming on the Official Website of the News Broadcaster)

पूर्वोक्त के अधीन, इन विनियमों में निहित कुछ भी समाचार प्रसारक को अपने समाचार चैनलों के लाइव वीडियो स्ट्रीमिंग को केवल चैनल की आधिकारिक वेबसाइट पर जारी रखने से रोकता है, बशर्ते कि चैनल वेबसाइट पर स्ट्रीम की जा रही सामग्री (i) की सटीक प्रतिकृति हो न्यूज ब्रॉडकास्टर के समाचार चैनल पर चलने वाला कार्यक्रम और
(ii) इसके टेलीविजन समाचार प्रसारण के साथ-साथ प्रदर्शित किया जाता है और इस तरह के सिमुलकास्टिंग को सामान्य रूप से प्रसारित होने वाली सभी सामग्री के लिए चैनल द्वारा आधिकारिक वेबसाइट पर प्रदान किया जाता है।
यह स्पष्ट किया जाता है कि किसी समाचार प्रसारण की लाइव वीडियो स्ट्रीमिंग या सिमुलकास्टिंग जिसमें ताज़ा फुटेज शामिल है, केवल न्यूज़ ब्रॉडकास्टर की आधिकारिक वेबसाइट पर ही किया जा सकता है, न कि किसी क्रिकेट वेबसाइट या किसी अन्य वेबसाइट पर, चाहे न्यूज़ ब्रॉडकास्टर के स्वामित्व में हो या न हो।

इसके बावजूद, समाचार प्रसारणकर्ता अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर या अपने माध्यम से या अन्यथा किसी तृतीय-पक्ष वीडियो-अपलोड साइट जैसे कि समाचार बुलेटिन के हिस्से के रूप में या अन्यथा स्थगित या संग्रहीत ताज़ा फ़ुटेज या आर्काइव फ़ुटेज प्रदर्शित नहीं करेंगे। यूट्यूब, डेलीमोशन, आदि, या कोई भी डिजिटल या सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म, जिसमें फेसबुक और ट्विटर शामिल हैं, लेकिन इन तक सीमित नहीं है।

दिशानिर्देशों के उल्लंघन का प्रवर्तन और परिणाम (Enforcement and Consequences of Violations of the Guidelines)

संबंधित न्यूज ब्रॉडकास्टर और आधिकारिक ब्रॉडकास्टर के बीच पूर्व द्विपक्षीय समझौते के तहत नहीं तो इन नियमों के तहत अनुमति से परे किसी भी उपयोग को सामग्री उल्लंघन माना जाएगा।

अगर कोई न्यूज़ ब्रॉडकास्टर इन नियमों का पालन करने में विफल रहता है, तो बीसीसीआई और/या आधिकारिक ब्रॉडकास्टर ऐसे न्यूज़ ब्रॉडकास्टर के ध्यान में लाने के लिए, गतिविधि के अनुमेय मापदंडों और मामले को हल करने के लिए ऐसे न्यूज़ ब्रॉडकास्टर के साथ काम करेंगे। हालांकि, अगर ऐसी गतिविधियां जारी रहती हैं तो ऐसे समाचार प्रसारक को जानबूझकर इन विनियमों का उल्लंघन करने वाला माना जाएगा।

"बीसीसीआई (आधिकारिक ब्रॉडकास्टर के साथ) बनाए रखता है और, आवश्यक सीमा तक, इन विनियमों द्वारा शासित संबंधित कॉपीराइट स्वामी द्वारा इसके तहत ताजा फुटेज के उपयोग के आधार पर, समाचार प्रसारकों द्वारा अनुपालन की निगरानी और लागू करने के अधिकार प्रदान किए जाते हैं, और संबद्ध और गैर-संबद्ध तृतीय पक्ष इन विनियमों के साथ (चाहे उल्लंघन विरोधी कार्यों, कानूनी कार्यवाही, या अन्यथा के माध्यम से) और कॉपीराइट कानून लागू हो।
ऐसे सभी मामलों में, प्रासंगिक समाचार प्रसारक कोई कार्य नहीं करेगा बीसीसीआई या यहां दिए गए आधिकारिक ब्रॉडकास्टर के अधिकारों को बाधित करने, रद्द करने या कम करने के लिए।

बीसीसीआई और आधिकारिक ब्रॉडकास्टर प्रत्येक स्पष्ट रूप से किसी भी समाचार ब्रॉडकास्टर के खिलाफ अपने सभी कानूनी अधिकारों और उपायों को सुरक्षित रखते हैं जो विनियमों का उल्लंघन करते हैं, जो स्पष्ट रूप से इन विनियमों के कुछ विशिष्ट उल्लंघनों के संबंध में किसी भी निर्दिष्ट उपचार के अतिरिक्त होगा।

ये नियम टूर्नामेंट के लिए लागू TATA IPL 2023 मीडिया प्रत्यायन नियम और शर्तों ("मीडिया प्रत्यायन शर्तें") का हिस्सा हैं, और इसके संदर्भ में शामिल हैं। उत्पन्न होने वाले अन्य सभी अधिकारों और उपचारों पर प्रतिकूल प्रभाव डाले बिना, समाचार प्रसारक द्वारा इन विनियमों के किसी भी उल्लंघन को मीडिया प्रत्यायन शर्तों का उल्लंघन माना जाएगा।

इन विनियमों में निहित कुछ भी बीसीसीआई या आधिकारिक ब्रॉडकास्टर के अधिकारों को कानून या अनुबंध के तहत उपलब्ध नियमों के उल्लंघन के लिए सीमित नहीं करेगा, जिसमें नुकसान, विशिष्ट राहत और संभावित तत्काल निरसन, निलंबन या मीडिया मान्यता रद्द करना जहां लागू हो, शामिल है। .

Conclusion 

ऑडियो-विजुअल प्रसारण के लिए समाचार प्लेटफार्मों के लिए आईपीएल 2023 के नियम कड़े हैं और इसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि बीसीसीआई और आधिकारिक ब्रॉडकास्टर के अधिकारों की रक्षा की जाए। समाचार प्रसारकों को इन विनियमों के बारे में सावधान रहने और किसी भी संभावित कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए उनका अनुपालन सुनिश्चित करने की आवश्यकता है।
टूर्नामेंट की अखंडता और विशिष्टता को बनाए रखने और यह सुनिश्चित करने के लिए कि आधिकारिक प्रसारक के पास मैचों के प्रसारण का विशेष अधिकार है, इन नियमों को लागू किया गया है।
समाचार प्रसारकों के लिए इन नियमों को अच्छी तरह से समझना और उनका पालन करना महत्वपूर्ण है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे किसी भी कॉपीराइट कानून का उल्लंघन नहीं करते हैं या बीसीसीआई और आधिकारिक ब्रॉडकास्टर के अधिकारों का उल्लंघन नहीं करते हैं।